भड़ासी चुटकुला (23)

एक बड़े भाई तुल्य मित्र ने यह कहते हुए इस चुटकुले को भेजा है कि– ”इसका हिन्दी अनुवाद अश्लील हो जाएगा। इसलिए अंग्रेजी में ही भेज रहा हूं। अगर उपयोग कर सकें।” दो-तीन बार चुटकुला पढ़ा. सिर्फ एक शब्द का खेल है. उस एक शब्द का अर्थ गदहा भी होता है और वह भी होता है जो पिछवाड़े कपड़ों में ढका छिपा होता है. जो ढका-छिपा होता है, वह उत्सुकता पैदा करता है, कौतुक व रहस्य पैदा करता है.

और, जहां कौतुक, रहस्य, उत्सुकता है वहां तरह-तरह की कानाफूसियां भी हैं.  संभव है, बहुत सारे श्लील लोग इस चुटकुले पर नाक-भौं सिकोड़े लेकिन मुझे इसमें कोई अश्लीलता या आपत्तिजनक जैसा नजर नहीं आ रहा. आनंददायक चुटकुला है. आनंद लेंगे तो ठीक रहेगा, बाल नोचेंगे तो बीपी बढ़ेगा.

-यशवंत


A servant enrolled his donkey in a race & won.

The local paper read:’SERVANT’s ASS WON’

The MINISTER was so upset with this kind of publicity that he ordered the servant not to enter the donkey in another race.

Next day the local paper headline read:’MINISTER SCRATCHES SERVANT’s ASS’.

This was too much for the Minister, he ordered the servant to get rid of the donkey. He gave the donkey to his wife .

The local paper heading the news: “Ministers WIFE HAS THE BEST ASS IN TOWN”.

The Minister fainted.

WIFE sold the donkey to a farmer for Rs 1500:00

Next day paper read:”WIFE SELLS ASS FOR Rs 1500:00”

This was too much, minister ordered his wife to buy back the donkey & lead it to jungle.

The next day Headlines:”ministers Wife ANNOUNCES HER ASS IS WILD & FREE”

The Minister was buried next day!

This is called …Power of media.. :”-)

इससे पहले के भड़ासी चुटकुलों को पढ़ने के लिए क्लिक करें- भड़ासी चुटकुला ए टू जेड

Comments on “भड़ासी चुटकुला (23)

  • कुमार सौवीर, लखनऊ says:

    अब कोई किसी गूदा को गुदा समझ ले तो क्‍या कहा जाए।
    यही सब तो करते हैं पत्रकार।
    अपनी गुदा बचाते हुए दूसरे का गूदा निकालते रहते हैं।
    अगर इसी को पॉवर ऑफ मीडिया कहा जाएगा तो यकीन मानिये, एक दिन इन पत्रकारों के गूदे को लोग गुदा बना ही डालेंगे।
    फिर उस गूदा से गुदा बने पत्रकारों का जीना हराम हो जाएगा।
    सारा झगड़ा तो इसी गूदा बनाम गुदा का ही तो है। इधर रहा तो गूदा और उधर गया तो गुदा।
    तो भैया, आखिर कितने दिनों तक गूदा को गुदा बनने से रोका जा सकेगा।
    वैसे भी अब संविधान के गूदे में अपना चौथा खम्‍भा घुसेड़ कर उसे गुदा में तब्‍दील कर देने वाले पत्रकारों के गूदे को गुदा बनाने के लिए जनता का एक बड़ा वर्ग तैयार हो ही चुका है।
    तो हे वॉच-डॉगों। बचा लो अपना गूदा, गुदा बनने से।
    कुमार सौवीर,

    Reply
  • चंदन कुमार मिश्र says:

    अंग्रेजी ज्यादा तो नहीं आती लेकिन यह समझ गए ऐसा लगता है। हँसी तो आनी ही थी। लेकिन हिन्दी में आप इसे दे भी नहीं सकते थे क्योंकि शब्दों की कमी पड़ जाती।

    यह बात एकदम गलत है कि इसका हिन्दी अनुवाद अश्लील हो जाता क्योंकि इसका हिन्दी अनुवाद करने पर यह चुटकुला रह ही नहीं जाता। तब अश्लीलता और श्लीलता की बात पैदा कहाँ से हो जाती?

    Reply
  • sachchibaat says:

    sawvir bhai sahi kaha. patrakar hoo.but maliko or upar k hakimo k doglai or chatne wali prawiti se tang hoo. jis misson ko le kar 26 saal pahale is me aaya tha wuh ab nahi bachaa . ab lagata hai log marenge. or ek din jaroor hum patrakaro ka public far degi.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *