ऊषा श्रीवास्‍तव ने पायनीयर तथा अ‍रविंद सिंह ने हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन किया

अमर उजाला, नेशनल ब्‍यूरो से ऊषा श्रीवास्‍तव ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट थीं. इन्‍होंने अपनी नई पारी पायनीयर हिंदी के साथ दिल्‍ली में शुरू किया है. इन्‍हें यहां भी सीनियर स्‍पेशल करेस्‍पांडेंट बनाया गया है. बताया जा रहा है कि पायनीयर का ब्‍यूरो स्‍थापित होने के बाद उसे ऊषा ही हेड करेंगी. ऊषा पिछले चौबीस साल से पत्रकारिता में सक्रिय हैं. बीएचयू से पत्रकारिता का कोर्स करने के बाद कुछ समय तक बीएचयू की पत्रिका के लिए काम किया इसके बाद बनारस में दैनिक आज ज्‍वाइन कर लिया. सन 96 में यहां से इस्‍तीफा देने के बाद वे अमर उजाला से दिल्‍ली में जुड़ गईं. यहां इन्‍होंने कारोबार सेगमेंट के लिए काम किया. यहां से इस्‍तीफा देकर दैनिक जागरण से जुड़ी. इसके बाद राजस्‍थान पत्रिका के ब्‍यूरोचीफ के रूप में दिल्‍ली में ज्‍वाइन किया. 2009 में यहां से इस्‍तीफा देने के बाद दुबारा अमर उजाला पहुंची थीं. ऊषा की पॉलिटिकल बीट पर अच्‍छी पकड़ मानी जाती है. ये रेल मंत्रालय में हिंदी सलाहकार समिति तथा लोकसभा हिंदी कमेटी की मेंबर भी हैं.

अमर उजाला, दिल्‍ली ब्‍यूरो से अरविंद कुमार सिंह ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर थे तथा पिछले नौ सालों से अमर उजाला से जुड़े हुए थे. ये अपनी नई पारी दैनिक हिंदुस्‍तान के साथ शुरू करने जा रहे हैं. इन्‍होंने यहां प्रिंसिपल करेस्‍पांडेंट के रूप में ज्‍वाइन किया है. अरविंद ने अपने करियर की शुरुआत 1997 में स्‍वतंत्र भारत लखनऊ से की थी. इसके बाद 2002 में इन्‍होंने अमर उजाला, फरीदाबाद ज्‍वाइन कर लिया था. बाद में इनके काम को देखते हुए प्रबधंन ने इन्‍हें दिल्‍ली यमुनापार बुला लिया. जहां यह एमसीडी और हेल्‍थ जैसी बीट कवर करते थे. बाद में इन्‍हें स्‍टेट ब्‍यूरो बुला लिया गया. यहां भी ये पॉलिटिकल तथा रेलवे बीट देख रहे थे. माना जा रहा है कि बेहतर मौका देखकर ही इन्‍होंने हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन किया है.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *