सहारा समूह से भिड़े राजकेश्वर की बहन हैं मीनाक्षी!

पिछले दिनों भड़ास4मीडिया पर एक खबर प्रकाशित हुई थी, ”एक आईपीएस को निपटाने में जुटा राष्ट्रीय सहारा अखबार” शीर्षक से. इस खबर के प्रकाशित होने के बाद कुछ सुधी पाठकों ने महत्वपूर्ण जानकारियां और फीडबैक भड़ास4मीडिया को उपलब्ध कराया है. नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर मीडिया के एक दिग्गज ने बताया कि आईपीएस राजीव कृष्ण को को निशाना बनाकर सहारा समूह ने राजकेश्वर सिंह को परेशान करना शुरू किया है.

उस राजकेश्वर को जिसने सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाई थी कि सहारा वालों ने दो करोड़ रुपये लेकर काम न करने पर करियर व परिवार की इज्जत तबाह कर देने की धमकी दी थी. प्रवर्तन निदेशालय के उसी अधिकारी राजकेश्वर सिंह की सगी बहन हैं मीनाक्षी सिंह जो आईपीएस अफसर राजीव कृष्ण से ब्याही हैं. मीनाक्षी सिंह भी इनकम टैक्स डिपार्टमेंट हैं. इसलिए राष्ट्रीय सहारा ने सीधे राजकेश्वर को निशाना न बनाकर उनकी बहन और जीजा को निशाना बनाया है जिससे एक तीर से दो निशाने सध जाएं.

खबर से ऐसा लग रहा है कि मानों राष्ट्रीय सहारा अखबार देश के सभी अनैतिक लोगों को सबक सिखा कर रहेगा, उनकी पोलखोल कर रहेगा, पर इस खबर के तह में जाने पर पता चल रहा है कि सहारा समूह वही कर रहा है जो बरसों से करता आ रहा है. जो अफसर या जज सूट न करे, मन मुताबिक न हो, उसे इतना परेशान करो, उसे इतना बेइज्जत करो, उस पर इतने आरोप लगाओ कि वह अलग थलग पड़ जाए या फिर शासन से दंडित हो जाए. पर प्रवर्तन निदेशालय के अधिकारी राजकेश्वर सिंह ने टूजी स्पेक्ट्रम मामले में और मनी लांडिंग की जांच को लेकर सहारा समूह की धमकियों व रिश्वत को नजरअंदाज किया तो उन्हें भी धमकी दी गई जिस कारण उन्हें सुप्रीम कोर्ट से गुहार लगानी पड़ी.

राजकेश्वर ने बाकायदे उपेंद्र राय समेत दो पत्रकारों के नाम लिखकर दिए कि ये लोग उन्हें धमका रहे हैं और काम न करने पर करियर नष्ट करने व परिवार को तबाह करने की बात कह गए हैं. सुप्रीम कोर्ट ने इस रिश्वत व धमकी के प्रकरण की जांच के आदेश सीबीआई को दिए हैं. पर सीबीआई जांच व सुप्रीम कोर्ट की निगरानी के बावजूद सहारा समूह ने अपने अखबार के जरिए राजकेश्वर सिंह के परिजनों को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया है. यहां यह कहने का आशय कतई नहीं है कि राजकेश्वर सिंह, मीनाक्षी सिंह और राजीव कृष्ण कोई दूध के धुले हैं. इनकी छवि को लेकर भी कई तरह की बातें पता चली हैं. लेकिन टूजी मामले में राजकेश्वर का सहारा के प्रलोभन व धमकियों में न आना बताता है कि सहारा समूह इनसे बेहद चिढ़ा हुआ है और अपनी चिढ़ को लंबे समय तक न छुपाकर आईपीएस को निशाना बनाने संबंधी खबर छापकर सार्वजनिक कर दिया है.

Comments on “सहारा समूह से भिड़े राजकेश्वर की बहन हैं मीनाक्षी!

  • alokdixit.knp says:

    ;Dsahara per vishvash karna apne peir pein kulhadi marne jaisa hai badi soch wale adhikari sirf niche repoters ka sosad karte hai 2500rs salary pe t.d.s katte hai mai puchna chahta hoon in mahan logo se ek to 2500 mandey dete ho us per 250rs t.d.s kat lete ho to ek repoter kaise apna gher chalayega;Dsahara mein kam karne se acha to wo narega majdoor hai jise120rs per day mil raha hai jabki uski parid 5km jabki sahara ke repoter ki parid135km ye usse bhi adik ho sakti hai uspe kam ka itna dabav banaya jata hai ek pal ke liye wo choddne ki soch leta hai lekin fir karn ye ata hai ki sahara ke repoter ko kaun rakhega kyoki sahara aaj bhi news line mein sabse niche khada hai ;Dkanpur unit mein aise daal hai jo ek repoter banane ke liye paisa magte hai shayad ye baat subrat sahara ji ko bhi na pata ho mai sirf itna kahna chahta hoon sahara se ki apne ko sudharo ipl ke liye paisa hai per repoters ki salary keliye paise nhi hai yaha pe 3,4mahine tak salary nhi milti jabki bade editor ko time se paisa milta hai jabki unhe to kewal office mein he baithna hai.lucknpw mein baithe adhikari kahte hai naay mago naay milega wo bhi 1,2 mahine mein lekin sab jhoot makkar hai badi kursiyo pe tabhi sahara ka ye haal hai ager waqt rahte koi thos kadam na uthye gaye to sahara ka ye ped sukh ker toot jaye ga………………………..

    Reply
  • alokdixit.knp says:

    >:(sahara kahta hai hum apne worker ko ek pariwar samjte hai kewal jhoot bolna ho to inki baatein sun lo subrat rai ji ko to ye bhi nhi pata hoga ki worker ki salary kab milti hai or kitni milti hai uska bhi ek chota karan hai sahara sahab ki jeb to bher he rahi hai tabhi ti apne desh mein unka mann nhi lagta videsh mein he rahte hai subrat rai sahara pariwar ki sabhi unit chahe wo sahara samay ya sahara news paper ho sahara pvt ltd chitfund mein kam karne wale younger ka bhavish se ye khel rahe hai 10saal se 12saal kam karne wale worker apna pariwaar nhi chala pa rahe hai inke yaha ek naay vibhag hai jiska kehna hai ki kisi bhi karmchari ko kisi tarh ki koi sikayat hai to ukt vibhag ko sikayti letter de sakta hai jis per k.k sarkar jo is company ke cch adhikari hai unke dhara sikayti letter per nayaik jach karte hue sikayet karta ko apne vibhag mein bulate hai tatha uske dhara tabel talk karke usko naay pradan karte hai;D;Djabki ye sab jhoot hai sikayati letter mahaj ek dhong hai.jabki sikayat karta ko kisi karan was company se bahar ka rasta dikha diya jata hai aise me us karmchari ke pariwar ki mali halat bigad jati hai in sab ka zimmedar koun hai? wo jisne sahara mein kam kiya ya kud sahara ke adhikari ? subrat rai ,k.k sarkar, ke liye karmchari sirf ek I.P.L match ki tarh hai jab mann kare hata do inka kya jata hai;D

    Reply
  • arjun singh says:

    [b][/b]सहाराश्री ने अखबार और चैनल ब्लैकमेलिंग के लिए निकाले हैं.

    Reply
  • news maker says:

    sahara ek media group nahi hai balki dalalo kaa kunba hai. sabse bada dalal khud shubrat rai hai. desh ke liye kuch karne ka itna madda hai to journalism ko bechna band karo. sarm karni chahiye.jis din b.c.c.i se sahara ka contract khatam hua usi din sahara desh se gayab ho jayegi. kanpur rashtriya ka g.m ramesh awasthi tumhe media ki jagah dalal street jana chahiye. sarm ani chahiya khabro ko bechte ho. aur kamai kar rahe ho. so same….[b][/b] ;D;D;D:o

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *