Connect with us

Hi, what are you looking for?

टीवी

ब्यूरो चीफ के गाने से दुखी हैं उनके अधीनस्थ!

[caption id="attachment_18488" align="alignleft" width="91"]जुहैर जैदीजुहैर जैदी[/caption]जो दुखी आत्मा हैं, वे दुखी ही रहेंगे, चाहे उन्हें बॉस जैसा भी मिल जाए. बॉस अगर कम बोले और कड़क हो तो तुरंत उसे जेलर टाइप कहते हुए अमानवीय करार दिया जाएगा. बॉस अगर नरम हो और सबकी सुनता हो व सबकी राय लेकर काम करता हो तो उसे प्रबंधन में अकुशल मान लिया जाता है, बॉस अगर संगीत का प्रेमी हो और गाहे-बगाहे गाने लगता हो अपने अधीनस्थों के सामने तो दुखी आत्माएं उससे भी दुखी हो जाती हैं. दरअसल दुखी आत्माओं का कोई इलाज नहीं होता. उनका दुख ही यह होता है कि वह उस कुर्सी पर क्यों नहीं हैं जहां आज उनके बॉस बैठे हैं.

जुहैर जैदी

जुहैर जैदी

जुहैर जैदी

जो दुखी आत्मा हैं, वे दुखी ही रहेंगे, चाहे उन्हें बॉस जैसा भी मिल जाए. बॉस अगर कम बोले और कड़क हो तो तुरंत उसे जेलर टाइप कहते हुए अमानवीय करार दिया जाएगा. बॉस अगर नरम हो और सबकी सुनता हो व सबकी राय लेकर काम करता हो तो उसे प्रबंधन में अकुशल मान लिया जाता है, बॉस अगर संगीत का प्रेमी हो और गाहे-बगाहे गाने लगता हो अपने अधीनस्थों के सामने तो दुखी आत्माएं उससे भी दुखी हो जाती हैं. दरअसल दुखी आत्माओं का कोई इलाज नहीं होता. उनका दुख ही यह होता है कि वह उस कुर्सी पर क्यों नहीं हैं जहां आज उनके बॉस बैठे हैं.

भूमिका को ज्यादा लंबा न खींचते हुए बताना चाहेंगे कि एक ऐसे बॉस की शिकायत भड़ास4मीडिया के पास आई है जो आफिस में गाना गाने लगता है और उसके गाने से उसके अधीन काम करने वाले कुछ लोग दुखी हैं. ब्यूरो चीफ का नाम है जुहैर जैदी. ये जनसंदेश मुंबई के ब्यूरो चीफ हैं और जनसंदेश के चैनल हेड सैयदेन जैदी के बड़े भाई हैं. ‘मीडियाजासूस’ नामक एक मेल आईडी से जो मेल भड़ास4मीडिया के पास आई है उसमें जुहैर को गाते हुए दिखाया गया है. वीडियो देखकर जुहैर के प्रति गुस्सा नहीं बल्कि प्यार आता है कि कितने दिल से यह नौजवान गा रहा है. मेल भेजने वाले ने जुहैर जैदी और सैयदेन जैदी की बुराई के मकसद से बहुत कुछ लिख मारा है, जैसे-

”…जनसंदेश मुंबई के Bureau Chief Zuhair zaidi साहब पेशे से singer रहे हैं, मुंबई के कई बीयर बार Beerbar में गाना गाते थे. पर छोटे भाई Sydain zaidi के managing director बनते ही समझो इनकी नईया पार हो गई और इनको पत्रकार बना कर भाई ने मुंबई का Bureau Chief बना दिया पर न्यूज़ के नाम पर इनको ABCD भी नहीं आती. अब बेचारे क्या करें, आदत से मजबूर हैं इसलिए ऑफिस में ही गाना शुरू कर दिया. न्यूज़ भेजे या न भेजें, भाई जब तक है, इनका कोई बाल भी बांका नहीं कर सकता. ऐसा कहना है इन साहब का. इसलिए मुंबई में सभी रिपोर्टर और कैमरामैनों को बैठ कर इनका गाना सुनना पड़ता है. यही नहीं, शराब का भी इन्तेजाम ऑफिस में कर दिया जाता है. एडिटर साहब को इन साब बातों का पता है. अब तो भगवन ही मालिक है जनसंदेश का. पता नहीं यहां के मालिकों की नींद कब टूटेगी. एक वी़डियो भी भेज रहा हूं, कृपया करके लगा दीजिएगा.”

पत्र भेजने वाले ने जिस मेल आईडी का इस्तेमाल किया है, वह [email protected] है.

उपरोक्त आरोपों में प्रथम दृष्टया कोई दम नहीं दिखता. मीडिया में कई ऐसे सगे भाई हैं, जो एक ही कंपनी में या अलग-अलग कंपनियों में काम करते हैं. किसे काम करना आता है और किसको काम करना नहीं आता है, यह बहस का मुद्दा है. जनसंदेश मुंबई ब्यूरो अगर रोजाना खबरें भेजता है, फुटेज भेजता है तो इसका मतलब है काम हो रहा है. शराब पीना अपराध नहीं है. आफिस में शराबखोरी की जाती है या नहीं, यह जांच का विषय है. गाने सुनने के लिए सबको मजबूर किया जाता है या नहीं, यह भी जांच का विषय हो सकता है. लेकिन ये सभी आरोप इसलिए भी खारिज हो जाते हैं क्योंकि आरोप लगाने वाला अपनी पहचान छुपाकर बातें लिख रहा है इसलिए उसकी बातों पर भरोसा नहीं किया जा सकता. ऐसे उल-जुलूल आरोप वाले मेल भड़ास4मीडिया के पास आए दिन आते रहते हैं लेकिन उन्हें इंटरटेन नहीं किया जाता. इस मेल को इसलिए प्रकाशित किया जा रहा है क्योंकि इसमें जुहैर जैदी का गाते हुए जो वीडियो है, वह लाजवाब है.

मीडिया के अंदर जो प्रतिभावान गायक हैं, उनकी तलाश के लिए भड़ास4मीडिया पर मुहिम की शुरुआत होने जा रही है और उसी कड़ी में जुहैर के गाये गीत को शामिल किया जा रहा है. इससे पहले विष्णु शंकर, संजय तिवारी आदि के गीतों को भड़ास4मीडिया पर प्रकाशित किया जा चुका है. जुहैर के गीत को नीचे दिए गए वीडियो पर क्लिक करके सुना जा सकता है. जुहैर के गीत के ठीक नीचे मैं अपना खुद का एक वीडियो डाल रहा हूं जिसे देहरादून में एक साथी ने रिकार्ड किया. इस वीडियो में मैं जाम के साथ भजन गाता दिख रहा हूं. कहने का आशय ये कि गायकी एक अच्छी आदत है, इसे बुराई मानने वाले लोग आत्मा से पत्रकार नहीं हो सकते. जनसंदेश के चैनल हेड सैयदेन जैदी से भड़ास4मीडिया ने जब मुंबई आफिस को लेकर आई चिट्ठी के बारे में संपर्क किया तो उन्होंने कहा कि उन्हें इस प्रकरण के बारे में पता नहीं है इसलिए वे तत्काल कुछ कह नहीं सकते, लेकिन अगर कोई गाता है तो इसे अपराध नहीं बताया जा सकता.

Click to comment

0 Comments

  1. vijay yadav

    November 8, 2010 at 3:34 pm

    comment deleted

  2. patrkar

    November 9, 2010 at 5:54 am

    zuhair ji is not a bureau chief he is just a news cordinator….and capable and a very nice person…he has a very very good comand on Hindi…. if he is brother of syedain zaidi…why he is paid only 15 thusand…and a so called sr. camera man Amit who does nothing except politics is getting 30000…jisne bhi ye email aapke paas bhejha hai wo ek number ka jhootha aur makkar hai aapko ayese makkaron ki baat rakhne se pehle sochna chahiye yashwant jia

  3. vijay kumar yadav mumbai

    November 9, 2010 at 7:27 am

    this commend not wrriten by me.this commend writen by other pople. yshvantji ye jo commend apne prakashit kiya hai vo maine nahi likha hai. Vijay kumar yadav mumbai

  4. vijay kumar yadav mumbai

    November 9, 2010 at 8:34 am

    jisane bhi mere naam ka estemal kiya hai usaka pardafash karane me meri madad kijiye aur ipo send kijiye pata lagane par vo bhi prakashit kijiye

  5. vishal saxena

    November 9, 2010 at 12:48 pm

    i know mr zaidi n zuhair since many years they are very sincere n honest towards there works the coment what the above person has made is absolutely rediculous it shows that some body is jealous of the progress of zaidi brothers vishal saxena diamond news mumbai

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अपने मोबाइल पर भड़ास की खबरें पाएं. इसके लिए Telegram एप्प इंस्टाल कर यहां क्लिक करें : https://t.me/BhadasMedia

Advertisement

You May Also Like

Uncategorized

भड़ास4मीडिया डॉट कॉम तक अगर मीडिया जगत की कोई हलचल, सूचना, जानकारी पहुंचाना चाहते हैं तो आपका स्वागत है. इस पोर्टल के लिए भेजी...

Uncategorized

मीडिया से जुड़ी सूचनाओं, खबरों, विश्लेषण, बहस के लिए मीडिया जगत में सबसे विश्वसनीय और चर्चित नाम है भड़ास4मीडिया. कम अवधि में इस पोर्टल...

हलचल

[caption id="attachment_15260" align="alignleft"]बी4एम की मोबाइल सेवा की शुरुआत करते पत्रकार जरनैल सिंह.[/caption]मीडिया की खबरों का पर्याय बन चुका भड़ास4मीडिया (बी4एम) अब नए चरण में...

Uncategorized

भड़ास4मीडिया का मकसद किसी भी मीडियाकर्मी या मीडिया संस्थान को नुकसान पहुंचाना कतई नहीं है। हम मीडिया के अंदर की गतिविधियों और हलचल-हालचाल को...

Advertisement