वो मर गए थे, अमर उजाला ने जिंदा कर दिया!

: दिवंगत नेता से भाषण कराया : दस वर्ष गुजर गया अमर उजाला को वाराणसी से प्रकाशित होते हुए। बावजूद इसके लगता है अमर उजाला अभी इस शहर से और इस शहर के नेताओं से पूरी तरह परिचित नहीं हो पाया है। शायद यही वजह है कि 17-18 साल पूर्व दिवंगत हुए एक कांग्रेसी नेता की मौजूदगी अमर उजाला ने एक कार्यक्रम के दौरान दिखायी। कांग्रेस पार्टी के 125वें स्थापना दिवस के मौके पर कांग्रेसी संगठनों ने अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए थे।

मुख्य कार्यक्रम मैदागिन स्थित कांग्रेस कार्यालय में हर्षोल्लास के साथ 28 दिसंबर को मनाया गया। इस कार्यक्रम में उपस्थित कांग्रेसी वक्ताओं ने कार्यक्रम शुरू होने से पहले 17 वर्ष पूर्व यानी 1994 में दिवंगत हुए कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष रहे चंद्रमोहन पांडेय के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए उन्हें श्रद्धांजलि भी दी थी। इस कार्यक्रम का कवरेज अमर उजाला ने किया और कांग्रेसियों की फोटो के साथ खबर भी छापी। खबर का शीर्षक था-‘भारतीय राष्ट्र निर्माण का हथियार रही है कांग्रेस।’ यह खबर कुल दो पैरे में थी। प्रथम पैरा में कांग्रेस के योगदान की चर्चा की गयी थी जबकि दूसरे पैरा में उपस्थित लोगों का नाम गिनाया गया था।

लगभग दो-ढाई दर्जन नामों में सबसे पहला नाम पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष चंद्रमोहन पांडेय का था और दूसरा नाम कार्यकारी अध्यक्ष अनिल श्रीवास्तव का था। इसके बाद वक्ताओं की लंबी फेहरिश्त दी गयी थी। इस खबर को पढ़कर कांग्रेसियों ने अपना सिर धुन लिया और टिप्पणी दी कि आज के अखबार मुर्दे से भी भाषण करा सकते हैं और जिंदे को दफन कर सकते हैं।

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “वो मर गए थे, अमर उजाला ने जिंदा कर दिया!

  • sahid pathan says:

    amur ujala ne varansi me jo kuch likha vo koi pahli bar nahi hua kanpur me bhi ek gungi mahil se uske pati ke suscid ke detel lekar chap chuke hai bjai bada akhbar hai kuch bhi kar sakta hai

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *