पैसे लेकर खबर छापने के खिलाफ अभियान तेज

एडिटर्स गिल्ड का बयान- विज्ञापन को खबर के रूप में छापने की प्रथा घोर पत्रकारीय दुराचरण : एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया ने पैसे लेकर खबरें छापने के खिलाफ जारी अपने अभियान को तेज करने का फैसला किया है। गिल्ड ने सभी संपादकों और वरिष्ठ पत्रकारों को पत्र भेजकर अनुरोध किया है कि वे अपने स्तर से विज्ञापन को बतौर खबर छापने की कोशिशों के खिलाफ सक्रिय होने का संकल्प लें। साथ ही उम्मीद जताई है कि पूरी पत्रकार बिरादरी इस मुद्दे पर एकजुटता दिखाएगी।

अपनी सालाना बैठक में गिल्ड ने पिछले महीने इस गंभीर मुद्दे पर चर्चा की थी। गिल्ड के अध्यक्ष राजदीप सरदेसाई और महासचिव कूमी कपूर की तरफ से जारी एक साझा बयान में कहा गया है कि विज्ञापनों को खबर के रूप में छापने की प्रथा घोर पत्रकारीय दुराचरण है। यह मीडिया की बुनियाद और पत्रकारिता के व्यवसाय दोनों के लिए खतरा है। इससे समाचारों की रिपोर्टिंग की निष्पक्षता और विश्वसनीयता में लोगों का भरोसा भी घटता है।

बैठक में गिल्ड के सदस्यों ने महसूस किया कि संपादकों और दूसरे पत्रकारों को अपनी साख बचाने के लिए सामने आना चाहिए। और जो नुकसान अब तक हो चुका है उससे उबरने के लिए अपने स्तर से इस बारे में घोषणाएं करनी चाहिए कि विज्ञापन को खबर के रूप में आगे किसी भी सूरत नहीं छापा जाएगा। साभार : जनसत्ता

Comments on “पैसे लेकर खबर छापने के खिलाफ अभियान तेज

  • Patrakar Tomar, Gwalior says:

    Mahoday Gwalior Main to aisa lagbhag roj hi hota hai. Gwalior ke bade new paper vigyapan ko news ke Roop main chhapte hai. is per rok lagani hi chahiye.

    Reply
  • yashvant ji,
    aap jo abhiyan media ki safai ke liye chalarahe hain uske liye aap dhanyavad ke patra hain.Ek nivedan karna chahoonga ki patrakaron se jo marketing ke kaam karvaye jaa rahen hain aur patrakaron ki dhar kam kar rahe hain .aaj ki date men patrakar patrakarita chhod kar p.r.o. kaa kam jyada kar rahe hain kripaya is par bhi kuchh likhen

    Reply
  • sarab mafiya neta ban gaye hai v 2oct. gandhi jayanti par bhasan de rahe hai. patrakar neta gi ki gurgan likh rahe hai . karan neta sarkari v khud ka mota vigyapan de raha hai.patrakar majbor hain upar ke log kahate hai `bali bakare ki chadti hai vigyapan dene wale ser ki nahi`

    Reply
  • Thank you Editors’ Guild.
    Now pl start releasing everyday the updated list of the editors, who have pledged to act against the ‘PAID NEWS’ phenomenon. After all they are accountable to their readers/viewers. We expect FIRST LIST today.

    Reply
  • shiv harsh suhalka says:

    I really appreciate the initiative of the Editors Guild of India.
    Please take the another most important initiative related to the FREEDOM OF PRESS. Government PR departments are bias towards many sincere Journalists and media houses. because they want to entertain only the so called ‘faithful’ journalists/ media houses whose job is to work as the governments’ PR men and they always praise the govt.policies and actions.
    Please see the recent news: Yeh Kaisi Press ki Swatantrata on>http://www.METROMIRROR.Com>Hindi Edition>MP & CG Digest
    METROMIRROR.Com: Madhya Pradesh’s No.1 Newsmagazine Since 2003*
    ————————————————————————————————————-
    *survey conducted by Makhanlal National University of Journalism, Bhopal, as the
    most read English News portal.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *