इंकलाब के नार्थ इंडिया हेड बने शकील शम्‍सी, सौरभ हेडलांइस टुडे से जुड़े

सहारा उर्दू चैनल से वरिष्‍ठ पत्रकार शकील शम्‍सी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर आरई के रूप में काम देख रहे थे. हालांकि उनका पोस्‍ट सीनियर प्रोड्यूसर का था. उन्‍होंने अपनी नई पारी जागरण ग्रुप के अखबार इंकलाब से शुरू की है. उन्‍हें इंकलाब का उत्‍तर भारत हेड बनाया गया है. जागरण ग्रुप और शम्‍सी के बीच काफी समय से इसे लेकर बातचीत चल रही थी, बीच में मामला ठंडा पड़ गया था. बाद में प्रबंधन ने फिर कोशिश करके शम्‍सी को अपने साथ जोड़ लिया. वे दिल्‍ली में ही बैठेंगे.

शकील शम्‍सी ने लगभग तीन दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं. वो दूरदर्शन में 21 साल सेवा करने के बाद वीआरएस ले लिया था. इसके बाद वे लोकसभा टीवी से जुड़ गए थे. यहां से इस्‍तीफा देने के बाद वे सहारा उर्दू देख रहे थे.

गौरतलब है कि जागरण ने इंकलाब नामक अखबार काफी पहले खरीद चुका है, हालांकि अभी इसका प्रकाशन शुरू नहीं किया गया है. अभी तक इंकलाब मुंबई से प्रकाशित होता था. शम्‍सी के इंकलाब से जुड़ने के बाद संभावना जताई जा रही है कि सहारा उर्दू से कुछ और लोग जागरण समूह के अखबार से जुड़ सकते हैं.

सौरभ चक्रवर्ती ने एनडीटी प्रॉफिट से इस्‍तीफा दे दिया है. वे अब हेडलाइंस टुडे से जुड़ गए हैं. इन्‍हें सीनियर प्रोड्यूसर बनाया गया है. सौरभ ईटीवी, सहारा समय, सीएनबीसी आवाज सहित कई न्‍यूज चैनलों में काम कर चुके हैं.

Comments on “इंकलाब के नार्थ इंडिया हेड बने शकील शम्‍सी, सौरभ हेडलांइस टुडे से जुड़े

  • Tehseen Munawer says:

    Shakil Shamsi saheb ko Mubarakbad aur naik khwahishat pesh kerte hain ki woh is zimmedari ko kaamyabi se nibhayen…..:)

    Reply
  • Sulemaan ahmed Mirza Nadavi says:

    Shakeel Shamsi saheb ne sahi akhbaar chun liya hai aur sahi akhbar ne shamsi saheb ko sahi chuna hai. Sahara waalon ko ab pata chalega ki muqaabla kis ko kehtey hain. Umeed hai shakeel shamsi ke jaaney ke baad sahara ke qitaat phir se dull aur bojhal ho jayenge. Shamsi saheb ne un men ek jaadu bhar diya tha.
    Shamsi saheb ke article jitna balanced aur well researched hotey hain woh bhi Inquilaab ke liye ek asset saabit hoga. Shamsi saheb se guzaarish hai ke itni badi zimmedari paane ke baad please apna lehja na badlen aur waisey hi likhen jaisa ki un ki aadat hai. hum Inquilab ke management ko aur shakeel shamsi ko mubarak baad detey hain aur umeed kartey hain ke yeh Jugal bandi achhi rahegi.

    Reply
  • Shareef Ahmed says:

    शकील शम्सी एक हर दिल अज़ीज़ शायेर और लेखक हैं ऐसा लगता है कि सहारा ग्रुप ने एक हीरे की कद्र नहीं की / अब रोजाना जब घटिया सा शेर छपेगा तब पता चलेगा शम्सी भाई कितने अहम थे / इन्किलाब के आने के बाद सहारा को अब लगेगा कि उर्दू पत्रकारिता में कौन कितने पानी में है / हम जागरण ग्रुप को मुबारक बाद देते हैं कि उस ने बिलकुल सही आदमी को कमान सौंपी है / शकील हसन शम्सी के कलम का जादू हम को यकीन हैं पाठकों को करीब लाने में कामयाब होगा /

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *