क्या गुलाब कोठारी ने भूमाफिया से सम्‍मान करवाया!

गुलाब कोठारी
गुलाब कोठारी
कुछ दिन पहले तक जिसे भूमाफिया बताकर खबरें छापी, आज उसी से सम्‍मान, उसी की संस्‍थान में प्रोग्राम और उसी संघवी समूह से लाखों का विज्ञापन. वाह कोठारी जी. इंदौर में भूमाफिया के खिलाफ अभियान चलाने का तमगा लेकर घूमने वाले पत्रिका का नया कारनामा है यह. पत्रिका समूह के प्रधान संपादक और संस्‍कार की दुहाई देने वाले गुलाब कोठारी ने 14 दिसम्‍बर को इंदौर में स्‍कूली बच्‍चों के लिए दिशा बोध कार्यक्रम आयोजित किया था.

कार्यक्रम में श्री कोठारी का स्‍वागत किया भूमाफिया पंकज संघवी ने. संघवी कोठारी के साथ मंच पर भी बैठे और जिस स्‍कूल में आयोजन था उसे गुजराती समाज एजुकेशनल सोसायटी के प्रेसीडेंट भी पंकज संघवी थे. ऐसा नहीं है कि पत्रिका के संघवी के भूमाफिया होने के बारे में पता नहीं था. पत्रिका ने ही मेयर इलेक्‍शन के दौरान पंकज को भूमाफिया बताते हुए उसे वोट ना देने की लोगों से अपील की थी. पूरा कंपेन पंकज के खिलाफ भूमाफिया से लड़ाई के रूप में चलाया था. कंपेन में संघवी की तमाम बिल्डिंग्‍स और जमीनों की लिस्‍ट भी छापी थी. फिर अचानक ऐसा क्‍या हो गया कि उसी भूमाफिया के स्‍कूल में आयोजन और पत्रिका के समूह संपादक का भूमाफिया के हाथ सम्‍मान. क्‍या अब संघवी और पत्रिका के बीच टाइ-अप हो गया है. शायद इसीलिए पत्रिका ने कंपेन चलाया था. यदि पत्रिका को इतना ही भूमाफिया से शिकायत है तो वो इन सवालों का जवाब दे…

1. संघवी ग्रुप के एडवरटिजमेंट पत्रिका क्‍यों छापता है…
2. संघवी की संस्‍था के स्‍कूल में आयोजन क्‍यों किया…
3. समूह संपादक का सम्‍मान संघवी से क्‍यों करवाया…
4. संघवी ने वो स्‍कूल और उसे आयोजन और उस आयोजन की सारी व्‍यवस्‍था का खर्च क्‍यों उठाया…
5. या तो पत्रिका इन सवालों का जवाब दे या मान ले की वो भी भूमाफिया के नाम पर ब्‍लैकमेलिंग करता है भास्‍कर की तरह ताकि विज्ञापन और पैसा मिल सके.

एक पत्रकार द्वारा भेजे गए मेल पर आधारित

Comments on “क्या गुलाब कोठारी ने भूमाफिया से सम्‍मान करवाया!

  • Rohitash sain says:

    wah yaswant ji aapane to kothari ki pol khol ke rakh di. hqiqat me kothari bhoo mafiya hi hai jo ptrkaritaa ke ki aad me yah sab karta ha.

    Reply
  • कमल शर्मा says:

    य‍ह रिपोर्ट सही नहीं लगती। इन आरोप लगाने वाले पत्रकार महोदय पहले तो पत्रकार नहीं है क्‍योंकि होते तो हिम्‍मत के साथ अपना नाम जरुर देते। वैसे उनकी गलतफहमी आलोक तोमर का लेख पढ़ने के बाद खत्‍म हो गई होगी।

    Reply
  • rajesh sharma says:

    Jis patrakar ne ye lekh likha hai wo Gulab Kothari ke liye theek hi hai. Gulab Kothari ke jitna dogle charitra wala insaan maine doosra nahi dekha hai. Wah khud bhoomafia hain. Jaipur samet Rajasthan ke kai saharon me unhone kitni hi keemati jameenen kabad rakhi hain. Gulab ji jo gyan jhadte hain wo pura ka pura unke charitra se ulat hai. unhe maha fraud bhi aap kah sakte hain.sarkar ho ya koi aur mal dar party, ve uske khilaf abhiyan chalwate hain aur phir rokne ki poori keemat vasoolte hain.Alok ji aap jaise log toh virle hi hote hain. media me toh 95% farji log hi hain. media houses ke malik to patrakaron ke bhi ustaad hain aur ugahi ke mamle me unse bahut aage hain.

    Reply
  • sanjayrpanchal says:

    yah article shayad Kisi Bade Bhumafia ke dabav me likha gaya he…jise patrika ne nestnabud kar diya he…jese…socho…socho….me nahi bataunga…

    Reply
  • jis kisinae bhi likha hai ussae yae lagta hai ki usko himmat nahi hai apna naam likhnae ki. aur is sae yae lagta hai ki kisi sae prerit hokar yae khabar likhi hai. adarniya gulabji ab insab sae upar ud gae hai aur adarniya gulabji jaisi sakhshiyat birlae hi janam laetae hai mera sadar namaskar is shudh bhav aur vichar sae bane adarniya gulabji ko…..

    Reply
  • kapil sharma says:

    sahi baat hai kothariji ke daant bhi haathi ki tarah hai khane ke or dikhane ke or. vaise bhi koun sa media hause journalism kar raha hai. sab apna busines chala rahe hai. vaise bhoomaphiya se swagat karane wale gulabji ne logo ko gyaan bahut bata hai

    Reply
  • Ankit Khandelwal says:

    Jaane kitni baar pada ki Gulab Kothari or patrika group ne jaamine daba rakhi hain.. to bhaiya kisi ne roka hain tumehin chahpne se?? sidhi si baat hain.. bus aarop lagana hain inhe kisi bhi tarah per aaraop sache nahi honge to prove keha se karenge..

    Yeah pura patra ki manganat lagta hain… kuch bhi likh diya gaya bina sir pair ke.. patrika se jawab maange se pehle yeah patrakar bandhu khud to jawab de.. ki agar inke pass itne thos praman hain to aisi khabrein chahpte kyun nahi hain?? kis se dar lagta hain inhein??

    Reply
  • Kam se kam DISHA BODH jaisa karyakram karvane ki sudh to hai kisi ko,varna to bhaskar jaise akhbar sirf film stars ko bulva ke hi apna farj pura kar rahe hain.Vaise bhi patrika group ka main kaam sirf akhbar ka hai .bhaskar jaise group kai sare business chala rahe hain isiliye akhbar ko bhi business bana diya hai

    Reply
  • khabar or program dono alag pahlu h.jis sansthan k khilaf patrika m khabar chhapi us jagah gulabji k jaane m kya harj h…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *