यूपी के मंत्री अवधेश वर्मा की जर्नलिस्ट को धमकी

: धमकी का टेप सुनने के लिए नीचे दिए गए आडियो पर क्लिक करें : सेवा में, यशवंतजी, भड़ास4मीडिया, महोदय,  निवेदन है कि मैं सौरभ दीक्षित शाहजहांपुर में दो न्यूज चैनलों का संवाददाता हूं. 4 दिसंवर को जिला पंचायत चुनाव में बसपा के मंत्री ने संजीव कुमार को जबरदस्ती पुलिस से पकड़बा लिया था. इस युवक ने बसपा प्रत्याशी के खिलाफ हाईकोर्ट में एक यचिका दायर की थी जिसमें यह था कि जिला पंचायत का बसपा से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशी ने दो-दो मतदाता पहचान पत्र बनवा रखे हैं.

जब संजीव के अपाहरण की शिकायत अपहृत युवक के भाई ने पुलिस अधीक्षक से की तो इसकी जानकारी मुझे हुई. मैंने पहले तो पुलिस अधीक्षक से बात करने का प्रयास किया और बात न होने पर मंत्री अवधेश वर्मा से मोबाइल फोन पर सम्पर्क का प्रयास किया. मंत्री के मोबाइल को उनके पीए ने उठाया. मंत्री से बात नहीं हो सकी. शाम को आठ बजे के करीब मंत्री अवधेश वर्मा ने अपने मोवाइल नम्वर से मुझे फोन किया. मंत्री ने शुरुआत में तो ठीक से बातचीत की लेकिन अचानक अपना सुर बदल दिया और वह हड़काने-धमकाने लगे. कहने लगे- ”आप मेरी पहले भी कई बार रील धो चुके हो यदि इस वार आप ने मेरे खिलाफ किसी भी तरह की न्यूज या पट्टी चलाई तो मैं तुम्हारे खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दूंगा.”

कल 20-12-10 को ब्लाक प्रमुखी के चुनाव के नामांकन के द्वौरान ब्लाक ददरौल से मंत्री अवधेश वर्मा ने अपने गुर्गों के साथ दो लोगों का अपहरण कर लिया. गुर्गों ने जब अपहरण करने में देरी की तो मंत्री ने स्वयं युवक का कालर पकड़ कर खीचते हुये वाहर लाने लगे. जब मंत्री ने देखा कि इलेक्ट्रानिक मीडिया के कैमरों में उनकी करतूत कैद हो रही है तो वह इलेक्ट्रानिक मीडिया पर अपनी भड़ास निकालने लगे और कुछ को तो मंत्री ने पकड़ कर न्यूज न दिखाने की शर्त पर छोड़ा तो कुछ जान बचाकर खेतों में होते हुये भागे. जो लोग जान बचाकर भागे उन्हें न्यूज न दिखाने के लिये धमकी भी दी.

आप को बता दें कि शाहजहांपुर के टाप क्रिमिनल अपराधी मंत्री के साथ थे. बसपा सरकार के मंत्री अब लोकत्रंत्र के चौथे स्तंभ को भी अपने इशारों पर काम करने की धमकी दे रहे हैं. गलती भी हमारे कुछ भाइयों की है जो विज्ञापन के लालच में मंत्री की जी हुजूरी करते हैं जिससे मंत्री के दिमाग में यही है कि सभी पत्रकार विकाऊ हैं. मंत्री से मेरे मोबाइल पर हुई बातचीत की रिकार्डिंग भेज रहा हूं, साथ ही मंत्री किस तरह से ब्लाक से एक बीडीसी सदस्य को अपहृत करके ले जा रहे हैं, उसकी कुछ फुटेज भी भेज रहा हूं. अतः आप से निवेदन है कि इस खबर को प्रकाशित करने की कृपा करे.

मंत्री द्वारा दी गई धमकी को सुनने के लिए इस आडियो प्लेयर पर क्लिक करें—

There seems to be an error with the player !

सौरभ दीक्षित
शाहजहांपुर
09450438752
09198419111

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “यूपी के मंत्री अवधेश वर्मा की जर्नलिस्ट को धमकी

  • purushottam singh says:

    yaswant je is main dhamki walai baat kanha hai …………mantri je ne agar ye kaha hai ki kanun ke dayre main wo karbai karenge to kya galat kaha hai………lol

    Reply
  • abhishek singh says:

    bhai saheb lagta hai ki aapke desk par nikkamo ki faouj taiyar ho gayi hai, is audio me damki kaha hai. kanun ki hadd me reh kar vo kam karne ki baat kar raha hai hai to isme galat kya hai, kanun to sabke liye hai

    Reply
  • sushil shukla ..shahjahanpur up says:

    mantri ab apne kaam ko chod kar media k kaam me dakhal de rahe hain is ko koi bhi patrkar bardast nahi kare ga .mere dear dost saurabh tum sachai k saat ho aur hum sab tumhare saath hain tum mantri se darna mat.kyunki jeet hamesha sachai ki hi hoti hai.sushil shukla reporter news-24

    Reply
  • यशवन्त जी आपको ये बात दे कि जिले में एक चैनल का एक ही संवाददाता होता है लेकिन सौरभ जी खुद को दो चैनलो का संवाददाता बता रहे हैा ये पहले से ही पूरी मीडिया में डिफाल्टर है उसके बाद इन साहब ने जिन मन्त्री की आवाज टेप की है वो पत्रकारों का बेहद सम्मान करते हैं जब खबर अपराध की थी तो इन्हे पुलिस से जानकारी करनी चाहिए थी ा इन्होने जानबूझकर मन्त्री जी को फोन करके उन्हे उकसायाा शायद आपकों ये नहीं मालूम की इस बात के बाद मन्त्री जी ने सौरभ दीक्षित से अपनी गल्ती मानी लेकिन इन्होने सम्बन्धों को दरकिनार करके इस आडियों को भडास पर डाला हैा आप सौरभ साहब की कारगुजुगारियों के बारे में जिले के किसी भी संवाददाता से पता कर सकते हैा

    Reply
  • sushil shukla,spn says:

    my dear s. khan ji aap jo bhi hon main aap ko nahi janta per aap ne jo abhi isme apna comment bheja hai use padhkar muzhe dukh hua hai app nahi jante hain ki galat karne wala chahe kitna bhi sammanit kyun na ho per kaanoon sabke liye barabar ka hota hai.agar mantri patrkaron ki izzat karte hain to kya iska matlab ye hai ki mantri kuch bhi karenge to patrkar usko kya samaj k samne nahi laayenge ?kyunki media samaj k liye ek aaine ka kaam karti hai.s. khan muzhe aap ka comment padhkar bahut dukh hua hai saath hi ap jaise chatukar logon per hansi aa rahi hai. .aisa lagta hai ki aap media k vyakti nahi hain tabhi to aapne aisa comment likha hai.s.khan aap ko kaise pata ki mantri ne saurabh se galti maani hai mai jitna saurabh ko janta hoon us hisab se mantri aur saurabh ki mulakat sayad hi kabhi hui ho to fir unke beech me sambandh kahan see bangaye.aur aap ne likh hai ki saurabh ki kaargujariyan to mai aap se punchta hoon ki saurabh ne aisa kya kar diya jo saurabh aap ki ankhon me khatakne lage hain ?han saurabh shahjahanpur ki media ke samne ek example jaroor sabit huye hain unhone ye dikha diya hai ki nispach patrkarita kaise ki jati hai.

    Reply
  • संजय कुमार सिंह says:

    मंत्री के चमचों की अच्छी फौज है। इन्हें धमकी नजर नहीं आ रही … धन्य हैं ये लोग। एस खान साहब को आपत्ति है कि सौरभ खुद को दो चैनल का संवाददाता बता रहे हैं। भाई साब पता नहीं आप क्या करते हैं और किस एक नौकरी और चैनल की बात कर रहे हैं। सौरभ जी संवाददाता यानी स्ट्रिंगर होंगे। अखबार / चैनल वाले तो दावा करते ही हैं कि मुफ्त में खबरें भेजो और सिर्फ हमें दो। इस्तेमाल करें या न करें। अब आप भी आ गए हिसाब रखने। धन्य हो। मंत्री जी की फौज में क्या पद मिला है। कितने का? मंत्री ने साफ-साफ धमकी दी है। बात-चीत रिकार्ड हो गई तो चमचे कूद पड़े मैदान में।

    Reply
  • satiram rana says:

    bhai sorabh kya hua avadhesh varma k mamale me lagata hai up k repotaro me dam nahi hai mantri k karanamo ka khulasa karo dimak thikane aa jayegen
    satiramrana;dehradun

    Reply
  • Prasenjit Chakraborty says:

    It’s really unfortunate that the politicians often forget they belong to important pillar of democracy and should carry wide responsibility. Some journalists are also not acting well all the time. As a result, Indian democracy could not be matured even in 63 years after independence.
    Whatever happened with Sourabh should be thought seriously by both, at least. A journalist can disclose fact as it is if he thinks necessary in greater public interest. A minister too has the right to complain against the journalist if dissatisfied. But both in democratic and legal way.
    Leaders and ministers should be ready for maximum criticism of their works which will actually make them stronger. Journalists should respect everybody, respect their human rights.
    Still, Sourabh go on. Don’t worry. Just remember, you are the unelected representative of people.

    Prasenjit Chakraborty
    Journalist
    Agartala, Tripura
    09436360912
    http://www.thenortheastlife.com

    Reply
  • मै इस कॉमेंट में देखा है की शयद कुछ लोग कह रहे है की इस में धमकी वाली कोई शब्द ही नही है /शयद ऐसा कहने वाले पत्रकारिता से नही है या फिर पत्रकार होते हुये भी पत्रकारिता के रोल को नहीं जानते है /(मै आडियो प्लेयर से सुन कर मंत्री जी के कुछ बातों को लिख रहाहूँ -हम भी कानून के दायरे में स्मानित व्यक्ति हू ,आप लोग बगैर सबूत के पट्टी चलाई तो …,/ ) गाड़ी पर कैसा जबाब दिया इस जबाब से तो साफ लग रहा था की अंदर से अब सच्चाई बहार निकल आयेगी,और रही ड्राईवर की बात तो वैसे मालिक ड्राईवर को ५ मिनट इधर से उधर जाने ही नही देता है ,और ये मंत्री साहब ड्राईवर को अकेले………………………………………. .. /

    Reply
  • ASHUTOSH MISHRA says:

    HkkbZ lkgo eq>s yx jgk gS fd vki eU=h th iDds peps gS dHkh vkius ;s lkspk fd eU=h th dk vxj vdsys eS bUVjO;w ys vkSj ;fn dksb dMqvk lp lkeus vk tks rks eU=h th Vsi Hkh r[k ysrs gS vki i=dkj Hkkb;ks ls iwNus fd ckr djrs gks cgh ckr fd to viuk xqM [kksVk rks ij[kb;k dks D;k ykx ge i=dkjks es gh ,DlDywflo fd jktuhfr gS[s][/s][s][/s][s][/s][u][/u][i][/i][url][/url][img][/img][quote][/quote]:););D8):P:-*:'([b][/b]

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *