पत्रकारों से मारपीट करने वाला चौकी इंचार्ज लाइन हाजिर

उन्‍नाव में जी न्‍यूज के रिपोर्टर प्रसून शुक्‍ला एवं स्‍टार न्‍यूज के रिपोर्टर आशीष गौड़ से गाली-ग्‍लौज तथा मारपीट करने वाला चौकी इंचार्ज राम सुंदर को भारी दबाव के बाद एसपी ने लाइन हाजिर कर दिया है. जिले के पत्रकारों तथा सांसद बृजेश पाठक के दबाव के बाद यह कार्रवाई की गई है. हालांकि पत्रकार चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर किए जाने मात्र से संतुष्‍ट नहीं हैं.

चौकी इंचार्ज ने की स्‍टार व जी न्‍यूज के पत्रकारों से मारपीट

माया के राज में अब पुलिस वाले सिर पर चढ़कर मूतने लगे हैं. अभी बृजलाल के डीजीपी बनाए जाने की सेटिंग को एक दिन भी नहीं बीता कि उन्‍नाव में एक चौकी इंचार्ज ने दो पत्रकारों से गाली-ग्‍लौज तथा मारपीट किया. पीडि़त पत्रकार जब कार्रवाई की मांग करने लगे तो आरोपी दरोगा को दलित बताकर पुलिस ने  कार्रवाई करने से पल्‍ला झाड़ लिया. इसको लेकर पत्रकारों में नाराजगी है. सांसद बृजेश पाठक के हस्‍तक्षेप के बाद भी आरोपी चौकी इंचार्ज के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं हुई है.

न्यूज चैनलों में क्या सिर्फ जी न्यूज ही फायदे का न्यूज चैनल है?

जी न्यूज के सीईओ पुनीत गोयनका ने ‘कंपेन इंडिया’ मैग्जीन के एक जुलाई वाले अंक के लिए एक इंटरव्यू दिया है. इसमें उन्होंने दावा किया है कि… ”वे देश में एकमात्र न्यूज प्रतिष्ठान हैं जो धन पैदा कर पा रहे हैं. अन्य सभी न्यूज प्रतिष्ठान आजकल घाटे में जा रहे हैं. जी के लिए खबरों का धंधा (न्यूज बिजनेस) बढ़िया है.” उन्होंने इंटरव्यू अंग्रेजी में दिया है, इसलिए पढ़ लीजिए कि उन्होंने अंग्रेजी में क्या कहा-

जी न्‍यूज ने होली पर भी नहीं किया स्ट्रिंगरों का भुगतान

जी न्यूज़ यूपी-उत्तराखंड के लोगों को एक सलाह कि क्या जरूरत है यूपी के अलग चैनल की? जब जी नेशनल की ही खबर चलानी है.  दुनिया का शौर्य अवार्ड बाँट रहे हो, जरा अपने स्ट्रिंगरों से पूछो होली में 2 साल के भुगतान का इंतजार निराशा के साथ खत्म हुआ तो उन पर क्या बीती? उनके परिवार पर क्या बीती? तुम्हारे चैनल से लाख गुना ईटीवी बेहतर है, कम से कम प्रतिमाह भुगतान तो कर रहा है. ठेठ यूपी की खबरें चला तो रहा है. उसकी खबरों का असर तो हो रहा है. कम से कम पत्रकारिता के मकसद में कामयाब तो है. आप का तो वही हाल है नाम बड़े और दर्शन छोटे.

”जी न्‍यूज के स्ट्रिंगर की वसूली से मुझे बचाइए”

सेवा में, निदेशक, जी न्‍यूज नेटवर्क. कुशीनगर में जी न्यूज के स्ट्रिंगर के उत्‍पात के संबंध में. महोदय, आपके कुशीनगर के रिपोर्टर महेश मिश्र जी द्वारा हम व्‍यापारियों से आये दिन पत्रकारिता की धौंस जमाकर जबरन वसूली किया जा रहा है. यह न्यूज़ से ज्यादा वसूली का कारोबार में जी जान से लगे हैं.

अखिलेश ने जी न्‍यूज ज्‍वाइन किया

अखिलेश न्‍यूज24 से अखिलेश आनंद ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां एंकर कम एसोसिएट  सीनियर प्रोड्यूसर थे. वे अपनी नई पारी जी न्‍यूज के साथ शुरू करने जा रहे हैं. वे सेम पोस्‍ट पर जा रहे हैं. वे जी में आउटपुट के हिस्‍सा होंगे तथा एंकरिंग की जिम्‍मेदारी भी निभाएंगे. अखिलेश न्‍यूज24 के लांचिंग टीम के सदस्‍य थे.

हिंदुस्‍तान से चेतन का इस्‍तीफा, हरेराम जी न्‍यूज पहुंचे

हिंदुस्‍तान, कानपुर से चेतन गुप्‍ता ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर लोकल डेस्‍क पर रिपोर्टर थे. वे क्राइम देख रहे थे. उन्‍होंने अभी अपनी पारी नहीं शुरू की है, लेकिन माना जा रहा है कि कुछ अच्‍छे ऑफर उनके पास हैं. वे हिंदुस्‍तान की भीतरी परेशानियों से आहत होकर इस्‍तीफा दिए हैं.

अजीत बने लोकसत्‍य के एनई, विरमा का जी न्‍यूज से इस्‍तीफा

जनतांत्रिक प्रहरी, लखनऊ से अजीत कुमार पांडेय ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर न्‍यूज एडिटर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी लोकसत्‍य, दिल्‍ली के साथ शुरू की है. इन्‍हें यहां भी एनई बनाया गया है. अजीत ने अपने करियर की शुरुआत सन 2000 में हिंदुस्‍तान के साथ की थी. इन्‍होंने दैनिक जागरण और अमर उजाला के साथ भी लंबी पारी खेली.

जी24 घंटे छत्‍तीसगढ़ से नैना का इस्‍तीफा

जी 24 घंटे छत्तीसगढ़ से लोगों के इस्तीफे देने का सिलसिला लगातार जारी है. प्रबंधन की लाख कोशिशों को बाद भी इस्तीफों का दौर रुकने का नाम नहीं ले रहा. यहां आलम ये हैं कि पांच लोगों की भर्ती की जाती है और अगले ही हफ्ते कई पुराने कर्मचारी इस्तीफा दे देते हैं. अब यहां एंकर के रूप में काम कर रही नैना यादव ने इस्तीफा दे दिया है.

जी 24 घंटे से हेमंत का विकेट भी गिरा

जी24 घंटे छत्‍तीसगढ़ से विकेटों के गिरने का सिलसिला जारी है. प्रबंधन के तमाम प्रयास के बाद भी लोग इस्‍तीफा देते जा रहे हैं. इस्‍तीफा देने वाली प्रियंका कौशल को प्रबंधन किसी प्रकार मनाने में सफल रहा पर नई सूचना है कि चैनल के रिपोर्टर हेमंत पाणिगृहि ने इस्‍तीफा दे दिया है.

जी24 घंटे छत्‍तीसगढ़ से संदीप का इस्‍तीफा

जी24 घंटे छत्‍तीसगढ़ से संदीप दीवान ने इस्‍तीफा दे दिया है. संदीप के साथ प्रियंका कौशल ने भी इस्‍तीफा दिया था,  लेकिन प्रबंधन ने प्रियंका का इस्‍तीफा स्‍वीकार नहीं किया. संदीप अपनी नई पारी कहां से शुरू करने वाले हैं, इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है. परन्‍तु उनके जाने के बाद  प्रबंधन हरकत में आ गया है.

आसिफ, सौरभ और नीतू की नई पारी, वीना का इस्‍तीफा

जनसंदेश न्‍यूज चैनल से आसिफ खान ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एंकर का रोल निभा रहे थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी जी न्‍यूज के उर्दू चैनल जी सलाम के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी एकंरिंग की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है. आसिफ जनसंदेश से इसकी लांचिंग के समय से ही जुड़े हुए थे.

राकेश ने जी टीवी, वरुण ने कशिश ज्‍वाइन किया

राकेश सारन ने ईटीवी से इस्‍तीफा दे दिया है. वे रिपोर्टर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी नोएडा में जी न्‍यूज के साथ शुरू की है. उन्‍हें करेस्‍पांडेंट बनाया गया है. वे स्‍पोर्टस बीट कवर करेंगे. राकेश ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक भास्‍कर, जयपुर के साथ की थी. बाद में जयपुर में दूरदर्शन से जुड़ गए थे. वहां से इस्‍तीफा देने के बाद आजाद पहुंचे. इसके बाद ईटीवी से जुड़ गए थे.

एजाज ने कशिश एवं सोमेश ने जी छत्‍तीसगढ़ ज्‍वाइन किया

आर्यन से एजाज अली ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे टेक्निकल विभाग में थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी की शुरुआत रांची से लांच होने वाले कशिश न्‍यूज से की है. उन्‍हें टेक्निकल मैनेजर बनाया गया है. एजाज इसके पहले मौर्य टीवी के लांचिंग टीम के सदस्‍य भी रह चुके हैं.

पंजाब केसरी, चंडीगढ़ से पांच का इस्‍तीफा

: सुनील ने जी यूपी ज्‍वाइन किया : पंजाब केसरी, चंडीगढ़ कार्यालय से पांच पत्रकारों ने एक साथ इस्‍तीफा दे दिया है. माना जा रहा है कि कम वेतन और काम के ज्‍यादा दबाव के चलते पत्रकारों ने एक साथ इस्‍तीफा दिया है. अखबार प्रबंधन ने इस समस्‍या से निपटने तथा तत्‍काल नए रिक्रूटमेंट करने की जिम्‍मेदारी हिमाचल प्रदेश के प्रभारी विनय को सौंपा है. उन्‍हें चंडीगढ़ भेजा गया है.

जी न्‍यूज संवाददाता मुनेन्‍द्र पर गैंगेस्‍टर

जी न्‍यूज, बरेली के संवाददाता मुनेन्‍द्र गंगवार पर बरेली पुलिस ने गैंगेस्‍टर एक्‍ट लगा दिया गया है. मुनेन्‍द्र पर गैंगेस्‍टर बरेली के किप्‍स हीरो होंडा शो रुम में हुई फायरिंग के मामले में लगाया गया है. मामूली विवाद को लेकर सपा विधायक के पुत्र ने ताबड़तोड़ फायरिंग की थी. इस फायरिंग में एक युवक की मौत हो गई थी. जानकारी के अनुसार घटना वाले दिन शोरूम के सामने एक फौजी की बाइक खड़ी थी.

जी न्‍यूज के रिपोर्टर को पुलिस ने घंटों थाने में बैठाया

जी न्‍यूज, बरेली के रिपोर्टर मुनेन्‍द्र गंगवार को पीलीभीत पुलिस ने घंटों थाने में बैठाये रखा. मुनेन्‍द्र पर पंचायत चुनाव के तीसरे चरण में एक मतदान केन्‍द्र पर हंगामा करने तथा मारपीट करने का आरोप था. कई घंटे तक उन्‍हें मुजरिमों की तरह रखा गया.

पांच टीवी पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

: धौंस दिखाकर पैसा मांगने तथा परीक्षा दे रही छात्राओं से छेड़खानी का आरोप :  प्राचार्य ने दर्ज कराया मुकदमा : शाहजहांपुर में इलेक्‍ट्रॉनिक मीडिया के पांच पत्रकारों के खिलाफ रंगदारी, धोखाधड़ी और छेड़छाड़ का मुकदमा दर्ज हुआ है. पांचों पत्रकारों पर आरोप हैं कि इन्‍होंने खुदागंज में स्थित एक संस्‍कृत महाविद्यालय के प्राचार्य से दस हजार रुपये की मांग की. पैसा देने से इनकार करने पर परीक्षा दे रही छात्राओं अभद्र व्‍यवहार तथा छेड़खानी की. कालेज के प्रार्चाय इस पूरे मामले की शिकायत पुलिस से की. जिसकी जांच एएसपी सिटी को सौंपी गई. जांच के बाद पांचों पत्रकारों के खिलाफ तिलहर थाना में मामला दर्ज हुआ है.

एडिटर को आदेश- बिजनेस हेड को रिपोर्ट करें!

सोचिए, संपादक किसे रिपोर्ट करता होगा? आप कहेंगे- प्रधान संपादक को, सीईओ को, मैनेजिंग एडिटर को, मैनेजिंग डायरेक्टर को, चेयरमैन को या इनमें से किसी को भी। और, आपका कहना ठीक भी है। ऐसा अपने मीडिया में चलता है। लेकिन संपादक अपने बिजनेस हेड को रिपोर्ट करे, यह थोड़ी अजीब बात है। है न! कहां संपादक और कहां बिजनेस हेड। दोनों के अलग-अलग काम। दोनों के अलग-अलग विधान। दोनों के अलग-अलग तेवर। दोनों के अलग-अलग कलेवर। दोनों के अलग-अलग अंदाज। दोनों के अलग-अलग सरोकार। लेकिन इस बाजारवादी व्यवस्था में शेर और बकरी, दोनों एक साथ एक घाट पर पानी पीने लगे हैं। इस मार्केट इकोनामी में शेर सियार को रिपोर्ट करता दिख सकता है तो कहीं सियार हाथी का शिकार करते हुए मिल सकता है। वजह, तीन तिकड़म से माल कमाकर मालामाल करने वाला बंदा सबसे बड़ा अधिकारी मान लिया गया है। अन्य उद्योगों की तरह मीडिया में भी सबका माई-बाप रेवेन्यू हो गया है। यही वजह है कि विचार-समाचार से लेकर अचार बेचने वाले तक, सभी आजकल सुबह-शाम राग ‘सबसे बड़ा रुपैय्या भैया’ गाते हुए मिल जाएंगे। सबके सब रेवेन्यू की छतरी तले आने लगे हैं। रेवेन्यू की ‘जय गान’ कर नंबर बढ़ाने लगे हैं। कुछ लोग देर से ना-नुकुर के बाद शरमाते-सकुचाते रेवेन्यू की छतरी तले आ रहे हैं तो कुछ दौड़ते, जीभ लपलपाते भागे चले आ रहे हैं। इतनी सब कथा-कहानी के बाद अब आते हैं मूल खबर पर।