डॉ. वीरेन्द्र आज़म ‘डॉ. कृष्ण चन्द्र गुप्त स्मृति सम्मान’ से सम्मानित

सहारनपुर। डॉ. कृष्णचंद्र गुप्त स्मृति न्यास द्वारा आयोजित एक भव्य समारोह में पश्चिमी उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार, साहित्यकार व शीतलवाणी हिन्दी त्रैमासिक के संपादक डॉ. वीरेन्द्र आज़म को आलोचक ‘डॉ. कृष्ण चन्द्र गुप्त स्मृति सम्मान-2019’ से सम्मानित किया गया है। सम्मान में शॉल, स्मृतिचिन्ह और सम्मान राशि भेंट की गयी। उन्हें यह सम्मान प्रख्यात ग़ज़लकार कमलेश भट्ट कमल, अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के गीतकार राजेन्द्र राजन, संस्कृत के विद्वान डॉ. उमाकांत शुक्ल, न्यास के सचिव तुषारकांत व मुजफ्फरनगर के प्रख्यात गीतकार डॉ. बी के मिश्र द्वारा प्रदान किया गया।

रुड़की रोड मुजफ्फरनगर में आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि सांस्कृतिक विखण्डन और मूल्यों के ह्रास के दौर में स्वस्थ पत्रकारिता और जनोपयोगी साहित्य रचने वाले साहित्यकारों को सम्मानित करने की परंपरा को आगे बढ़ाने का जो काम न्यास कर रहा है वह सराहनीय है। वक्ताओं ने कहा कि डॉ. वीरेन्द्र आज़म चार दशक से अधिक समय तक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में स्वस्थ पत्रकारिता के ध्वज वाहक रहे हैं और पिछले एक दशक से साहित्यिक पत्रकारिता में भी उन्होंने नए आयाम स्थापित किये हैं। उनके रुप में यह चुनौतीपूर्ण साहित्यिक पत्रकारिता का सम्मान है। उन्होंने कन्हैयालाल मिश्र प्रभाकर व डॉ. गुप्त के आदर्शों और सिद्धांतों को आगे बढ़ाया है।

मुख्य अतिथि कमलेश भट्ट कमल ने पुरस्कार के लिए न्यास को सही व्यक्ति के चयन पर बधाई दी। डॉ. वीरेन्द्र आजम ने डॉ. गुप्त का भावपूर्ण स्मरण करते हुए उनके साहित्य पर चर्चा की तथा व्यक्तित्व की चर्चा करते हुए उन्हें कर्मयोगी, शब्दशिल्पी, आदर्श शिक्षक, वाणी भूषण और अजातशत्रु की संज्ञा दी। कहा कि डॉ. गुप्त सदैव युवाओं के प्रेरक और मददगार भी रहे। न्यास के संस्थापक अध्यक्ष एन जी मजूमदार, प्रो. जे पी सविता, रोहित कौशिक, अश्वनी खंडेलवाल व मनु स्वामी ने डॉ. गुप्त के अनेक संस्मरण साझा करते हुए उन्हें अपनी भावांजलि दी। अध्यक्षता डॉ. बी के मिश्र ने तथा संचालन अमित धर्मसिंह ने किया। इस अवसर पर डा. वीरेन्द्र आज़म द्वारा सम्पादित ‘शीतलवाणी’ हिंदी त्रैमासिक के “कमलेश भट्ट कमल विशेषांक” का भी लोकार्पण किया गया.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

One comment on “डॉ. वीरेन्द्र आज़म ‘डॉ. कृष्ण चन्द्र गुप्त स्मृति सम्मान’ से सम्मानित”

  • Wahajul Haque says:

    Hearty congratulations to Dr Virendra Azam for this deserved recignition. Dr Azam is a rare journalist. He loves humanity, he loves truth, he upholds moral values. And result is that God upholds him. I wish Dr Azam new heights, new
    Courage, new vision and limitless space to
    Evolve as human consciousness.

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *