बाराबंकी में दो चैनलों के पत्रकार-कैमरामैन भिड़े

: कल्‍याण सिंह की बाइट के लिए हुई तकरार :  बाराबंकी में दो चैनलों के पत्रकार और कैमरामैन आपस में एक दूसरे से भिड़ गए. दोनों के बीच जमकर हाथापाई हुई. उनके कपड़े भी फट गए. यह पूरा मामला उस समय घटित हुआ, जब पूर्व मुख्‍यमंत्री कल्‍याण सिंह अपने लाव-लश्‍कर के साथ अयोध्‍या जा रहे थे. कल्‍याण सिंह का काफिला जब बाराबंकी पहुंचा तो टीवी पत्रकारों में उनकी बाइट लेने की होड़ मच गई.

सूत्रों का कहना है कि कल्‍याण सिंह की बाइट लेने के दौरान इंडिया टीवी के रिपोर्टर मोहसिन हैदर व सीनियर कैमरामैन नागेन्‍द्र मिश्र ने ईटीवी के पत्रकार पंकज मिश्रा को धक्‍का दे दिया. इसके बाद ईटीवी का आईडी भी नीचे कर दिया. इसे लेकर इंडिया टीवी और ईटीवी के पत्रकार के बीच कहासुनी होने लगी. मामला बढ़ने पर इंडिया टीवी के मोहसिन हैदर व कैमरामैन नागेन्‍द्र ईटीवी के पंकज और उनके सहयोगी जीतेन्‍द्र मौर्या से भिड़ गए. मामला गाली-ग्‍लौज से मारपीट तक जा पहुंचा. इसके बाद कुछ लोगों ने बीच बचाव करके मामले को सुलझाया. घटना से नाराज ईटीवी के पंकज एफआईआर दर्ज कराने पहुंच गए. फिर किसी तरह मामले को सुलझाया गया.

कुछ लोगों का यह भी कहना है कि कल्‍याण सिंह का बाइट इंडिया टीवी को छोड़कर सभी लोग ले चुके थे. बाइट खतम होने वाली थी तो इंडिया टीवी के रिपोर्टन मोहसिन हैदर और कैमरामैन नागेन्‍द्र भी वहां पहुंच गए. इन लोगों ने भी बाइट लेने की कोशिश की. इसी बीच किसी बात को लेकर नागेन्‍द्र मिश्र ने स्ट्रिंगरों को अपशब्‍द बोलना शुरू कर दिया. उन्‍होंने कहा कि तुम स्ट्रिंगर साले भीड़ क्‍यों लगाए हो, जब लखनऊ से लोग आए ही हैं! इसी को लेकर बहस होने लगी. मामला काफी बिगड़ गया. नागेन्‍द्र के व्‍यवहार से गुस्‍साए बाराबंकी के स्ट्रिंगरों ने नागेन्‍द्र और उनके रिपोर्टर मोहसिन हैदर की जमकर धुनाई कर दी. जिसमें इन लोगों का शर्ट भी फट गया. दोनों लोगों को चोटें भी आईं.

इस घटना का कुछ पत्रकारों ने मजा भी लिया. कुछ ने इसे निंदनीय बताया. खैर, मामला चाहे जो हो परन्‍तु ये घटना पत्रकारिता को शर्मसार करने वाली है. पत्रकारिता जैसे संवेदनशील पेशे में इस तरह के व्‍यवहार की अपेक्षा किसी ने नहीं की जा सकती.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “बाराबंकी में दो चैनलों के पत्रकार-कैमरामैन भिड़े

  • Hm sabhi is ghatna se dukhi hai, lekin durbhagya ye hai ki kuch Chenels ne aise logo ko Reporter bana diya hai jinhe samajik vyavhar aur manviya mulyo ka bhi gyan nhi hai.India T.V. ko us vyakti ke bare me dhyan rakhna chahiye jo unka Mike ID pakadta ho. Bhadas ko bhi puri jankari kr ke hi khabar deni chahiya Barabanki me DEEPAK MISHRA E.TV ke Reporter hai, jinhone dus saal pehle NIP/Amrit Prabhat se kaam shru kia tha aur ek samvedansheel vyakati k roop me jane jate hai. Vo khud bhi is ghatna se dukhi hai.

    Reply
  • yeh khabar to sahi nahi ho sakti ….kyu ki nagendra ji ka 18 saal ke media career mei..kisi ne bhi unke khilaf ungli tak nahi uthai…yeh zaroor koi sajish hai nagendra ji ko badnaam karne ke liye….puri media industury unko unke kaam se janti hai…..unhi mei se mei bhi ek hu…agar aaj kuch media accha kaam ho raha hai to sirf inhi seniors ki wajah se….jisne bhi yeh khabar udaai hai usko kudh jakar unse maaf magni chaiye…

    Reply
  • SANJEEV MALIK says:

    बड़ों-बुजुर्गे ने कहा है – क्षमा बडन को चाहिए छोटन को उत्पात अर्थात यदि अनजाने में छोटों से कोई गलती हो तो सीनियर को उन्हें माफ़ कर शालीनता से पेश आकर एक मिशाल पेश करनी चाहिए मगर यहाँ तो बिलकुल उल्टा हुआ ,जाने-माने चैनल के रिपोर्टर व कैमरामैंन जिले के स्ट्रिन्गेर व कैमरामैन से ऐसे उलझे जैसे की कोई खिताबी जंग हो रही हो और कोई पदक मिलने वाला हो ,वजह कुछ भी हो मगर यह तो सच है की राजधानी के रिपोर्टर सीनियर होते हैं और स्ट्रिन्गेर को उनकी इज्ज़त करनी चाहिए मगर यह भी सच है की अपनी इज्ज़त अपने हाथ होती है जैसा व्यवहार अपने लिए चाहते हो वैसा दुसरे से भी करना पड़ेगा क्योंकि प्रकृति का नियम है की गेंद जितनी तेजी से दीवार पर मारी जाती है वो वापस लौटती भी उसी गति से है / ईश्वर दोनों पक्षों को सदबुध्धी दे की लड़ाई गुंडों का काम है सम्मानित पत्रकारों का नहीं …………………………………………….

    Reply
  • ye jis kisi ne bhi likha hai lagata hai ki wo apne dimaag se diwalia hone ki kagaar par hai….unko pata hiona chahiye ki india tv ke patrakaar padhe likhe aur sabhya hain aur unko media industry ke sabhi log achhi tarah se waaqif hain….unko pata hota hai ki kis tarah kaam kiya jaata hai aur kaam sikhne ki zarurat stringers ko hoti hai..jinko lagta hai ki mike kya haath me aaya bas poore duniya unki muthhi me hai…wo apni auqaat bhul jaate hai…..nagendra mishra aur reporter mohsin haider ko poori media jaanti hai ki wo is tarah ki neech harkat karen..isliye behtar hai ki wo in stringers ko samjhaye aur apne dimaag ka treatment karaye….dhanyawaad

    Reply
  • Deepak Mishra says:

    Barabanki ki jis ghatna ko lekar kunthit or asafal log ghtiya rajniti kar rahe hai, vo ek mamuli vivad tha jo vahi khatam ho gaya tha, hum sabi us ghatna ko lekar dukhi hai aur ise durbhagyapurn mante hai. Nagendra, Mouhsin ya kisi anya Reporter se hamara koi personal vivad nahi hai or na hi hum chahte hai. Jo log is vivad ke bahane apni ghtiya mansikta ka parichay de rahe hai,unhe apni akal or wakt ka sahi kamo me istmaal krna chahiya jisse vo age badh sake aur heen bhavna (Inferiority complex) se mukt ho sake. Jin logo k naam se jhute or ghatiya comment likhe ja rahe hai vo kasme kha kr keh rahe hai, ki unho ne nahi likha or unke naamo ka galat istemal hua hai. Aise me koi kamjor or darpok insaan hi apni asli pehchan chupa kar apne dimag ki gandagi bhadas ke muh par pot raha hai. Hare hue nirash log yah bhi bhul gaye ki vyasayik matbhed ya vivad me niji or jatigat baate ghatiya log hi kar sakte hai. Jo vyakti sabhi pandito ya Deepak Mishra se dukhi he ya jalta hai use samne aakar baat krni chahiye. Ant me sabhi meri Ek baat par dhyan de yah anmol manav jivan simsit samay k liye Ishvar ne diya hai ise sahi karyo me lagana chahiye. Jhute ehankar k tanao se mukt hokar apni takat apne or jaruratmando ki madad me lagae. Sabhi mitro or gaddar mitro ke sukhi jivan ki kamna k sath ………NAMASHKAR.
    .
    Sabka Subhchintak… Deepak Mishra, Reporter, Barabanki

    Reply
  • NAGENDRA MISHRA says:

    बाराबंकी का सच……………….
    प्रिय छोटे और इस साज़िश में मिले हुए अति बुद्धिजीवी पत्रकार भाइयो,सबसे पहले तो १६ १७ साल के इतने बडे करियर में फ्री की पब्लिसिटी देने के लिए धन्यवाद.मै नागेन्द्र मिश्र हूँ बाराबंकी का सच क्या है शायद मुझसे और हैदर से अच्छा कोई नहीं जानता होगा.सच तो ये है की बाराबंकी में एक मामूली सा विवाद हुआ जो वही पर ख़त्म हो गया.शायद कुछ वरिस्ट पत्रकार और वहां के लोकल लोग मज़े लेने के लिए अपनी गन्दी मानसिकता को दरसा रहे है.बाराबंकी में अगर इतना बड़ा झगडा हुआ तो नागेन्द्र और हैदर वापस आकर शायद लखनऊ में तीन तीन स्टोरी न फाइल करते.मगर पत्रकारिता की दुहाई देने वाले खाली बैठे पत्रकार भाइयो को जब भी फ्री का कंप्यूटर मिल जाता है तो अपनी उँगलियाँ कीबोर्ड पर गन्दी हरकते करने में लगा देते है.मै सभी अच्छे मीडिया जन को ये वादा करता हूँ की मेरी वजह से कभी भी पत्रकारिता को शर्माने की जरुरत नहीं होगी.इश्वर मेरे और मेरे रिपोटर के खिलाफ चल रही कैम्पनिंग को सदभुधि दे ये भड़ास में जिसने डाला है अगर ये खुराफात ना करके मेरे पास आ जाए तो उसे मै अच्छा कैमरा सिखा दूंगा ताकि पेट की भूख के लिए गन्दी हरकते न करे.इस गन्दी हरकत के लिए जिम्मेदार पत्रकार को चाहिए मन लगाकर काम करे और खुराफात में काम मन लगाए.भड़ास को धन्यवाद सवाल में ही जवाब है लेखक कह रहा है की नागेन्द्र और हैदर की पिटाई भी हुई अरे भाई पिटाई हुई होती तो फ.इ आर हम लिखवाते नाकि पीटने वाले…इसलिए कहते है सिर्फ पत्रकारिता में मन लगायो……………………………..फिर से एक बार फ्री में पब्लिसिटी देने के लिए धन्यवाद

    Reply
  • Is Ghatna k jitne bhi pratyakshdarshi hai, sabhi jante hai ki kis tarah Nagendra aur Mouhasin India TV k naam par badtmizi kr rahe the aur baat khatam hone k baad bhi gaadi ghuma kr vapas ladne aaye the jiska unhe sabak mila.sabhi patrakaro ko yeh pata hai ki patrakar ki pehchan aur chamta uski khabar ki samajh aur vyahar se hoti hai. Tail lagakar aur chaplusi kr ke jo log staffer bante hai, kahbro ke mamle me unki hawa nikal jati hai. Media me khabaar dene wala har anubhavi vyakti patrkar hota hai, Stringers ya Staffer nahi. Samaj me Nyaya aur samanta ko isthapit karne k liye patrkarita ki jati hai, Aise me jo log zilo k patrkaro ko Strigers k roop me dekhte hai ya unse dvesh rakhte hai aise kunthint mansikta k log patrkarita k kalank hai. Fir bhi aise ghatnaye bilkul nahi honi chahiye, aur ye sabhi ki jimmedari hai.

    Reply
  • upar unknown wale bhai sahab ne kaha ki “india tv ke patrakaar padhe likhe aur sabhya hain aur unko media industry ke sabhi log achhi tarah se waaqif hain”…padhe likhe kitna hai is baat se media industry kya aam log b wakif hai. dil par hath rakh kar socho “unknown sahab” koi aam aadmi aapke chnl ko news chnl manta hai…abhi kal aap log khabar chala rhe the “Ayodhya-ek gahra raj” khabar me yashwant bhai visual mathura ke krishna janmbhoomi ki chal rhi thi…itne padhe likhe log hai india tv wale ki mathura aur ayodhya inhe ek hi lagti hai. bhaiya stringers ko itni aukat to pata hai ki wo mathura ko ayodhya nahi bana sakta…ab bahut hasne ka man kar rha hai “padhe likhe” logo par. ba bye

    Reply
  • gulshan saifi says:

    patarkar bandhu parnam,
    priye yashwant ji aapko to aisi khabro se masala mil jata hai.ishliye aap in khabro ko apni site par jagah b dete hai parntu mai aapko dhanyawad deta hoon ki aap ke dwara di gayi khabar se kch log to prerna lenge.aap badhai ke patr hai.or bandhuo na hi kisi ko medal mila hai na hi milega ishliye aapsi bhai chara kayam rakhe

    Reply
  • अगर अपने बाप की औलाद है तो अपने नाम से कमेन्ट लिख ….दुश्मनी दिल में है तो सामने आ कर निकाल भडुए…… दीपक मिश्रा मेरा छोटा भाई है | ये घटिया और एक जाती विशेष पर कमेन्ट लिख कर अगर तू सोच रहा है की डी के सिंह से लोग नाराज हो जायेंगे तो तेरी गलत फहमी है | भाई यशवंत जी कोई भी कुछ भे लिख दे खास तौर पर पर जाती को गलत ठहराने जैसे क्क़म्मेंट न छपे तो बेहतर है ..खैर जिसने भी ये कम्मेंट लिखा है उसकी तलाश कर उसे जल्द फिट करूंगा | जहाँ तक पंकज दीपक के के लिए तूने जो सब्द लिखे है उससे लगता है की तो किसी रंडी की औलाद है | इसी लिए तेरे दिमाग में दलाली सब्द कूट कूट कर भरा है चल भाई तूने मुझे इस खेल में जबरिया खींच लिया है तो तेरी…………. क्योकी पहले मै छेड़ता नहीं बाद में छोड़ता नहीं| दीपक के बारे में तुझे और उस गधे निरंजन को पता नहीं कहा से जानकारी मिली तेरा भी अलख निरंजन जल्द ही होगा किसी INSAAN के बारे में इस TARAH के KAMENT KHEDJANAK है …. डी के सिंह ,IBN7

    Reply
  • चन्द्र कुमार तिवारी says:

    हमें इस तरह की घटनाओ को रोकने का प्रयास करना चाहिए। घटना में कुछ तो सच्चाई होगी जिससे इतने मीडियाकर्मियों को अपनी सफाई पेश करनी पड़ी। लेखक चाहे जो भी हो यदि आप लोगो से ऐसी अशिष्टता न होती तो ये बात पत्रकार जगत मे चर्चा का विषय नही बनता। आप लोगों को कम से कम एक दूसरे मीडियाकर्मियों का सम्मान करना तो आना ही चाहिए। ये समस्या आये दिन पीसी के समय देखी जाती है कि एक रिपोर्टर या स्ट्रिंगर पहले अपनी बाइट को एक्सक्लूसिव रिपोर्ट बनाने के चक्कर में वह अपना कतर्व्य भूल जाता है, उसे इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि उसके और भी साथी इसी घटना को कवर करने के लिए आये। आपमें अपनी क्षमता व विचारों के अनुरूप समाचार को पैनापन दे सकते है। आप अपनी काबलियत को सरेआम बदनाम होने से बचाये। पत्रकार डी के सिह आईबीएन7 से यही कहूंगा कि वे अपने जोश को समाचार मे धारदार हथियार के तरह तेज बनाने पर बल दे तो अच्छा होगा। इस तरह अशिष्ट शब्दों का प्रयोग कर वे पत्रकारों की छवि को धूमिल कर रहे हैं। आप समाज में एक अच्छे माडल के रूप में माने जाते हैं और इसका ध्यान आप को रखना ही होगा। समाज में हर तरफ गिरावट आयी है। यही आज के समाज की मनोदशा है जिसे हमें ही साफ करना होगा। जनता की काफी उम्मीदें मीडियाकर्मियो पर ही टिकी हैं और इन उम्मीदों को जनता की नजर मे खराब करने का भी षडयंत्र शुरू हो चुका है। जिससे आप सावधान रहे।
    चन्द्र कुमार तिवारी, गाजीपुर
    mohan_gzp@yahoo.co.in

    Reply
  • sarfaraz warsi says:

    बाराबंकी विवाद का सच……………………………………….

    जो भी व्यक्ति इस तरह की गिरी हुई हरकत कर रहा है, ये बहुत ही ज्यादा निंदनीय बात है, किसी भी पत्रकार को इस तरह की ओछी हरकत करने से बचना चाहिए, आपस में मनमुटाव फ़ैलाने की ये हरकते बहुत ही तुच्छ प्रतीत हो रही है, और छोटे बच्चो के मनोभावों को दर्शाती है ……. क्या पत्रकारिता जगत में पत्रकारों के लिए यही सब करने को बाकी बचा है??

    बिगत दिनों पत्रकारों के बीच में हाथापाई की झूठी बातो को फैलाया गया, जो की बिलकुल झूठ और मन गड़ंत है, ऐसी कोई भी घटना ही नही हुई थी, बस बाईट लेते समय थोडा भीड़ में धक्का मुक्की जरुर हो गयी थी, जो की भीड़ के कारन कभी भी हो सकता है, इस बात को इतना तूल देने की कोई जरुरत नहीं थी जो भी व्यक्ति इस तरह से आपस में पत्रकारों को बेमतलब लड़ाने की गिरी हुई हरकत कर रहा है, ये बहुत ही ज्यादा निंदनीय है, किसी भी पत्रकार को यदि वो सही मायनों में पत्रकार है तो इस तरह की ओछी और गन्दी हरकत करने से बचना चाहिए, आपस में मनमुटाव फ़ैलाने वाली ये हरकते जो की जा रही हैं बहुत ही तुच्छ प्रतीत हो रही है, और उस व्यक्ति की गन्दी व संकीर्ण मानसिकता को दर्शाती है ……. क्या पत्रकारिता जगत में पत्रकारों के लिए काम के अलावा यही सब करने को बाकी बचा है ?
    sarfaraz barabanki

    Reply
  • nagendra ne likha hai ko wo camera sikha dega wo pahley khud to camera chalana seek le kyoki wo beeta camera ka filter set karna tak to janta nai hai

    Reply
  • kafil ahmad barabankwi from indore says:

    hi jo bhi hua use bhool kar age bhado choti choti batoon ko lekar man me mat rakho
    ye sab to chalta rahta hai.isse life nahi rukti go get and forget ok kafil ahmad indore

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *