सहारा समय के स्ट्रिंगर के साथ क्या हो गया!

: खबर दिखाने से खफा एसडीओ ने मकान तुड़वाया, जेल भिजवाया : अभी-अभी एक मेल के जरिए सूचना मिली है कि सहारा समय, राजस्थान के एक स्ट्रिंगर अनिल ऐरन एक खबर दिखाने के कारण प्रशासनिक तंत्र की बर्बर प्रताड़ना के शिकार हुए. मेल में जो कुछ बातें कही गई हैं, वो इस प्रकार है… ”खबर का असर तो आपने कई बार देखा होगा लेकिन राजस्थान में सहारा समय के स्ट्रिंगर की खबर का विपरीत असर हुआ. इस खबर के कारण एसडीओ टीना सोनी ने अनिल एरन का जीना दूभर कर दिया है. अनिल का मकान तो तुड़वाया ही, साथ ही धारा 151 में पाँच दिन जेल में रखवाया. ऐसा किसी स्ट्रिंगर के साथ शायद आजाद भारत के इतिहास में पहली बार हुआ होगा. इतना ही नहीं, 307 में अनिल, उसके कैमरामैन और भाई को भी झूठे केस में फंसा दिया. अब अनिल न्याय के लिए दर-दर भटक रहा है.”

इस खबर के साथ यूट्यूब पर अपलोड एक वीडियो का लिंक भी भेजा गया है. लेकिन वीडियो की साउंड क्वालिटी बहुत खराब है. ज्यादातर जगह इस वीडियो में कोई साउंड नहीं है इसलिए मामले के बारे में कुछ पता नहीं लग पा रहा है. वीडियो आप नीचे क्लिक कर देख सकते हैं. राजस्थान का कोई पत्रकार साथी अगर इस प्रकरण पर तफसील से बता सकेंगे, खबर बनाकर भेज सकेंगे तो हम उनके आभारी रहेंगे. एक स्ट्रिंगर के साथ अगर किसी सरकारी अधिकारी ने इस तरह का बर्ताव किया है तो यह शर्मनाक है. पूरे मामले का जरूर पर्दाफाश किया जाना चाहिए. साथ ही सहारा समय प्रबंधन को भी इस मामले में पहल कर अधिकारियों को उनकी सीमा रेखा के बारे में समझाना चाहिए.

-एडिटर, भड़ास4मीडिया

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “सहारा समय के स्ट्रिंगर के साथ क्या हो गया!

  • Lekin Sahara management to kya…Jaipur bureau tak ne Anil ko bisara diya hai…yah to bhala ho Kavita shrivastav nam ki activist ka jisne hadkaya to jel se chhute Anil ki sudh lene sahara ka numainda press confrence ke baad pahunch gaya..varana to press confrence tak mein aane ki jaroorat nahee samjhi gayee..dusare channels ke reporter Anil ki jaan chhudane mein lage rahe..sahara wale samjhote ki salah dekar sote rahe…yehi hai..kaam karo tab tak kaam..varana sahara pranam !

    Reply
  • Shripal Shaktawat :The reports shows that Areen was victimised for bringing out truth.
    ————-
    An IAS officer and her IPS husband have allegedly “taught a Mount Abu journalist a lesson” for exposing her misdeeds as sub-divisional officer (SDO) of Abu Road.
    It has been alleged that SDO Tina Soni a…nd her husband Satyendra Gupta of the Orissa cadre assaulted 45-year-old journalist Anil Areean’s brother Sunil at their official residence and then, again, in a police station.
    The two brothers and a photographer, Ishwar Singh, were implicated in a case under Section 151 CrPC and 307 of the IPC. Soon after, they werearrested and sent to judicial custody. Areean, a reporter for a TV news channel, managed to get bail.

    -See More

    Whistleblower Whistleblower scribe lands in Mt Abu jail – The Times of India
    timesofindia.indiatimes.com
    The government may be in the process of bringing in legislation to protect whistleblowers, but it has not deterred the administration in Mt Abu from arresting a journalist who invited officials’ wrath for reporting graft.for a TV news channel, managed to get bail.
    —————-
    Piyush Mehta: yes, PUCL (Kavita) is also doing a good job in this case. This is truely … dadagiri by Mt. Abu Admn…. राजस्थान की पारदर्शी, संवेदनशील, …. सरकार सो रही है शायद !!
    15 hPUCL (Kavita) is also doing a good job in this case. This is truely … dadagiri by Mt. Abu Admn…. राजस्थान की पारदर्शी, संवेदनशील, …. सरकार सो रही है शायद !!
    —————
    Praveen Nahta shameful administration…
    ———————————–
    SamandarSingh Rathore: A few days ago a person demanded information from officials and consequently met the same treatment in our state.Journalists like Areean are really the forth pillar of our democracy.Only teachers and journalists can eradicate corruption from our country.People should protest to support journalists like Areean.
    ——————————-
    Ajay Shekhawat: It’s really a shameful act. How come administration allowed to harass someone to perform their job ?
    —————————————-
    Abhishek Aadha: सर टीना सॊनी के परिवार के बारे में तॊ राजस्थान का बच्चा बच्चा जानता है। ये अजमेर के प्रतिष्ठित परिवार से तालुल्क रखती है। लेकिन अपने कृत्यॊं का छुपाने के लिये इस परिवार के लॊग इस हद तक भी जा सकते है इसका इल्म शायद ही किसी कॊ रहा हॊगा। पारदर्शी सरकार कॊ चाहिये कि इन दॊनॊं कॊ तुरंत बर्खास्त करे।
    ——————-
    Abhishek Aadha: देश के नौकरशाह कितने आतातायी किस्म के हॊ गए है इसकी एक बानगी। अनिलजी से मारपीट करने और झूठे मुकदमॊं में फसाने के मामले में जगहंसाई हॊ जाने के बाद भी ये जॊडा डैमेज कंट्रॊल करने की बजाय हनीमून की तैयारियॊं में व्यस्त है और 45 दिन की छुट्टियॊं की मांग कर रहा है। बाद में मुझे पता चला कि जग हंसाई का इन पर काई असर क्यॊं नहीं पडता। क्यॊंकि ये जगहंसाई 1994 की जगहंसाई से ज्यादा बडी तॊ है क्यॊंकि ये जगहंसाई 1994 की जगहंसाई से ज्यादा बडी तॊ है नहीं।
    Loading…

    Reply
  • JAIPUR: The government may be in the process of bringing in legislation to protect whistleblowers exposing corruption, but it has not deterred the administration in Mt Abu from arresting a journalist who invited officials’ wrath for reporting graft.

    It all began when Anil Aran, a freelance journalist, drew the attention of the authorities as to how the hill station, experiencing water shortage, would lose precious water if governor Shivraj Patil stayed there for 10 days during a visit. After the report appeared in newspapers, Patil cut short his visit to two days.

    According to sources, Patil and senior government officials criticized the administration for failing to solve the water shortage problem in the hill station.

    At a press conference, Aran alleged that an IAS probationer, Tina Soni, who was furious with his reports, issued orders to demolish his house on the pretext that it was not regularized. Although the journalist showed legal documents of his house, the officials remained unconvinced. When his younger brother Sunil Aran went to Soni with the papers, he was allegedly beaten up by the police. Sunil had to be rushed to the hospital.

    “The moment I reached hospital, I was arrested by police under CrPC 151 for disrupting peace and harmony,” said Aran.

    Read more: Whistleblower scribe lands in Mt Abu jail – The Times of India http://timesofindia.indiatimes.com/india/Whistleblower-scribe-lands-in-Mt-Abu-jail/articleshow/6633140.cms#ixzz10nQJ5I5z

    Reply
  • Some Facts of [b][b][b][b][b]Anil Aryan[/b][/b][/b][/b][/b] background

    I would like to present before you certain facts that are self explanatory that I have always acted with all fairness. I have been regularly receiving orders from Divisional Commissioner, Jodhpur and Collector, Sirohi’s office regarding the illegal construction activities of Anil Aeran, one of the accused in the present case.

    Every time any demolition drive has been carried out as a routine exercise from Municipal Board,Mt Abu in compliance of Hon’ble Supreme Court’s Order.

    I want to put forth the following correspondences and related documents in the support of my bonafide intentions.

    1.Letter F 40/09/644 dated 22.06.10 from Additional Divisional Commissioner,Jodhpur asking to take action against illegal construction of Anil Aeran and send a progress report.(Annex-A)

    2.Letter 2010/1090 dated 14.06.10 (Annex-B) and letter 2010/1180 (Annex-C) dated 22.06.10 from District Collector,Sirohi asking to take action against illegal construction of Anil Aeran and send a progress report. Images of Anil Aeran’s illegal construction in the DVD.

    3.Mauka Panchanama dated 05.08.2010 clearly reveals the rowdy behavior shown by Anil Aeran.It mentions that he obstructed the discharge of government functions. (Annex-D)

    He gave assurance to demolish his illegal construction within 4-5 days. But instead ,he took a stay order from ACJM court on 12.08.10 (Annex-E).

    The above order was appealed in the Court of ADJ on 09.09.10.On the same day, the ADJ Court heard the application in the appeal and appointed Court Commissioner along with PWD engineer and the Court further gave stay on the ACJM’s Order. In the same Order , on the second page Anil Aeran signed in the Court for receiving the above ADJ’s Order personally.( Annex-F)

    On 14.09.2010, the Court Commissioner along with PWD engineer and municipal officer went to the disputed site in pursuance of the Court Order. But to their surprise Anil Aeran locked the disputed site and fled away.

    That, perhaps, infuriated him and made him to inflict personal damages to me and my family members.

    4.Because of the obstruction created by Anil Aeran’s brother Sunil Aeran in government functioning on 05.08.10 during the encroachment demolition drive being carried out by Municipal Board ,Mt Abu, he was bound down on 06.08.10 under 107/116(3)/151.(Annex-G)

    5. After Sunil Aeran was bound down on 06.08.10,some local people were manipulated by the accused persons to file an atrocity case against me on 12.08.10 in order to harass me.
    In this case, Final Report was submitted in the court on 31.08.10 declaring the FIR as false.(Annex-H)

    6. In compliance of Hon’ble Supreme Court’s Order, the Municipal Board, Mt Abu as well as the Local government officials including the State Government through District Collector, Sirohi are facing obstacles by way of filing of frivolous complaints and contempt petitions allegedly by the accused person.
    In this matter, Municipal Board, Mt Abu has moved to the Hon’ble Supreme Court. A Draft Copy is attached herewith. (Annex-I)

    7 Letter/Panchayat/10/502 for status report asked by Collector, Sirohi regarding illegal construction activities of Anil Aeran.(Annex-J)

    I would also like to bring forth certain facts about the accused Anil Aeran which clearly put a question mark on his integrity and intentions. He has been regularly involved in harassing persons, in illegal activities and blackmailing as the following facts and supporting documents reveal.

    1.Anil Aeran,Sunil Aeran and others were covicted in a criminal case 141/2005 by ACJM court on 13.03.2007 under sections 147,149,327. (Annex-1) , (Annex-1A), (Annex-1B)

    2.A Memorandum was submitted on 25.02.2009 to the then SDM, Mt Abu Shri Saravan Kumar regarding the misdeeds and blackmailing activities of Anil Aeran. (Annex-2)
    Video File of the procession and handing over of the Memorandum to the then SDM, Mt Abu is also attached.

    3. On 08.06.2005, there was a news item in Dainik Bhasker regarding blackmailing activities of Anil Aeran. A report was also filed in Mt Abu police station regarding that. (Annex-3)

    Later,Danik Bhasker had expelled him from its services as a correspondent. (Annex-3A)

    4. I am also attaching video evidence regarding a false news item played on Sahara TV on 30.08.10 regarding an issue that has nothing to do with me presenting me in a bad light. Video File of Sahara TV news item

    I had informed my concerns about my personal safety to the present IGP,Jodhpur, Range Jodhpur,District SP,Sirohi as well as local police earlier. In the afternoon of 15.09.2010,I had faxed a letter 2010/50 dated 15.09.10 to District Collector, Sirohi about my concerns regarding my safety(Annex-4).

    I am attaching photocopy of FIR lodged by my brother of the attack at my residence on 15.09.10. at7.30 PM.(Annex-5). In order to create a pressure upon me, the accused person’s wife has filed a complaint (1CC) in the Court of ACJM on 16.09.10.against my family members and my government driver (Annex-6). In the light of above facts, I urge you to decide about the veracity of allegations being propagated by Anil Aeran.

    I am deeply hurt with the developments that have taken place. I have always acted with all sincerity and integrity. Kindly look into this matter and take the necessary action.

    Reply
  • श्रीमती टीना सोनी द्वारा लगाये गए आरोपों के सन्दर्भ में
    श्रीमती टीना सोनी के मुताबिक अनिल एरन और उसके साथियों ने दिनांक 15 -09 -10 की शाम 7 .30 बजे श्रीमती सोनी के सरकारी आवास पर हमला किया.
    जबकि हकीकत यह है कि :-
    श्रीमती टीना सोनी के घर पर सुनील एरन उस सूरत में अदालत का स्थगन आदेश दिखाने गए थे ,जब नगर पालिका के दो कर्मचारी उनके अक्षय कोलोनी स्थित मकान को तोड़े जाने की खबर के साथ मकान का नाप करने गए थे l उन कर्मचारियों को जब यह जानकारी दी गयी कि इस सम्बन्ध में अदालत दिनांक 09 -09 -10 को यथा स्थिति का आदेश दे चुकी है और अदालत में यह भी माना गया है कि तल मंजिल पहले से बनी हुई है और पहली मंजिल को यथा स्थिति में रखा जाये l इस आदेश की प्रति नगर पालिका को दिए जाने के बावजूद कर्मचारी इसे मानने की बजाय एस डी एम को अवगत कराने पर जोर दे रहे थे , इसलिए सुनील एरन, ईश्वर सिंह और बाबू सिंह के साथ एस ड़ी एम को अदालत के आदेश की कापी देने गए थे l
    श्रीमती टीना सोनी का यह कथन गलत है कि अनिल एरन उस वक्त सुनील एरन के साथ थे l दरअसल अनिल एरन मधुमेह के मरीज हैं और जिस समय का जिक्र श्रीमती टीना सोनी कर रही हैं, उस वक्त वह अपनी पत्नी सुमन एरन के साथ होटल सुधीर – राजेंद्र मार्ग के पास सायं कालीन भ्रमण पर थे l इसकी पुष्टि अनिल एरन के मोबाईल नंबर ९४१४३-४४३८१ और ९८२९८-६४९९६ की टावर लोकेशन से जा सकती है l
    8 बजे के आसपास अनिल एरन को उनके कर्मचारी गोकुल ने जरिये फोन(मोबाईल नंबर- ) सूचना दी कि नगरपालिका का दस्ता मकान की तोड़ फोड़ करने के लिए नाप-जोख करने आया था और उन कर्मचारियों की सलाह के मुताबिक सुनील जी एस डी एम मेडम को स्टे कि कापी देने गए हैं l सुनील जी कह कर गए हैं कि अदालत के स्टे के बावजूद मेडम मकान तुडवाने पर आमादा हैं, इसलिए आप भी उनसे रिक्वेस्ट कर लें l
    अनिल एरन श्रीमती टीना सोनी से बात करते इससे पहले ही ईश्वर सिंह मोटर साईकिल से होटल के बाहर आये और अनिल एरन को सूचना दी कि एस डी एम मेडम ने अनिल एरन द्वारा उनके खिलाफ की गयी खबरों पर नाराजगी जताते हुए पहले तो स्टे की कापी फाड़ी फिर बदतमीजी करने लगी l सुनील जी ने इस पर एतराज़ जताते हुए जब यह कहा कि ख़बरें अनिल करता है, उसमे मेरा क्या कसूर है, आप हमारा मकान क्यों तोड़ने पर तुली हैं l मेडम इस बात पर नाराज हो गयी और सुनील जी को मेडम, मेडम के आईपीएस पति सत्येन्द्र गुप्ता और उनके भाई नरेन्द्र सोनी पीटते हुए थाने ले गए l अनिल एरन का मकान तोड़े जाने की बात और सुनील के साथ मारपीट की बात सुन कर श्रीमती सुमन एरन घबरा गयी और उसने एस डी एम से रिक्वेस्ट कर बात ख़त्म करने की सलाह दी l
    श्रीमती सुमन एरन की सलाह पर अनिल एरन पत्नी के साथ एस डी एम के सरकारी आवास गए तो श्रीमती टीना सोनी दोनों पर भड़क गयी l श्रीमती सुमन एरन को वहां से चले जाने वरना जेल भेज देने की धमकी के साथ रवाना कर दिया गया और अनिल एरन को धक्के मारते हुए एस डी एम आवास के अन्दर ले जाया गया l एस डी एम बार-बार चीखती हुई कहती रही कि तुमने ख़बरें कर-कर के मेरा जीना हराम कर रखा है l अब तुम्हे बताती हूँ कि आईएएस – आईपीएस क्या होते हैं, यह कहते हुए श्रीमती टीना सोनी ने अनिल एरन पर चप्पलें बरसानी शुरू कर दी और उनके आईपीएस पति सत्येन्द्र गुप्ता और भाई नरेन्द्र सोनी ने भी लातें और घूंसे बरसाने शुरू कर दिए l
    श्रीमती टीना सोनी मारते हुए चीखती रही कि ख़बरें ही करते हो ना , जाओ पहले अस्पताल में भर्ती अपने भाई की हालत देखो और उसकी शूटिंग करके सहारा पर दिखाओ l और यह भी दिखाओ कि सहारा वाले किस तरह पांच पांच रुपये लोगों से बचत के नाम पर इकठा करके लूटते हैं और यह भी बताओ कि तुम्हारे संपादक की जयपुर के होटल में नंगे की सी डी किसने और क्यों बनाई थी l अनिल एरन को भाई की हालत का पता चला तो वह जैसे तैसे वहां से निकल कर अस्पताल गए तो भाई सुनील एरन लहू-लुहान हालत में अस्पताल में भर्ती था और उसके सिर में सात टांके आये हुए थे l
    अनिल एरन को उसी समय पता चला कि सुनील एरन को पहले श्रीमती टीना सोनी, उनके पति सत्येन्द्र गुप्ता और भाई नरेन्द्र सोनी ने पहले घर पर निर्मम तरीके से मारा फिर मार पीट के दौरान सिर फट जाने के बावजूद लहू लुहान हालत में पुलिस थाने ले जाकर पुनः उसकी पिटाई की l इस बीच वकील भूपेंद्र यह सूचना पाकर थाने पहुंचे तो लहू लुहान हालत के बावजूद उसे थाने में रखे जाने पर एतराज जताया तो सीआई लाभू राम बिश्नोई उसको अस्पताल लेकर गए l
    यह भी पता चला कि थाने में श्रीमती टीना सोनी, उनके पति सत्येन्द्र गुप्ता और भाई नरेन्द्र सोनी द्वारा सुनील एरन की पिटाई किये जाने पर सी आई बिश्नोई ने एतराज किया तो एस डी एम ने पूरे थाना स्टाफ को यह कहते हुए धमकाया कि एक दिन वह राजस्थान की चीफ सेक्रेटरी बनेगी और उसके पति केडर बदल कर राजस्थान आने के बाद इसी तरह डी जी पी बनेंगे, तब तुम्हे पता चलेगा कि अफसर क्या होते हैं l इसके बावजूद बिश्नोई ने मारपीट पर नाराजगी जताई तो अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल करते हुए पहले एस डी एम ने किसी से बात की, फिर कहा की अगले दो घंटे में तुम्हारी विदाई हो जाएगी l बाद में पता चला की एस डी एम की शिकायत पर सी आई को उसी वक्त लाईन हाज़िर करने के आदेश कर दिए गए l

    Reply
  • श्रीमती टीना सोनी की दलील है कि अनिल एरन कानून तोड़ने और समाज विरोधी गतिविधियों में शामिल रहे हैं l
    जबकि हकीकत यह है कि :-
    अनिल एरन को सामाजिक कार्यों और पत्रकारिता के लिए एक-दो नहीं कई राज्य और राष्ट्रीय स्तर के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है और एरन की निर्भीक रिपोर्टिंग से प्रभावित लोगों द्वारा द्वेष वश की गयी कारवाई को खुद पुलिस अधीक्षक तक ने गलत माना है l ( संलग्न फोटो प्रति-)
    श्रीमती टीना सोनी का कथन है कि उन्होंने निर्भीक तरीके से संभागीय आयुक्त और जिला कलेक्टर-सिरोही के आदेशों का पालन किया है और अतिक्रमण हटाये हैं l जिसमे अनिल एरन का अतिक्रमण शामिल है l

    जबकि हकीकत यह है कि :-
    एस डी एम श्रीमती टीना सोनी ने उनके द्वारा की गयी अनियमितताओं के खिलाफ अनिल एरन द्वारा की गयी रिपोर्टिंग से बौखलाकर कार्यवाही की गयी l यदि ऐसा नहीं है तो क्या वजह रही कि एरन के हेटमजी – माउन्ट आबू स्थित मकान को बिना किसी नोटिस के तोड़ दिया गया जबकि वह एरन द्वारा खरीदे जाने से पहले ही 1983 में बनाया जा चुका था और खुद एस डी एम द्वारा भेजी गयी अवैध निर्माण की सूची में उसका कहीं कोई जिक्र तक नहीं l (संलग्न : )
    अनिल एरन कि निर्भीक पत्रकारिता के कारण प्रभावित लोगों कि बेनामी शिकायतों के आधार पर दरअसल पहले तो अनिल पर चुपचाप रहने का दबाव बनाया गया , फिर बात नहीं बनी तो मकान तोड़ने की धमकी दी जाने लगी l प्रशासन का बदला लेने का तेवर देख अनिल एरन ने अदालत से अपने अक्षय कोलोनी स्थित स्थाई निवास पर स्टे ले लिया l (संलग्न:)
    स्टे के बावजूद एस डी एम मकान तोड़ने पर आमादा नजर आई इसीलिए सुनील एरन स्टे की कापी देने एस डी एम श्रीमती टीना सोनी के सरकारी निवास गए, जहाँ ना केवल सुनील के साथ मारपीट हुई बल्कि एस डी एम श्रीमती टीना सोनी के पति ने डंडों के वार से सुनील का सिर भी फोड़ दिया l
    स्टे की जानकारी मिलाने के बाद एस डी एम श्रीमती टीना सोनी अक्षय कालोनी वाले मकान को नहीं तोड़ पाई तो पहले झूठे मुकदमे बना अनिल एरन ,सुनील एरन और ईश्वर सिंह को धारा 151 में गिरफ्तार कर लिया गया l वकीलों ने जमानत की कारवाई की तो एस डी एम श्रीमती टीना सोनी के इशारे पर आम तौर पर पांच- पांच हजार रुपये के मुचलके पर जमानत लेने वाले तहसीलदार रघुदयाल मीणा ने तीन- तीन लाख रुपये की अलग- अलग तस्दीकशुदा जमानत मांगी (संलग्न 🙂 l अनिल एरन की ओर से वकील ने बीस लाख और चौदह लाख रुपये की हैसियत रखने वाले लोगों की और से जमानत अर्जी पेश की तो तहसीलदार ने ज्युडिशियल कस्टडी में भेजे जाने के बहाने जमानत लेने से इंकार कर दिया(संलग्न:) l
    जमानत अर्जी पेश किये जाने के बावजूद अनिल एरन और सुनील व ईश्वर को जेल भिजवाने के बाद एस डी एम श्रीमती टीना सोनी ने शुगर बढ़ जाने के कारण अस्पताल में भर्ती अनिल एरन को पहले जबरन अस्पताल से छुट्टी दिलवाने की कोशिश की फिर १७-०९-१० को शूगर ३०८ होने के बावजूद देर रात नियमों का उलंघन करते हुए जेल भिजवा दिया l नियम है कि शाम ६.१५ बजे के बाद किसी भी हालत में जेल नहीं खोली जाती (संलग्न 🙂
    इतना ही नहीं जेल भेजे जाने के बाद पीछे से एस डी एम श्रीमती टीना सोनी द्वारा अनिल एरन के हेटमजी स्थित 1983 में निर्मित मकान को बिना किसी नोटिस के तोड़ दिया गया और सुनील एरन दुकान पर काम करने वाले गोकुल को सुनील आचार्य के जरिये एस डी एम श्रीमती टीना सोनी ने कहलवाया कि जेल में समाचार भेज दें कि निकलते ही इस मकान कि भी खबर सहारा समय पर हेड लाईन्स में चलवा दें lएस डी एम श्रीमती टीना सोनी सुनील आचार्य के साथ मिलकर यह साजिश रचती रही l इस बात कि पुष्टि लगातार और बार बार एस डी एम श्रीमती टीना सोनी के मोबाईल और सुनील आचार्य के मोबाईल ९४१४२-४४५१८ पर बातचीत के रिकार्ड से की जा सकती है ल इस बात कि पुष्टि सुनील आचार्य के निर्देशों पर काम करती रही एस डी एम श्रीमती टीना सोनी के फोटो से भी कि जा सकती है (संलग्न :)l

    Reply
  • एस डी एम श्रीमती टीना सोनीके मुताबिक वह बिना किसी भेदभाव के अपनी डयूटी को अंजाम देती रही हैं और कानून सम्मत कार्यवाही करती रही है l
    जबकि हकीकत यह है कि :-
    एस डी एम श्रीमती टीना सोनी नगर पालिका के पूर्व अध्यक्ष सुनील आचार्य के साथ मिली भगत कर न केवल गैर-कानूनी तरीके से कारवाई करती रही , बल्कि आचार्य के मकान को भी अवैध निर्माण की सूची में होते हुए भी नहीं तोडा गया l जिसका जिक्र नगरपालिका द्वारा तैयार अवैध निर्माण की सूची में भी है और खुद एस डी एम श्रीमती टीना सोनी द्वारा कलक्टर सिरोही को लिखे गए पत्र(क्रमांक /पंचायत/१०/५०२/दिनांक:१६-०९-१०) में भी है (संलग्न 🙂 l
    कारवाई बिना भेदभाव की गयी तो क्या वजह रही कि एक तरफ अनिल एरन के हेटमजी स्थित मकान को तो बिना किसी कारण तोड़ दिया गया और अवैध निर्माण की सूची में दर्ज किसी भी मकान और होटल को छूने तक की कोशिश तक नहीं की गयी ल
    एस डी एम श्रीमती टीना सोनी सचमुच न्यायप्रिय और कार्य के प्रति ईमानदार है तो कृपया इन तथ्यों का जवाब दें :-
    अनिल एरन के जिस अक्षय कालोनी स्थित मकान के अवैध निर्माण और वहां पर होटल बनाने की बात कही जा रही है क्या वहां पर तल मंजिल के अलावा किसी तरह का निर्माण हुआ है ?एस डी एम श्रीमती टीना सोनी के सच को समझाने के लिए कृपया सलंग्न फोटो

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *