आईपीएस अफसर डीके ठाकुर का घिनौना चेहरा

: डीआईजी ने युवा सपा नेता का सरेआम बाल पकड़कर घसीटा फिर भी मन न भरा तो युवा नेता के सिर को अपने बूट से कुचला : यूपी में मुलायम सिंह यादव के राज में गुंडों की अराजकता से जनता त्रस्त थी तो मायावती के शासनकाल में पुलिस की गुंडई से जनता कराह रही है. अब तो विरोध प्रदर्शन करना भी मुहाल हो गया है क्योंकि यहां तानाशाही का दौर शुरू हो चुका है.

पुलिस वालों से लेकर आईपीएस अधिकारी तक बेलगाम हो गए हैं. इन्सान के सिर पर पुलिस वालों ने लात रख दिया है. ये आजाद भारत का हाल है. अंग्रेजों की तरह बर्बर क्रूर पुलिस के इस चेहरे को देखकर आप भौचक हो सकते हैं. घटना उत्तर प्रदेश की राजधानी में घटी. समाजवादी पार्टी ने तीन दिन के प्रदेश व्यापी सरकार विरोधी आन्दोलन का एलान किया था. आन्दोनल के अन्तिम दिन 9 मार्च 2011 को राजधानी के मुख्य बाजार हजरतगंज में प्रदर्शन के दौरान गिरफ्तार उत्तर प्रदेश लोहिया वाहिनी के प्रदेश अध्यक्ष आनंद सिंह भदौरिया को राजधानी के डीआईजी डीके ठाकुर ने पहले बाल से घसीटा परन्तु दिल न भरने पर उनके सिर को लातों से रौंद डाला.

आप खुद इन तस्वीरों में देख सकते हैं. पहले तस्वीर में बाल पकड़ कर घसीट रहे हैं और दूसरे में अपने पैर से आनंद के सिर को कुचल रहे हैं. क्या यही ट्रेनिंग दी जाती है पुलिस अफसरों को. क्या पुलिस का यही कर्तव्य बनता है. कहां हैं मानवाधिकार वादी. क्या इस पुलिस अफसर को तुरंत बर्खास्त नहीं कर देना चाहिए. न्यू मीडिया के लोगों से अपील है कि वे इस तस्वीर व इस घिनौने पुलिस अधिकारी डीके ठाकुर के खिलाफ अभियान चलाएं और इसे दंड दिलाएं. वरना कल को कोई भी शासन की गलत नीतियों के खिलाफ विरोध करने सड़क पर नहीं आ पाएगा. यह लोकतंत्र की हत्या है. यह विरोध करने के लोकतांत्रिक अधिकार का हनन है.

लखनऊ से फैजान मुसन्ना की रिपोर्ट

Comments on “आईपीएस अफसर डीके ठाकुर का घिनौना चेहरा

  • yogesh jadon says:

    अशोभनीय, निदंनीय, अति गंभीर। इन पुलिस वालों की जब वर्दी उतर जाती है तो भींगी बिल्ली की तरह समाज में रहते हैं। अपनी पेंशन के लिए फिर बाबुओं तक के जूते सहलाते हैं। वैसे जूते तो अभी भी सहला ही रहे हैं। यह उसी का तो अवसाद है जो लोकतंत्र को जूतों से कुचल रहे हैं. असल में यह खुद कुचले हुए हैं.

    Reply
  • prashant tripathi says:

    d.i.g sahab aap ke adalat ke uper bhe eak adalat hai jaha is trah ke eak eak chizo ka hisab hoga. mai ye nahi kah raha hu ke apne yah kis paristhithi me kiya mai bus itna kahunga ke aap jaise jimmedar adhikari ke kiye ye ashobniya hai…………prashant tripathi………….sahara news

    Reply
  • rakesh bansal says:

    yeh manvadhikaron ka hanan hai manvadhikar ayoge ko turant hi aise adhikari ke khilaf axan lena chaiye tatha u.p. gov. ko barkhast kar dena chahiye

    Reply
  • Jitendra Kumar says:

    aise hi or bhi ghinone chere hai police k, police wale kahi na kahi rules ko ye kuch nai samjhte hai, aise police walon k liye to sakht se sakht kanoon bane chaiye, or janch jisa koi kam nahi hona chaiye, B’coz ye janch karne k bahane bacha liye jate hai,
    mere manna hai ki aise police walon ko to unki job se hata dena chaiye, jo vardi k rob main niyamon ki avhelna kate hai or unko or kisi sarkari job par bhi na rakha jaye,
    kuch is parkar k niyamon se hi ye log shayad sudhar payenge.

    Reply
  • मदन कुमार तिवारी says:

    आखिर नक्सलवादी क्यों मारते हैं पुलिसवaाों को । आपलोग भी तो बिना ारण नक्सलवादियों का विरोध करे हैं।

    Reply
  • abhay aaalok says:

    yeh neechta aur kayarta ki parakastha hai. police ko kisi judge ne gundon ke sangthit gang bataya to kya galat kaha. loktantik dang se virodh karne wale nihatthe par veerta dikhane wala kahin beehad mein phans jaye to patloon geeli ho jaye…neech jayadrath dk thakur anand abhimanyu hai

    Reply
  • Mere ek facebukiya sathi ne ye photo dekhkar kasam khayee Hai ki Anjaam chahe jo ho, chahe sari jindagi jail me bitani pade, loktantr ke is hatyare aur wardi par kalank DK thakur ko wo apne hatrho se jota marega, maine use samjhaya ki kanoon hath me le,na theek nahi, to uska jawaab tha ki ya dalal , chaploos kanoon ko jute par le sakte hai aur ham haath me bhi nahi , ise badalna hoga, DK thakur ko mai juta maruna……Kabhi lagta hai ki kya wo galat hai…

    Reply
  • om prakash srivastava says:

    Aare ye wahi D K Thakur hai kya ? jo is samay Deoria me S P ke pad par tainat hai ?
    Tab to Deoria ke samajwadi parti ke karkartaon ka ho gaya bhala.
    Are bhai jab S P sahab apne office me baithate hain to ye khub yadwon ko gali dete hain. Inka kam karne ka alag style hai, S P sahab sahab thane ke S O ko bhi phone par hi public ke samne ma bahanek karte hain. Inki bat chi aur kam karne ki karya prali kul milakr thik nahi lagti hai. hume lagata hai ki agami vidhan shabha chunav me samajwadi parti ko age nahi badhne dene ke liye hi mayawati ne D K thakur shahab ko Deoria bheja hai.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *