नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स का कदम असंवैधानिक : एचयूजे

रोहतक, 12 अप्रैल। हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के प्रदेशाध्यक्ष संजय
राठी ने नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया) की ओर से जारी सम्बद्धता
निरस्त करने के सन्दर्भ में भेजे गये पत्र को असंवैधानिक, अनुचित,
अनाधिकृत व राजनीति से प्रेरित बताया है। उन्होंने इस पत्र के माध्यम से
लगाये गये आरोपों को भी झूठे, बेबुनियाद, तथ्यहीन एवं निराधार बताते हुए
इस कार्रवाई को तुरन्त निरस्त करने का आग्रह किया है। यदि इस पत्र को
निरस्त नहीं किया गया तो एच.यू.जे. कानूनी कार्रवाई को बाध्य होगी।

प्रदेशाध्यक्ष संजय राठी ने कहा कि हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के
विरूद्ध एकतरफा, मनमानी कार्रवाई किये जाना बेहद शर्मनाक व
दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि प्रदेश इकाईयां पूर्ण रूप से
स्वायत्त हैं तथा नेशनल यूनियन आफ जर्नलिस्ट्स से मात्र सम्बद्ध है।
एचयूजे का कोई भी सदस्यता शुल्क बकाया नहीं है, न ही आज तक अनियमितता की
कोई शिकायत है।
       
यूनियन के अध्यक्ष संजय राठी ने कहा कि सिरसा में राष्ट्रीय कार्यकारिणी
का सफल आयोजन के अलावा हरियाणा में पहली बार मानेसर में सफल ऐतिहासिक एवं
भव्य राष्ट्रीय अधिवेशन का श्रेय एच.यू.जे. को जाता है। इसके साथ ही
मजीठिया वेज बोर्ड के सामने भी एच.यू.जे. ने मीडियाकर्मियों के पक्ष को
काफी मजबूती से प्रस्तुत किया था। इसके अलावा पार्लियामेन्टरी स्टैंडिंग
कमेटी ऑन पेड न्यूज पर भी नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स के राष्ट्रीय सचिव
के रूप में मीडिया की वर्तमान दशा एवं चुनौतियों के सन्दर्भ में मजबूती
से पैरवी की। इसके अलावा दक्षिणी एशिया के देशों काठमांडू (नेपाल) में
मीडियाकर्मियों के समक्ष चुनौतियों को प्रभावी तरीके से प्रस्तुत किया।
       
उन्होंने आगे कहा कि पूरे प्रदेश में हरियाणा यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स ही
एकमात्र प्रदेश इकाई है, जिसने अपनी कार्यकारिणी के सदस्यों को शैक्षणिक
भ्रमण के लिये विदेश लेकर गयी। इसके अलावा नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स
द्वारा गठित जर्नलिस्ट्स वैलफेयर फंड के लिये दस लाख रूपये की अनुदान
राशि से शुरूआत भी हरियाणा सरकार की ओर से करवाने का श्रेय भी एच.यू.जे.
को ही है।
       
संजय राठी ने कहा कि पिछले कुछ समय से कुछ अन्य मीडिया संगठनों को भी
एच.यू.जे. के साथ जोडऩे के लिये गम्भीर एवं सतत् प्रयास किये जा रहे हैं।
जिसकी जानकारी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठकों में प्रस्तुत प्रगति
रिर्पोट्स में भी दी जाती रही है। इसी वजह से यूनियन के चुनावों में
विलम्ब हो गया है। लेकिन अगले दो माह में यूनियन की नयी सदस्यता एवं
नवीनीकरण के उपरान्त चुनाव करवा दिये जायेंगे।
       
एच.यू.जे. के प्रदेशाध्यक्ष संजय राठी ने आरोप लगाते हुए कहा कि
एन.यू.जे. की ओर से सदस्यता एवं नवीनीकरण के फार्म राष्ट्रीय मुख्यालय
जन्तर-मन्तर का पता देकर छपवाना बेहद अनैतिक एवं असंवैधानिक कार्य किया
गया। इसके अलावा बिना प्रदेश इकाई को विश्वास में लिये चुनाव अधिसूचना
जारी कर देना एच.यू.जे. की स्वायतता पर सीधा हमला है। इसके अलावा
एच.यू.जे. पर बिना किसी ठोस आधार के मिथ्या एवं मनघडन्त आरोप लगाया जाना
भी निन्दनीय कृत्य है। हमारा पक्ष जाने बिना एन.यू.जे. पदाधिकारियों की
उक्त कार्यवाही अनुचित व असंवैधानिक है, इसलिये इस पत्र को तुरन्त निरस्त
किया जाये।

मूल खबर….

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *