बिहार चुनाव परिणामों के गलत पूर्वानुमान के लिए एनडीटीवी और टुडेज चाणक्या ने माफी मांगी

बिहार विधानसभा चुनाव के लिए पांचवें और अंतिम चरण के मतदान के बाद आए विभिन्न एक्जिट पोल ने भाजपा नेतृत्व वाले राजग को स्पष्ट बहुमत मिलने की बात कही थी वहीं कुछ ने महागठबंधन और राजग में कड़ी टक्कर की बात कही थी, लेकिन किसी ने भी नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले गठबंधन को इतनी बड़ी जीत मिलने की संभावना नहीं जताई थी। लोकसभा चुनाव और दिल्ली विधानसभा चुनाव 2013 में लगभग सही नतीजे दिखाकर अपनी साख बनाने वाले ‘टुडेज चाणक्य’ ने बिहार विधानसभा चुनाव में भाजपा नेतृत्व वाले राजग को 155 सीटें देने के लिए सभी से माफी मांगी।

चाणक्य ने अपने आधिकारिक हैंडल पर ट्वीट किया, ‘हम पूरी ईमानदारी से अपने सभी मित्रों और शुभचिंतकों से, बिहार का पूर्वानुमान नहीं लगा पाने के लिए माफी मांगते हैं। विजेता गठबंधन के दलों को बहुत-बहुत बधाई।’ एनडीटीवी ने भी अपने पूर्वानुमान तथा शुरुआती रूझान में खामियों के लिए माफी मांगते हुए इसके लिए गलत आंकड़ों को जिम्मेदार ठहराया है। प्रणव रॉय ने एनडीटीवी पर कहा, ‘जमीनी स्तर की एजेंसी से प्राप्त आंकड़ें सामान्य तौर पर विश्वसनीय होते हैं.. वो गलत थे और ऐसा हुआ। हम देख रहे हैं कि कहां गलती हुई। हम जिम्मेदारी लेते हैं और पूरी ईमानदारी से माफी चाहते हैं।’

बिहार चुनाव परिणामों को लेकर अधिकांश न्‍यूज चैनलों के सभी अनुमान ध्‍वस्‍त हो गए। अधिकांश चैनलों के विशेषज्ञों का भी लाइव टेलिविजन के दौरान आंकड़ों का आकलन गलत साबित हुआ। बिहार चुनाव के परिणामों के गलत पूर्वानुमानों के लिए एनडीटीवी ने सबसे पहले औपचारिक रूप से माफी मांगी है। चैनल की वेबसाइट पर एनडीटीवी के चेयरमैन डॉ. प्रणॉय रॉय ने अपना बयान भी जारी किया है। इस बयान में डॉ. प्रणॉय रॉय का कहना है कि पिछले 30 सालों से एनडीटीवी ने चुनाव की खबरों और विश्‍लेषणों को बेहतरीन तरीके से प्रस्‍तुत करने का प्रयास किया है। उनका कहना है, ‘चुनाव परिणाम से पूर्व अनुमान और नतीजों को लेकर हमने हमेशा से सही चीजें रखने की कोशिश की है। इस बार आंकड़ों में कुछ गलती रह गई, जिसे इतनी गंभीरता से नहीं लेना चाहिए। कई बार चीजें सही होती हैं तो कई बार गलत हो जाती हैं। मतदान सर्वेक्षक की जिंदगी में यह सब होता रहता है।’

उन्‍होंने उदाहरण देते हुए बताया कि इस साल पूरे विश्‍व के लिए चुनाव की दृष्टि से यह साल सही नहीं था। यूनान से लेकर तुर्की तक सब पूर्वानुमान गलत साबित हुए। डॉ. रॉय ने कहा, चुनाव परिणामों को लेकर पिछली बार इतनी बड़ी गलती तब हुई थी जब कई साल पहले एनटी रामाराव भारी मतों से जीते थे। हालांकि तब भी हमसे गलती हुई थी लेकिन यह उतनी बड़ी नहीं थी जितनी की इस बार है। इस बार हमने अपनी तरफ से बेहतर प्रयास किया और सैंपल साइज भी बड़ा लिया तथा प्रत्‍येक विधानसभा क्षेत्र में गए। इसका मतलब यह रहा है कि हम वोटों को सीटों के अनुसार नहीं रख पाए। इस बार डाटा जिस एजेंसी से लिए गए वह काफी भरोसेमंद है, लेकिन उसके डाटा गलत साबित हुए। अब हम यह जानने की कोशिश कर रहे हैं कि यह गलती क्‍यों हुई। हम इसकी जिम्‍मेदारी लेते हैं और इसके लिए खेद प्रकट करते हैं।

डॉ. रॉय के अनुसार, मतगणना वाले दिन सभी न्‍यूज चैनल्‍स एक ही एजेंसी से डाटा प्राप्‍त करते हैं। इस बार सभी चैनल्‍स को जो पहला डाटा मिला, वह पूरी तरह गलत था। हमारा विश्‍लेषण इस डाटा के आधार पर था और ऐसा करीब 35 सालों से होता आ रहा है लेकिन इस तरह की गलती कभी नहीं हुई। हमने भाजपा को आगे बताया था क्‍योंकि डाटा ऐसा ही दर्शा रहे थे। लेकिन अचानक ही यह डाटा गलत साबित हो गए। लगभग सभी चैनलों के डाटा आधे रास्‍ते में जाकर बदल गए। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था। हमने एजेंसी से इसका जवाब मांगा है और हमें पता चला है कि वे हमें इसका जवाब देंगे और बताएंगे कि गलती कहां पर हुई।

डॉ. प्रणॉय रॉय ने इस बयान में कहा है, ‘हम आपसे, अपने दर्शकों से इस गलतफहमी के लिए खेद जताते हैं। एनडीटीवी और मेरा उद्देश्‍य हमेशा से लोगों को सही और तथ्‍यपरक समाचार उपलब्‍ध कराना रहा है। हमारे ऊपर भरोसा करने के लिए धन्‍यवाद और इसे ऐसे ही बनाए रखिए।’

एक्सिस एड-प्रिंट-मीडिया का आकलन सही साबित हुआ

इस बार चुनाव नतीजों के पूर्वानुमान के मामले में केवल एक्सिस एड-प्रिंट-मीडिया (इंडिया) का एग्जिट पोल सटीक साबित हुआ है। एक्सिस एड-प्रिंट-मीडिया (इंडिया) लिमिटेड का इकलौता ऐसा एग्जिट पोल है जिसने कहा था कि राजग को 58 से 70 सीट मिल सकती हैं और महागठबंधन को 169 से 183 सीट पर जीत मिल सकती है। टीवी न्यूज चैनल एनडीटीवी के एग्जिट पोल में राजग को 120-130 सीट दी गई थीं। महागठबंधन को 10-115 सीट मिलने का अनुमान जताया गया था। दैनिक जागरण के सर्वे ने राजग को 130 और महागठबंधन को 97 सीटें दी थीं।

एबीपी न्यूज-नीलसन के एग्जिट पोल में राजग को 130 और महागठबंधन को 108 सीटें दी गई थीं। इंडिया टुडे-सिसेरो ने राजग को 120 और महागठबंधन को 117 सीटें मिलने का अनुमान जताया था। टाइम्स नाउ ने सी-वोटर के सहयोग से दिखाए गए एक्जिट पोल में 243 सदस्यीय विधानसभा में से 122 सीटें महागठबंधन को दी थीं जबकि ‘न्यूज एक्स’ ने महागठबंधन को 130 से 140 सीटें मिलने की संभावना जताई थी। इन दोनों चैनलों ने क्रमश: राजग को 111 और 90 से 100 सीटें मिलने का अनुमान लगाया था। इंडिया टूडे-सिसेरो के एक्जिट पोल में भाजपा, लोजपा, हम (सेक्यूलर) और रालोसपा वाले राजग को 113-127 सीटें मिलने की संभावना जताई गई थी जबकि जदयू नीत महागठबंधन को 111 से 123 सीटें दी थीं।

हिन्दी चैनल इंडिया टीवी ने जदयू वाले महागठबंधन को 112-132 और राजग को 101-121 सीटें दी थीं। न्यूज नेशन चैनल ने नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले महागठबंधन को 120-124 सीटों के साथ सामान्य बहुमत मिलने की तथा राजद को 115-119 सीटें मिलने की बात कही थी। एबीपी-निल्सन ने जदयू गठबंधन को 130 सीटें दी थीं और राजग को 108। आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता और चुनाव विश्लेषक योगेंद्र यादव और कुछ अन्य चुनाव सर्वेक्षण एजेंसियों ने नीतीश-लालू के महागठबंधन को बहुमत मिलने की संभावना जताई थी।

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *