मृणाल के ट्वीट में ऐसा कुछ नहीं जिससे हमें या आपको शर्मिंदा होना पड़े!

Sandeep Maurya : मृणाल पांडेय द्वारा किए गए ट्वीट में ऐसा कुछ नहीं था जिससे हमें या आपको शर्मिंदा होना पड़े। एक प्रधानमंत्री जो गालीबाज़ों, रेप की धमकी देने वालों, गुंडों और मवालियों को ट्विटर पर फॉलो करे। देश दुनिया की मीडिया द्वारा ख़बर करने के बावजूद, आलोचना के बाद भी उन्हें अनफॉलो न करे, उसके प्रति मृणाल पांडे के इस नज़रिए से मुझे कोई आपत्ति नहीं।

मृणाल को घेरने वाले क्या नहीं जानते कि आज जिस भाषा में राजनैतिक विमर्श हो रहा है उसकी शुरूआत कहां से हुई। क्या उन्हें नहीं पता कि प्रधानमंत्री की बोली-भाषा, हावभाव, कटाक्ष, व्यंग्य किस दर्जे का हुआ करता है। जिस पद की गरिमा का 2014 के आम चुनावों के बीच चीरहरण किया गया, क्या हरण करने वालों के बारे में हमें नहीं पता। असल में हमें पता है, हम जानते हैं लेकिन हम सब उन बेबस और कमज़ोर भारतीय माँ बाप की तरह हैं जो दबंग द्वारा पीटे गए अपने ही बच्चों को डांट फटकार देते हैं।

भगवा खेमा काउंटर अटैकिंग करता है। वह बताता है कि देखिए, मृणाल भी वैसी हैं। कैसी हैं, मृणाल यह हमें पता है। मृणाल, वैचारिक विरोध करते वक्त माँ बहन की गाली नहीं देती, मृणाल अपने राजनीतिक पक्ष की आलोचना पर जान से मारने की बात नहीं करती। इतना भी क्षमाप्रार्थी नहीं होना चाहिए, कि उन्हें (भगवा खेमा) फ्री हिट दे दिया जाए। और फिर जिस प्रधानमंत्री के लिए मेरे उदारवादी मित्र छाती पीट रहे हैं उसी प्रधानमंत्री ने देश के पूर्व उपराष्ट्रपति के विदाई समारोह में उन्हें ट्रोल किया था। कई बार हम, अति नैतिकतावादी बन जाते हैं या फिर इस बहाने चीज़ों को बैलेंस करना चाहते हैं। जो भी हो, मैं वरिष्ठ पत्रकार, हिंदुस्तान समाचार पत्र की पूर्व चीफ एडिटर तथा प्रसार भारती की पूर्व चेयरपर्सन के पक्ष में खड़ा हूं।

युवा पत्रकार संदीप मौर्या की एफबी वॉल से.

ये भी पढ़ें…

xxx

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “मृणाल के ट्वीट में ऐसा कुछ नहीं जिससे हमें या आपको शर्मिंदा होना पड़े!

  • sanjay saxena Journalist says:

    मृणाल जी वरिष्ठ पत्रकार हैं। उनको ऐसी फोटो नहीं लगानी चाहिएं थीं। इससे पीएम की साख तो कम नहीं होगी, हाॅ मृणाल जी की गरिमा जरूर कम दिखाई दी

    Reply
  • sanjay saxena Journalist says:

    मृणाल जी वरिष्ठ पत्रकार हैं। उनको ऐसी फोटो नहीं लगानी चाहिएं थीं। इससे पीएम की साख तो कम नहीं होगी, हाॅ मृणाल जी की गरिमा जरूर कम दिखाई दी

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *