बसपा का मुखपत्र बना टाइम्‍स आफ इंडिया, जमकर माया का गुणगान

टीआईओ : लम्‍बी डील को लेकर चर्चाओं ने पकड़ा जोर : माया के चार साल के भाषणों को आधे पेज में दोहराया : ऐलान किया कि यूपी से बढि़या नहीं है कोई राज्‍य :  कहा-  दूसरी सरकारों में ज्‍यादा होते थे बलात्‍कार : अन्‍य राज्‍यों से बेहतर है लॉ एंड आर्डर यूपी में –  ट्वाय : माया सरकार को दूध का धुला बताया अखबार ने :

टाइम्स आफ इंडिया मुर्दाबाद, द हिंदू जिंदाबाद

: इन बनियों ने तो पैसे के लिए अब आत्मा तक बेच डाला : अखबार से संपादकों की औकात खत्म करने की शुरुआत किसने की? टाइम्स आफ इंडिया. भारत में पेड न्यूज की व्यवस्थित शुरुआत किस घराने ने की? टाइम्स आफ इंडिया. अखबार की आत्मा, मस्तिष्क और सिरमौर समझे जाने वाले मास्टहेड को बेचने की शुरुआत किसने कर दी है? टाइम्स आफ इंडिया ने.

सड़क हादसे में टीओआई के फोटो जर्नलिस्‍ट की मौत, तीन करेस्‍पांडेंट घायल

: मीटिंग में भाग लेने चंडीगढ़ जा रहे थे : पंजाब में एक सड़क हादसे में टाइम्‍स ऑफ इंडिया के एक फोटो जर्नलिस्‍ट की मौत हो गई. अखबार के तीन करेस्‍पांडेंट गंभीर रूप से घायल हो गए. चारो लुधियाना से अखबार की मीटिंग में भाग लेने के लिए चंडीगढ़ आ रहे थे. उनकी मारुति जेन कार ट्रक से टकरा गई. हादसा नेशनल हाइवे 95 पर हुआ.

Sir, protect their Provident Fund and future accumulations

To, Shri Arif Lohani, R.P.F.C (II) , 5, Meerabai Marg, (Arya Pratinidhi Sabha Building), Prakash Veer Shastri Bhawan, Lucknow-226001. Dear Sir, We represent the journalists and non journalist employees of the Times of India and Navbharat Times (Lucknow Edition) and thus we are bringing on records certain facts in order to protect their Provident Fund and future accumulations in view of pending dispute with the management in the Lucknow Bench of the Hon’ble Allahabad High Court (Writ Petition No 6197 SB of 1993).

टीओआई ने लांच की ‘हॉयर एजुकेशन’ किताब

टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने उच्‍च शिक्षा के बारे में जानकारी देने वाली एक किताब लॉच की है. ‘हॉयर एजुकेशन’ नाम की यह किताब देश और विदेश में उच्‍च शिक्षा एवं संस्‍थानों के संदर्भ में गाइड का काम करेगी. 250 रूपये मूल्‍य की इस किताब में बताया गया है कि कैसे ग्‍लो‍बल लर्निंग का स्‍थानीय बाजार …

टाइम्‍स ऑफ इंडिया ने बांबे हाई कोर्ट से मांगी माफी

माफी : फ्रंट पेज पर प्रकाशित किया एपोलॉजी :  खबर लिखने वाले सिटी एडिटर को भेजा अहमदाबाद : टाइम्‍स ऑफ इंडिया, मुंबई ने अखबार तथा इंटरनेट पर पब्लिश की गई एक खबर के लिए बांबे हाई कोर्ट से माफी मांगा है. इस माफीनामा को अखबार ने अपने फ्रंट पेज पर छापा है. टीओआई ने माफी मांगते हुए कहा है कि भ्रष्‍टाचार से संबंधित जिस स्‍टोरी को हमने अपने अंकों में छापा था वह सही नहीं थी. इसके कवर करने वाले रिपोर्टर ने आवश्‍यक चीजों की जांच पड़ताल नहीं की और ना ही बांबे हाई कोर्ट के रजिस्‍ट्रार जनरल से इस संबंध में जानकारी प्राप्‍त की.

टीओआई के पूर्व पत्रकार की लाश मिली

: परिजनों ने हत्‍या की आशंका जताई : इलाहाबाद में टाइम्‍स ऑफ इंडिया के पूर्व पत्रकार संदीप बनर्जी की बीती रात स‍ंदिग्‍ध परिस्थितियों में मौत हो गई. उनकी मोटरसाइकिल एक पुलिया से टकरा गई थी, लेकिन उनके शरीर पर कहीं किसी चोट का निशान नहीं था. परिजन तथा उनके जानने वालों ने इसे दुर्घटना नहीं बल्कि हत्‍या बताया है. खबर दिए जाने तक उनके शव का पोस्‍टमार्टम चल रहा था.

एमई आर जगन्‍नाथन ने डीएनए से इस्‍तीफा दिया

: शिवानी विग की नई पारी : ‘डीएनए’ के मैनेजिंग एडिटर आर जगन्‍नाथन ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे सन 2007 से इस पद पर थे. जगन्‍नाथन के नेटवर्क 18 के साथ जुड़ने के कयास लगाए जा रहे हैं. वे इसी ग्रुप के ‘डीएनए मनी’ के एडिटर थे, जिन्‍हें प्रमोशन देकर ‘डीएनए’ के एमई की जिम्‍मेदारी सौंपी गई थी. बताया जा रहा है कि जगन्‍नाथन के जाने के बाद ‘न्‍यू इंडियन एक्‍सप्रेस’ के आदित्‍य सिन्‍हा उनकी जगह आ सकते हैं.

टाइम्स समूह ने 1400 लोगों से नाता तोड़ा!

खबर है कि टाइम्स आफ इंडिया सहित इस ग्रुप की सभी मीडिया कंपनियों के कुल 1400 लोगों को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है! सूत्रों के अनुसार पिछले दिनों टाइम्स प्रबंधन ने पूरे ग्रुप का एक सर्वे कराकर खर्चे बचाने के लिए अतिरिक्त स्टाफ से मुक्ति पाने के लिए सर्वे कराया। बताया जाता है कि कुल 2500 लोगों की एक लिस्ट बनाई गई जिन्हें फालतू स्टाफ माना गया है।