आईबीएन7 ने भेजा भड़ास को नोटिस

खबर दिखाने-लिखने वालों की खबरें छपें, ये मीडिया के कई मठाधीशों को पसंद नहीं. इन मठाधीशों का वश चले तो वेब-ब्लाग वालों का गला दबा दें. फिलहाल ये लीगल नोटिस भेजकर डराने-धमकाने जैसा काम कर रहे हैं. कभी मृणाल पांडेय ने नोटिस भेजकर डराया-धमकाया तो कभी स्टार वाले नोटिस भेजकर डराते हैं तो अब आईबीएन7 वालों को घबराहट हो रही है और नोटिस भेजकर खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं. पता है, आईबीएन7 वालों को क्या बुरा लगा है?

बुरा ये लगा है कि प्रभात शुंगलू के आईबीएन7 छोड़न की चर्चाओं-अफवाहों को खबर की शक्ल देकर भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित क्यों किया गया. पर नोटिस भेजने-भिजवाने वाले इस चैनल के संपादक महोदय ये नहीं देख पाए कि उस खबर में प्रभात शुंगलू का बयान भी छपा है कि वे मेडिकल लीव पर चल रहे हैं और इस्तीफे की चर्चा अफवाह है. आंख के अंधे चले हैं भड़ास4मीडिया को डराने और लीगल नोटिस के जरिए पत्रकारिता सिखाने. जिस संपादक को यह अक्ल न हो कि वह किसी के बेडरूम में बिना इजाजत घुसते हैं या नहीं, वह हम लोगों को बता रहा है कि पत्रकारिता में क्या ठीक है और क्या गलत.

जाओ, सीधे कोर्ट में जाओ या पुलिस में केस करो, वहीं हम लोग भी अपना जवाब दाखिल करेंगे, पक्ष रखेंगे, लेकिन याद रखना, तुम्हारे लीगल नोटिसों से डरकर तुम लोगों के चैनलों के अंदर की खबरों को छापना बंद नहीं करेंगे, बल्कि और ज्यादा छापेंगे. जेल भिजवा दोगे या थाने में पिटवा दोगे, तो मत समझना कि हम डर जाएंगे. ज्यादा बढ़े हुए हौसले के साथ तुम लोगों के पाखंडों का खुलासा करेंगे क्योंकि जेल व थाने एक्टीविस्ट जर्नलिस्टों, मिशनरी जर्नलिस्टों के लिए हमेशा से ‘दूसरा घर’ हुआ करते हैं.

इस लीगल नोटिस से एक काम तो हो गया. वह यह कि तुम लोगों का पाखंडी चेहरा, डरपोक चेहरा, गैर-पत्रकारीय व्यक्तित्व दुनिया के सामने आने लगा है. टीवी पर फेचकुर फेंकते हुए चिल्लाने को ही पत्रकारिता नहीं कहते हैं दोस्त. कभी शीशे के महल से बाहर भी निकला करो. कभी पावडर-लाली पोते बगैर गांव-गिरांव में जाया करो. जनता वहीं बसती है. जिस दिन बाजार की नहीं, जनता की पत्रकारिता करना सीख जाओगे, उस दिन वाकई पत्रकार बन जाओगे और पत्रकारिता को जीने लगोगे. फिर महसूस करोगे कि पत्रकार पत्रकार के साथ कैसा बर्ताव करता है.

-यशवंत

एडिटर, भड़ास4मीडिया


नोटिस इस प्रकार है-

Sub :  Article titled “IBN 7 se chaar journaliston ka Estifa” datedMonday, 03 May 2010 17:43(Said Article”)published on the website/portal bhadas4Media.com (“the Website”).
With reference to the said Article on the website “bhadas4Media.com”, under instructions from and on behalf of my client, IBN18 Broadcast Limited, the owners of the Hindi News Channel IBN7,I am serving you with this notice.

1. You the abovementioned addressee no. 1 who are the registered owner of the Website have written and got published on the Website , the said Article on 03 May, 2010.

2. At the outset I state that the contents of the said Article so published on the Website are absolutely false, incorrect, motivated and entirely defamatory. You have made false, wrong, concocted and motivated statements in the name of Prabhat Shunglu, by spreading rumour in the garb of disassociation of Prabhat Shunglu with my client. You may kindly note that Prabhat Shunglu is still very much associated with my client in the capacity of Editor Special Assignments. Further, in respect of other persons, you have failed to even follow the basic tenets of journalism. You have made these statements without verifying the veracity and correctness of the same from my client. Your statements are highly presumptuous, irresponsible and baseless and such statements made before the public have harmed the image, reputation and good -will of my client.

3. It is pertinent to state even at the cost of repetition that you did not even bother and have failed to follow the very basic principle of journalism, which requires that the version/reaction of all the parties related to news / matter must be obtained before publishing, and you also failed to verify and ascertain the true and correct factual position from my client before proceeding to publish the false, scurrilous, malicious and defamatory said Article.

