राजस्‍थान में सिरमौर बना पत्रिका

मुम्बई। भारतीय पाठक सर्वेक्षण (आईआरएस) की मुम्बई में वर्ष 2011 की दूसरी तिमाही के लिए ताजा सर्वेक्षण रिपोर्ट में पत्रिका समूह की कुल पाठक संख्या 1 करोड़ 82 लाख 51 हजार हो गई है। आईआरएस के गत जून में समाप्त हुई इस तिमाही के आंकड़ों में राजस्थान, कर्नाटक, गुजरात, तमिलनाडु व पश्चिमी बंगाल में प्रकाशित राजस्थान पत्रिका और मध्यप्रदेश में प्रकाशित पत्रिका की औसत पाठक संख्या को मिलाने पर समूह देश के किसी भी भाषा के शीर्ष दस समाचार पत्रों में छठे नम्बर पर आ गया है।

केबल टीवी कानून में बदलाव की तैयारी

नई दिल्ली। भारत में एनालॉग केबल टीवी प्रसारण का दौर खत्म होने के करीब है। सरकार केबल टीवी नेटवर्क (नियमन) कानून में बदलाव की तैयारी कर रही है, ताकि डिजिटल प्रसारण को अनिवार्य बनाया जा सके। सूचना और प्रसारण मंत्रालय का लक्ष्य देश के चार महानगरों में वर्ष 2012 तक केबल क्षेत्र को पूरी तरह …

डीएनई दयाशंकर का पत्रिका से इस्तीफा, पीयूष बबेले ने इंडिया टुडे ज्वाइन किया

राजस्‍थान पत्रिका, जोधपुर में डिप्‍टी न्‍यूज एडिटर के पद पर कार्यरत दयाशंकर मिश्र ने इस्‍तीफा दे दिया है. खबर है कि वे अपनी नई पारी बड़े मीडिया हाउस के साथ शुरू करने जा रहे हैं. उन्‍हें एनई बनाए जाने की संभावना है. दयाशंकर मिश्र इसके पहले अमर उजाला, दैनिक भास्‍कर में वरिष्‍ठ पदों पर रह चुके हैं. इन्‍हें विकास पत्रकारिता के लिए कई राष्‍ट्रीय सम्‍मान और फेलोशिप मिल चुकी है.

”लुटने वाली जनता से लूट करा रहा राजस्‍थान पत्रिका”

यशवंत जी आपको एक इमेज फाइल भेज रहा हूं. वैसे तो सभी अखबारों में समाचारों एवं भाषा की गुणवत्‍ता में कमी आई है. पर पत्रिका की भाषा एवं समाचारों की गुणवत्‍ता एवं स्‍तर में जो गिरावट पिछले तीन-चार सालों में आई है, वैसी तो देश की राजनीति में भी नहीं आई है. राजस्‍थान पत्रिका ने आज जोधपुर संस्‍करण के फ्रंट पेज पर पेट्रोल की बढ़ोत्‍तरी को लेकर एक खबर छापी है. इस खबर को जनता के पक्ष को ध्‍यान रखते हुए लिखा गया है.

शिवी ने न्‍यूज 24 एवं कृष्‍ण ने पत्रिका से इस्‍तीफा दिया

न्‍यूज24 से शिवी सुदर्शन ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर कैमरामैन थे. शिवी की गिनती चैनल के बेहतरीन कैमरामैनों में होती थी. वे न्‍यूज 24 के लांचिंग टीम के सदस्‍य थे, उन्‍होंने चैनल के लिए आईपीएल, वर्ल्‍ड कप उद्घाटन जैसे कार्यक्रम कवर किए. शिवी अब अपनी नई पारी राज्‍यसभा टीवी के साथ करने जा रहे हैं. इनका चयन राज्‍य सभा टीवी के लिए कर लिया गया है. बारह साल से कैमरामैन की भूमिका निभा रहे शिवी ने ईटीवी और सहारा को भी अपनी सेवाएं दी हैं.

विजय चौधरी को प्रभाष जोशी खोजी पत्रकारिता सम्‍मान

इंदौर। पत्रकार समाज की निगरानी करते हैं और इसी कारण भ्रष्टाचार और अनियमितताएं सामने आती हैं। यह बात वरिष्ठ पत्रकार महेश श्रीवास्तव ने यहां हुए पत्रकार, साहित्यकार और कलाधर्मियों के सम्मान समारोह में कही। इस मौके पर साहित्यकार सरोज कुमार ने पत्रिका के विजय चौधरी को प्रभाष जोशी स्मृति खोजी पत्रकारिता सम्मान से नवाजा। उन्हें यह पुरस्कार ड्रग ट्रायल कांड का खुलासा करने के लिए दिया गया।

पत्रिका, ग्‍वालियर से इस्‍तीफा देकर अवधेश, मनोज एवं मयंक दूसरे ठौर पर पहुंचे

पत्रिका, ग्‍वालियर से तीन लोगों ने इस्‍तीफा दे दिया है. इसमें दो ने हिंदुस्‍तान और एक ने भास्‍कर का दामन थामा है. पत्रिका से इस्‍तीफा देने वाले अवधेश गुप्‍ता ने इंदौर में दैनिक भास्‍कर के साथ अपनी नई पारी शुरू की है. जबकि मनोज शर्मा और मयंक चतुर्वेदी ने बरेली में हिंदुस्‍तान ज्‍वाइन कर लिया है. भड़ास ने पहले ही खुलासा किया था कि सेलरी मिलते ही चार लोग पत्रिका को गुड बाय कर देंगे.

प्रमोद ने पत्रिका एवं अरविंद ने भास्‍कर ज्‍वाइन किया, कृष्‍ण का पंजाब केसरी से इस्‍तीफा

प्रमोद आचार्य ने दैनिक भास्कर, नागौर से इस्‍तीफा दे दिया है। उन्‍होंने अपनी नई पारी अजमेर में राजस्थान पत्रिका के साथ शुरू की है। अरविंद अपूर्वा ने दैनिक भास्‍कर, नागौर में काम संभाला है। भास्कर, नागौर जब अजमेर एवं जोधपुर से छपकर वितरित हुआ करता था तब प्रमोद आचार्य नागौर ब्यूरो हुआ करते थे। वहीं दैनिक भास्‍कर, अजमेर से दैनिक नवज्योति के कोटा प्रभारी बनकर गए अरविंद अपूर्वा ने फिर से भास्कर ज्वाइन कर लिया है। उन्होंने प्रमोद आचार्य के इस्‍तीफे खाली हुए नागौर की जिम्‍मेदारी सौंपी गई है।

पेजमेकर्स का टोटा : अजमेर में पत्रिका की हालत पतली

राजस्थान पत्रिका का अजमेर कार्यालय पेजमेकर्स की कमी का शिकार हो चला है। रोजाना यहां 25-30 पृष्ठ तैयार या अल्टर किए जाते हैं और पेजमेकर सिर्फ दो हैं। हाल ही में तीन पेजमेकर इस्तीफा देकर जा चुके हैं। नए पेज मेकरों की तलाश हो रही है परंतु इनका मिलना आसान नहीं है। संपादकीय विभाग से जुडे़ साथी इन हालात के लिए पत्रिका प्रबंधन को जिम्मेदार मान रहे हैं।

राजस्‍थान पत्रिका, जोधपुर से मधु बनर्जी, सौरभ पुरोहित एवं गजेंद्र दहिया का तबादला

राजस्‍थान पत्रिका जोधपुर से तीन पुराने रिपोर्टरो का तबादला कर दिया गया है. पिछले चौदह सालों से पत्रिका को जोधपुर में अपनी सेवाएं देने वाली मधु बनर्जी का तबादला प्रबंधन ने बांसवाड़ा के लिए कर दिया है. सूत्रों का कहना है कि मधु पिछले दिनों मैटर्निटी लीव पर भी रही थीं, उसके बावजूद पत्रिका प्रबंधन ने उन्‍हें बांसवाड़ा भेज दिया है. मधु का कुछ समय पहले भास्‍कर में बातचीत पक्‍की हो गई थी बावजूद इसके पत्रिका प्रबंधन ने तमाम वादा कर भास्‍कर ज्‍वाइन करने से रोक लिया था.

पत्रिका, ग्‍वालियर से चार विकेट गिरना तय

पत्रिका, ग्‍वालियर से खबर है कि चार लोग संस्‍थान से जल्‍द ही अलविदा करने वाले हैं. इन लोगों ने अपनी सेटिंग कर ली है. सूत्रों का कहना है कि इनमें से दो हिंदुस्‍तान तथा दो दैनिक भास्‍कर के साथ जुड़ेंगे. इन लोगों को नए संस्‍थानों से ऑफर लेटर मिल चुका है. बताया जा रहा है …

पत्रिका प्रबंधन से राधेश्‍याम धामू ने पूछे पांच सवाल

पत्रिका, इंदौर से एक टिप्‍पणी लिखने के बाद हटाए गए वरिष्‍ठ पत्रकार राधेश्‍याम धामू ने पत्रिका प्रबंधन से पांच सवाल पूछे हैं. धामू ने पत्रिका से पूछा है कि सारा दोष उनका कैसे हो गया, किन कारणों के चलते उन्‍हें बिना नोटिस के हटा दिया गया. इसके लिए अकेले वे ही कैसे जिम्‍मेदार हुए. उन्‍होंने पत्रिका प्रबंधन से यह भी सवाल किया है कि क्‍या वो मेरे सच को छापने का साहस दिखाएगा.

‘सर्वाधिक भ्रष्‍टाचार’ लिखने पर पत्रिका ने राधेश्‍याम धामू की सेवा समाप्‍त की

पत्रिका, इंदौर से राधेश्‍याम धामू की सेवाएं समाप्‍त कर दी गई हैं. राधेश्‍याम इंदौर में संपादकीय पेज देखते थे. धामू को अखबार से निकाले जाने की सूचना पत्रिका के 31 अगस्‍त के प्रथम पेज पर प्रकाशित की गई है. इस सूचना में बताया गया है कि धामू ने पत्रिका की रीति नीति से परे जाकर लेखन किया जिसके चलते उनकी सेवाएं समाप्‍त की जा रही हैं. धामू काफी समय से पत्रिका को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

पत्रिका के पत्रकार ने गलत तरीके से हासिल की जमीन!

एक तरफ पूरा देश भ्रष्‍टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ रहा था तो दूसरी तरफ अखबार और टीवी वाले भी इस पर लम्‍बा चौड़ा कवरेज और भाषण कर रहे थे. राजस्‍थान पत्रिका के संपादक गुलाब कोठारी ने भी भ्रष्‍टाचार पर लम्‍बा भाषण लोगों को अपने संपादकीय में पिलाया, पर यह क्‍या उसी दिन उनके एक पत्रकार का घोटाला उजागर हो गया.

डेली न्‍यूज में आशुतोष, अशोक, ललित एवं उमेश का प्रमोशन

राजस्थान पत्रिका समूह के दैनिक समाचार पत्र डेली न्यूज ने संपादकीय विभाग में चार लोगों का प्रमोशन कर दिया है. ग्राफिक्‍स इंचार्ज के रूप में जिम्‍मेदारी संभाल रहे आशुतोष राय को प्रमोट करके डीएनई बना दिया गया है.  प्रादेशिक डेस्‍क का प्रभार संभालने वाले अशोक चतुर्वेदी सीनियर सब एडिटर से चीफ सब एडिटर बना दिया …

शाह आलम एवं पीयूष शर्मा की नई पारी

दर्श न्‍यूज, पटना से शाह आलम ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर एंकर कम सीनियर रिपोर्टर थे. उन्‍होंने अपनी नई पारी ताजा टीवी के साथ की है. इन्‍हें यहां प्रोड्यूसर कम एंकर बनाया गया है. वे पिछले दो सालों से दर्श न्‍यूज से जुड़े हुए थे. शाह आलम साधना समेत कई अखबारों को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

पत्रिका, इंदौर की स्थिति खराब, कई पत्रकारों ने किया नमस्‍कार

पत्रिका, इंदौर में परिस्थितियां इतनी खराब हो गई हैं कि अब यहां काम करने वालों का विश्‍वास उठने लगा है. पिछले कुछ समय में करीब एक दर्जन लोग पत्रिका से इस्‍तीफा देकर इससे छोटे ग्रुप दबंग दुनिया में कम सेलरी पर जा चुके हैं. अच्‍छे पत्रकारों की कमी का असर अखबार पर भी दिखने लगा है. यहां न्‍यूज एडिटर रहे अरविंद तिवारी भी टीओआई चले गए.

चौथे केसीके अंतरराष्‍ट्रीय पुरस्‍कार के लिए प्रविष्ठियां आमंत्रित

जयपुर। ‘राजस्थान पत्रिका समूह’ ने चौथे कर्पूर चन्द्र कुलिश अंतरराष्ट्रीय पत्रकारिता पुरस्कार के लिए प्रविष्टियां आमंत्रित की हैं। पुरस्कार के लिए एक जनवरी से 31 दिसम्बर 2010 के बीच दैनिक समाचार पत्रों में प्रकाशित समाचारों की प्रविष्टियां मान्य होंगी। पुरस्कार विजेता को 11000 अमरीकी डॉलर की राशि, पदक और प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जाएगा। अन्य श्रेष्ठ प्रविष्टियों के लिए मेरिट अवार्ड भी दिए जाएंगे।

ठाकरे हत्‍याकांड : जांच में पत्रकारों का नाम नहीं, बिल्‍डरों को भी क्‍लीनचिट

इंदौर के चर्चित संजय ठाकरे हत्याकांड में पत्रिका व पीपुल्स समाचार के जिन पत्रकारों का ब्लैकमेलिंग के लिए उनके प्रतिद्वंदी अखबारों (दैनिक भास्कर व नईदुनिया) द्वारा नाम उछाला जा रहा था पुलिस द्वारा कोर्ट में पेश चालान में उसका जिक्र तक नहीं है,  अलबत्ता जिन बिल्डरों की शह पर इसे अंजाम देने की बात कही जा रही थी उन्हें भी पुलिस ने पूरी तरह क्लीनचिट दे दी है,  जबकि पांच आरोपी अभी भी फरार है।

राजस्‍थान पत्रिका को जोधपुर में कोठारी के रिश्‍तेदारों ने बरबाद कर डाला

राजस्थान पत्रिका का जोधपुर संस्करण इन दिनों बहुत बुरे दौर से गुजर रहा है। राजस्थान के दूसरे बड़े शहर का यह महत्वपूर्ण संस्करण इतने संकट में कभी नहीं रहा। इस संस्करण को कभी गुलाब कोठारी के विद्वान भाई मिलाप कोठारी ने संभाला था और भुवनेश जैन समेत अनेक बड़े नाम वाले पत्रकारों ने यहां काम किया। लेकिन पत्रिका के मालिकों की घर के लोगों को ही महत्वपूर्ण पदों पर लगाने की नीति ने इसे बरबाद कर दिया।

प्रवीण धींगरा और आशुतोष चंद्र की नई शुरुआत

राजस्थान पत्रिका, जोधपुर से प्रवीण धींगरा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सीनियर रिपोर्टर के पद पर कार्यरत थे. प्रवीण ने अपनी नई पारी जोधपुर में ही दैनिक भास्‍कर के साथ शुरू की है. उन्‍हें यहां भी सीनियर रिपोर्टर बनाया गया है.  प्रवीण का जाना जोधपुर में पत्रिका के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है, वो भी ऐसे समय में जब पत्रिका में यहाँ पर काफी उठापटक चल रही है. सुनने में ये भी आ रहा है की प्रवीण के बाद अभी तीन-चार लोग और पत्रिका छोड़ने की तैयारी में है.

मर्डोक का अखबार संडे टाइम्‍स भी विवादों में

लंदन। ब्रिटेन के मीडिया मुगल रूपर्ट मर्डोक की मुसीबतें बढ़ सकती हैं। एक ताजा रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि मर्डोक के एक अन्य अखबार “संडे टाइम्स” ने ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री गार्डन ब्राउन का बैंक अकाउंट हैक किया था। इससे पहले फोन हैकिंग के आरोपों के चलते मर्डोक का अखबार “न्यूज ऑफ द वर्ल्ड बंद हो चुका है।”

बिलासपुर में पत्रिका की शानदार लांचिंग

छत्तीसगढ के रायपुर और भिलाई एडिशन की सफल लांचिंग के बाद पत्रिका ने शनिवार को बिलासपुर एडिशन की भी लांचिंग कर दी। पत्रिका के नेशनल सेल्स हेड बीआर सिंह एवं यूनिट हेड विनोद जैन के निर्देशन में पत्रिका की लांचिंग की गई। छत्तीसगढ सेल्स जीएम सुरेन्द्र मिश्रा के नेतृत्व में पत्रिका ने भास्कर से 5000 प्रतियॉ अधिक बेचकर कर बिलासपुर में रिकार्ड सर्कुलेशन खड़ा किया है।

नव भारत प्रेस, भोपाल पर ईडी का शिकंजा

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) नव भारत प्रेस भोपाल लिमिटेड के खिलाफ शिकंजा कसने जा रहा है। इस सिलसिले में निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। ईडी सूत्रों ने बताया कि मामले की जांच ईडी के अहमदाबाद जोन को सौंपी है। ईडी के अधिकारी जल्द ही इस कम्पनी के निदेशकों को पूछताछ के लिए नोटिस भेजेंगे।

पत्रिका फिर बना राजस्‍थान का सिरमौर

भारतीय पाठक सर्वेक्षण की मुम्बई में वर्ष 2011 के प्रथम तिमाही के लिए जारी ताजा सर्वेक्षण में रिपोर्ट में आपका राजस्थान पत्रिका फिर से राजस्थान का सिरमौर घोषित हुआ है। ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार भी राजस्थान पत्रिका राजस्थान का नम्बर 1 समाचार पत्र है। राजधानी जयपुर में पत्रिका समूह कुल पाठक संख्या में नम्बर 1 स्थान पर है। समूह के जयपुर शहर में 14.33 लाख कुल पाठक हैं जो किसी भी अन्य हिन्दी दैनिक समाचार पत्र समूह के पाठकों से कहीं अघिक हैं।

रिटायर्ड फौजी को साढ़े तीन घंटे पहले ही मार डाला पत्रिका ने

राजस्थान के सर्वाधिक विश्‍वसनीय कहे जाने वाले समाचार पत्र राजस्थान पत्रिका में हाल ही में मुख्य पेज की लीड खबर थी,  ‘तीन पत्ती का खेल’. कोटा के जीआरपी थाना क्षेत्र में इंद्रगढ़ में घटित इस कांड में रेल में यात्रा कर रहे एक रिटायर्ड फौजी हनुमान विश्‍नोई का पाला तीन पत्ती गिरोह से हो गया। हनुमान ने तीन पत्ती गिरोह के सदस्य निज्जू खां के गोली मार दी। जिसमें उसकी मौत हो गई।

पत्रिका, रायपुर से राजेश वालिया और अनिल मिश्रा का इस्‍तीफा

पत्रिका रायपुर से पलायन का दौर शुरू हो गया है। प्रबंधन की नीतियों के कारण लोग संस्‍थान को बाय बाय कर रहे हैं। राजस्थान पत्रिका के मालिक निहार कोठारी और समूह संपादक भुवनेश जैन की मौजूदगी में रायपुर संस्करण संपादकीय कोर टीम के दो सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया। इस्तीफा देने वालों में सिटी डेस्क इंचार्ज राजेश वालिया एवं विशेष संवाददाता अनिल मिश्रा हैं।

अपने ही अखबारों में नहीं छपीं पत्रकारों की खबरें

ग्वालियर में विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर एक पत्रकार संगठन द्वारा ग्वालियर में एक परिसंवाद का आयोजन किया गया. इसमें पर्यावरण पर उल्लेखनीय कार्य करने वाले कुछ रिपोर्टर और फोटो जर्नलिस्टों का सम्मान किया गया. कार्यक्रम के मुख्य वक्ता जाने-माने पत्रकार स्वर्गीय प्रभाष जोशी के बेटे पर्यावरण पत्रकार सोपान जोशी थे. इसमें दैनिक भास्कर के पत्रकार हरे कृष्ण दुबोलिया. इसी अखवार के फोटो जर्नलिस्ट विक्रम प्रजापति, पत्रिका के रिपोर्टर राज देव पांडे को भी सम्मानित किया गया.

पत्रिका, बिलासपुर की लांचिंग की तैयारियां अंतिम दौर में

पत्रिका छत्‍तीसगढ़ के रायपुर में सफल लांचिंग के बाद अब इसे और विस्‍तार देने की तैयारियों में जुट गई है. रायपुर के बाद अब बिलासपुर के अखबारी बाजार को गरमाने की तैयारी शुरू कर दी गई है. पत्रिका की लांचिंग के लिए राजेंद्र दलाल ने बिलासपुर में प्‍लेटफार्म तैयार कर अपने लाव लश्‍कर को मंदसौर और नीमच में भी तैनात कर दिया है.

पत्रिका से प्रदीप जोशी एवं एसवन से अभिषेक का इस्‍तीफा

पत्रिका, इंदौर से वरिष्‍ठ पत्रकार प्रदीप जोशी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे लांचिंग के समय से पत्रिका से जुड़े हुए थे. खबर है कि प्रबंधन ने उनका तबादला जबलपुर के लिए कर दिया था. उन्‍होंने प्रबंधन से जबलपुर ज्‍वाइन कर पाने में असमर्थता जताई, परन्‍तु इस मामले में कोई सुनवाई न होने से उन्‍होंने इस्‍तीफा दिया. प्रदीप उस समय चर्चा में आए थे जब उन्‍होंने जमीन पर अवैध कब्‍जा करने वालों के खिलाफ सीरिज चलाई थी. प्रशासन में हडकम्‍प मच गया था तथा कई लोग गिरफ्तार किए गए. पत्रिका से पूर्व वे इंदौर में ही राज एक्‍सप्रेस को अपनी सेवाएं दे रहे थे. अपने बारह साल के करियर में प्रदीप ने थर्ड आई, सांझा लोक स्‍वामी, स्‍थानीय एसआर चैनल को भी अपनी सेवाएं दीं.

शत्रुघ्‍न दैनिक भास्‍कर पहुंचे, लोकेंद्र का तबादला

नव दुनिया, भोपाल से शत्रुघ्‍न प्रसाद गुप्‍ता ने इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर, भोपाल से शुरू की है. उन्‍हें सिटी डेस्‍क पर चीफ सब एडिटर बनाया गया है. इसके पहले वे राज एक्‍सप्रेस, भोपाल तथा दैनिक आज, वाराणसी को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

राजस्‍थान पत्रिका में फेरबदल, राजेंद्र की नई पारी

राजस्‍थान पत्रिका ने अपने संपादकीय विभाग में कुछ फेरबदल किया है. जयपुर में तैनात मुकेश पांडेय को गुजरात भेज दिया गया है. इन्‍हें अहमदाबाद संस्‍करण का संपादकीय प्रभारी बनाया गया है. दूसरी तरफ अहमदाबाद एडिशन के संपादक राजेंद्र सिंह नरूका को बंगलौर भेजकर वहां का प्रभारी बना दिया गया है.

साथियों ने वरिष्‍ठ वितरक नरेंन्‍द्र तोमर का जन्‍मदिन मनाया

भोपाल के मनीषा सेण्टर के वरिष्ठ वितरक नरेन्द्र तोमर का जन्मदिन पत्रिका एजेन्ट एवं साथी वितरकगणों द्वारा सेण्टर पर केक काटकर मनाया गया। सुबह 5 बजे से ही सभी वितरक पत्रिका एजेन्ट के साथ नरेन्द्र तोमर के जन्मदिन की तैयारियों में जुट गए थे। जैसे ही तोमर सेण्टर पर पहुंचे, सभी वितरकों ने उनका स्वागत कर उन्हें चौंका दिया। इसी बीच पत्रिका एजेन्ट आशीष तेलंग द्वारा जन्मदिन के अवसर पर नरेन्द्र तोमर से केक कटवाया गया।

बिजली विभाग को ब्‍लैकमेल कर ब्‍यूरोचीफ ने सरकारी गाड़ी कब्जाया

दैनिक भास्कर अखबार के सिवनी ब्‍यूरो चीफ पर एक अधिकारी को ब्‍लैकमेल कर सरकारी गाड़ी का निजी उपयोग करने का मामला सामने आया है. यह मामला कांग्रेसजनों द्वारा आरटीआई डालकर पूछे गए सवालों के जवाब में खुला है. आरटीआई से सामने आई जानकारी को पत्रिका अखबार ने खबर के रूप में प्रकाशित किया है.

मुकेश का तबादला, गुरुदत्‍त और विशाल का इस्‍तीफा

पत्रिका, ग्‍वालियर से गुरुदत्‍त तिवारी ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर चीफ सब एडिटर कम सीनियर  करेस्‍पांडेंट थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर, भोपाल के साथ शुरू की है. इन्‍होंने यहां भी वरिष्‍ठ पद पर ज्‍वाइन किया है. गुरुदत्‍त इसके पहले पीपुल्‍स समाचार और बिजनेस स्‍टैंडर्ड को भी अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

अरविंद मोहन को श्रीफल पुरस्‍कार

श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार- 2011 पत्रिका के बांसवाड़ा संस्करण के संपादकीय प्रभारी अरविन्द मोहन शर्मा को दिया जाएगा। श्रीफल परिवार संस्थान ने मंगलवार को श्रीफल पुरस्कारों की घोषणा कर दी। राष्ट्रीय अध्यक्ष दिनेश खोडनिया ने बताया कि राजस्थान पत्रिका के संस्थापक कपूरचंद्र कुलिश की स्मृति में श्रीफल पत्रकारिता पुरस्कार दिया जाता है। 24 अप्रैल को सागवाड़ा …

मनोज, श्रुति, नीलाभ, मनोरंजन, आशीष, कृष्‍णकांत और फरहत के बारे में नई जानकारी

हिंदुस्‍तान, कोलकाता ब्‍यूरो बंद होने के बाद बेरोजगार हुए मनोज सिंह ने अपनी नई पारी शुरू कर दी है. उन्‍होंने राजस्‍थान पत्रिका ज्‍वाइन ज्‍वाइन कर लिया है. मनोज काफी समय तक हिंदुस्‍तान कोलकाता के ब्‍यूरोचीफ रहे हैं. इसके पहले भी इन्‍होंने कई अखबारों में काम किया है.

पत्रिका, बंगलुरू के मैनेजर जोश पी का तबादला अहमदाबाद

राजस्‍थान पत्रिका, बंगलुरू से जोश पी का तबादला अहमदाबाद के लिए कर दिया गया है. वे यहां पर मैनेजर थे. अब वे पत्रिका, अहमदाबाद में अपनी जिम्‍मेदारी संभालेंगे. उन्‍हें वहां भी सेम पोस्‍ट पर भेजा गया है. जोश पी काफी समय से पत्रिका के साथ जुड़े हुए हैं. इसके अलावा भी वह कई संस्‍थानों के …

पत्रिका के ब्‍यूरोचीफ को संपादक ने किया सम्‍मानित

खरगोन पत्रिका के ब्यूरो चीफ सचिन त्रिवेदी को पत्रिका इंदौर के संपादक अरुण चौहान ने व्यक्तिगत रूप से पुरस्कृत किया। इस अवसर पर इंदौर संभाग के सभी जिलों के पत्रिका के ब्यूरो चीफ मौजूद थे। त्रिवेदी ने अपनी धारधार लेखनी के माध्यम से सांईप्रसाद ग्रुप ऑफ कंपनीज के एजेंटों व अधिकारियों द्वारा आम नागरिकों के साथ एफडी व आरडी करने के नाम पर की जा रही धोखाधड़ी का पर्दाफाश किया था।

पत्रिका ने वीरेंद्र को अजमेर से सीकर भेजा, जोधपुर से दौलत सिंह बुलाए गए

राजस्थान पत्रिका, अजमेर के संपादकीय प्रभारी वीरेंद्र आर्य का तबादला सीकर कर दिए जाने और उनके स्थान पर राजस्थान पत्रिका जोधपुर के प्रभारी दौलत सिंह चौहान को अजमेर लाने की खबर है। फैसला हो चुका है सिर्फ क्रियान्विति की औपचारिकताएं बाकी हैं। वीरेंद्र आर्य पिछले तीन दशक से अजमेर में हैं। जब पत्रिका जयपुर से …

भास्‍कर के सागर इकाई में उथल-पुथल, पत्रिका ने खरीदी जमीन

दैनिक भास्‍कर ग्रुप के बुंदेलखंड एडिशन में धड़ाधड़ हो रहे तबादलों के बीच पत्रिका भी सागर में दस्‍तक देने की तैयारी शुरू कर दी है. खबर है कि पत्रिका ने सागर के इंडस्‍ट्रीयल एरिया में दो हजार वर्ग मीटर जमीन खरीदी है. इधर भास्‍कर के भीतर लगातार तबादलों से कर्मचारियों में नाराजगी है.

नईदुनिया, पत्रिका और भास्‍कर की जंग, पिस रहा विज्ञापनदाता

ग्वालियर इन दिनों अखबारी जंग का अखाड़ा बना हुआ है। यह जंग तब से और तेज हो गई है जब से पत्रिका ने ग्वालियर में कदम रखा। ग्वालियर  को अखबार के मालिक सदैव से कमाऊ मानते रहे हैं। लेकिन दिक्कत तब शुरू होती है जब रेवेन्यू कलेक्शन की बात होती है। विज्ञापनदाता सीमित हैं और वे इस अखबारी जंग में पिस रहे हैं। वे समझ नहीं पा रहे हैं कि किसे विज्ञापन दें और किसे न दें।

राजस्‍थान में पत्रिका फिर नम्‍बर वन

मुम्बई। भारतीय पाठक सर्वेक्षण की मुम्बई में जारी ताजा सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक पत्रिका समूह एक करोड़ 82 लाख 36 हजार कुल पाठक संख्या के साथ हिन्दी के शीर्ष पांच समाचार पत्रों में अपना स्थान कायम किए हुए है।  राजस्थान पत्रिका लगातार राजस्थान का सिरमौर तो बना हुआ ही है उसी के पत्रिका ने पिछली तिमाही में 6.16 लाख नए पाठक जोड़ते हुए मध्यप्रदेश में सर्वाघिक तेज बढ़त वाले अखबार का गौरव बरकरार रखा है।

नीरज पत्रिका तथा अवधूत व नदीम प्रभात खबर से जुड़े

हरिभूमि, रायपुर से इस्‍तीफा देने वाले नीरज शर्मा ने अपनी नई पारी शुरू कर दी है. वो पिछले एक साल से हरिभूमि से जुड़े हुए थे तथा भिलाई ब्‍यूरो में रिपोर्टर के रूप में सेवा दे रहे थे. नीरज पत्रिका जबलपुर में सब एडिटर के रूप में ज्‍वाइन किया है. नीरज ने अपना करियर स्‍थानीय न्‍यूज पेपर से शुरू किया था.

”पत्रिका, जबलपुर ने सर झुकने से बचा लिया”

यशवंत जी नमस्कार. पत्रिका का विरोध अपनी जगह है पर शुक्रवार को पत्रिका ने जबलपुर में इतिहास रच दिया. जहाँ सब अख़बारों ने पैसे लेकर कांग्रेस विधायक के काले कारनामे नहीं छापे या छोटा छापा, उसमें भी विधायक और उसके भाई का नाम नहीं छापा. वहीं पत्रिका के संपादक ने एक बार में ही पूरी काली कहानी लिख दी.

पत्रिका ने अरुण, रजनीश और राजेंद्र को इधर-उधर किया

राजस्‍थान पत्रिका ने अपने संपादकीय विभाग में फेरबदल किया है. पत्रिका के उदयपुर संस्‍करण में कार्यरत अरुण वर्मा को राजसमन्‍द भेज दिया गया है. वे काफी समय से उदयपुर संस्‍करण के साथ जुड़े हुए थे. उदयपुर में ही कार्यरत रजनीश अग्रवाल का तबादला जोधपुर के लिए कर दिया गया है. राजसमन्‍द में कार्यरत राजेंद्र नायक …

राजेश और प्रदीप की नई पारी

दैनिक भास्‍कर, दंतेवाड़ा से हटाए गए राजेश दास अगली पारी पत्रिका के साथ शुरू करने की तैयारी में हैं. वे भास्‍कर में ब्‍यूरोचीफ के पद पर कार्यरत थे. बस्‍तर में पत्रिका की लांचिंग होने वाली है. राजेश को दंतेवाड़ा का ब्‍यूरोचीफ बनाया जा रहा है. वे इसके पूर्व हरिभूमि को भी क्राइम रिपोर्टर के रूप में अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

रिचिक का भास्‍कर और संजय का प्रभात खबर संग नई पारी

पत्रिका ग्रुप के डेली न्‍यूज से रिचिक मिश्रा ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे यहां पर सब एडिटर थे. इन्‍होंने अपनी नई पारी दैनिक भास्‍कर, जयपुर के साथ की है. इन्‍हें सीनियर सब एडिटर बनाया गया है. रिचिक एजेंसी डेस्‍क देखेंगे. मूल रूप से उत्‍तर प्रदेश के अयोध्‍या के रहने वाले रिचिक माखनलाल से पास आउट छात्र हैं. इन्‍होंने करियर की शुरुआत लोकमत टाइम्‍स औरंगाबाद से की थी. लोकमत को मुंबई में भी अपनी सेवाएं दीं. इसके बाद डीएलए एएम, आगरा से जुड़ गए. पिछले ढाई साल से ये डेली न्‍यूज को अपनी सेवाएं दे रहे थे.

राजस्‍थान के दो पत्रकारों को पितृशोक

राजस्थान पत्रिका, जोधपुर में उप संपादक महेन्द्र त्रिवेदी के पिता चिरंजीलाल श्रीमाली का नागौर में निधन हो गया. वो कुछ दिनों से बीमार थे. उनका इलाज चल रहा था. मंगलवार रात को उन्‍होंने अंतिम सांस ली. तमाम पत्रकार संगठनों ने श्रीमाली के निधन पर गहरा दुख जताया है. पत्रकारों ने उनके परिवार को ईश्‍वर से दुख सहने की शक्ति देने की प्रार्थना भी की है.

पत्रिका का वेब अपडेशन शुरू, नियति को इंदौर बुलाया

राजस्थान पत्रिका के वेब डिवीजन पत्रिका डॉट कॉम ने मध्यप्रदेश के इंदौर शहर से अपना एमपी ऑपरेशन शुरू कर दिया है. पत्रिका ऑनलाइन ने इंदौर में अपनी टीम के कुछ लोगों का ट्रांसफर किया है, जो यहां से मध्यप्रदेश की खबरों का रीयल टाइम अपडेशन करेंगे. इसके लिए पत्रिका ऑनलाइन जयपुर से नियति वर्मा को इंदौर भेजा गया है. उन्होंने इंदौर से सिटी अपडेशन का काम शुरू कर दिया है. इसे भास्कर डॉट कॉम के लिए चुनौती भी कह सकते हैं क्योंकि वो भी सिटी अपडेशन को अपनी यूएसपी बताते हैं.

पत्रिका और भास्‍कर के पत्रकारों को ढंग से नींद भी नहीं आ रही

हनुमानगढ़ में इन दिनों पत्रिका- भास्कर में खूब घमासान मचा हुआ है. दोनों अखबारों ने गंगानगर से अलग ”हनुमानगढ़-संस्करण” शुरू कर दिए हैं. प्रसार, विज्ञापन से ज्यादा इन दिनों समाचारों को लेकर जंग छिड़ी हुई है. दोनों के कार्यालयों में सम्पादक-मंडल में करीब 8 -9 पत्रकार होने के बावजूद अन्य अखबारों के पत्रकारों से भी सहयोग लिया जा रहा है. हालात ऐसे हो गए हैं कि पत्रिका- भास्कर के पत्रकारों को सुबह होने के इंतजार में आजकल रात को नींद भी ढंग से नहीं आती है.

गुलाब कोठारी को राज्‍यपाल ने सम्‍मानित किया

कोठारी: कई स्‍थानों पर पत्रिका के प्रधान संपादक का हुआ सम्‍मान : पत्रिका के प्रधान संपादक गुलाब कोठारी को राज्‍यपाल समेत कई लोगों ने सम्‍मानित किया. राज्‍यपाल रामेश्‍वर ठाकुर ने राजभवन में आयोजित सर्वधर्म प्रार्थना सभा और राष्‍ट्रीय एकता कार्यक्रम में मानव सेवा के उत्‍कृष्‍ट कार्यों के लिए गुलाब कोठारी को शाल और श्रीफल भेंट कर सम्‍मानित किया.

मर्दों का ध्यान भटकाती हैं सेक्सी एंकर

वाशिंगटन। टीवी पर सेक्सी न्यूज एंकर को देखकर मर्दों का चेहरा भले ही खिल उठता हो लेकिन इससे उनका ध्यान भटक जाता है। एक सर्वे के मुताबिक सेक्सी न्यूज एंकर को देखकर मर्द उसकी खूबसूरती को ही निहारते रहते हैं और खबरों पर ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते।

पत्रिका ने राजगढ़-ब्‍यावरा के लिए चार पेज का पुलआउट शुरू किया

पत्रिका: हॉकर सप्‍ताह में वितरकों की बल्‍ले-बल्‍ले : भोपाल को नए एवं पुराने जोन में बांटा : प्रिन्ट मीडिया के इतिहास में मध्यप्रदेश के राजगढ-ब्यावरा जिले पर नियमित विशेष चार पेज का पुल-आउट देने वाला पत्रिका पहला अखबार हो गया है। चौदह लाख आबादी वाले इस महत्वपूर्ण क्षेत्र को अब तक सभी अखबारों द्वारा उपेक्षित किए जाने से नाराज यहां के रहवासियों ने पत्रिका की इस पहल की सराहना की, इस संबंध में पत्रिका कार्यालय में फोन पर बधाई संदेशों का सिलसिला लगातार जारी है।

बड़े अखबार ही मीडिया की नैतिकता भूले : ठकुरता

चिंतक, वरिष्ठ पत्रकार और भारतीय प्रेस परिषद के पूर्व सदस्य परंजॉय गुहा ठकुरता का मानना है कि आज पेड न्यूज छाप कर बड़े अखबार ही मीडिया की नैतिकता भूल रहे हैं। यह शर्मनाक है। मीडिया में भ्रष्टाचार व्यक्तिगत से बढ़कर संस्थानिक हो गया है। यह स्थिति देश और समाज के हित में नहीं है। चुनावों के दौरान मीडिया में पेड न्यूज के मामले में भारतीय प्रेस परिषद को चौंकाने वाली रिपोर्ट पेश करने वाले परंजॉय शनिवार को राजस्थान पत्रिका और माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विवि भोपाल द्वारा आयोजित पं. झाबरमल्ल शर्मा स्मृति व्याख्यान दे रहे थे।

सागर, सौमित्र एवं सितांशु हिन्‍दुस्‍तान से जुड़े

पत्रिका, जबलपुर से उप संपादक सागर पाटिल ने इस्‍तीफा दे दिया है. वे अपनी नई पारी की शुरुआत हिन्‍दुस्‍तान, दिल्‍ली के साथ कर रहे हैं. उन्‍हें वैल्‍यू एडिशन डेस्‍क पर नई जिम्‍मेदारी दी गई है. सागर इसके पूर्व सिटी भास्‍कर, भोपाल तथा अमर उजाला के कानपुर व देहरादून यूनिट में अपनी सेवाएं दे चुके हैं.

‘छतिग्रस्‍त’ और जागरण, भास्‍कर व पत्रिका

देश के तीन बड़े अखबार यानी दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण एवं पत्रिका में हिंदी के जानकारों की कमी होती दिख रही है। ऐसा हम नहीं कह रहे हैं बल्कि इस कमी को आप उनकी वेबसाइटों में देख सकते हैं। इस पर पब्लिश होने वाली खबरों को लगता है कोई पढ़ना जरूरी नहीं समझता है। तभी तो इन लोगों को ‘छतिग्रस्त’ और ‘क्षतिग्रस्त’ के बीच में कोई अंतर नहीं लगता है।

पत्रिका के सर्कुलेशन मैनेजर बने लोकेन्‍द्र

: ब्रजेश ने अमर उजाला छोड़ा, मनीष व आलोक की नई पारी : लोकेन्‍द्र जैन ने दैनिक भास्‍कर, इंदौर से इस्‍तीफा दे दिया है. लोकेन्‍द्र का स्‍थानांतरण रायपुर के लिए कर दिया गया था. जिसके चलते उन्‍होंने भास्‍कर को अलविदा कह दिया. लोकेन्‍द्र ने अपने नई पारी की शुरुआत पत्रिका, इंदौर के साथ शुरू की है. वे पत्रिका से सर्कुलेशन मैनेजर बनाए गये हैं.

हर गलती की कीमत वसूल रहा है पत्रिका!

सर, राजस्थान पत्रिका में पिछले दो महीनों से अपने कर्मचारियों को प्रताडि़त करने के लिए नया फंडा अपनाया जा रहा है। प्रत्येक गलती, जिसमें वर्तनी की गलती शामिल है, के लिए पांच रुपए वसूले जा रहे हैं। पत्रिका के खटारा कंप्यूटरों पर ढीले-ढाले की बोर्ड की वजह से अगर कोई गलती रह जाए तो उसकी जमकर वसूली की जाती है। ऐसे कर्मचारी को अन्य सभी कर्मचारियों के सामने खड़ा करके प्रताडि़त किया जाता है। नए और प्रशिक्षु कर्मचारी इससे काफी भयाक्रांत हैं।