बी4एम में ये चेंज आपको कैसा लगा?

दोस्तों-मित्रों, वरिष्ठों, कनिष्ठों…. आज मकर संक्रांति के दिन से भड़ास4मीडिया में बदलाव महसूस हो रहा होगा. कुछ नई चीजें जोड़ी गई हैं. अभी तक भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित खबरों और आलेखों पर कमेंट करने का आप्शन नहीं रखा गया था. वजह सिर्फ एक कि कमेंट आप्शन का कई लोग दुरुपयोग करते हैं. इसके जरिए अपनी कुंठा और भड़ास निकालते हैं. कुंठा और भड़ास निकालें, लेकिन मेरा हमेशा से मानना रहा है कि अपनी असली आइडेंटिटी के साथ कुंठा और भड़ास निकालें. अगर आप पहचान छुपा कर ही कुछ कहना चाहते हैं तो ऐसी बात कहें जिससे दूसरों का भला हो, दूसरों का दिल खुश हो जाए. या फिर ऐसी बात जिससे नई जानकारियां सामने आ रही हों. ये मेरा निजी मत है. अनाम कमेंटों के जरिए हिंदी ब्लागिंग में जिस तरह से तमाम लोगों के उपर कीचड़ उछालने का चलन रहा है.

भड़ास4मीडिया पर हर खबर और लेख के बाद आपको कमेंट करने के लिए मौका मिलेगा.

संभवतः उसी भय से और उस नकारात्मकता से भड़ास4मीडिया को बचाने के लिए कमेंट आप्शन नहीं रखा गया था. पर समय के साथ, हिंदी पाठकों के मेच्योर होते जाने की प्रवृत्ति को देखते हुए, भड़ास4मीडिया के पाठकों की जबर्दस्त डिमांड के चलते कमेंट आप्शन को शुरू किया जा रहा है. अनुरोध है कि हम हिंदी वाले कमेंट की सुविधा का इस्तेमाल किसी के निजी जीवन पर कीचड़ उछालने के लिए न करें. तभी इस कमेंट के आप्शन का लाभ है वरना हम कमेंट आप्शन के जरिए अंतहीन निजी झगड़ों में उलझ जाएंगे.

जीवंतता के लिए भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित खबरों की हेडलाइन का रंग बदल दिया गया है.

दूसरा बदलाव किया गया है रंग का. इस पोर्टल पर खबरों की हेडिंग, लिंक आदि अब संतरे (ओरेंज) के रंग का होगा. अभी तक नीला हुआ करता था. हो सकता है कि रंग का यह बदलाव कई लोगों को खटके क्योंकि पुराने कलर पर हम सभी की आंख लयबद्ध हो गई थी. संतरे के रंग के इस्तेमाल के पीछे सिर्फ एक मकसद है, वह है, थोड़ी जीवंतता और थोड़ी उदात्तता का भान हो.

तीसरी चीज जो भड़ास4मीडिया पर शुरू हुई है वह है म्यूजिक सुनाने का प्रबंध. कई बार लगता था कि ये भजन, ये निर्गुण, ये संगीत, ये ग़ज़ल बहुत बढ़िया है पर उसे मैं चाह कर भी आप लोगों को सुनवा नहीं पाता था क्योंकि मल्टीमीडिया के कई आप्शन इस पोर्टल पर जोड़े नहीं गए थे. अब इसे जोड़ दिया गया है. साइट खोलते ही आपको आज उस्ताद नुसरत फतेह अली खान का एक सुंदर गीत-संगीत सुनने को मिलेगा… सांसों की माला पे सिमरुं मैं भड़ास4मीडिया के होम पेज पर बाईं ओर सबसे उपर म्यूजिक प्लेयर.पी का नाम… अपने मन की मैं जानूं और, पी के मन की राम… यही मेरी बंदगी है यही मेरी पूजा…. इक था साजन मंदिर में और इक था प्रीतम मस्जिद में…. पर मैं सांसों की माला पे सिमरुं मैं पी का नाम…. प्रेम के रंग में ऐसी डूबी, बन गया एक ही रूप… प्रेम की माला जपते जपते, आप बनी मैं श्याम…. हम और नहीं कुछ काम के, मतवारे पी के नाम के, हर दम…. प्रीतम का कुछ दोष नहीं है, वो तो हैं निर्दोष… अपने आपसे बातें कर के हो गयी मैं बदनाम….

इस भजन को जिस सूफियाना अंदाज में नुसरत ने गाया है, वो आपके किसी और दुनिया में ले जाता है. अगर आप गीत-संगीत नहीं सुनना चाहते तो साइट पर बाईं तरफ बिलकुल उपर आपको जो म्यूजिक प्लेयर मिलेगा, उसके स्टाप बटन को दबा दें. वैसे, साइट खोलते ही गीत आटो प्ले होने वाला आप्शन केवल आज के दिन के लिए है. कल से आप तभी सुन सकेंगे जब आप उस पर क्लिक करेंगे. ऐसा इसलिए क्योंकि आटो प्ले मोड में रखने पर साइट की बैंडविथ जबर्दस्त खर्च होने की बात बताई गई है.

उम्मीद है, इन बदलावों को आप लोग पसंद करेंगे. अगर कोई सुझाव हो तो आप इसी पोस्ट के नीचे कमेंट के रूप में लिख सकते हैं. आप सभी लोगों का जो प्यार और सहयोग मिला है, मिलता रहा है, उससे मैं निजी तौर पर खुद को धन्य समझता हूं. उम्मीद है, ये अपनापा बनाए रखेंगे.

मकर संक्रांति की आप सभी को ढेरों शुभकामनाओं और आभार के साथ

यशवंत सिंह

एडिटर, भड़ास4मीडिया

yashwant@bhadas4media.com

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “बी4एम में ये चेंज आपको कैसा लगा?

  • पत्रकारों के पत्रकार यशवंत भाई को सकारात्‍मक बदलाव के लिए बहुत बधाई। आशा है आपका यह बदलाव केवल रंगों में ही नहीं, पोर्टल से जुडे मीडिया के भाइयों की नकारात्‍मक छवि को भी बदलेगा।

    Reply
  • चण्डीदत्त शुक्ल says:

    बदलाव से उम्मीदें हैं. नकारात्मकता को बाय-बाय कहने का अंदाज़ भी अच्छा लगा. उम्मीद है कि आगे और भी सार्थक परिवर्तनों का दौर जारी रहेगा.
    चौराहा

    Reply
  • shashi sagar says:

    yashwant babu

    ye badlaaw pasand aaya. sangeet ka jo prayog aapne kiya hai wo v saraahneey hai.
    mmid hai kisi din kajree v sunane ko milega.

    Reply
  • Sadashiv Tripathi says:

    Yashwant Bhai
    Bhadas ka Nay Roop Mohak Laga. Makar Sankrati ki Shubhkamnao Samet Bhadas ke Shirsh par Pahuchane ka Aakanchhi…..
    Sadashiv

    Reply
  • Laxmi Kant Dubey says:

    Yash Bhaiya , Change bahut achchaa lagraha hai. Sangeet ka prayog bahut he sarahniya hai. Ummeed hai yeh badlaaw sabhi ko pasand aayegaa.

    Reply
  • dharmendra kumar sharma says:

    bhai shaab, portal ka naya swaroop behad aakarshak laga. aur aasha hai ki aage bhi naya dekhane ko milega,
    ek baat kehana chahunga, agar kesariya rang ki jagah koi aur rang ka istemal karna chahiye tha, mana ki kesariya rang josh aur veerata ka pratik hai

    Reply
  • Bahut accha laga sir ji, bas keval ek thoda sa badlav font ke color ka bhi karo. filhaal jo font hai, ve spasht nahi dikhayi padte… so please change haeding font color…

    Reply
  • vimlesh gupta says:

    Sir, Change bahut achchaa lagraha hai. Sangeet ka prayog bahut he sarahniya hai. Yeh badlaaw sabhi ko pasand aayegaa
    All the Best
    Vimlesh Gupta
    Shahjahanpur

    Reply
  • manoj mishra says:

    Change bahut achchaa lagraha hai. Sangeet ka prayog bahut he sarahniya hai. Yeh badlaaw sabhi ko pasand aayegaa mera sujhao hai ki yadi sabhi news read karte vakt sangeet sunai de to aur acha rahega
    All the Best
    manoj mishra

    Reply
  • satendra kulshershtha says:

    yashwant g badlav accha lga. jaise makar sankranti k din surya dev uttrayad hote hai, ushi tarah ye badlav hai….ur music ‘sanso ki mala pe’ kafi pasnd aaya…ur sab badiya…..bye…

    Reply
  • sunil taneja says:

    अग्रज भाई यशवंत जी ,
    बदलाव अति उतम की श्रेणी में आता है खास कर नवीनतम रंग-रूप-कलेवर-फ्लेवर-और “तेवर”….अब लगता है कोई हिन्दुस्तानी पोर्टल हुआ है अवतरित…. देश दुनिया को कुछ सिखाने को….. की हम हिन्दुस्तानी हम हिन्दुस्तानी ……
    शुभकामनाओ सहित
    सुनील तनेजा
    मेरठ

    Reply
  • BRIJESH SRIVASTAVA says:

    यशवंत भाई साहब जी
    सादर नमस्ते,

    मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर यह परिवर्तन काफी अच्छा लग रहा है।
    शुभकामनाओं सहित
    बृजेश
    नोएडा

    Reply
  • ganesh rawat says:

    प्रिय यशवंत जी
    भड़ास ४ मीडिया पर इस नए बदलावों पर बड़े भाई और मित्र शिरीष मौर्य की यह कविता याद आयी –
    कुछ नया हो
    उगते हुए
    सूरज की तरह नया
    नया हो कुछ ….
    मिटटी में फूटते हुए
    अंकुर की तरह नया
    …कुछ नया हो
    जीवन में
    कि हम जियें
    …कुछ दिन और ….!

    Reply
  • प्रदीप श्रीवास्तव ,निज़ामाबाद( आन्ध्र प्रदेश) says:

    भाई यशवंत जी
    बधाई,
    भड़ास4मीडिया में बदलाव के लिए,
    परिवर्तन तो सृष्टि का नियम है,
    बदलाव से काफी कुछ नयापन मिलाता है.
    इसके साथ ही संगीत सुनने का जो मोका
    आप ने भड़ास4मीडिया के पाठकों कों दिया है,
    वह भी काबिले तारीफ है.
    पुनः एक बार बधाई.
    प्रदीप श्रीवास्तव
    स्वतंत्र वार्ता (हिंदी दैनिक)
    निज़ामाबाद( आन्ध्र प्रदेश)

    Reply
  • Ajay Shukla says:

    बदलाव से उम्मीदें हैं. नकारात्मकता को बाय-बाय कहने का अंदाज़ भी अच्छा लगा. उम्मीद है कि आगे और भी सार्थक परिवर्तनों का दौर जारी रहेगा.

    Reply
  • Sanjay Gupta Orai (Jalaun) says:

    यशवंत भाई नमस्कार,
    सबसे पहले आपको और आपकी पूरी टीम के सदस्यों को मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनायें…
    जैसा कि विदित है -परिवर्तन ही प्रकृति का नियम है उसी नियम के अनुसार भड़ास 4 मीडिया का परिवर्तन भी बहुत अच्छा लगा. आशा है आप आगे भी परिवर्तन कर पोर्टल को आगे बढायेंगे… लेकिन समाचारों को गंभीरता से पढ़ते समय संगीत से कहीं न कहीं ध्यान भंग हो जाता है| उम्मीद है इस पर आप जरुर गौर फरमाएंगे….
    संजय गुप्ता
    उरई (जालौन)

    Reply
  • mahendra srivastava says:

    यशवंत भाई, नमस्कार… वाकई नया लुक आपके अपने लुक कहीं पीछे छोड़ गया…आप तो अभी भी पुरानी रुढिवादी परंपरा भिक्षाटन में लिफ्त हैं.. लेकिन ये आपका नया लुक ओबामा लुक लग रहा है.. सुबह मैं कंप्युटर पर आया और होम पेज पर जब म्यूजिक बजने लगा तो एक बार तो मुझे लगा कि कहीं कंप्प्युटर में तो कोई खराबी नहीं आ गई है… लेकिन समझने में देर नहीं लगी.. यशवंत भाई आपका दोष नहीं है ये दुनिया है ही रंगबिरंगी.. बिना इसके काम चलने वाला नहीं है.. कम से कम आप भी ये मान ही गए…

    Reply
  • ravi shankar singh, ranchi says:

    yashwant bhai bhadas4media me badlaw kamal ka hai. Khaskar music sunane ka badlaw. Mujhe nusrat sahab ki gazalen behad pasand hain. Makar sankaranti par apka ye tohfa pasand aaya. Apko makar sankaranti ki dhore bhadai…….

    Reply
  • ghanshyam rai says:

    बदलाव तो सृशिट का नियम है यह होना तो शाशवत है इसके बिना दुनिया अधूरी है आपने मकर संकांति के अवसर पर यह बदलाव किया यह तो और भी सुंदर हैं आप इसी तरह बदलाव करते रहे और आपका चैनल इस तरह बढ़ता रहे यही मेरी शुभकामनाएं है
    घनशयाम राय
    गाजीपुर उत्तर पदेश

    Reply
  • dhirendra pratap singh says:

    priya yashwant bhaiya sabse pahle sankranti ki dhero subhkamnaye. portal pr apne jo badlav kiye h wakai behad sakaratmak aur sundar h.pora vishvas h ki aage bhi ye sakaratmakta bani rahegi–apka chhota bhai dhirendra pratap singh beuro chief hindusthan samachar news agency dehradun–uttarkhand–mo–9410367071-

    Reply
  • अंशुमाली रस्तोगी says:

    यह बदलाव बेहतर है। बधाई स्वीकारें।

    Reply
  • उपदेश अवस्थी says:

    यशवंत जी, पोर्टल का यह परिवर्तन अच्छा लग रहा है। वैसे भी नए कपड़ों में अपना बेटा अच्छा ही लगता है। कभी कभी बदलते रहा कीजिए, बहुत बढ़िया प्रयास है। प्रतिक्रियाओं के लिए तत्काल स्पेश उपलब्ध कराने की सुविधा भी अच्छी है। लोगों को खुशी होती है यदि उनकी प्रतिक्रिया तत्काल दिखाई देने लगे। विस्तार के लिए मेरी ओर से बधाई
    उपदेश अवस्थी
    राज एक्सप्रेस
    भोपाल

    Reply
  • DINESH MANSERA says:

    yashwant bhai
    namshkar
    page change acha hai per yadi aap orange colour ko red me tabdeel karen to shabd khil jayenge..

    Reply
  • यशवंत सिंह says:

    आप सभी लोगों का प्रोत्साहन और फीडबैक देने के लिए तहेदिल से आभार प्रकट करता हूं. ओरेंज रंग को लेकर कई जगह से कई तरह की कंप्लेन मिली है, सो, इसका कलर अब खूनी लाल सा किया जा रहा है. खूनी लाल रंग थोड़ा थोड़ा भड़ास शब्द से भी मिलता जुलता लग रहा है… 🙂 आप लोग इस रंग पर सुझाव दीजिएगा.
    यशवंत सिंह
    एडिटर, भड़ास4मडिया

    Reply
  • change aacha laga. lekin isme khabro ke niche comment bahut jyada ho ja raha. mare khayal se yadi kesi khabar ka comment dekne ka alag option ho to behtar hoga.

    Reply
  • dharmendra keshari says:

    yashwant jee namaskar
    badlaw samay ki mang hai, jaise aapne bhadas k madhyam se kuchh badlane ki koshish ki hai.ye badlaw bhi achha hai.par aap mat badliyega.aapka yahi rup achhha hai.
    dharmendra keshari
    new delhi

    Reply
  • braj kishore singh,hajipur, vaishali says:

    आपने भड़ास में जो भी बदलाव किये हैं मैं उनका स्वागत करता हूँ.आपको शिकायत है कि हमारे कुछ साथी अपनी पहचान छिपाते क्यों हैं? हम मीडियाकर्मियों की स्थिति ऐसी नहीं है कि हम बेख़ौफ़ होकर लिख-बोल सकें.कुछ पारिवारिक जिम्मेदारियां इसके लिए जिम्मेदार हैं और कुछ नौकरी की अनिश्चितता. साथ ही सम्पादकीय विभाग का लगातार कमजोर होते जाना भी इसके लिए जिम्मेवार है.बांकी बदलाव भी स्वागत योग्य हैं.अब हमारे पत्रकार बंधू भड़ास पर भक्ति-संगीत का भी आनंद ले पाएंगे और इससे उनका चित्त स्वच्छ तो होगा ही मन को भी शांति मिलेगी.रंग संयोजन में परिवर्तन भी मुझे अच्छा लगा.सबसे बड़ी बात तो यह कि अब हम किसी भी आलेख पर अपनी राय भी दे सकते हैं.

    Reply
  • Sachin jain says:

    sir ji
    change hamesa 1 nayi kranti lata hai. aur me asha karta hu ki bhadas me jo change hua hai. us se bhi 1 nayi kranti aygi.
    sachin jain
    etawah

    Reply
  • changes is good one.

    but how can we again listen sanso ki mala?

    is there any possibility to download it from the site.

    my one suggestion is please provide a play list of top songs and bhajans in

    spite of single every day..

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.