4. This notice is more specifically addressed to the addressee No. 1, since you are the publisher of the said Article on your Website, where not only the said Article has appeared in a prominent manner and continues to exist, the same was thrown open to the public for posting their comments on the said false news and the derogatory and defamatory comments received thereon from the subscribers were also posted on the Website, which signifies your concurrence to the same and therefore you are liable for all such comments as well.

5. It was the duty of all you addressees to verify the contents of the said Article prior to publishing the same on the Website. By way of publication of the said Article on the Website you have caused irreparable loss and damage to the reputation and goodwill of my client which is spearheaded by eminent journalists of  national repute in the filed of television journalism and belonging to one of the biggest media conglomerate in the country. You the addressees have failed to take proper care and exercise reasonable precaution and due diligence contrary to the accepted norms of journalism by publishing the said Article which is highly defamatory, concocted and contains false allegations against my client. It is your duty to act in a  responsible manner by verifying the facts of the Article and not readily publish and print anything which comes your way.

6. You the addressees have willfully and deliberately made statements which are baseless and without any substance with the intention to hurt and tarnish the image, reputation and goodwill of my client. All the addresses jointly and severally have made and published the defamatory Article  in such a prominent manner with the intention to harm and with the knowledge and reason to know that such imputations will harm the reputation of my client.

7. In view of the aforesaid facts and circumstances, all the addressees jointly and severally are inter alia

(i) Guilty of defamation and are liable under Section 500, 501 and 502 of the Indian Penal Code, 1860;

(ii) Including the Network Service Provider, Essar Domains are guilty of mis-utilising the internet network and may be liable for violation of the provisions of the Information Technology Act, 2000;

(iii) Guilty of spreading rumor through falsely motivated reports for settling personal scores and vendatta and thus creating apprehension in the mind of public in general and my client’s employees in particular.

8. Accordingly, without prejudice to the rights,  contentions and remedies available to my client in law, all the addressees jointly and severally are asked by virtue of this notice to:

(i) Immediately cease and desist from publishing the said Article under question.

(ii) Jointly and severally to apologize to my client and make amends by publishing in the Website an apology with the same prominence as the said Article under question.

(iii) You all are also called upon to publish an apology in the daily newspaper circulating in the Delhi and National Capital Region both in English and vernacular language.

(iv) Remove the said Article and all posts and comments on the same from the Website.

9. You all are hereby, by virtue of this notice, called upon to comply with the above terms within 7 days of the receipt of this legal notice, failing or neglecting to comply which, we shall be constrained to proceed against you in the Court of law for invoking the civil as well as criminal laws as applicable and additionally hold you responsible for any costs my client may incur.

A copy of this notice has been kept in my office for further action. It is notified accordingly.

MRINAL BHARTI

ADVOCATE

Enrollment No. D/944/98


इस नोटिस में कहा गया है कि प्रकाशित आर्टिकल को तुरंत रिमूव कर दें, यानि, हटा दें. हम यहां उलटा करने जा रहे हैं. उस प्रकाशित आर्टिकल को हम यहां फिर से प्रकाशित कर रहे हैं ताकि आप पढ़ कर तय कर सकें कि इस आर्टिकल में ऐसा क्या गलत छप गया है जो चिरकुट संपादकों को नागवार गुजरा है. पढ़ने के लिए क्लिक करें… आईबीएन7 से चार जर्नलिस्टों का इस्तीफा!

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “आईबीएन7 ने भेजा भड़ास को नोटिस

  • rajesh ranjan, narsinghpur says:

    chahe ibn7 ho ya star ya mrinal pandey sab ke sab samantwadi chehre ke pratinidhi hain. ye beshya bazar ke bhaduve hai inki legal aur unligal ka koi mayne nahi hai. yashwant ji ko bahut bahut badhai…Rajesh ranjan, narsinghpur.

    Reply
  • AAjad Bharat says:

    आपका आजाद भारत, आर्यावर्त से |
    यशवंत जी नमस्कार, इसको मै क्या कहूँ, आई बी एन 7 का ज्ञान या नादानी आप मेरे तरफ से उनसे जरा पूछें | जो इस बात पर इतना ढोंग कर रहे है यह क्या दिखाना चाहते हैं, क्या यह की हम बहुत बड़ी संस्था से सम्बन्ध रखते है, हमारे बारे में जो भी कोई कहे या किसी प्रकार की टिपण्णी करे चाहे वह सत्य हो या असत्य उसे हम देख लेंगे, श्री मान आपने आखिर अपना तेवर दिखाते हुए कईयों के पास नोटिस भेज दिया, क्या आपने भारतीय संबिधान का गहन अध्यन नहीं किया | श्री मान संबिधान में यह भी लिखा हुआ है की विचार आजाद है, खास कर वह विचार जिसमे अनुचित बात न हो, मैंने भी उस दिन की न्यूज़ को पढ़ा और उन पर आए टिप्पणियों को भी ध्यान से पढ़ा है,
    आपको नोटिस भेजने का इतना ही सौख है तो आपने उन लोगों को क्यों नहीं नोटिस भेजा जिन्होंने आपके कार्यालय – मुंबई पर हमला किया था,? …………….आप उन्हें क्यों नहीं नोटिस भेजते जो देश के उच्च पदों पर बैठ कर देश को खोखला करते है, जिनके खिलाफ शायद आपके पास भी कई प्रकार के सबूत उपलब्ध है ? …………..आप उन्हें क्यों नहीं नोटिस भेजते जो आपके ही घर में रह कर अपने से छोटो का शोषण करते हैं ?…………..आप जिस समाज में रहते हो उसे क्यों नहीं नोटिस भेजते हो जो प्रतिदिन पत्रकारिता के नाम पर दस बार कुल्ला कर फैकते हैं?………आप उन्हें क्यों नहीं नोटिस भेजते जो आपके कार्य में बाधा डालते हैं? तथा आपका सहयोग नहीं करते जिसमे कहीं -कहीं प्रशासन भी आता है………|
    श्री मान,आप ऐसा नहीं कर सकते हैं | क्योंकि यह आप भी जानते हैं की यह आपके बस की बात नहीं है, तो फिर आप ही सोंचे की ऐसा आखिर आपसे सम्बंधित खबर में क्या प्रकाशित किया गया जिसने आपका रोष बढ़ा दिया, आप एक बार पुनः इस मुद्दे पर विचार कर के देंखे की क्या आपने उचित कदम उठाया या नहीं |

    धन्यवाद् –आपका —
    आपका आजाद भारत, आर्यावर्त से |

    Reply
  • AAjad Bharat says:

    आपका आजाद भारत, आर्यावर्त से |
    यशवंत जी नमस्कार, इसको मै क्या कहूँ, आई बी एन 7 का ज्ञान या नादानी आप मेरे तरफ से उनसे जरा पूछें | जो इस बात पर इतना ढोंग कर रहे है यह क्या दिखाना चाहते हैं, क्या यह की हम बहुत बड़ी संस्था से सम्बन्ध रखते है, हमारे बारे में जो भी कोई कहे या किसी प्रकार की टिपण्णी करे चाहे वह सत्य हो या असत्य उसे हम देख लेंगे, श्री मान आपने आखिर अपना तेवर दिखाते हुए कईयों के पास नोटिस भेज दिया, क्या आपने भारतीय संबिधान का गहन अध्यन नहीं किया | श्री मान संबिधान में यह भी लिखा हुआ है की विचार आजाद है, खास कर वह विचार जिसमे अनुचित बात न हो, मैंने भी उस दिन की न्यूज़ को पढ़ा और उन पर आए टिप्पणियों को भी ध्यान से पढ़ा है,
    आपको नोटिस भेजने का इतना ही सौख है तो आपने उन लोगों को क्यों नहीं नोटिस भेजा जिन्होंने आपके कार्यालय – मुंबई पर हमला किया था,? …………….आप उन्हें क्यों नहीं नोटिस भेजते जो देश के उच्च पदों पर बैठ कर देश को खोखला करते है, जिनके खिलाफ शायद आपके पास भी कई प्रकार के सबूत उपलब्ध है ? …………..आप उन्हें क्यों नहीं नोटिस भेजते जो आपके ही घर में रह कर अपने से छोटो का शोषण करते हैं ?…………..आप जिस समाज में रहते हो उसे क्यों नहीं नोटिस भेजते हो जो प्रतिदिन पत्रकारिता के नाम पर दस बार कुल्ला कर फैकते हैं?………आप उन्हें क्यों नहीं नोटिस भेजते जो आपके कार्य में बाधा डालते हैं? तथा आपका सहयोग नहीं करते जिसमे कहीं -कहीं प्रशासन भी आता है………|
    श्री मान,आप ऐसा नहीं कर सकते हैं | क्योंकि यह आप भी जानते हैं की यह आपके बस की बात नहीं है, तो फिर आप ही सोंचे की ऐसा आखिर आपसे सम्बंधित खबर में क्या प्रकाशित किया गया जिसने आपका रोष बढ़ा दिया, आप एक बार पुनः इस मुद्दे पर विचार कर के देंखे की क्या आपने उचित कदम उठाया या नहीं |

    धन्यवाद् –आपका —
    आपका आजाद भारत, आर्यावर्त से |

    Reply
  • Ravi Shankar Maurya says:

    जेल व थाने एक्टीविस्ट जर्नलिस्टों, मिशनरी जर्नलिस्टों के लिए हमेशा से ‘दूसरा घर’ हुआ करते हैं.
    …..bade bhai kya bat hai . is bat ke liye aapko salam .

    Journalism is a river of challenge.where u never stop confronting the tough times ahead . In jornalist’s life every day is a ACID test …..

    Ravi Shankar maurya
    09313447598
    truth journalism [b][/b]

    Reply
  • irshad abbas says:

    sir aapne jo bhi chapa hai mujhe bahut pasand aaya agar jindgi main kabhi aapse milne ka chancemilega to jarur aapse milung aur mera ek sudgetion hai ki aap inko amitabh bacchan ki rann movie dekhne ki salah de taaki inhe pata chale ki media kya hoti hai

    Reply
  • kkumarmanish says:

    yashwant sir apki dileri ko is nacheej journalist ka koti- koti salaam hai, apne jis mukharta se ibn7 ko jawab diya hai massaallah kabile tarif hai.

    Reply
  • sahi kaha yesvant ji aapne. in kokhlebajo ke ander ke haqikat aapne sbke samne paros dii tab yeh haal hain. agar puri haqikat prakasith kar de tab too sab kuch aam jan ke nhi samne hoga. aur sayed yeh sarmsaar bhi ho par enhe asar nahi padne wala. qukee media ke ander bathe kuch log sirf apne roti sek rahe hai aur apne sorth siddh kar rahe hai. exm… hain barkha dutt and veer s…..,
    aaj media ke ander ias pcs se jyada brastchari log bathe hai. apnee jebe full kar chote karmchari ka sosan kar rahe hain.

    Reply
  • भाई साहब आपके हौंसले को सलाम है… और खबरियों की खबर लेने पर आपको धन्यवाद। डटे रहो और अपने काम को करो। ये मठाधीश तय नहीं करेंगे कि भड़ास क्या छापना है और क्या नहीं। इसलिए आप लगे रहिए और इस गंदगी को दूर करने की कोशिश कीजिए…। क्योंकि मीडिया दलील देता है कि वो समाज की हकीकत को सबके सामने लाता है… लेकिन इनकी हकीकत को सामने लाने वाला भी तो कोई चाहिए। क्या ये बताएंगे कि किस तरह से ये लोग संस्थान में नए बच्चों को शोषण करते हैं…। किस तरह से मीडिया एक मंडी बनकर रह गई है। आप बढ़ते चलिए और कारवां बनता रहेगा।
    आपका मित्र

    Reply
  • madhav chandra chandel says:

    point to be noted…भड़ास4मीडिया से बातचीत में प्रभात शुंगलू ने खुद के बारे में उड़ रही अफवाहों का खंडन किया और बताया कि वे मेडिकल लीव पर चल रहे हैं……..

    dont worry be happy….statement is legally clear…….
    bekar ka IBN walon ne bakhera khada kar diya hai……ho sakta hai TRP ka ye naya funda ho…..

    keep going yashwant bhai……

    Reply
  • जिस दिन बाजार की नहीं, जनता की पत्रकारिता करना सीख जाओगे, उस दिन वाकई पत्रकार बन जाओगे और पत्रकारिता को जीने लगोगे. फिर महसूस करोगे कि पत्रकार पत्रकार के साथ कैसा बर्ताव करता है.
    Bahut sahi, yaswant jee.

    Reply
  • kali shanker says:

    sabash kalam ke sipahi- likhne wale, padne wale sabhi aap ke saath, kar do post martum in chikuto ka.

    Reply
  • Mohd.Saleem Saifi says:

    Yashvant ji aap na kewal bahadur hai balki aap ne jo mission shuru kiya hai wo kisi thaikedaar patrakaar ke bas ki baat nahi,U r doing well in the intrest of real journalism…..

    Reply
  • मीडिया का कचरा …….साफ करने के लिए यशवंत…जी …धन्यवाद ….ibn7 भी कचरा है ….समाज आपका ऋणी रहेगा…आप एक निडर…इमानदार ….शेर दिल जवान हैं ….कोर्ट से नोटिस ..से डरने की जरुरत नहीं …नोटिस भेजने वाले …भी ४०० रुपए मै नोटिस बना देता है आज कल……..अपने मित्र की पंक्तियाँ दोहराना चाहूँगा ….. की …….

    सबसे पहले यह पंक्ति भड़ास4मीडिया के दुश्मनों के लिए:

    पलट कर देख ले जालिम तमन्ना हम भी रखते हैं,
    अगर तुम 80 चलते हो तो 90 हमभी चलते हैं।।

    …और यशवंत, उनकी टीम व बाकी दोस्तों के लिए-

    जिंदगी का असली मु$काम अभी बा$की है,
    अपने इरादों के कई इम्तहान अभी बा$की हैं।
    अभी तो नापी है बस मुट्ठी भर जमीं हमने,
    आगे पूरा आसमान अभी बा$की है।।

    सफलता की मंजिल की ओर बढ़ते कदमों के लिए अपार शुभकामनाएं।

    Reply
  • vijay yadav says:

    yashvant ji aapko bhadas4media par tamam nirbhik khabaro ko prakashit karane ke liye dher sari badhai . aap bilkul hi kisi notise se mat ghabaraiyega . delhi hi nahi pure desh ke tamam patrakar aapake saath hai . pichhale saal hamane bhi mumbai shahar ke yek badbole danda pakad patrakar se judi khabar mumbaimedia.blogspot.com prakashit ki thi . isake baad wah sidhe hame darane sayabar craim vibhag me chala gaya tha. halaanki waha mera kuchh huaa nahi lekin usane shahar me juthi afavah faila dee ki vijay yadav girftar ho gaye. jabaki pura crime vibhag gavah hai ki waha sirf hamase janakari lekar ghar bhej diya gaya. yashvant ji ham sab aapake saath hai. [b][/b][b][/b]

    Reply
  • ARE YASHWANT BHAI MUBARAK HO YEH AAPKI JEET HAIN KI AAP SE IBN7 KO DAR LAGNE LAGA….OR AAPKE LEKH PAR JO LEEGAL NOTICE INOHENE BHIJWAYA WOH BADA HI HASYASPAD HAIN….PEHLE TO NOTICE BHIJWANE WLE NAI BHADAS MAIN POORA ARTICLE PADA NAHI LAGTA HAIN YAHA BHI KUCH CHATUKARO NAIN BHADKAR AAPKO NOTICE BHIJWANE KA KAAM KIYA HAIN…OR AGAR AAPKA ARTICLE JOOTHA BHI HAIN TO ROJ KITNI HI KHABAR CHANLON MAIN GALAT CHALTI HAIN AISE MAIN TO INKO ROZ NOTICE BHEJNE PADENGE OR SHYAD CHANNEL BAND BHI KARNA PADE…ISLIYE IBN WALON PATRAKARON KI AAWAZ KA DAMAN KARNE KA VIROD KARNE WALON AAKHIR KYON EK PATRAKAR KE PEECHE PADE HON PADNA HI HAIN TO RAGHAV BEHAL KE PEECHE PADO JISNE 4OO LOGON NIKAL DIYA OR OOF TAK NAHI KI….TAB KAHAN GAYA THA INKA ZAMEER…WAH RE CHATUKARITA ZINDABAD

    Reply
  • यशवन्त जी
    आपको बहुत बहुत बधाई क्योकि आपने जिस अंदाज मे आई बी एन 7 वालो को जबाव दिया उसके लिये मै आपके साथ हूं और जमीन से जुडे पत्रकारो का समर्थन आपके साथ है चिन्ता न करे बहुत जल्द ही आपको आई बी एन 7 के लिये उ0प्र0 मे दलाली करने वाले एक लखनऊआ दलाल का काला चिट्ठा भेजूंगा जिसको अवश्य प्रकाशित करियेगा।भगवान से यही प्रार्थना करता हूं कि आपको इन चुरकुटो से लडने की शक्ति यू ही देते रहे।

    Reply
  • ASIT NATH TIWARI says:

    खबरें दिखाना ही तो मीडिया का काम है। इसमें घबराहट की कौन सी बात है। अगर आपने एक हाउस की बात कह ही दी तो क्या बुरा किया? जब खबर बैलेंस हो तो बेवजह हो -हल्ला ठीक नहीं है। दोनों पक्षों को रख देने के बाद आप निरपेक्ष हैं, आप पर आरोप नहीं लगने चाहिए।

    Reply
  • Suraj Singh says:

    ji bilkul sir khabar khabar hai phir chahe wo kisi media sansthan ki hi kyo na ho. jo sach hai usse janta yaa anya patrkaaron ko bhi pata chalna chaiye. kisi ko anyay karne ka adhikaar nahi hai chahe wo koi bhi ho.

    Reply
  • kanhaiya singh says:

    patiyno ko biviyon se pitwane ki video mannage ko hi patrakarita manane walon aur rakhi sawant ke pallu me dubak kar trp bachane/badhane walon ki notice ka jawab dene ka andaj mauju hai.comedy circus ke bandar bane ye trp agent apne gireban me jhank kar dekhen ki kis tarah we logo ki niji jindagi me jhankte hain.abhi-aish ki shadi me inki jat dikh gayi. notice bhejkar ye kaun si izzat bachana chahte hain.

    Reply
  • amit aanand says:

    Electronic media walo ko nacket dance ka permission mile to bahut khub.trp ke chakar main khabar dikhana bhool gaye hain.aapne dukhti rag per hath dal diya to ibn7 bhadas per bhadas nikalne ki nakam koshis kar raha hai.

    Reply
  • amit aanand says:

    Electronic media walo ko nacket dance ka permission mile to bahut khub.trp ke chakar main khabar dikhana bhool gaye hain.aapne dukhti rag per hath dal diya to ibn7 bhadas per bhadas nikalne ki nakam koshis kar raha hai.

    Reply
  • kumar hindustani says:

    shaandar, jaandaar, damdaar aur behad hi karaara jawab.
    bahut bhadiya yashwant bhaiya. in saalon ko aise hi samajh me aata hai.
    khud doosron ki aur farji khabren dikha kar logo ko digbhramit karte hai. Aur agar inki fati ko koi ujaagar kar de to gaaa.. me dard hine lagta hai.
    pelo saalon ko. ye issi layak hai, koi bhi pareshani aye to aapke saath hun.

    Reply
  • Salman Ahmed, Saudi Arabia says:

    दोसरों को आईना दिखाने वाला मीडिया अपनी शक्ल खुद देखना पसंद कियों नहीं करता है ?

    एक बार फिर मीडिया के कुछ लोगों और कुछ टीवी चैनलों ने अपने ज़हनी दिवालियापन का तमाशा देखाना शुरू कर दिया है । ज़ुल्म, नाइंसाफी, रिश्वत, दलाली, धोके बाज़ी और दुनिया की हर बुराई के खेलाफ़ आवाज़ उठाने का दावा करने वाला मीडिया आज इन सब बुराइयों का खुद शिकार हो चूका है, लेकिन अफ़सोस की बात ये है के अगर कोई इस मीडिया वालों को सहीह रास्ता बताने की कोशिस करता है तो वोह आपे से बहार होजाते हैं और खुद क़ानून का उलंघन करने वाले ये नाम नेहद जर्नलिस्ट्स और मीडिया दोसरों को क़ानून का पाठ पढ़ाना शुरू कर देंते हैं । एक IBN7 ही नहीं उस से भी बड़े बड़े मीडिया हाउस दलाली का शिकार हैं, अक्सर मीडिया कर्मियों और टीवी चैनलों को ये बीमारी हो गई है के दोसरों को ज़बरदस्ती आइना देखाते हैं लेकेन वोह अपना चेरा देखना खुद पसंद नहीं करते, वजह ये हैं के उनका चेहरा इतना बदनुमा और बदसूरत हुचुका है के देखने के बाद किसी को भी उलटी हो सकती है। कई बड़े मीडिया हाउस को मुझे करीब से देखने का मोका मिला है मैं ये दावे के साथ कह सकता हूँ के दोसरे डिपार्टमेंट की तरह मीडिया हाउस भी हर तरह के भास्त्चार से लत पत हैं, मीडिया का असली चेहरा इस लिए लोगों के सामने नहीं आ पाता हैं के कोई उसे देखाने वाला नहीं था लेकेन अब वोह ज़मान गया अब धेरे धेरे ये नाम नेहाद इज्ज़त दार पर्दा नशीं बे पर्दा होने लगे हैं, इस लिए ये अब इतने ज़ियादाह बुख्ला गए हैं के के इनकी अक्ल अब काम नहीं कर रही है यही वजह है के वोह सच्चे और इमानदार पत्रकारों को लीगल नोटिस भेज कर डराने की बे वकोफाना कोशिश कर रहे हैं इन ज़मीर फरोशों को कौन समझाए के जेल और फांसी के फंदों से वोह डरते हैं जो पत्रकारिकता के नाम पर दलाली करते हैं एक सच्चा पत्रकार सच्चाई के लिए अपनी जान देना सब से बड़ी खुश नसीबी समझता है । मीडिया हाउस में महिलाओं के शोषण और उनके साथ आए दिन होने वाले सलात्कार (जीं हां जब बात फैलती है तो उसको बलात्कार कहा जाता है और बात ना खुले तो सलात्कार ) के खिलाफ आवाजे उठती रहती हैं। लेकिन उन आवाजों को सुनने की फुरसत किसे है। इसी मीडिया की कितनी एंकरों और महिला कर्मियों की कितनी अश्लील सीडी और एमएमएस बाजार में चल रही हैं ये सब जानते हैं..! मीडिया की कितनी ही महिला कर्मियों ने वर्कप्लेस पर होने वाले अपने शोषण से तंग आकर आत्म हत्या की लेकिन ये सब बातें खबर नहीं बन पति हैं इस लिए के दलाली करने वाले ये झोटे पत्रकार नहीं चाहते के उनका असली चेहरा कोई देख सके ।

    Reply
  • vaibhav mishra says:

    sir aapka jawab so fisdi sahi hai per aapko nahi lagta hai ki kahi na kahi media me bhi sheet yuddh shuru ho gaya hai jo ki ek chinta ka vishay hai

    Reply
  • Pagal Patrakar says:

    Kudos Yashwant for showing such a brave face in wake of this act by IBN-7, which can be termed as ‘silly’ at the best and ‘attack on freedom of expression’ at the worst. The internet world and the bloggers are with you. Keep up the good work!

    Reply
  • Good thanks they send notice , bhai sahib aapko media ka maloom nahi he kya ?

    media is the fourth eye u know………?
    Because media kuch bhi kar sakta he lekin media ko koi check nahi kar sakta after all they are 4th Eye

    Reply
  • नेहा के. says:

    एक नई कहावत है कि जिनके घर शीशे के होते हैं , उन्हें लाईट जलाकर कपडे नहीं बदलने चाहिएं…बेपर्दा होना किसे अच्छा लगता है। मीडिया जगत में नोटिस के कई गंभीर मायने होते हैं… कभी कभी किसी मीडिया हाउस की ज्यादती से त्रस्त लोग इंसाफ के लिए इसका सहारा लेते हैं, पर अक्सर लाखों करोडों की मानहानि का खौफ दिखाकर धमकाने के लिए इसका इस्तेमाल किया जाता है। दूसरा पक्ष भी प्रकाशित करना हमेशा से निष्पक्ष पत्रकारिता का मान्य सिद्धान्त रहा है, पूरी ईमानदारी से ऐसा होने के बाद कोई सम्पादक क्या सोचकर नोटिस भेजता है, यह तो वही जाने, लेकिन ये सच है कि मीडिया में अब वो बात कम ही दिखाई देती है कि पढने या देखने वालों को लगे कि कोई सच कहने का साहस कर रहा है। कई अखबारों में जब से मालिक की जगह वेतनभोगी सम्पादकों के नाम प्रिंट लाईन में छपने लगे हैं, तब से घुटने टेकने वाली पत्रकारिता ज्यादा हो रही है। नौकरी करने वाले सम्पादक को डर लगा रहता है कि किसी के खिलाफ लिखने पर अदालत न जाना पड जाए। इस कमजोरी ने कई हिंदी बैल्ट में तो कई अखबारों को दरबारी बना दिया है, कुछ कडा छापने का हौसला कहीं खो गया है।
    इसलिए भडास को बधाई…आपमें है अपनी बात के लिए लडने का मादा। आप लडने को तैयार तभी रह सकते हैं जब खूब जांच परख कर छापें। काश, हाशिये की तरफ बढते अखबार भी आपसे ये सबक ले पाते। एक पाठिका, देहरादून

    Reply
  • बहुत अच्छा यशवंत जी। करारा जवाब दिया है आपने। आईबीएन के बारे में मुझसे पूछिए। मेरे एक दोस्त से छै महीने तक स्ट्रिंगरशिप करवाई और पेमेंट अगले महीने टालते रहे। आखिर कार बेचारे को निकाल दिया और एक पैसा भी नहीं दिया। एसी में बैठकर पत्रकारिता की मां-बहन कर रहे हैं और चले हैं लीगल नोटिस भेजने।

    Reply
  • यसवंत जी क्या जलील किया है इन नकली चेहरे वालो को …सच मे अच्छा लगा…मीडिया के सबसे जायदा वासनामयी चेहरे इसी चैनेल मे बसते है…पत्रकारिता का सबसे जायदा पतित और घर्डित चेहरा मीडिया के इसी समूह मे है…किसी के बेडरूम मे घुसना तो आम बात है ये किसी की पत्नी तक का किडनेप अपने रिपोर्टरों से जबरन करवा ले ..कुछ ब्यूरो चीफ तो माफिया है,और खुद कहते है की खबर हर कीमत पर…साहब ये कहिये की वासना सर्वोपरी ..यसवंत जी आप कभी इन घटिया लोगो से न डरे ….ये लोग कुछ भी नहीं है..और जल्द हे इनके पाप का घड़ा भरेगा…ये चैनल नहीं …वासना का गर्म बाज़ार है ..जंहा…वासना हर रोज़ हर कीमत पर..

    Reply
  • धीरेन्द्र कुमार चैबे says:

    बडे भाई यशवंत जी, नमस्कार, आपनें आईबीएन7 वालों के लिये ठीक लिखा है।शीशमहल में रहकर पाउडर क्रीम पोतकर यह दूसरों को पत्रकारिता गुर सिखा रहे हैं ऐसे लोगों को गांव क्या होता है सचमुच इसकी जानकारी नही होती । उपर में बैठकर मठाधीश की तरह नींचे के लोगों का सिर्फ दमन करना इनका काम है। एक कहावत है कि कुत्ता कुत्ते का मांस कभी नहीं खाता लेकिन ऐसे जंमीन्दार मानसिकता वाले घटिया किस्म के पत्रकार कुत्तों से भी गये गुजरे हैं। सच कहने वालों के खिलाफ नोटिस भिजवाकर आवाज को दबानें की कोशिश करतें हैं लेकिन आईबीएन7 वालों के नोटिस का आपनें मुक्कमल जबाब दिया है। मिशन के तहत पत्रकारिता करनेंवालो का दूसरा घर जेल होता है आपनें बिल्कुल ही सच कहा है। आप इस मुहिम में अकेले नहीं हैं हम जैसे गा्रमीण कस्बाई पत्रकार आपके कारवां में शामिल हैं।
    धीरेन्द्र कुमार चौबे
    पत्रकार
    नगर उंटारी
    जिला – गढवा
    झारखंड

    Reply
  • neeraj mahere says:

    यसवंत जी
    जय भारत
    मनस्वी तपस्वी ब्रहाम्लीन कलमकारों ने कवीर के विश्वविद्यालय का साधक बनकर देश आजाद कराया | तब शील सतीत्व और स्वाभिमान हमारी पहली जरुरत थे इसलिए साहित्य फिल्म और मीडिया देश को दिशा देते थे | प्रणम्य रहेगे बलिदानी कलमकार | सत्य का झंडा नई पीढी के हाथो थमाने वाले कलम
    के सिपाही अपने कर्म योग से यशस्वी बनते रहे है | मीडिया को पथ भर्स्टबनाने वाली शक्तिया अंततः देश को तवाह करने मै जुटी रहेगी इशलिये कलम के सिपाही अगर
    सो गए तो अब नेता से पहले छदम मीडिया माफिया सच मुच नगी टांगो के सहारे हमारा स्वाभिमान हमारा अस्तित्व और संस्कार ही नहीं देश भी वेच देगे |
    यशवंत जी हमे फक्र है की आप यशस्वी कलमकारों के हित चिन्तक है |
    लोगो को आप पर नाज है हर बुराई से लड़ना जिनका धर्म है उनके लिए आप दिशा निर्देसक है कोई नोटिस आपका बजूद ही बडायेगा मंगल कामनाओं सहित
    आपका
    विनम्र सुभचिन्तक
    गणेश ज्ञानार्थी
    ०९३१९७३२६३७
    ७१ सती इटावा

    Reply
  • Akhilesh chandra says:

    Yaswant ji kya baat hai,Maza aa gaya aur aaj mujhe ye ahsas ho gaya hai ki media me abhi bhi kuch log bache hai jo srif patrakar hai.mere like article ke baad aaj phir mujhe wo jajba aap me dekh ne ko mila hai,Mai aap ke sath ho.

    GOOD JOB YASHWANT ji and i am really proud of you.

    Akhilesh chandra
    Lucknow

    Reply
  • ashish pandey says:

    Yashwant ji IBN 7 hi nahi lagbhag sare khabariya channel dalali ka adda ban chuke hai…. ye khabro ke nam par thagi ka karobar kar rahe hai… aur jab bat apne par aati hai to tilmila uthte hai…. sahi hai aap lage rahe ham aap ke sath hai…

    Reply
  • tarun kumar srivastava says:

    print aor ele. me aksar aisa hota raheta hai. koi nai baat nahi. bas Yashvant ji aap age dekhiye.kyo ki “kutte bhaonkte rahete hai aor hathi chala jaata hai” saanch ko koi aanch nahi hoti.

    tarun kumar srivastava
    Daily News Activist
    Bahraich

    Reply
  • शशिकान्‍त अवस्‍थी says:

    अब तक तो आईबीएन वालो को भडास की ताकत का एहसास हो जाना चाहियें था पतान ही ये पत्रकार है या;;;;;;;;;;; । सही पत्रकार को तो हर अच्‍छी बुरी खबर की जानकारी रहती है लेकिन ये कैसे पत्रकार है जो भडास की ताकत का ही अंदाजा नही लगा सकें । भडास खाली पत्रकारों तथा अखबार की खबर देने वाला मंच ही नही बल्कि इनके जैसे मीडिया हाऊस की बोलती भी बन्‍द करने का जज्‍बा भी रखता है ।

    Reply
  • neeraj mahere says:

    यसवंत जी
    सादर प्रणाम
    मुझे याद है की उत्तर प्रदेश के लोग नोटिसो से नहीं डरते है और इटावा के लोग तो मुकदमो से भी नहीं डरते इस बात के तो आप गवाह हो की कितने झूठे मामलो को झेल रहा हु मगर डरा नहीं और झूठ के आगे झुका भी नहीं तो आप चिंता मत करो डरे और घबराए लो ही नोटिस देते है | मुझे लगता है की जिनके घर काच के हो उन्हें दुसरो के घरो पर पत्थर
    नहीं फेकना चहिये | क्यों की देश मै और टी वी चॅनल है ————— खुदा नहीं है कोई मेरा तन मन और धन सब आपके साथ है |
    ये लाइन आप के लिए है यसवंत जी —- गब्बर सिंह कह कर गया जो डर गया समजो मर गया |
    नीरज महेरे नई दुनिया इटावा उत्तर प्रदेश

    Reply
  • wah sir ye hui na baat………… sahi mein ye tv walein aisi hi patrakarita kar rahe hain…… dekhiye ye sach likhne pe kuch nai ukhad payenge………. laga lein jitna jor lagana hain…… sachchai kabhi nai chupti na dabti hain………… bolo jai bhadas…… aap lado ham log sath hain……

    Reply
  • sandeep singh says:

    yashwant bhai aapne wo kahawat to suni hi hogi”jaise ko taisa” bilkul thik kaha aapne.. corporate sector aur sarkar ki dalali karne wale in dalalo ka bas chale to ye apni maa bahen aur beti ka bhi sauda karne se nahi chukenge… patrakarita ke naam pe kalank hai saale…

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *