‘निशिकांत नहीं, राकेश शांतिदूत ले आए थे’

जागरण और भास्कर पर मेरी टिप्पणी से किसी और को आघात लगा हो या न, लुधियाना में फिर से आये सुशील खन्ना को बहुत चोट लगी लगी है. तभी तो उन्होंने फट से जवाब दे मारा. मैं यहां यह बताना चाहता हूं कि मुझे पत्रकारिता में निशिकांत ठाकुर नहीं बल्कि राकेश शांतिदूत लेकर आये थे. स्थानीय संपादक के रूप में निशिकांत जी ने समय-समय पर मेरी तरक्की में जरूर  भूमिका अदा की और जागरण से निकाल बाहर करने में भी. सुशील जी से पूछना चाहता हूं कि जिस दिन उनसे त्यागपत्र मांगा गया था, उस दिन उन्होंने निशिकांत ठाकुर के बारे में मुझसे फोन पर क्या कहा था.

अगर उन्हें याद नहीं तो मेरे पास उनके फोन की रिकॉर्डिंग मौजूद है, सुनना चाहते हैं तो उपलब्ध करवा दूंगा. धर्मशाला से लुधियाना, लुधियाना से नोएडा और फिर वहां से लुधियाना तक का सफ़र पंजाब के मुख्यमंत्री के सलाहकार डॉ. चीमा के माध्यम से किस तरह तय किया, अगर उनके पास जानकारी नहीं है तो वो भी मेरे पास है. जिस निशिकांत को बचाने के लिए उन्होंने कलम उठाई है, वह कितने सच्चे और साफ़ हैं, उनके बारे में खुद सुशील जी की टिप्पणी मेरे पास उपलब्ध है. सुशील जी से मेरी गुजारिश है, मेरी चिंता छोड़ कर अपनी करें. समाज में बहुत से लोग तमाम क्वालिटी के बाद भी जुगाड़ के अभाव  में  अच्छी  जगह  नहीं  पहुंचते. हम  अक्सर  बेकार  लोगों  को  झेल  भी   रहे  होंगे  जो ऊंचे पदों  पर  सिर्फ  इसलिए  काबिज  हैं  क्योंकि वे किसी महान व्यक्ति  के  रिश्तेदार  हैं. सुशील जी, बता दें कि दैनिक जागरण में टेलीफोन आपरेटर  से  लेकर  विशेष संवाददाता  तक  के  पद पर चीफ  जनरल  मैनेजर  निशिकांत  ठाकुर  की ही  जाति-इलाके  और  परिवार  के  लोग  क्यों काबिज हैं?  जागरण  में  आने  से  पहले इन  लोगों  का  पत्रकारिता  से  कोई  नाता-रिश्ता  तक  नहीं  रहा  है. निश्चित  है  कि  इन  लोगों  को  जगह  देने  के  लिए  किसी  प्रतिभा  का  गला  तो  घोटा  गया  होगा.

खन्ना जी जिस निशिकांत जी की चिंता में दुबले हो गए हैं, उन निशिकांत जी के बारे में दुनिया जानती है कि इनके तीन  साले  हैं. एक हैं  बीसी बत्सल  जो जालंधर  में  हैं और एच आर  डिपार्टमेन्ट  का  कामकाज  देखते  है. दूसरे  हैं  एसी  चन्द्र  जो  जालंधर  में ही सर्कुलेशन  मैनेजर  हैं. तीसरे  हैं  कविलाश  मिश्र  जो  दिल्ली ब्यूरो  में  विशेष संवाददाता हैं. इन  तीनों  सगे भाइयों के गोत्र अलग-अलग क्यों है?  कैलाश  नाथ  जालंधर  में  रिपोर्टिंग  टीम  के  मुखिया  हैं. जागरण  में  आने  से  पहले  कानपुर  में  कोई  छोटा-मोटा  काम  करते  थे. मीडिया  से  इनका कोई  लेना-देना  नहीं  था. मामा  की  कृपा  से  आज  अख़बार  की  दुनिया  में  हैं. पहले  इन्हें  चंडीगढ़  में  रिपोर्टिंग  में  जोड़ा  गया. कामकाज   नहीं  आने  की वजह  से  चंडीगढ़  की  ब्यूरो  चीफ  मीनाक्षी  ने  उनसे  काम  लेना  बंद  कर  दिया और उन्हें निकाल दिया गया. वह  अमर उजाला में रहे.  इसके  बाद  जालंधर  बुला  लिया गया.  ड्यूटी  डेस्क  पर  लगायी  गयी . इसके  बाद  धीरे  से  उसे  जालंधर  रिपोर्टिंग  में  दूसरी पोजीशन  पर  एडजस्ट  किया  गया. इसके  बाद  योजनाबद्ध  तरीके  से  मेरा  ट्रान्सफर  चंडीगढ़  किया  गया  और  कैलाश  की  ताजपोशी  कर  दी  गयी.  किसी भी समय वह जालंधर का समाचार संपादक बनाया जा सकता है, खन्ना जी की बारी फिर भी नहीं आने वाली. फिर वह क्यों इतने चिंतित हैं? मुझे उम्मीद है कि खन्ना जी को मेरा सन्देश पहुंच गया होगा और निशिकांत जी को भी. मेरे खिलाफ कोई आरोप या मामला रहा हो तो उसकी बात करें, रीढ़हीन प्राणी की तरह व्यवहार न करें.

धन्यवाद.

ऋषि नागर

Editor

Day Night News

Surrey, British Columbia, Canada.

Mail : rishikumarnagar@gmail.com

‘ऋषि को पत्रकारिता में निशिकांत लेकर आए’

यशवंत जी, मैं उन लोगों का तहदिल से शुक्रगुजार हूं जो आज के युग में भी अपने से ज्यादा दूसरों की चिंता करते हैं। ऋषि नागर डे एंड नाइट अपने संस्थान से ज्यादा दैनिक जागरण की चिंता में लगे हुए हैं। यह वही संस्थान है जिसने उन्हें पत्रकार का खिताब दिया। निशिकांत ठाकुर ही ऐसे पहले शख्स थे जो उन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में लेकर आए। वे जिन लोगों के संस्थान छोड़ने की बात कर रहे हैं, वे सभी खुद अपनी तरक्की की उम्मीद में यहां से गए हैं।

संस्थान ने किसी को जाने के लिए नहीं कहा। दैनिक जागरण में कौन आया, कौन गया, इसकी जानकारी वहां के लोगों से ज्यादा ऋषि नगर को होती है। मेरी उन्हें सलाह है कि जितना समय वह दैनिक जागरण की गतिविधियों को नोट करने में लगाते हैं, यदि उतना समय अपने काम में लगाएं तो उनके लिए शायद ज्यादा अच्छा होगा।

सुशील खन्ना

उपसमाचार संपादक, दैनिक जागरण

लुधियाना

19.10.2009

Stop package selling in media

bhadas4media is a portal which is like a fresh wind in the stinking environment of decaying journalism : I would like to tender my apology for writing this in Engilsh. Several times I thought to write about the diminishing and vanishing ethics in journalism but I laid my idea off just because thinking that nothing is going to be changed. But this noon as I went through your soul searching article titled ‘In akhbaaron par thukein na to kya karein’ I get trembled and decided to write something about the absolute decaying of journalistic ethics. We can remember the role of journalists in the Indian freedom movement. At was in 1857 when Payam-e-Azadi started publication in Hindi and Urdu calling upon the people to fight against the British Rule. The paper was soon confiscated and any one found with a copy of the paper was persecuted for sedition.

Again, the first Hindi daily Samachar Sudhavarashan  and two newspapers in Urdu and Persian respectively Doorbeen and Sultan-ul-Akhar, faced trial in 1957 for having published a ‘Firman’ by Bahadur Shah Zafar urging Indian to flush the British out ioIndia. This was followed by the notorious Gagging Act of Lord Canning under which restrictions were imposed on the newspapers and periodicals

There were several newspapers fighting for the cause of  Independence India. So many Congress top leaders had been the editors of different newspapers. Ferozeshah Mehta had started the Bombay Chronicle and Pandit Madan Mohan Malviya used to edit Hindustan Hindi daily . He also helped the publication of leading Hindi daily Leader  publishing from Allahabad. Moti Lal Nehru was the first Chairman of the Board of Directors of the Leader. Lala Lajpat Rai inspired the publication of three journals, the Punjabi, Bandematram and the People from Lahore. Mahatama  Gandhi published  Indian Opinion while staying in South Africa. As he settled in India he started to publish Young Indai,  Navjeevan, Harijan, Harijan Sevak and Harijan Bandhu. Jawaharlal Nehru founded the National Herald. Subash Chandra Bose and C. R. Das were not journalists but they acquired the papers like Forward and Advance which later attained national status. At the time of Indendence social reformer and journalist Rajaram Mohan Roy arouse national awakening by writing his patriotic article and journals.Hindi journalist who has earned a name for his patriotism was Ganesh Shanker Vidyarthi. In 1913, he brought out weekly Pratap from Kanpur. In Bihar the tradition of national newspapers was carried forward by Sachidanand Sinha, who had started the publication of Searchlight under the editorship of Murtimanohar Sinha. Dev Brat Shastri started publication of ‘Nav Shakti and Rashtra Vani’. The weekly yogi and the Hunkar also contributed very much to the general awakening.

Giving so much details about the role of media in the Indian freedom movement is only intended to say that abovementioned names were those journalists and social reformers who never enjoyed the family comforts. They never ran after money or nurture the ghastly greed like todays’s journalists.  They were honest and did their job without any self interest Their mission was to rescue the India from the shackles of British Rule through newspapers. They never aspire to get a plump post with the newspapers. They only served the words and the newspapers.

Lastly, India got her Independence and we the Indian too. But we can see what happened with our journalists and media houses. They never tried to take the lesson from those great persons. We can see media have become the tools of money minting machine. Newsprints come out in form of pamphlets praising a politician in the election.  There is complete lack of journalistic ethics. Everywhere is looting in the name of planted news. Contents are being sold out to politicians in the name of package. Every media house is indulged in the plundering of money in the name of Media Marketing Initiatives by offering packages to the corrupt and moron politicians. Journalists have become so greedy that they can go to any extent for news bargaining. Gives and takes policy has touched the zenith in media. Pimp culture has gripped the entire media industry. Few pimps masquerading as a senior journalists (read editors) protecting the managements put the excuse that huge investments in a media house is only aimed at huge profit. They argue huge investments are not made for journalistic ethics. ‘Perform’ at any cost or ready to be fired. They even say today markets control everything. Right from a person choice to a woman wish to media news.They shamelessly even say if we don’t earn the revenue by advertisements (even Titanic K2, Japani Tel and Sahdaha ka Tel like ads are printed on front page) there is not need to publish a newspapers.

I would like to say you that your bhadas4media is a portal which is like a fresh wind in the stinking environment of decaying journalism. I would also like to tell those bhaduwa type senior journalists who lick the boot and ready to get their arse fucked by the higher management that please change the society by positive journalism, protect the juniors and don’t run after package. Again I would like to say those bhaduwa type journalists that don’t show their so called mardanagi on your wife in the bedroom. Be a mard not eunuch. That money and posts are not forever. Don’t compromise with the post. Win the hearts of juniors and show them right path. Come out and fight for the human cause and nation building.

At last I would like to conclude it by saying that now there is a need to fight for corrupt journalism. Time has come now. We have to stop them for selling packages and to the politicians with a view to save our democratic system otherwise only those politicians will win the elections who purchase the package. Honest politicians will left far behind. And only media and corrupt politician will rule the nation. One will get the government advertisements and other will get the publicity. For stopping this malpractices we need an organization where we can share our thoughts with regard to positive journalism. I know bhadas4media is not enough. Only few journalists read this portal. Not whole nation. What about the masses who read the newspapers. They don’t know which news is sponsored or which news is planted. They trust the news and the newsmen sensing that how a reporter or  sampadak can be corrupt. It is we who know this.  So please Yashwant Ji try to form an organization to raise our voices against growing tradition of package selling. Please discuss with Prabhas Joshi, Haribans Ji and Alok Tomar and the like of many senior journalists to save the dignity of newspaper and our democratic structure..

With regards

Prashant Kumaar

09308752440

Email: cloudforu@gmail.com

‘आने वाला समय इन लोगों को क्षमा नहीं करेगा’

प्रिय भाई यशवंत जी, दैनिक जागरण और दैनिक भास्कर की हरियाणा चुनाव की कवरेज़ पर टिप्पणी पढने को मिली है. इन दोनों अख़बारों की फटेहाल जग जाहिर है. पैसे के नाम पर बिक जाना इनकी आदत है. पत्रकारिता जाये भाड़ में, इन की बला से. दूसरों को नैतिकता का सबक सिखाने वाले इन दोनों अखबारों पर प्रभाष जोशी जी का साया जरूर पड़ना चाहिए वेरना पूरे देश को ये दोनों मगरमच्छ खा जायेंगे… वैसे इनके पीछे चलने वाले भी कम नहीं हैं. देश की भावी पीढी इन दोनों अख़बारों पर लानत देगी एक दिन. दैनिक जागरण के नरेन्द्र मोहन पर आयी टिप्पणी भी सामयिक ही है.

जागरण के जालंधर यूनिट को स्थापित करने वाले संपादक राकेश शांतिदूत को जिस तरह से इस अख़बार ने निकाला था, वह भी कम निंदनीय नहीं था. बाद में जिस टीम ने इस अख़बार को स्थापित किया जिस में रोपड़ से रणदीप वशिष्ट, होशियारपुर से राजेश जैन, कपूरथला से कुलदीप शर्मा, लुधियाना से हरबीर भंवर और विनय राणा, उप समाचार संपादक सुशील खन्ना आदि को अब चलता किया जा चुका है. अमृतसर से अशोक नीर और सुशील खन्ना अपने अपने साधनों से इसी अख़बार से अभी तक इसलिए जुड़े हुए हैं कि उनके पास दूसरा कोई आप्शन ही नहीं है.

मेरा नाम भी अख़बार के जालंधर यूनिट की संस्थापक टीम में रहा है. निशिकांत ठाकुर नाम के मुख्य महाप्रबंधक के पद पर विराजमान शख्स ने अपने एक भांजे को एडजस्ट करने के लिए मेरा तबादला कर दिया. उन दिनों मेरे माता-पिता का एक एक्सीडेंट के बाद इलाज चल रहा था. मेरे पास नौकरी छोड़ देने के इलावा कोई चारा नहीं था. परिवारवाद का शिकार हो चुके इस अख़बार पर जिन लोगों ने टिप्पणी दी है उसमे कोई कही अतिशयोक्ति नहीं है. ये दोनों अख़बार इस समय पत्रकारिता के लिए चुनौती बन चुके हैं और आने वाला समय इन लोगों को कभी क्षमा नहीं करेगा.

धन्यवाद.

ऋषि नागर

Editor

Day Night News

Surrey, British Columbia, Canada.

 

‘टिप्पणी करना वैचारिक स्वतंत्रता का हिस्सा’

प्रिय चन्दन जी, सादर अभिवादन, आपका पत्र पढ़ा। शायद आप दैनिक जागरण की ही संतति हैं। पहले आपको स्पष्ट कर दूं, अगर नरेन्द्र मोहन का जन्मदिन सिर्फ दैनिक जागरण मनाता तो मुझे कोई आपत्ति नहीं थी। इस बहुरुपिये अखबार ने पूरे देश को जन्मदिन मनाने के लिए मजबूर किया। और तो और, नरेन्द्र मोहन की क्षीण होती स्मृतियों को स्थायित्व देने के लिए हमेशा की तरह गेम प्लान किया। आपको ये भी स्पष्ट कर दूं,  दैनिक जागरण की नीतियों से असहमति की वजह मेरा पूर्वाग्रह नहीं, मेरी अपनी सोच है जो इस अखबार की कलाकारी और गैर-अखबारी चरित्र की वजह से और भी स्थायी  होती जा रही है।

मेरा मौजूदा विरोध उस तरीके पर है जिस तरह से जन्मदिन मनाया गया। अखबार जागरण समूह का है। लेकिन पाठकों को क्या पढना है और क्या पढाया जाए, इस पर टिप्पणी करना वैचारिक स्वतंत्रता का हिस्सा है। और ये काम मैं बार-बार करता रहूँगा। आपको शायद कोई ग़लतफ़हमी हुई है या मेरे बारे में आपने जिन स्रोतों और मेरे मित्रों से पता किया है वो अल्पज्ञ हैं। मैं आपकी तरह जागरण जैसे किसी भी अखबार के कारखाने की पैदावार नहीं हूँ और मेरे लिए ये गर्व का विषय है। जिस वक़्त दैनिक जागरण ने पूर्वांचल में सांस लेना ही शुरू किया था, उस वक़्त से मैं स्वतंत्र रूप से लिख रहा था और खूब लिख रहा था। हां, ये सच है कि मैंने अपनी आर्थिक विवशताओं की वजह से जागरण में नौकरी की थी। मगर क्यूं छोड़ दिया, अगर आपको ये पता चलेगा और आपमें अपने पेशे के प्रति दोगलापन नहीं होगा तो आप भी जागरण अखबार से तत्काल त्यागपत्र दे देंगे। जागरण छोड़ने की वजह भड़ास4मीडिया पर मौजूद है। लिंक पर क्लिक करें और पढें- ‘गैंग रेप, प्रेस, पुलिस और नेता’

आपका 

आवेश तिवारी

पत्रकार

awesh29@gmail.com

‘उनका हर ऐब भी जमाने को हुनर लगता है’

दयानंद पांडेयबहुत महीन है अखबार का मुलाजिम भी : अभी किन्हीं सज्जन की पतिव्रता टाइप टिप्पणी पढ़ी। जो मुझे भाषा की मर्यादा समझाने में लथ-पथ हैं। गोस्वामी तुलसीदास जीवित नहीं हैं अभी। अगर होते तो ऐसे पतिव्रता टाइप टिप्पणीबाज उन्हें ही हजारों सलाह देते कि ‘मरे हुए रावण को राक्षस क्यों लिख रहे हैं? अरे, आप तो सीता का हरण भी मत लिखिए। यह सब नहीं लिखना चाहिए। समाज पर बहुत गलत असर पड़ेगा, वगैरह-वगैरह।’ बता दूं कि मैंने कभी जागरण में नौकरी नहीं की। लेकिन क्या जरूरी है कि अमेरिका की दादागिरी को जानने के लिए अमेरिका में जा कर रहा भी जाए? या उसका शिकार होकर ही उसकी दादागिरी को बताया जा सकता है? मैं यहां कुछ छोटे-छोटे उदाहरण देकर इन सती-सावित्री टाइप, पतिव्रता टाइप टिप्पणीबाजों को आइना दिखाना चाहता हूं। लखनऊ में एक जमाने में बहुत ही प्रतिष्ठित अखबार हुआ करता था- स्वतंत्र भारत। उसके एक यशस्वी संपादक थे अशोक जी। उनको एक बार मर्यादा की बड़ी पड़ी तो उन्होंने एक फरमान जारी किया कि जिस भी किसी का नाम अखबार में लिखा जाए, सभी के नाम के आगे ‘श्री’ जरूर लिखा जाए।

सबको सम्मान दिया जाए। संपादकीय सहयोगियों ने ऐसे ही लिखना शुरू किया। सम्मान देना शुरू किया। जैसे, ‘श्री कालू राम पाकेटमारी में पकड़े गए’, ‘श्री अब्दुल अंसारी हत्या में गिरफ्तार हुए’, ‘श्री राम चरण जी बलात्कार में गिरफ्तार कर जेल भेजे गए’, ‘श्री गंगाराम छेड़खानी में धरे गए’, वगैरह-वगैरह। यह सब देखकर संपादक जी का गुस्सा सहयोगियों पर उतरना स्वाभाविक था। बोले- ‘यह क्या हो रहा है कि अपराधियों को भी ‘श्री’ लिखा जा रहा है? उनको सम्मान दिया जा रहा है?’ सहयोगियों ने उन्हें बताया कि यह तो आपका ही आदेश है। लिखित है। संपादक जी झुंझला गए और अपना वह आदेश तुरंत निरस्त कर दिया।

दूसरा उदाहरण। खुशवंत सिंह ने अपनी आत्मकथा में एक जगह लिखा है कि जब वह हिंदुस्तान टाइम्स में संपादक होकर गए तो केके बिड़ला से कहा कि अखबार में सरप्लस स्टाफ बहुत है और यहां मुस्लिम कोई नहीं है। कुछ मुस्लिम रखने होंगे और सरप्लस स्टाफ को हटाना होगा। तो केके बिड़ला ने खुशवंत सिंह से दो टूक कहा कि स्टाफ आपको जितने और रखने हों, जैसे रखने हों, रख लीजिए, पर निकाला कोई नहीं जाएगा।

पर जनाब अपने नरेंद्र मोहन जी? स्टाफ रखने ही नहीं देते थे, ताकि निकालने वगैरह की झंझट ही ना हो। जो रखे भी जाते, उनमें ज्यादातर वाउचर पेमेंट पर होते। श्रम कानूनों की अखबारों में अब तो हर जगह धज्जियां उड़ाई जाती हैं पर अपने आदरणीय नरेंद्र मोहन जी ने यह सब तीन दशक पहले ही शुरू कर दिया था। श्रम कानून जैसे उनका जरखरीद गुलाम था। उनकी इस अदा की हवा कइयों ने कुछ एक बार निकाली भी। जैसे गोरखपुर में सुरेंद्र दुबे ने। वह वहां प्रभारी थे। अखबार लांच किया था। अखबार को जमाया था। पर अपमान की जब पराकाष्ठा हो गई तो वह सिर उठाने लगे। मर्दानगी दिखाने लगे। उन्हें चलता कर दिया गया। पर जाते-जाते उन्होंने एक काम किया। कुछ लोगों को नियुक्ति पत्र थमा गए। इनमें कई वकील थे। इन सबों ने मुकदमें में रगड़ दिया। हारकर जागरण प्रबंधन को सबसे समझौता करना पड़ा।

ऐसा ही राम दरश त्रिपाठी ने भी भवन के एक मामले में किया। रसगुल्ला घुमा दिया। इनके गुंडों की फौज खड़ी ताकती रह गई। यह मामला कुछ इस प्रकार था। गोरखपुर के तत्कालीन जिलाधिकारी ने आज और जागरण अखबारों को लड़ाने के लिए एक ही बिल्डिंग एलाट कर दी। आज को पहले से एलाट था। बाद में जागरण को भी कर दिया। जागरण ने उस पर कब्जा ले लिया। बाद में आज वाले हाईकोर्ट गए। हाईकोर्ट के एक आदेश का हवाला देते हुए तत्कालीन यूनिट हेड राम दरश त्रिपाठी ने बिल्डिंग पर आज को लिखित में कब्जा दे दिया और अपनी पूरी टीम सहित जागरण से इस्तीफा दे दिया। खुद समेत सभी को आज का हिस्सा बना लिया। विनोद शुक्ला और उनकी टीम के गुंडे आकर हाथ मलते रह गए। नरेंद्र मोहन तिलमिला कर रह गए। ये लोग कुछ कर नहीं पाए। राम दरश त्रिपाठी ने यह तब किया जब कि वे खुद कोई तीन दशक से जागरण परिवार के कानूनी सलाहकार के तौर पर जुड़े रहे थे।

लखनऊ में राजेश विद्रोही थे। उन्होंने भी जागरण में कुछ दिनों गुजारे थे। बहुत अच्छी गजलें लिखते थे। पर काम में कभी कोई गल्ती होती और जो कोई टोकता तो वह इस्तीफा लेकर खड़े हो जाते। बहुत मान-मनौव्वल पर मानते। आजिज आकर एक बार सहयोगियों ने यह समस्या उठाई विनोद शुक्ला के सामने। उन्होंने कहा कि अब जब कभी ऐसी बात हो तो हमें बताना। जल्दी ही वह मौका आ गया। राजेश विद्रोही ने इस्तीफा दिया तो लोगों ने विनोद शुक्ला को बताया। वह अपने कमरे से बाहर आए। हाथ जोड़कर कहा कि भैया विद्रोही, इस्तीफा वापस ले लो। विद्रोही और अड़ गए। विद्रोही का विद्रोह और प्रखर हो गया। बोले, नहीं भैया, अब तो इस्तीफा दे दिया है। भैया ने फिर हाथ जोड़ा और कहा कि यार, इस्तीफा वापस ले लो नहीं तो हमारी नौकरी चली जाएगी। विद्रोही और भड़के- नहीं, नहीं, इस्तीफा दे दिया है अब तो। और विनोद शुक्ला फिर बोले, मेरी नौकरी चली जाएगी। सहयोगियों ने पूछा कि भैया, विद्रोही के इस्तीफे से आपकी नौकरी कैसे चली जाएगी? भैया बोले- अरे, इस साले को अप्वाइंटमेंट लेटर तो दिया नहीं है और यह फिर भी इस्तीफा दे रहा है। ले लूंगा तो नौकरी नहीं चली जाएगी? फिर उन्होंने अपनी रवायत के मुताबिक विद्रोही से कहा कि उधर मुंह करो। विद्रोही ज्यों पीछे की तरफ मुड़े, विनोद शुक्ला ने उनकी पिछाड़ी पर कस कर लात मारी और कहा- फिर यहां दिखाई मत देना। अब ना ही विनोद शुक्ला हैं इस दुनिया में, ना ही राजेश विद्रोही।

तो अब भी कुछ कहना शेष हो तो बताएं ये पतिव्रता टिप्पणीबाज? उनके लिए अंजुम रहबर के दो शेर खर्च करने का मन हो रहा है-

इल्जाम आइने पर लगाना फिजूल है,

सच मान लीजिए चेहरे पर धूल है।

हां, फिर भी लोग हैं कि चारण गान में लगे ही रहते हैं तो यह उनका कुसूर नहीं है। अंजुम रहबर का ही दूसरा शेर सुनिए-

जिनके आंगन में अमीरी का शजर लगता है,

उनका हर ऐब भी जमाने को हुनर लगता है।

एक किस्सा और-

बात बहुत पुरानी है। एक समय, जनसत्ता के जमाने में, इस किस्से को राजीव शुक्ला ही बड़े मन और पन से रस ले लेकर सुनाते थे। दिल्ली में जागरण के एक संवाददाता थे। किसी बात पर निकाल दिए गए। उन दिनों टेलीग्राफिक अथारिटी से खबरें भेजने का चलन था। संवाददाता के पास वह टेलीग्राफिक अथारिटी पड़ी रह गई। एक दिन उन्होंने देर रात इसका दुरुपयोग करते हुए हिंदी के प्रसिद्ध कवि सोहन लाल द्विवेदी के निधन की एक डिटेल खबर बनाकर भेज दी। और गजब ये कि जागरण, कानपुर ने लीड बनाकर छाप भी दिया। कानपुर में आकाशवाणी के तब जो संवाददाता थे, वह और आगे की चीज थे। तड़के ही उन्होंने जागरण देखा तो आव देखा ना ताव, झट से खबर दिल्ली रवाना कर दी। अब आकाशवाणी के मार्फत पूरा देश जान गया सुबह-सुबह छह बजे कि सोहनलाल द्विवेदी नहीं रहे। जल्दी ही राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री वगैरह के शोक संदेश का तांता लग गया। गजब यह कि सोहनलाल द्विवेदी उस दिन कानपुर में ही थे। वह हैरान-परेशान। तब उन्हें राष्ट्र कवि कहा जाता था। वह जीवित थे और देश में उनके लिए शोक की लहर दौड़ रही थी। अजब था। वह जागरण पर धरना देकर बैठ गए, जैसा कि राजीव शुक्ला बताते थे। बाद में आकाशवाणी ने उस खबर पर अफसोस जताया।

खैर, किस्से तो ऐसे बहुत हैं, बहुतों के।

मित्रों, कुल मिलाकर बताना यही चाहता हूं कि आप किसी को सम्मान देकर ही उससे उसका बेस्ट ले सकते हैं। अपमानित करके नहीं। आदमी काम तो करेगा, नौकरी तो करेगा, अपना बेस्ट चाह कर भी नहीं दे सकेगा अपमानित होकर।

ऐसे में दोस्तों, फिर राजेश विद्रोही जैसे लोग याद आते हैं। राजेश विद्रोही के ही एक शेर पर बात खत्म करने को मन कर रहा है-

बहुत महीन है अखबार का मुलाजिम भी,

खुद खबर है पर दूसरों की लिखता है।

और क्या कहूं अपने नादान दोस्तों से?

आपका

दयानंद पांडेय

लखनऊ

dayanand.pandey@yahoo.com

09335233424

‘जो चला गया, उस पर टिप्पणी ठीक नहीं’

यशवंत, काफी दिन के बाद किसी बयान पर लिख रहा हूँ. यह अलग बात है कि प्रेस आने के बाद रोजाना के काम निबटाने के बाद भड़ास भी देखना एक काम जैसा हो चुका है. आज आवेश तिवारी और दयानन्द पांडेय पर लिखने का मन है. दोनों लोग अपनी जगह ठीक हैं. क्योंकि जब अखबार के किसी मरे हुय मालिक की पुण्यतिथि आती है तो भाई लोग, छ्पासी लोगों को पकड़ कर या फिर अपने आप ही उनके बयान छाप देते हैं. वैसे जो इस दुनिया से चला गया, उस पर टीका-टिप्पणी करना अच्छी बात नहीं है. लेकिन जब बात चल ही चुकी है तो जैसे हाथी के दाँत दिखाने के और खाने के और, वाली कहावत मीडिया वालों पर सटीक बैठती है. नरेन्द्र महोन भी उनमें से एक थे. वो स्टेज पर कुछ कहते थे और दफ्तर में पूरे लाला होते थे.

मुझे भी उनके अखवार में नौकरी का मौका मिला. अमर उजाला से ईमानदारी और निष्पक्षता सीख चुका था. 1989 में शरद यादव खाद्य मंत्री बने. जब वो अपने चुनावी इलाके बदायूं, (उत्तर प्रदेश का एक जिला) से मंत्री हो कर पहली दफा चुनाव क्षेत्र गए तो कवरेज के लिए अपन अपन भी उनके साथ थे. बिल्सी में एक माफिया के घर उनकी दावत हुई. अपन ने आदत के मुताबिक दावत देने वाले के बारे में लोगों से बात की और मुख्य स्टोरी के साथ बॉक्स में लोगों की बात लिख डाली. छापने से पहले लोकल एडिटर बच्चन सिंह को वो सब सुनाया और दिखाया. वे इस बारे में बहुत दरियादिल इनसान रहे हैं, पता नहीं आजकल कहां हैं. वो ख़बर अगले दिन लगी. इसके बाद शरद ने एक नोटिस भिजवा दिया लाला और हम सब को. तब अपन को फरमान सुनाया गया कि खंडन छाप दो. बच्चन सिंह जी ने इस मामले में अपन से कहा कि देखो, लाला रोज़ बदायूं कोर्ट तो नहीं आ पायेगा. हम लोग तो झेल लेंगे. अपन ने बोला कि सब ठीक है, डरने की बात नहीं है, अपन ने पूरे सरकारी आंकड़े जुटा लिए हैं. यही बात अपन ने मंत्री के एक चमचे से भी कही तो बाद में नेता जी शांत हो गये, लेकिन नरेन्द्र जी ने जब-जब अपन से बात हुई तब-तब यही कहा कि नेताओं पर ऐसे मत लिखा करो. यह बिलकुल सही है कि उनके जमाने में ही जागरण में स्ट्रिंगर की प्रथा शुरू हुई.

-संजय पाठक

जर्नलिस्ट, देहरादून

sanjaypathak5@webdunia.com

‘हमारे रिपोर्टर से कोई बड़ाई नहीं लिखवा सकता’

प्रिय यशवंत जी, ‘इन अखबारों पर थूकें ना तो क्या करें‘ पढ़ा। सही कहा है आपने। ये पत्रकारिता के लिए काफी शर्म की बात है। पर हमने ऐसा नहीं किया है। हमारे अखबारों को जो विज्ञापन मिल रहा है, उसको हम भी छाप रहे है। लेकिन हमारे किसी रिपोर्टर से कोई भी इस तरह से अपनी बड़ाई नहीं लिखवा सकता है। भले ही हम जागरण-भास्कर नहीं हैं, फिर भी हम अपनी मर्यादायों की पालन कर रहे हैं।

जब मैं इससे पहले बंगाल में था, तो वहां भी प्रभात खबर ने इस तरह का कार्य नहीं किया था। देश के बड़े पत्रकरों को इस मामले में गंभीरता से सोचना चाहिए। नहीं तो हमारी ही बनाई गयी दुनिया में हमको ही ये नेता जी लोग अफसरों के सहयोग से जीने नहीं देंगे।

उदय शंकर खवारे

न्यूज़ एडिटर, डेली अभी-अभी

रोहतक

udayshankarkhaware@gmail.com

‘अब खुद मालिक बाजार में खड़ा है’

यशवंत भाई, मीडिया के चारित्रिक पतन के लिए हमें केवल मालिकों पर ही दोष नहीं थोपना चाहिए। इसकी जड़ में जाना होगा। हां, यह सही है कि कुछ मीडिया घरानों ने पत्रकारिता को बेचने का भौंडा तरीका अपनाया है। पर अब भी अधिकतर अखबार इससे परहेज कर रहे हैं। जो अखबार इस गंदगी से दूर अपने पत्रकारों की अस्मिता को बचाने में जुटे हैं, उनके मालिक ही नहीं, संपादकीय प्रबंधन भी प्रसंशनीय हैं, और मैं ऐसे संपादकीय प्रबंधन तथा मालिकों को सल्यूट करता हूं, क्योंकि आर्थिक मंदी की मार उन पर भी है। मगर जो अखबार पत्रकारिता को हर मोड़ पर बेचने को उतावले हैं, उसका भी एक कड़ुआ सच है।

इन अखबारों के मालिकों को कलम (अब कीबोर्ड) बेचने और अपने पत्रकारों को वेश्या बनाने की सलाह भी बार-बार उन संपादकीय प्रबंधन ने दी जो हमारे बीच ही आस्तीन का सांप बने रहकर पत्रकार होने का दंभ भरते हैं। वजह साफ है, कि उन्हें भारी-भरकम वेतन भत्ते चाहिए। उन्हें कोई मतलब नहीं कि कितने ही अन्य लोगों की आत्मा मरे, उन्हें तो आत्मा ही बेकार की चीज लगती है। वो संपादकीय स्टाफ के खर्चे में कटौती और मौजूदा स्टाफ से कमाई कराने के तरीके नियमित बैठकों में मालिकों को सुझाते रहते हैं। जो ऐसे जितने तरीके सुझाता है, उसे उतना ही फायदा होता है। मालिक का संकट यह है कि उसे मोटी सेलरी वाले कारपोरेट कल्चर के मैनेजरों के साथ संपादक भी चाहिए। इनकी सेलरी और पार्टियों के लिए बजट कहां से आएगा? सो मार्केटिंग वाले ही क्यों, पत्रकार भी कमा कर लाएं! पहले कुछ पत्रकार बिक जाते थे, मगर अब नौकर को खरीदने की जरूरत ही नहीं रही, क्योंकि मालिक बाजार में खड़ा है।

सधन्यवाद!

अजय शुक्ला

चंडीगढ़

अरे भइया, ये इज्जत कौन चिड़िया का नाम है?

यशवंत भाई, आपसे भलीभांति परिचित हूं। आप भी मुझे बखूबी जानते हैं। एक लेख भेज रहा हूं। पहचान गुप्त रखने की गुजारिश करता हूं। लेख को पढ़ें। चाहत है कि मौजूदा दौर और आने वाली पत्रकारिता की कौम आज की मीडिया से वाकिफ हो। यहां फैले व्यापारिक एकाधिकार को जाने। यदि संभव हो तो कृपया बहुचर्चित और मीडिया को समर्पित भड़ास4मीडिया के संजाल में इसे जगह दे। यथासंभव कोई त्रुटि रह गई हो तो संपादित करने का पूर्णाधिकार आपको है।


 अरे भइया, ये इज्जत कौन चिड़िया का नाम है?

मीडिया की यह गंदी सी मंडी है और यहां हम सब रंडी हैं। मतलब साफ है- पैसा फेंको और तमाशा देखो। बड़े ख्वाब संजोए, पत्रकारिता का इतिहास पढ़ा, विश्व प्रसिद्ध पत्रकारों और महापुरुषों की जीवनियां घोटीं, रिपोर्टिंग का ककहरा सीखा और फिर पत्रकारिता एवं जनसंचार में परास्नातक की तालीम ली। मकसद केवल एक, समाज को एक नई दिशा देनी है, भ्रष्टाचार को जड़ से मिटाना है, स्वर्णिम इतिहास की एक नई इबारत को खुद अपनी ही कलम से लिखना है। … और खोजबीन, तहकीकात, मेलमिलाप करके ऐसी धांसू खबरें लिखनी है ताकि लोग सफेद पर्दे के पीछे की काली हकीकत से रूबरू हो सकें।

फिर क्या था, मन में पत्रकारिता के उमड़ते कीड़े, आंखों में देश के सुनहरे भविष्य के सपने और खुद को एक उम्दा पत्रकार बनाने का जुनून ऐसा चढ़ा कि लगा दी मीडिया के गहरे और अथाह सागर में छलांग। जवानी का जोश और उसके साथ खुदी को बुलंद करने का ईरादा लेकर एक नौकरी की तलाश शुरू कर दी।

शुरुआत की कानपुर से। सुबह से शाम तक कानपुर, लखनऊ में जूते घिसे। गर्मियों की तपती दोपहर में नौकरी की तलाश करते-करते यह इरादा भी पक्का करता गया कि आदर्शों से समझौता नहीं करूंगा। खैर, किस्मत शायद बुलंद थी। तीन माह बाद नौकरी मिल गई। देश के नंबर वन अखबार में। 15 दिन काम करने के बाद पता चला कि माह में केवल तीन हजार रुपये ही पगार मिलेगी। सुबह नौ से रात ग्यारह बजे तक काम करना पड़ेगा। लेकिन इतना खर्च तो केवल मेरे स्कूटर का पेट भरने में ही चला जाता, बाकी दिन भर टनटनाने वाले मोबाईल फोन और धुएं के आदी हो चुके फेफड़ों और पापी पेट के लिए एक ढ़ेला नहीं मिलना था। सो छोड़ दिया नंबर वन का ब्रांड और फिर तलाश शुरू कर दी। किस्मत फिर अच्छी थी, नंबर चार के अखबार में नौकरी की बात पक्की हो गई लेकिन उनकी एक शर्त ने फिर इरादे को डगमगा दिया।

उस अखबार के स्थानीय संपादक को एक मीठी गोली देकर कुछ वक्त बाद वापस आने को कह निकल पड़ा फिर उसी तलाश में। इस बार मित्रों के आग्रह पर नोएडा आ गया। किस्मत शायद कदमों से कदम मिलाकर चल रही थी। आने के दूसरे दिन ही नंबर तीन के राष्ट्रीय अखबार के संपादक से साक्षात्कार संबंधी बात की। उन्होंने बुलाया, साक्षात्कार दिया, दो-चार बार फिर बुलाया, समझा और फिर दो दिन बाद फोन करने के लिए कहा। समय के पाबंद संपादकजी ने आखिरकार नौकरी दी। पगार और खर्चे भी अच्छे थे। संयोग और किस्मत देखिए जनाब कि मन की नौकरी लेकर दफ्तर से बाहर निकला तो नंबर चार वाले अखबार के संपादक का फोन आया और उन्होंने पूछा कि क्या हुआ अभी तक आए नहीं? उन्हें बुरा न लगे और संबंध भी खराब न हो इसलिए हकीकत बताई और कहा गुरुजी मन की नौकरी है और कोई शर्त भी नहीं, आपके यहां इतनी छूट नहीं थी। इसलिए माफ कर दीजिएगा। उन्होंने आर्शीवाद दिया।

बस अगले दिन से पत्रकारिता शुरू। जाड़े के दिनों में पत्रकारिता की शुरुआत हुई लेकिन जोश और जुनून की गर्मी के कारण कड़ाके की ठंड में भी कभी-कभी टी-शर्ट पहन कर दफ्तर पहुंच गया। दी गई बीट भी मन की थी और समाज सुधार का रास्ता भी इसके जरिए बखूबी पूरा होता इसलिए और ज्यादा जज्बात उमडऩे लगे। मिशन शुरू कर दिया था। तीसरे दिन से ब्यूरो चीफ भी खबरों की तारीफ करने लगे। लेकिन ब्यूरो में वाहवाही लूटने वाली खबरें अखबार में अगले दिन शायद सफेद स्याही से छाप दी जातीं और कई दिनों तक साधारण खबरों के अलावा विशेष खबरों को अखबार में देखने को तरस गया। कई दिनों तक मन में चल रही उहापोह की स्थिति से खुद को बाहर निकाल करीब दस दिनों बाद जब न रहा गया तो पूछ ही बैठा, गुरु जी। क्या बात है? कहीं आप खबरों को मजाक में ही तो अच्छा नहीं कहते? उन्होंने हंसते हुए कहा नहीं। मैंने तुरंत अगला सवाल दाग दिया तो फिर खबरें क्यों नहीं छपती? उन्होंने फिर मुस्कुराते हुए कहा कि चिंता मत करो, छपने लगेंगी। खुद को असंतुष्ट पा फिर तीसरा सवाल तीर की तरह छोड़ा तो क्या खबरें लिखने का तरीका बदलना पड़ेगा? उन्होंने फिर धीमे से मुस्कुराते हुए कहा कि नहीं अखबार का तरीका समझना पड़ेगा। कुछ बात समझ में आ गई। अखबार को समझते हुए और खुद की बात भी कहते हुए खबरें लिखना शुरू किया, काली स्याही से छपी खबरें अखबार में दिखनी शुरू हो गईं और सिलसिला चल पड़ा।

…लेकिन कुछ माह में ही लगने लगा फिर उस मिशन का क्या हुआ, क्या होगा? सोच में पड़ गया और अखबार के कलेवर और खुद के तेवरों की खिचड़ी बना लिखने लगा और छपता रहा। करीब दो साल गुजर गए। लेकिन इस बीच कई बार मन को लगा कि जिस भी संस्थान, प्रतिष्ठान में गया वहां पत्रकार की इज्जत केवल उसी दिन होती थी जिस दिन उनके यहां कोई कार्यक्रम, समारोह या महोत्सव आयोजित किया जाता था। लेकिन ये सभी प्रतिष्ठान भी चुनिंदा थे और अखबार के व्यावसायिक हितों को पूरा करते थे।

शायद मैं नया था इसलिए कई बार इस हकीकत को जानते बूझते भी दरनिकार कर दिया कि नहीं गलती से हो गया होगा। लेकिन अब तीन सालों से भी ज्यादा का वक्त हो गया है। वही क्षेत्र है वही लोग हैं और वही बीट है। पर इज्जत नाम की चिडिय़ा न जाने उड़ कर कहां गुम हो गई है। अखबार के व्यावसायिक हितों की पूर्ति मेरे पत्रकारिता मिशन में रोड़ा बन जाती है। इस जगह से विज्ञापन आता है, खबर को बड़ी बना देना, यहां के निदेशक मित्र हैं इसलिए फोटो भी भेज देना, इस साल इस प्रतिष्ठान ने बढिय़ा विज्ञापन दिए हैं इसलिए इनकी खबरें बढिय़ा बनाकर भेजना, और इसके अलावा भी न जाने कितनी तरह की इच्छाएं रोज ऊपर वाले जाहिर करते रहे।

पर अब हद हो गई। विज्ञापन ने अखबार की आत्मा यानी पत्रकारिता पर कब्जा कर लिया है। पत्रकार को कतई आजादी नहीं कि किसी आयोजन में….

  1. यदि उससे आयोजक बदतमीजी कर देते हैं तो पत्रकार उस कार्यक्रम को अपने अखबार में जगह न दे।
  2. यदि पत्रकार को आयोजक गलत जानकारी देते हैं, झूठे आंकड़े देते हैं तो पत्रकार खुद से तहकीकात करके लाए सही आंकड़े खबर में दे।
  3. यदि पत्रकार किसी आयोजन को अखबार में स्थान पाने योग्य नहीं समझता है तो उसे न लिखे।
  4. यदि कहीं पर आयोजक आमंत्रण करने के बाद भी पत्रकार को बैठने के लिए नहीं कहता तो वह उस कार्यक्रम को छोड़ दे।
  5. यदि कहीं पर पत्रकार को आमंत्रित नहीं किया जाता तो भी वह आयोजन में न जाए।
  6. दूसरे अखबार में लिखी खबर पर पत्रकार से सवाल किए जाते हैं कि इसमें यह क्यों लिखा है।
  7. बड़ी विज्ञापनदाता पार्टी होने वाले प्रतिष्ठान द्वारा की गई समाज विरोधी गतिविधि को भी बिना नाम दिए छोटी खबर करके प्रकाशित कर दिया जाता है।
  8. पत्रकार को रिपोर्टिंग नहीं बल्कि मार्केटिंग करने के लिए कहा जाता है।
  9. कोई सटीक और बिल्कुल सही नकारात्मक खबर को रद्दी की टोकरी में डाल दिया जाता है।
  10. विज्ञापनदाता प्रतिष्ठान की महिमामंडित खबरों को बड़े ही सलीके से डिजाइन करके लगाया जाता है।
  11. पाठकों पर क्या प्रभाव पड़ेगा इसकी चिंता नहीं लेकिन मालिकों के मित्र हैं इसकी चिंता सबसे पहले करनी पड़ती है।
  12. ढेरों जगह आयोजन है लेकिन बैठना केवल एक जगह ही पड़ेगा क्योंकि यहां मालिकों के दोस्त मौजूद हैं।
  13. हजार लोगों के आयोजन में जहां नामी-गिरामी, विशेषज्ञ भी मौजूद हैं, केवल उन लोगों का ही साक्षात्कार और छायाचित्र लेना होगा जिन्हें संपादक या मालिक छपवाना चाहते हैं। बाकी सभी लोगों से अखबार को कोई सरोकार नहीं।
  14. पाठक जाए भाड़ में, बस संपादक-मालिक का उल्लू सीधा हो और उन भाई साहब का भी कॉलर ऊंचा हो जाए जिनका साक्षात्कार अखबार में छपा है।

शिकायतें और टीसें केवल यहीं खत्म नहीं होती। न जाने कितने और इनसे भी ज्यादा गहरे सवाल हैं लेकिन शायद अब बाहर नहीं निकल रहे। मेरा सवाल है उन संपादकों, अखबार-चैनल मालिकों और मीडिया के ठेकेदारों से है कि खुद के गिरेबान में आखिर एक बार क्यों नहीं झांकते? हकीकत से यह सब भी अच्छी तरह वाकिफ हैं लेकिन व्यावसायिक हितों की पूर्ति और ज्यादा कमाने का लालच, टीआरपी-आईआरएस की दौड़ में अव्वल आने का प्रयास, निजी स्वार्थों की पूर्ति के काले दलदल में यह सभी इतने धंस चुके हैं कि सफदे हकीकत इन्हें रास नहीं आती। यह भी अच्छी तरह जानते हैं कि आज भी पत्रकारिता के बल पर अखबार चलाए जा सकते हैं, टीवी चैनलों की टीआरपी बटोरी जा सकती है लेकिन नहीं, इन्हें इंतजार की आदत नहीं। मशीन की तरह इधर दे उधर ले वाला काम चाहिए। समाज को नित नए और भ्रामक स्लोगन से अपनी ओर आकर्षित करने वाले प्रमुख मीडिया हाऊसेज को शायद खुद से सवाल पूछने का समय आ गया है?

आपका

कुमार

(बदला हुआ नाम)

‘बीस बार थूका पर अभी मन नहीं भरा’

प्रिय यशवंत जी, आपकी हरियाणा के अखबार वाली रिपोर्ट पढ़कर मैंने बीस बार थूका. पर अभी मन नहीं भरा है. फिर थूकूंगा. आपको बताना चाहूंगा की हरियाणा सरकार के पब्लिक रिलेशन डिपार्टमेन्ट में कमिश्नर हैं के. के. खंडेलवाल. उसी पर आरोप है कि वह मुख्यमंत्री के इशारे पर हरियाणा के अखबारों को कंट्रोल करता है. इसके बदले वह उन्हें कई फायदे पंहुचाता है. आप यकीन नहीं करेंगे, उसी के घर पर खबरें लिखी जाती हैं तथा अखबारों को जारी कर दी जाती हैं. ये आदमी सरकारी नौकर है, पर उसके घर पर ही कांग्रेस पार्टी के लिए स्पेशल पेज बनते हैं.

ये मुख्यमंत्री का अतिरिक्त निजी सचिव भी है. इसका फायदा उठा कर पत्रकारों को परेशान करता है. चंडीगढ़ में सरकार की चापलूसी के लिए ‘संवाद’ नामक सोसाइटी पिछले साल बनायी गयी थी. उसका काम ही यही है कि अखबारों के लिए पूरे पेज बनाये तथा उन पर संवाददाता के नाम से खबरों के रूप में विज्ञापन छपे. बताया जा रहा है कि सौ करोड़ रुपये की ऐड सरकारी खजाने से जारी की गयी है. इन तथ्यों की आप जांच करा सकते है. खंडेलवाल के डर से लोग हुड्डा के खिलाफ खबरें नहीं लिखते क्योंकि ऐड बंद होने का भय रहता है. हरियाणा में हुड्डा सरकार वही कर रही है जो गुजरात में मोदी सरकार प्रेस का गला घोटने, अख़बारों को निष्पक्ष ढंग से खबरें न छापने देने के लिए कर रही है. अखबारों के इस्तेमाल के मामले में बीजेपी व कांग्रेस में कोई फर्क नहीं रह गया है.   

आपका   

शुभचिन्तक

अजय भार्गव  

इन अखबारों पर थूकें ना तो क्या करें!

दैनिक जागरण और दैनिक भास्कर जैसे मीडिया हाउसों ने इमान-धर्म बेचा : देवत्व छोड़ दैत्याकार बने : पैसे के लिए बिक गए और बेच डाला : पैसे के लिए पत्रकारीय परंपराओं की हत्या कर दी : हरियाणा विधानसभा चुनाव में दैनिक जागरण और दैनिक भास्कर जैसे देश के सबसे बड़े अखबारों ने फिर अपने सारे कपड़े उतार दिए हैं। जी हां, बिलकुल नंगे हो गए हैं। पत्रकारिता की आत्मा मरती हो, मरती रहे। खबरें बिकती हों, बिकती रहे। मीडिया की मैया वेश्या बन रही हो, बनती रहे। पर इन दोनों अखबारों के लालाओं उर्फ बनियों उर्फ धंधेबाजों की तिजोरी में भरपूर धन पहुंचना चाहिए। वो पहुंच रहा है। इसलिए जो कुछ हो रहा है, इनकी नजर में सब सही हो रहा है। और इस काम में तन-मन से जुटे हुए हैं पगार के लालच में पत्रकारिता कर रहे ढेर सारे बकचोदी करने वाले पुरोधा, ढेर सारे कलम के ढेर हो चुके सिपाही, संपादकीय विभाग के सैकड़ों कनिष्ठ-वरिष्ठ-गरिष्ठ संपादक।

इनके गले से विरोध की कोई बोली नहीं निकल रही है। कोई उफ तक नहीं कर रहा है। इन्हें कोई अव्यवस्था नहीं दिख रही है। पापी पेट के नाम पर ये ढेर सारे पापों के भागीदार बने हुए हैं। वैसे, बाकी दिनों में ये ही लोग पत्रकारिता पर ढेर सारा भाषण पिलाते नजर आ जाएंगे। कंधे उचकाते और खुद को देश-समाज का प्रहरी दिखाते दिख जाएंगे। व्यवस्था, नैतिकता और नियम-कानून की दुहाई देते हुए सैकड़ों उदाहरण और तर्क-कुतर्क पेश करने में क्षण भर नहीं लगाएंगे। फिलहाल ये चुप हैं, आंखें मूंदे हैं, क्योंकि इनके मालिक का सीजन है, सो इनका भी थोड़ा-बहुत सीजन है ही। शायद, कुत्ते और कुकुरमुत्ते कुछ इसी तरह के होते हैं।

दैनिक जागरण और दैनिक भास्कर। इन दोनों बड़े अखबारों के हरियाणा संस्करणों पर नजर डालिए।  इनका पैसे लेकर खबरें छापने का खुला खेल दिखने लगा है। दैनिक भास्कर ने एक फर्जी सर्वे के जरिए मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की जय-जयकार की है। पूरी खबर हमने नीचे दे दी है। इस खबर को पढ़ लीजिए। आपको उल्टी हो जाएगी। करोड़ों रुपये लेने के बाद फर्जी, प्लांटेड और पेड खबरों के जरिए किस तरह किसी को मक्खन लगाया जाता है, उपकृत किया जाता है, झूठ लिखा जाता है, यह जानना हो तो नीचे दी गई खबरों को पूरा पढ़िए। एक-एक लाइन पढ़िए। और फिर हंसिए या माथा पीटिए, ये आपकी मर्जी क्योंकि यह लोकतंत्र है, यहां सब कुछ करने की आजादी हर किसी को है। तभी तो मीडिया के नाम पर अखबार निकाल रहे सेठ लोग करोड़ों रुपये में सीधे-सीधे खबरों का सौदा कर दे रहे हैं और उनका कुछ नहीं बिगड़ रहा है। वे देश के महानतम हस्तियों में शुमार हैं। देश के प्रभावशाली लोगों में शुमार हैं। वे देश के भाग्यविधाताओं में गिने जाते हैं। पर हम आप अगर सिर्फ दो-चार झूठ भर बोल दें और पकड़ लिए जाएं तो हम अपराधी, पापी और देश विरोधी घोषित कर दिए जाएंगे। धन्य है अपन का लोकतंत्र, धन्य है अपन लोकतंत्र के चौथे खंभे।

कोई प्रभाष जोशी क्या कर लेगा इन मोटी चमड़ी के बनियों का। कोई ज्यादा चें-पों-चूं-चपड़ करेगा तो ये सारे बनिए मिलकर दे देंगे उसकी सुपारी। पर ये खुद न तो सुधरेंगे और न मानेंगे। इन्हें इतना पैसा कमाना है, इतना पैसा कमाना है, इतना पैसा कमाना है कि…. जाने कितना पैसा कमाना है। कमाओ भइया, खूब कमाओ। पर याद रखना। तुम लोगों का अखबार कभी देश की आजादी व आदर्श का हिस्सा था। यही अखबार अब देश को गुलामी की ओर ढकेलते जाने व आम जनता को पतित करते जाने का माध्यम बनता जा रहा है। जिनका काम झूठ और सच को अलग-अलग करके दिखाना-बताना-समझाना है, वे खुद झूठ के साथ खड़े होकर झूठ को सच की तरह पेश करने में लगे हैं।

यह स्थिति सिर्फ हरियाणा चुनाव में ही नहीं है। संग-संग महाराष्ट्र में हो रहे विधानसभा चुनाव में तो संपादकों के पास करने के लिए कुछ है ही नहीं। मालिकों ने सीधे तौर पर पोलिटिकल पार्टियों और प्रत्याशियों से डील कर लिया है। देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में किस कदर पैसा बहता है, यह सबको पता है। देश-विदेश की ब्लैकमनी राजनीतिज्ञों के पास है और ये राजनीतिज्ञ अपनी व अपनी पार्टी की जीत सुनिश्चित करने के लिए पानी की तरह पैसा बहा रहे हैं। महाराष्ट्र के ज्यादातर बड़े अखबारों ने पैकेज डील किया है। स्थानीय और केंद्रीय, दोनों स्तरों पर पैसे लिए गए हैं और बदले में उनकी सभाएं, भाषण, फर्जी विश्लेषण जमकर प्रकाशित किए जा रहे हैं। महाराष्ट्र के एक वरिष्ठ पत्रकार ने आपसी बातचीत के दौरान जानकारी दी कि इस वक्त अखबार अखबार नहीं रह गए हैं बल्कि नेताओं के पोस्टर व पंफलेट बन चुके हैं।

इन अखबारों को नेताओं की खाल खींचनी चाहिए थी। उनकी करतूतों और कमियों को जनता तक पहुंचाना चाहिए था। उनके अच्छे-बुरे को जनता के सामने पेश करना चाहिए था। उनके राज में हुए घपलों-घोटालों का विवरण देना चाहिए था। कागजी विकास और असली विकास पर खोजपरक रिपोर्टें पेश करनी चाहिए थी। इन नेताओं की संपत्तियों और उनकी नीतियों पर सवाल कर उन्हें कठघरे में खड़ा करना चाहिए था। मतलब, एक समुचित चौथे खंभे, समचुति विपक्ष, समुचित विश्लेषक का, समुचित शिक्षक का रोल निभाना चाहिए था। लेकिन ये सब भूल चुके हैं। इनकी आंख पर बाजारवादी व्यवस्था का रुपया-पैसा चढ़ा हुआ है। टर्नओवर बढ़ाते जाना है।

हरियाणा विधानसभा चुनाव के दौरान दो बड़े अखबारों में प्रकाशित दो खबरें नमूने के तौर पर पेश हैं। अगर आप पत्रकार हैं या संवेदनशील नागरिक हैं और इन खबरों को पढ़ने के बाद आपको लगे कि इन खबरों के नाम पर अच्छा-खासा पैसा इन अखबारों के मालिकों ने बनाया है और ऐसा करके इन लोगों ने चौथे खंभे के साथ विश्वासघात किया है, जनता के साथ छल किया है, पाठकों के साथ धोखा किया है, तो आप अपनी भड़ास निकालने के लिए इन अखबारों का नाम लेकर अपने अगल-बगल की डस्टबिन में या सड़क पर या वाश बेसिन में या किसी भी उचित जगह जरूर थूक दें।

संभव है, इन थूकों के जरिए हम लोग दूर बैठे-बैठे ही इन अखबारों के मालिकों के पैसे कमाने की खातिर विकृत हो चुके मन का टेलीपैथी के जरिए उपचार कर सकें। कहते हैं न, कई बार कई लोगों के लिए श्राप भी वरदान बन जाता है।

– यशवंत

एडिटर

भड़ास4मीडिया

yashwant@bhadas4media.com


बुजुर्गों के मान सम्मान से मिलेगा सबका आशीर्वाद

सर्वे में कांग्रेस से खुश नजर आए बुजुर्ग

 

हरियाणा. देश में हरियाणा के ताऊ की संज्ञा लिए हुए प्रदेश का बुजुर्ग मतदाता इस विधानसभा चुनाव में पेंशन नीति से खुश नजर आ रहा है। इस वजह से उसका झुकाव मौजूदा सरकार की ओर दिख रहा है। सीनियर सिटीजन नीति से सम्मानित महसूस दैनिक भास्कर, चंडीगढ़ में 9 अक्टूबर को पेज दो पर प्रकाशित खबरकर रहे बुजुर्ग महिलाओं और पुरुषों का यह रुझान चुनावी सरगर्मियों के बीच एजेंसियों द्वारा प्रदेश में किए गए सर्वे में सामने आया है। सर्वे एजेंसियों का मुख्य लक्ष्य प्रदेश के गांवों की चौपाल थी। हालांकि यह सर्वे शहरों में बने सीनियर सिटीजन क्लबों व वरिष्ठ नागरिकों के अन्य समूहों में भी किया गया। सर्र्वे में यह बात सामने आई कि बुजुर्ग इस बात से भी खासे उत्साही हैं कि प्रदेश में राहुल फैक्टर और अन्य के कारण युवा कांग्रेस की ओर झुके हैं। इस सर्वे में बजुर्गों से एक परफोर्मा भरवाया गया, जिसमें प्रदेश में रही सभी सरकारों द्वारा बुजुर्गों के सम्मान के लिए कार्यों के बारे में कुछ प्रश्न थे। 90 फीसदी से ज्यादा बुजुर्गों ने कहा कि बुढ़ापा पेंशन शुरू करके स्व. ताऊ देवीलाल ने बुजुर्गों को कुछ सम्मान देने का प्रयास किया था, लेकिन उनकी नीति को उनके ही वारिस भूल गए।

बुजुर्गों ने कहा कि जो सम्मान उन्हें मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के राज में मिला, उतना न तो उन्होंने सोचा था और न ही पहले किसी ने दिया। बुजुर्गों के व्यक्तिगत अनुभव वाले कालम में कुछ ने लिखा कि हुड्डा सरकार से पहले जब वह पुलिस के पास जाते थे तो उनसे पुलिस के अçधकारी व कर्मचारी बिना सिफारिश के बात तक नहीं करते थे लेकिन इस सरकार ने पुलिस विभाग में भी नोडल सेल की तर्ज पर सीनियर सिटीजन सेल बना दिए। एक बुजुर्ग ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा की इस नीति के बाद उन्हें सम्मान का तब अहसास हुआ, जब एक दिन उसके बेटे ने उसे घर से निकाल दिया। किसी दोस्त ने उसे सीनियर सिटीजन सेल का नंबर दिया तो उसने संपर्क किया। इसके बाद पुलिसवालों ने उसे थाने नहीं बुलाया, बल्कि कुछ ही मिनटों में पुलिस की गाड़ी से मृदुभाषी अफसर उतरे और उसे घर ले गए। इसके बाद उसके बेटे ने उसे कभी तंग नहीं किया।

एक कालम में जब बुजुर्गों से विधानसभा चुनाव की हवा के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बताया कि यह तो कुछ ही दिनों में सबके सामने स्पष्ट नजर आ जाएगा, लेकिन ऐसा मुख्यमंत्री उन्होंने पहली बार देखा है। बुजुर्गों ने कहा कि जब मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने प्रदेश के हर बुजुर्ग को अपने पिता स्वगीüय रणबीर हुड्डा के समान समझा है तो वह भी उसे इस चुनाव में अपना आशीर्वाद देंगे। उन्होंने कहा कि यह चुनाव हुड्डा नहीं लड़ रहे बल्कि प्रदेश के बुजुर्ग स्वयं लड़ रहे हैं। कई मामलों में उनके युवा पुत्र और पौत्र उनकी बात नहीं मानते, लेकिन चुनाव में कांग्रेस का समर्थन करने की बात पर वह भी उनके साथ एकमत हैं। हालांकि युवा इस बार स्व. प्रधानमंत्री राजीव गांधी की छवि लिए हुए उनके पुत्र राहुल गांधी को ज्यादा पसंद कर रहे हैं। बुजुर्गों ने कहा कि यदि प्रदेश की जनता को यह बात समझ में आ जाए कि मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा को जो लोकप्रियता मिली है, वह उनके काम की बदौलत है और ऐसा काम लगातार होता रहा तो प्रदेश की शक्ल ही बदल जाएगी। यहां से कमाने के लिए विदेश जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी, बल्कि विदेश से लोग यहां पर कमाने के लिए आएंगे। बिजली विभाग से रिटायर्ड एक कार्यकारी अभियंता ने बताया कि प्रदेश में निर्माणाधीन पावर प्लांटों में चीन से काफी मजदूर व अफसर कमाने आ रहे हैं जो यह सिद्ध करते हैं कि प्रदेश ने कितनी तरक्की कर ली है। सर्वे के अन्य सवालों से यह बात भी सामने आई कि बुजुर्ग न सिर्फ अपने सम्मान से खुश हैं, बल्कि वह कांग्रेस सरकार की हर नीति पर नजर लगाए हुए हैं। एक बुजुर्ग ने कहा कि पहले उन्होंने अपने बेटे को खूब पढ़ाया, लेकिन बीए करने के बाद भी उसे नौकरी नहीं मिली और वह खेती कर रहा है। उनके पौत्र ने इंजीनियरिंग की। हालांकि सरकारी नौकरी तो उसे भी नहीं मिली, लेकिन सरकारी नौकरी में मिलने वाली तनख्वाह से तीन गुणा तनख्वाह पर दिल्ली में नौकरी मिल गई। आज गरीब का लड़का हो या लड़की, इंजीनियरिंग-डॉक्टरी और प्रबंधन में नाम कमा रहे हैं। एक अन्य ने बताया कि पहले उसका बेटा पहलवानी करता था और उसे साथ-साथ खेती भी करनी पड़ती थी, लेकिन आज खेलों में मेडल जीतने पर सरकार इतना इनाम देती है कि खिलाçड़यों को न तो कोई दूसरा काम करने की जरूरत पड़ती है और न ही नौकरी की।

(दैनिक भास्कर, चंडीगढ़ में 9 अक्टूबर को पेज दो पर प्रकाशित खबर. इस खबर में कहीं न तो एडीवीटी लिखा गया है और न इसके विज्ञापन होने का कोई चिन्ह प्रस्तुत किया गया है. जाहिर है, इसे हम लोगों को न्यूज मानने के लिए बाध्य किया गया है. सोचिए, वोट गिरने में जब कुछ दिन बचे हों तो इस तरह की खबर का क्या मतलब होता है?)


हुड्डा की शालीनता के विरोधी भी कायल

रोहतक, वरिष्ठ संवाददाता। हरियाणा के मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने शालीन राजनेता की पहचान बनाई है। हरियाणा, पंजाब, दिल्ली, राजस्थान और पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जाट बेल्ट में अपनी मीठी जुबान व मिलनसार दैनिक जागरण, चंडीगढ़ के 10 अक्टूबर के अंक में पेज 7 पर प्रकाशित खबर.स्वभाव के कारण उन्होंने खास मुकाम हासिल किया है। विरोधी भी उनके शालीन व सरल स्वभाव के कायल हैं। जो लोग पिछले साढ़े चार के अरसे में कभी मुख्यमंत्री निवास आए हैं वह इस बात की ताकीद ही करेंगे। चंडीगढ़ में उनके सरकारी घर के दरवाजे पर आने वालों के साथ सुरक्षाकर्मी ज्यादा टोकाटाकी नहीं करते, नहीं तो

पूर्व के मुख्यमंत्रियों के शासनकाल दौरान तो करीब आधा दर्जन जगह पर तलाशी देकर ही कोई आदमी वहां पहुंच सकता था। अब सरकारी सुरक्षाकर्मी केवल तय नियम-कायदे मुताबिक ही अब जरूरी पूछताछ या तलाशी लेते हैं। उनके सरकारी आवास पर इसी कारण आगंतुकों की तादाद पहले की अपेक्षा बढ़ी है। मुख्यमंत्री आवास पर तैनात कई कर्मचारी मानते हैं कि पिछले दो-तीन दशक दौरान इतना नरम स्वभाव का कोई मुख्यमंत्री देखने को नहीं मिला जो मिलने आए आदमी का रुतबा नहीं देखता और लोगों से बराबरी का व्यवहार करता हो। कई बार तो मुख्यमंत्री हुड्डा मिलने आए व्यक्ति के साथ बात करते-करते उसके कंधे पर हाथ रख देते हैं। यह अपनेपन का अहसास ही कई लोगों को संतुष्ट कर देता है। कंधे पर हाथ रख कर जब वह किसी से पूछते हैं हां भाई कैसे आए तो कई लोग तो अपना काम तक भूल जाते हैं जिसके लिए वह आए हों। बात सुनने के बाद हुड्डा अपने स्टाफ या सम्बन्धित अधिकारी को तुरंत उस कार्य संबंधी निर्देश देते हैं। एक और खासियत है हुड्डा में कि वह किसी को लटकाऊ जवाब नहीं देते बल्कि जिनका काम संभव नहीं होता, उसे विनम्र शब्दों में इनकार कर देते हैं।

इसी कारण हुड्डा के बारे में आम आदमी की राज्य भर में यह राय बन गई है कि वह अन्य मुख्यमंत्रियों की तरह लटकाऊ या गुस्से में एकदम फट पड़ने वाले सीएम नहीं हैं। अगर कोई मसला गांव के कई लोगों से जुड़ा हो तो पंचायत की बात कर देते हैं जबकि निजी, पारिवारिक या जमीन-जायदाद के मामलों को लेकर वे दूर से ही हाथ जोड़ लेते हैं। अन्य पूर्व मुख्यमंत्री या विपक्षी नेता जहां फोन उठाने के लिए सेवादार साथ रखते हैं वहीं हुड्डा टेलीफोन अक्सर खुद ही उठा कर बात करना पसंद करते हैं। यह उनकी एक अदा है। यहां तक कि आधी रात को भी कोई आम आदमी उनसे टेलीफोन पर बात करके अपनी बात रख देता। सीएम के करीबी अधिकारी बताते हैं कि रात में किसी व्यक्ति द्वारा राज्य के किसी भी हिस्से से फोन पर यह बताने कि डॉक्टर अस्पताल में नहीं आ रहा है या गांव का ट्रांसफार्मर जल गया है तो मुख्यमंत्री पूरी गंभीरता से उसकी बात सुनते हैं और जितनी जल्दी संभव हो सके, उस पर कार्रवाई होती है। मुख्यमंत्री के इस अपनेपन की रोहतक वाले कुछ ज्यादा ही लिफ्ट ले लेते हैं। हमउम्र उन्हें सार्वजनिक तौर पर भूप्पी भाई कहकर पुकारते हैं तो बुजुर्ग केवल भूप्पी कह कर बुलाते हैं।

हुड्डा मानते हैं कि सीधा नाम लेने से लगाव और जुड़ाव का अहसास पैदा होता है। एक खास बात उनके चरित्र में यह है कि संघर्ष के दिनों के अपने साथियों को उन्होंने इतने ऊंचे ओहदे पर पहुंचने के बाद भी भुलाया नहीं है। आज वह मुख्यमंत्री हैं जिन्हें सांस लेने की फुर्सत नहीं, ऊपर से सुरक्षा का अमला। इस सबके बावजूद जब भी मौका मिले वह बलदेव नगर (अंबाला) में सड़क किनारे उस चाय के खोखे पर रुक जाते हैं, जहां कभी पहले वह रुक कर चाय पिया करते थे। अंबाला में ही उन्हें पंडित जी के उस ढाबे के सादा खाने का स्वाद आज भी याद है, जहां पहले कभी उन्होंने भोजन किया था। बहादुरगढ़ से गुजरेंगे तो प्रसिद्ध पकौड़ों की महक उन्हें दुकान तक खींच ले जाती है। इसी सरल स्वभाव व स्वच्छ छवि की विरोधी भी लोहा मानते हैं।

(दैनिक जागरण, चंडीगढ़ के 10 अक्टूबर के अंक में पेज 7 पर प्रकाशित इस रिपोर्ट को तो घोषित तौर पर खबर बताया गया है क्योंकि शुरू में वरिष्ठ संवाददाता लिख दिया गया है. अब आप बताइए, वरिष्ठ संवाददाता ने अपनी वरिष्ठता का लिहाज करते हुए किसके इशारे पर यह सब लिखा होगा?)


आखिर क्यों दैनिक भास्कर और दैनिक जागरण हुड्डा की तारीफ में खबरें प्रकाशित कर रहे हैं? सिर्फ एक वजह है. वह है सत्ताधारी कांग्रेस सरकार ने इस बार चुनाव में मीडिया पर सबसे ज्यादा पैसा खर्च किया है. विज्ञापन के नाम पर जो खर्च हुआ है वह तो खुला खर्च है लेकिन खबरें प्रकाशित करने के लिए बैकडोर से जो पैसा दिया गया है, वह अरबों में है पर इसका लिखत-पढ़त में कहीं कोई जिक्र नहीं है. अगर अब भी इन अखबारों का नाम लेकर नहीं थूका तो प्लीज, पहले इनका नाम लेकर थूक लीजिए, फिर सोचिए और अपनी बात कहिए.


इस रिपोर्ट पर आपको क्या कहना है? हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में अखबारों के रवैए के बारे में अगर आपको कोई जानकारी देनी है तो हमें लिख भेजिए, bhadas4media@gmail.com के माध्यम से आपका नाम हर हाल में गुप्त रखा जाएगा.

तो अखबार मालिक कफन बेच देंगे…

एसएन विनोद‘कली बेच देंगे, चमन बेच देंगे, जमीं बेच देंगे, गगन बेच देंगे, अखबार मालिक में लालच जो होगी, तो श्मशान से ये कफन बेच देंगे’… जरा इन शब्दों पर गौर करें। इनमें निहित पीड़ा और संदेश को आप समझ लेंगे। ये शब्द शब्बीर अहमद विद्रोही नाम के एक समाजसेवी के हैं। महाराष्ट्र के आसन्न विधानसभा चुनाव में मध्य नागपुर क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव मैदान में हैं। विद्रोही के अनुसार चूंकि सभी दलों के उम्मीदवार शोषक वर्ग का प्रतिनिधित्व करते हैं, जनता के सच्चे हितैषी के रूप में वे प्रतीकात्मक चुनाव लड़ रहे हैं। शब्बीर वर्षों से इस क्षेत्र में गरीब, शोषित वर्ग के लिए संघर्ष करते रहे हैं। स्थानीय अखबार इनकी गतिविधियों की खबरों को निरंतर स्थान देते थे। अब जबकि ये चुनाव मैदान में हैं, इनकी पीड़ा इनकी ही जुबानी सुन लें। शब्बीर ने हमें पत्र लिखकर अपनी व्यथा व्यक्त की है। वे लिखते हैं, ‘मैं समाचार आपको दे रहा हूं। इसलिए कि 1857 देश की आजादी की बुनियाद है। आज अखबार भी पूंजीपतियों के गुलाम हो गए हैं।

उसकी आजादी की लड़ाई की 1857 को ही लडऩी पड़ेगी। एक निर्दलीय उम्मीदवार को रूप में मेरी खबरों को कोई अखबार प्रकाशित नहीं कर रहे हैं। मैंने स्थानीय हिन्दी दैनिक समाचार पत्रों को अपने मतदाता संपर्क अभियान की खबरें भेजी, लेकिन उन संस्थानों की ओर से कहा गया कि आजकल 10 लाख का पैकेज है। जब आप देंगे तभी आपकी खबरें छपेंगी। मैं स्तब्ध रह गया। चुनाव में समाचार का अगर बाजारीकरण हो गया है तो आगे भी इसका व्यापारीकरण होना निश्चित है।’

शब्बीर ने खबरों के ऐसे गोरखधंधे की जानकारी जिलाधिकारी के माध्यम से चुनाव आयुक्त को दे दी है। उन्होंने सीबीआई की जांच की मांग करते हुए घोषणा की है कि अगर अखबारों और पैसा देने वाले उम्दवारों के खिलाफ उचित कार्रवाई नहीं हुई तो वे उच्च न्यायालय में एक याचिका दायर करेंगे।

शब्बीर के आरोप को एकबारगी खारिज नहीं किया जा सकता। जारी चुनाव अभियान में काला धन पानी की तरह बहाया जा रहा है। चुनाव आयोग द्वारा निर्धारित उम्मीदवारों के लिए खर्च सीमा मखौल की वस्तु बनकर रह गई है। कोई आंख का अंधा भी प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र में खर्च होने वाली विशाल राशि को देख-सुन सकता है। दिल्ली में कुछ पत्रकारों व बुद्धिजीवियों ने ऐसे खर्चों पर निगरानी के लिए एक संगठन बना रखा है। उनके लिए शब्बीर का खुला आरोप एक चुनौती है। और चुनौती है चुनाव आयोग, आयकर विभाग तथा अन्य संबंधित एजेंसियों के लिए भी। अगर ये अंधे और बहरे नहीं हैं तो हम इन्हें आमंत्रित करते हैं महाराष्ट्र के चुनाव क्षेत्रों में भ्रमण के लिए। कोई भी सतर्क-ईमानदार पर्यवेक्षक शब्बीर को आरोप में निहीत सच्चाई को पकड़ लेगा। चुनौती है दिल्ली में गठित संगठन को भी। वे अपने प्रतिनिधि भेजें। खबरों के गोरखधंधे को वे अपनी आंखों से देख पाएंगे। क्या ऐसा हो पाएगा। शायद नहीं। क्योंकि ‘हमाम में सभी नंगे’ की कहावत अभी जीवित है-दफन नहीं हुई।


यह लेख वरिष्ठ पत्रकार एसएन विनोद के ब्लाग चीरफाड़ से साभार लिया गया है।