हाशिमपुरा कर्ज की तरह मेरे सिर पर लदा था, उसे अब मैं उतार रहा हूं : वीएन राय

वीएन राय
वीएन राय
: इंटरव्यू : वीएन राय, कुलपति (महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय) : विभूति नारायण राय का इंटरव्यू, वादे के अनुरूप प्रकाशित किया जा रहा है लेकिन इसे टेक्स्ट फार्म में नहीं दे पा रहे हैं, इसके लिए माफी चाहता हूं. वेब मीडिया की खासियत है कि इसमें प्रिंट, इलेक्ट्रानिक और रेडियो, सभी मीडिया माध्यम समाहित हैं. सो, यह तय किया कि अगर वीडियो फार्मेट में इंटरव्यू है तो इसे टेक्स्ट में रूपांतरित करने जैसा थोड़ा मुश्किल काम क्यों किया जाए. दूसरे, वीडियो या इलेक्ट्रानिक फार्मेट जब अपने आप में कंप्लीट फार्मेट है तो उसका प्रिंट फार्म क्यों जनरेट किया जाए. सो, जस का तस रख दिया गया है पूरा इंटरव्यू. और, इसी बहाने भड़ास4मीडिया के इंटरव्यू सेक्शन में ये पहला वीडियो इंटरव्यू प्रकाशित करने का नया रिकार्ड भी कायम हो रहा है.

बाकी रही टेक्स्ट की बात तो देश भर के पत्रकारिता के विद्यार्थियों के उपर यह काम छोड़ता हूं कि वे इस इंटरव्यू के सवाल जवाब को टेक्स्ट फार्म में रूपांतरित करें और उसे नीचे कमेंट बाक्स में अपने नाम से या बेनामी नाम से डाल दें या मुझे मेल कर दें. उनकी मेहनत को व्यर्थ नहीं जाने दिया जाएगा और जो सबसे बेहतर इंटरव्यू लिख पाएगा, उसे पुरस्कृत करने के साथ इंटरव्यू को प्रकाशित भी कर दिया जाएगा ताकि जो आफिस में नेट यूज करने वाले, वो भी बिना स्पीकर के, भड़ास4मीडिया के पाठक हैं, उन्हें पूरा इंटरव्यू पढ़ने को तो मिल ही जाए.

वेब मीडिया पर वीडियो इंटरव्यू के कई संकट है. अगर आपका नेट कनेक्शन कमजोर है, धीमा है, स्लो है तो आपको किसी भी वीडियो को पूरा देखने-सुनने में अच्छा खासा वक्त लगाना पड़ेगा, बीच-बीच में लोडिंग-बफरिंग जैसे रुकावटों के चलते इंटरव्यू का मजा किरकिरा होता जाएगा. सो, एक सलाह है. अगर आपके नेट की स्पीड स्लो है तो इन इंटरव्यू को एक बार प्ले करके और साउंड आफ करके छोड़ दें. जब ये एक बार पूरा चल जाएं तो फिर उसे प्ले करें, साउंड पूरा आन करके. आवाज ठीकठाक सुनने के लिए आपके पास स्पीकर होना चाहिए. सिर्फ लैपटाप के साउंड पर डिपेंड रहने से काम नहीं चलेगा. अपने सिस्टम का साउंड पूरा आन करने के साथ ही वीडियो के प्ले आप्शन के बगल में दिए गए साउंड आप्शन को भी पूरा आन करें. तो ये रहे थोड़े टिप्स. अब बात करते हैं इंटरव्यू की.

वीएन राय के इंटरव्यू को नोकिया एक्स6 मोबाइल से रिकार्ड किया गया है. पिक्चर क्वालिटी अन्य मोबाइलों की तुलना में थोड़ी बेहतर दिख रही है, लेकिन नतीजा उतना बढ़िया नहीं जितना अपेक्षित था. हां, इसे वेब फार्मेट के लिहाज से संतोषजनक जरूर कहा जा सकता है. महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के कुलपति वीएन राय का इंटरव्यू उनके वीसी निवास में, इस निवास के लॉन में और निवास के बाहर की सड़क पर लिया गया है. इंटरव्यू करने में सहयोग किया है वरिष्ठ ब्लागर प्रियंकर पालीवाल ने. इंटरव्यू में वीएन राय ने कई ऐसी बातें कहीं हैं, कई ऐसी स्वीकारोक्तियां की हैं, जिससे पता चलता है कि उपर से सख्त दिखने वाले वीएन राय के अंदर कितना संवेदनशील दिल और कितना तार्किक व लोकतांत्रिक दिमाग है.

इंटरव्यू में कहे गए एकाध शब्द को वीएन राय ने संपादित-संशोधित करने का अनुरोध किया था. खासकर उस शब्द को जिसमें उन्होंने शायद ‘हिंसक जानवर’ या शायद ‘क्रूर जानवर’ शब्द का इस्तेमाल किया है. पर, बिना किसी तैयारी, बिना री-टेक, बिना री-शूट, बिना एडिटिंग के अपलोड इस इंटरव्यू के उस हिस्से (या कहिए उस शब्द) को भी हम यहां प्रकाशित कर रहे हैं जिसे हटाने का अनुरोध वीएन राय ने किया था. वीएन राय ने इंटरव्यू देने जैसी कोई तैयारी नहीं की थी. वे लगातार बोलते गए. अगर उनके बोले गए ‘हिंसक जानवर’ शब्द से किसी को कोई दिक्कत होती है तो उसके लिए जिम्मेदार भड़ास4मीडिया और खुद मैं हूं. हालांकि निजी तौर पर मैं इस शब्द को गलत नहीं मान रहा, शायद एक वजह और भी यह है कि इसे संपादित नहीं कर रहा. पर आजकल छाछ फूंक फूंक कर पी रहे वीएन राय नहीं चाहते कि दूध में फिर उबाल आए और जलाने को मुंह तक पहुंचे, सो, उन्होंने दुर्घटना से पहले सावधानी की तर्ज पर इसे हटाने का अनुरोध किया. क्या सही है, क्या गलत है, इसका असली फैसला तो जनता जनार्दन को करना है, सो, जनता तो सब कुछ अनएडिटेड और अनसेंसर्ड पहुंचा रहा हूं.

-यशवंत, एडिटर, भड़ास4मीडिया

Comments on “हाशिमपुरा कर्ज की तरह मेरे सिर पर लदा था, उसे अब मैं उतार रहा हूं : वीएन राय

  • अविनाश वाचस्‍पति says:

    फुरसत मिलते ही पूरा सुनूंगा और प्रतिक्रिया अवश्‍य दूंगा।

    Reply
  • Girish Mishra says:

    I have watched the entire interview carefully.
    Rai seems to have been trying his best to lift up the university he heads. In fact, it became derailed soon after it came into being. At present even, certain vested interests do not want him to succeed
    I am unable to understand why only so-called creative things like poetry, stories, novels, etc. are taken note of when there is a talk of developing Hindi. Are social sciences and natural sciences not worthy of attention? Please recall that in the beginning, Sahitya Academy gave awards to Acharya Narendra Dev and Mahapandit Rahul on their books which do not fall in the category of so-called creative works. Even Dinkar was honoured not for his poetry writing but for a history book. This tradition was ignored by narrow-minded writers who came to dominate the Academy. Scholars like S.C. Dubey, R. S. Sharma and P. C. Joshi were not taken note of.
    The same is the case of Delhi Hindi Academy where no serious work of so-called non-literary genre is ever honored. Look at the functions organised by it, they are more in the nature of entertainment.
    One hopes, Rai will do something in this direction if he is really interested in furthering the cause of Hindi.
    It is a matter of great shame that there is no comprehensive and up-to-date English-Hindi dictionary, What we have from Bulke, Bahari, Awasthi, etc. can hardly satisfy even school boys.
    As far as Rai’s work on communalism is concerned. it does not, by any measure, comes near Emile Zola’s novel Truth. Please go through the writings by Yashpal, Bhismaji, Kamaleshwar, etc. what you find is the mechanism of the operation of communalism, but not much real discussion of the factors giving rise to it. No detailed socio-economic analysis is attempted.
    Hindi fiction is, by and large, out of touch with the Indian realities. In India, as a result of land reforms and the rapid pace of capitalist development “peasant” of Premchand has disappeared and has been fully replaced by farmer. The process of this replacement began with the Deccan Riots of 1860s but now it is complete and can be clearly witnessed in Vidarbha region where Rai is at present situated. Moreover, Hindi writers have completely ignored slums and their problems, corporate sector and its growing and visible hold over politics and society, increasing importance of stock market, the nexus of politics, business, bureaucracy and underworld (an inkling can be had in N.N. Vohra’s brief report, submitted to GOI years ago),corruption and scandals, globalization’s ideological basis and so on. The problem is that Hindi writers believe more in meditation (sadhana) than researching and interacting with people from disciplines. In this situation, whatever efforts Rai makes with all sincerity, they are not going to succeed.

    Reply
  • shravan shukla says:

    यहाँ वीडियो दिखाई नहीं दे रहा..शायद मेरा नेट स्लो है…निवेदन करता हू की कोई व्यक्ति जल्दी से जल्दी टेक्स्ट फार्मेट में इंटरव्यू प्रकाशित करे.

    Reply
  • दिनेश says:

    रिकार्ड किये हुए संवाद को टैक्स्ट में बदलता बहुत मेहनत का काम है। इसलिए ईमानदारी से बतायें कि सचमुच प्रयोग करना चाह रहे थे या मेहनत करने से जान छुड़ा ली!

    Reply
  • abhishek anand says:

    मैंने डाउनलोड कर ली हैं, दो वीडियो को टेक्स्ट में बदल चूका हूँ, बाकी पूरा करते ही मेल करता हूँ.

    Reply
  • Girish Mishra says:

    In my comments above, there are two errors:
    first, line 2 from the bottom should read “other disciplines” instead of “disciplines”, and in line 17 “comes” should be “come”.
    Errors are regretted.

    Reply
  • सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी says:

    पूरा साक्षात्कार सुनने में एक घंटे से अधिक लगे। बफ़रिंग में समय अधिक लग रहा है। ट्रांसक्रिप्ट कराकर पोस्ट करें तो धिक लोगों तक बात जाएगी।

    बहुत से मुद्दों पर बेबाक बात हुई है। कुलपति जी को जानने समझने मेम इस साक्षात्कार से बहुत मदद मिलेगी। आपको बहुत-बहुत धन्यवाद।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *