नाराज दविंदर ने जागरण, लुधियाना से इस्‍तीफा दिया

दस साल की सेवा के बाद दैनिक जागरण, लुधियाना से दविंदर डीके ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां सीनियर रिपोर्टर थे. दविंदर ने जागरण से इस्‍तीफा यहां के खराब माहौल और शिकायतों की सुनवाई ना होने के चलते दिया है. वे कहीं और ज्‍वाइन करने के बजाय फ्रीलांसिंग करेंगे.

दविंदर जागरण के ब्‍यूरोचीफ और प्रबंधन के रवैये से आहत होकर अपना इस्‍तीफा दिया है. बताया जा रहा है कि उन्‍होंने लुधियाना कार्यालय में चल रही गड़बडि़यों को उजागर करने की कोशिश की थी. इसके लिए उन्‍होंने संपादक संजय गुप्‍ता को भी मेल किया. मगर उनके मेल पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. बल्कि उन्‍हें और ज्‍यादा परेशान किया जाने लगा. जिसके बाद उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा देना ही बेहतर समझा. दविंदर दैनिक जागरण, लुधियाना के लांचिंग टीम के सदस्‍य रहे हैं. उन्‍होंने अपना करियर भी जागरण से ही शुरू किया था.

दविंदर ने बताया कि प्रदीप ठाकुर के समय में भी मैंने गड़बडि़यों को उठाया था. तब संपादक संजय गुप्‍ता ने मीटिंग में कहा था कि जिसको जो दिक्‍कत हो मुझे लिखकर दे दे. इसके बाद उन्‍होंने हमलोगों की लिखित शिकायत को उसी को हल करने के लिए पकड़ा दिया, जिसके खिलाफ शिकायत थी. उन्‍होंने बताया कि इसके बाद हमलोगों को परेशान किया जाने लगा. इससे आहत होकर चीफ रिपोर्टर नितिन धीमान ने जागरण को अलविदा कह दिया और पंजाब केसरी से जुड़ गए. ब्‍यूरोचीफ मनोज त्रिपाठी के आने के बाद भी स्थितियां नहीं सुधरी. बद से बदतर होती चली गईं. मुझे लगातार परेशान किया जाता रहा. कार्यालय के हालात के बारे में मैंने संपादक संजय गुप्‍ता को मेल किया. पर इस मामले में कोई सुनवाई नहीं हुई. जिसके बाद मैंने अपना इस्‍तीफा दे दिया.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “नाराज दविंदर ने जागरण, लुधियाना से इस्‍तीफा दिया

  • Charanjeet Jassi says:

    kya senior patarkaro ke sath assa hi hota rahega, patarkar hi kyu akhbar ke har staff member ke sath esa hi hota hai or unki sunvai kahi bhi nahi hoti or unhe khud hi har man kar vaha se jana hi padta hai……………

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *