ग्रुप एडिटर पद से पंवार बर्खास्त

लखनऊ से खबर है कि हिंदी दैनिक डेली न्यूज एक्टिविस्ट (डीएनए) के ग्रुप एडिटर देशपाल सिंह पंवार को तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर दिया गया है. प्रबंधन ने यह फैसला लेने के बाद बर्खास्तगी से संबंधित एक छोटी खबर भी अखबार में प्रकाशित करा दिया है. इस खबर में कहा गया है- ”गंभीर आर्थिक और चारित्रिक शिकायतों के कारण डेली न्यूज एक्टिविस्ट प्रबंधन ने देशपाल सिंह पंवार को तत्काल प्रभाव से समूह संपादक पद से बर्खास्त कर दिया है.” पंवार के खिलाफ किस तरह की शिकायतें थीं, इसका पता नहीं चल सका है. पंवार ने पिछले साल अगस्त महीने में डेली न्यूज एक्टिविस्ट ज्वाइन किया.

पिछले कई महीनों से वह अवकाश पर चल रहे थे. लंबे समय से पंवार की डीएनए से अनुपस्थिति को लेकर भी अखबार में तमाम तरह की चर्चाएं थीं. इलाहाबाद और लखनऊ से प्रकाशित होने वाले इस अखबार के चेयरमैन डा. निशीथ राय हैं. पंवार के हटाए जाने के बाद अब तक इस अखबार से तीन एडिटर जा चुके हैं. लांचिंग ग्रुप एडिटर रहे प्रभात रंजन दीन के हटने के बाद गोविंद पंत राजू आए थे. पंवार के ज्वाइन करने के कुछ ही दिनों बाद गोविंद ने इस्तीफा दे दिया था. खबर है कि अरविंद चतुर्वेद को डीएनए लखनऊ का स्थानीय संपादक बनाया गया है. अरविंद चतुर्वेद डीएनए से लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए हैं. प्रिंटलाइन में अरविंद का नाम जाने लगा है. देशपाल सिंह पंवार डीएनए के पहले हरिभूमि, रायपुर में स्थानीय संपादक रहे. उससे पहले हिंदुस्तान और सहारा में एडिटर के रूप में काम कर चुके हैं. वे लंबे समय तक अमर उजाला में भी रहे हैं. आरोपों के बारे में पंवार से बातचीत के लिए जब भड़ास4मीडिया की तरफ से फोन किया गया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया.

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Comments on “ग्रुप एडिटर पद से पंवार बर्खास्त

  • Abhay Kumar says:

    Panwar zee sir is a big shot in journalism. his activities are a lessons for others to follow. Any group wants to disassociate from any person then it go for such kind of character assassination.

    Sir Best of luck in your next venture.

    Abhay Kumar
    09031792498

    Reply
  • girish pankaj says:

    aise hi sampadakon ke liye meraa upanyaas hai ”mithalabara ki aatmkatha”. dilli ke rajsoory prakashan ne ise ”mithalabara” naam se prakashit kiyaa hai. sampadak ke chehare ko benakaab kartaa hai upanyaas. aaj bhi jab kabhi mai sampadako keee kartooton ke baare mey parhata-sunataa hu, to santosh hotaa hai, ki maine upanyaas likh kar galati nahi ki.

    Reply
  • Abhay Kumar says:

    I want to raise a question to the DNA management that why any editor didnot work for him for long.Prabhatranjan Deen, Govind Pant Raju & now Panwar Sir resign.It is being mentioned two facts are highly contradictory.Firstly he was on leave for many months & what kind of complaints against Panwar is not known. If a person joins any organisation in less than a year & on leave for many months then how he commited irregulaities. The group should come out with its charges prior taking this action. It should be investigated that if the group has his own interestswith Pawar which Pawar did not oblige.

    Pawar zee was quite good before joining. He had worked with many groups as evident in the above mentioned article. It’s also a big question to the management that how it appointed such persons on such important post before verifying credentials.

    I donot have any opportunity to work with Panwar zee. Basically I m a electronic media journalist.

    Reply
  • brajkiduniya says:

    मैं पटना हिंदुस्तान में काम कर चूका हूँ जहाँ पवार साहब भी काम करते थे.जहाँ तक मैं पवार साहब को जानता हूँ वे बहुत मेहनती और खुद्दार किश्म के इन्सान हैं और पत्रकारिता के क्षेत्र में उनके जैसा अच्छा व्यक्ति शायद ही दूसरा ढूँढने पर भी मिले.-braj kishore singh, hajipur

    Reply
  • ruby sarkar says:

    pawar sb par aathik avm chatitrik shikayat sunkar tajjub hua. maine unke sath hidustan varanasi me naukri ki hai aur kah sakti hon ki pawar sb ak shalin vaykti hain.

    Reply
  • R.k.singh says:

    Patrakaro kie sabse gandi aadat hoti hai bina kisi bat ko samjhe kawn-kawn karana. yahi hal panwar ke sath ho raha haie. panwar ek achee sampadak haie. vaise har sampadak me kuch na kuch kami hoti haie.maine panwar ke sath kam kiya haie. meri kabhi bhie panwar se nahi pati, lekin panwar kie heding lagane kie kala se dusre sampadko ko sikh lenie chiaye.Rahie baat DNA ke nishith rai kie. vah swaye maphiya ke bhaie hai. unka jab P.R.Deen se nahie pata ,jisne DNA ko janm diya, phir kis sampadak se patega bhagwan jane.aise me coment karne wale patrakar bhaie thoda samajhdari se kisi bhie sampadak par coment kare.
    R.singh Lucknow.

    Reply
  • ravi ranjan says:

    This is very shocking news for me because I worked with sir in Haribhoomi, Raipur as a city reporter. He is such a editor that always used to motivate juniors and respect other employees in the organization. After the taking over the charge he re-innovated to Haribhoomi and begin to start good ideas for news. No one will accept such kind of allegations. I could develop my news and reporting skills because of him. He always tried to do something innovative in the organization. now a days when ethics and moral values in journalism are detonating sir always has been fighting with such evils for last twenty five years. I am so likely that I worked with sir and could explore myself in media.

    Thank you
    Ravi Ranjan

    Reply
  • atuldubey says:

    सर
    आपको सफाई देने की जरुरत नहीं है.निशीथ राय बेवकूफ है जो जाट से टकराने की मूर्खता कर रहा है. कहा जाता है की जाट को मरा तब मानिए जब उसकी तेरहवीं हो जाय. लेकिन श्री राय तो जिन्दा में ही जाट वो भी धाकड़ जर्नलिस्ट से टकराने की हिमाकत कर रहा है. लगता है की राय के ग्रह नक्षत्र ख़राब हो गए हैं.
    सर आप डटे रहिये हम आपके साथ हैं. उद्योगपति जर्नलिस्ट का कुछ नहीं बिगड़ सकते हैं.

    अतुल दुबे जबलपुर 9329871143

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *