ब्लाग के बाद अब डॉट कॉम में भी प्रकट हुआ ‘सत्ताचक्र’

न्यू मीडिया में धीरे-धीरे ही सही, अब ऐसे लोग और ज्यादा संख्या में आने लगे हैं जो खुलकर लिखने बोलने और कहने के लिए जाने जाते हैं. कभी सत्ताचक्र ब्लाग हुआ करता था, अब भी है. इस ब्लाग में चोर गुरुओं की जमकर पोल खोली गई. और इनमें से कई स्टोरीज सीएनईबी न्यूज चैनल पर तब चलीं जब राहुल देव एडिटर इन चीफ हुआ करते थे. कृष्ण मोहन सिंह और संजय देव द्वारा संयुक्त रूप से की गई स्टोरीज की ज्यादातर खबरें इस ब्लाग पर देखने को मिला करती थीं.

चोरगुरु दीपक केम बर्खास्त किए गए, वीएन राय कब भगाएंगे अनिल अंकित को?

जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली के सेंटर फार कल्चर एंड मीडिया गवर्नेस विभाग के रीडर चोरगुरु डा. दीपक केम को नकल करके पुस्तकें लिखने के मामले में बर्खास्त कर दिया गया। चोरगुरु दीपक केम और चोरगुरु अनिल के राय अंकित ने मिलकर कटपेस्ट करके जो किताब अपने नाम बनाई है उसका पृष्ठवार चोरी के दस्तावेज सहित खुलासा पत्रकारद्वय कृष्णमोहन सिंह व संजय देव ने अपने खोजपरक कार्यक्रम “चोरगुरू” में किया।

चोर गुरू में आज इग्नू में होने वाली अंधेरगर्दी

नयी दिल्ली, 9 मई। सीएनईबी के विशेष  कार्यक्रम चोर गुरू में  आज रात 8 बजे इंदिरा गाँधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय  में तैयार होने वाले स्टडी  मैटेरियल के लिए इग्नू  की टीम द्वारा की गयी बेशर्म चोरी का पर्दाफ़ाश किया जायेगा। साथ ही यह भी दिखाया जायेगा कि किस तरह इग्नू का स्टडी मैटेरियल चुराकर थोक के भाव किताबें लिखी जा रही हैं। यह चोर गुरू कार्यक्रम की 22वीं कड़ी होगी।

सीएनईबी पर ‘चोरगुरु’ फिर हो रहा शुरू

अबकी चोरगुरुओं के साथ-साथ उन्हें संरक्षण देने वाले कुलपतियों की भी कलई खुलेगी : सीएनईबी न्यूज चैनल का खोजपरक कार्यक्रम चोरगुरु फिर से शुरू हो रहा है. इस चैनल पर सोमवार दिनांक 26 अप्रैल 2010 से रोज शाम 6 बजकर 15 मिनट पर चोरगुरु की अगली कड़ियां दिखाई जाएंगी.

राज्यपाल कसेंगे ‘चोर गुरुओं’ पर नकेल

सीएनईबी के पोलिटिकल एडिटर प्रदीप सिंह को है उम्मीद : यूपी के राज्यपाल को पत्र लिखा, शो की सीडी और प्रमाण भी भेजा : विश्वविद्यालयों व शिक्षण संस्थानों में अफसरों, कुलपतियों, अध्यापकों, पुस्तक प्रकाशकों की मिलीभगत से अध्यापकों द्वारा नकल करके लिखी व छपी पुस्तकों का सालाना लगभग 500 करोड़ रुपये का अवैध कारोबार हो रहा है. हर साल इतने बड़े रकम की ऐसी पुस्तकों की खरीद विश्वविद्यालयों के कुछ कुलपतियों, अध्यापकों, प्रकाशकों, सप्लायरों, यू.जी.सी. व संबंधित मंत्रालयों के कुछ अफसरों, हुक्मरानों की तथाकथित आपसी ऊपरी मोटी कमाई वाली काकस के चलते हो रही है.

‘चोर गुरु’ दिखाने पर राहुल देव को सम्मन

सीएनईबी न्यूज चैनल पर पिछले दिनों प्रसारित किए गए ‘चोर गुरु’ कार्यक्रम की एक कड़ी में दिखाए गए डा. अनिल कुमार उपाध्याय ने सीएनईबी न्यूज चैनल के सीईओ और एडिटर इन चीफ राहुल देव के खिलाफ कोर्ट में मामला दायर कर दिया है. बनारस स्थित काशी विद्यापीठ के पत्रकारिता विभाग के अध्यापक डा. अनिल कुमार उपाध्याय द्वारा दायर मामले को अदालत ने स्वीकार करते हुए राहुल देव को सम्मन जारी किया है.

गुरु राममोहन पाठक की चोरी का खुलासा सीएनईबी पर

नयी दिल्ली : सीएनईबी न्यूज़ चैनल पर चल रहे ‘चोर गुरु’ कार्यक्रम की 14वीं कड़ी में कल वाराणसी के एक वरिष्ठ पत्रकारिता गुरु राममोहन पाठक की चोरी के कारनामों का खुलासा किया जायेगा। काशी विद्यापीठ के महामना मदन मोहन मालवीय हिंदी पत्रकारिता संस्थान संकाय के प्रोफ़ेसर राममोहन पाठक ने अपने शोध पत्र में किस तरह वेद प्रताप वैदिक की बहुचर्चित किताब के मौलिक विश्लेषण को और पं. अंबिका प्रसाद वाजपेयी की किताब के अंशों को एक-दो शब्द बदल कर अपना बना कर पेश किया, इसे कल के चोर गुरु कार्यक्रम में रात आठ बजे दिखाया जाएगा।

‘चोर गुरु’ में इस बार बनारस वाले डा. अनिल उपाध्याय

सीएनईबी न्यूज चैनल के खोजपरक कार्यक्रम “चोर गुरु” के 11वें एपीसोड में महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ, वाराणसी के पत्रकारिता विभाग के रीडर, हेड डा. अनिल उपाध्याय के नकलचेपी कारनामों का खुलासा होगा। यह कार्यक्रम रविवार 27 दिसंबर को रात 8 बजे से साढे आठ बजे के स्लाट में दिखाया जायेगा। इसमें है कि किस तरह अनिल जी ने दिलेरी से अपनी किताब “पत्रकारिता एवं विकास संचार” में न केवल अपनी ही तरह के पत्रकारिता के एक शिक्षक डा. ओम प्रकाश सिंह की किताब से शब्दशः अनेक पन्ने उतार डाले, बल्कि गुमराह करने के लिए अध्यायों के अंत में दिये गये संदर्भ भी गलत लिख दिये।

रंग दिखाने लगा ‘चोर गुरु’, कई और खुलासे होंगे

विश्वविद्यालयों के वरिष्ठ-कनिष्ठ शिक्षकों द्वारा बेशर्मी से मैटर चुराकर अपने नाम से दर्जन के हिसाब से किताब लिखने के हाल के वर्षों में उभरे चलने का भंडाफोड़ करने वाला सीएनईबी न्यूज चैनल पर दिखाए जा रहे कार्यक्रम ‘चोर गुरु’ अपना असर कई प्रदेशों में दर्ज करने लगा है। रविवार 15 नवंबर को रात आठ बजे दिखाए जाने वाले कार्यक्रम में दो विश्वविद्यालयों के कुलपति रह चुके डा. प्रेम चंद पातंजलि के चोरी की किताबें लिखने के कारनामों का खुलासा किया जाएगा। कार्यक्रम की अब तक दिखाई गई चार कड़ियों में दिल्ली के जामिया मिलिया, वर्धा के महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, झांसी के बुंदेलखंड विवि समेत दिल्ली विवि से जुड़े रहे वरिष्ठ शिक्षकों के चोरी के सच को उजागर किया गया है और प्रोफेसर बिपिन चंद्रा, प्रोफेसर यशपाल, प्रोफेसर मुशीरुल हसन सरीखे देश के शीर्षस्थ अकेडमीशियनों की कड़ी टिप्पणियां प्रस्तुत की गई हैं। आगे प्रसारित होने वाली कड़ियों में काशी विद्यापीठ, दिल्ली विश्वविद्यालय, पूर्वांचल विवि, इंदिरा गांधी मुक्त विवि, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विवि समेत अनेक अन्य विश्वविद्यालयों में फल-फूल रहे चोरी के इस धंधे का अंदरूनी सच उजागर किया जाएगा।

सीएनईबी पर बेनकाब होंगे ‘चोर गुरु’

विदेशी-देशी किताबों और रिपोर्टों-पर्चों से बेहिसाब मैटर चुराकर धड़ाधड़ किताबें लिखने वाले यूनिवर्सिटी लेक्चरर-प्रोफ़ेसरों को बेनकाब करने वाली एक खोजपरक टीवी रिपोर्ट श्रृंखला की शुरुआत इसी रविवार पहली नवंबर से कर रहा है सीएनईबी न्यूज़ चैनल। श्रृंखला के पहले एपिसोड में वर्धा के अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के पत्रकारिता विभाग के प्रमुख अनिल के राय अंकित और दिल्ली के जामिया मिलिया के रीडर दीपक केम के कारनामों का भंडाफोड़ किया गया है। एपिसोड में देश की प्रसिद्ध अकादमिक हस्तियों प्रोफेसर बिपिन चंद्रा और प्रोफेसर यशपाल की तीखी टिप्पणियां भी हैं जिसमें दोनों ने दोषियों के खिलाफ़ तत्काल कड़ी कार्रवाई करने और उन्हें बर्खास्त करने की सिफ़ारिश की है।