कुमार विश्वास और कैलाश खेर ने ब्रह्माकुमारीज के मंच पर खूब जमाया रंग

आबू रोड । आध्यात्म और संगीत का गहरा नाता रहा है, दोनों के संगम का नजारा बहुत ही अद्भूत होता है..ऐसा ही एक शानदार नजारा ब्रह्माकुमारीज के मुख्यालय आबू रोड स्थित शांतिवन में महाशिवरात्रि के दिन दिखा..शिवरात्रि के पावन दिन पर जब सूरों की संध्या सजी तो लोगों में उमंग उत्साह दोगुना हो गया..डायमंड हॉल के मंच पर कवि डॉक्टर कुमार विश्वास और पद्मश्री गायक कैलाश खेर ने ऐसा रंग जमाया मानो ये शाम भूलाए नहीं भूली जाएगी..परमात्मा शिव अवतरण की 86वीं शिवजयंती का दिन संस्थान के लिए ऐतिहासिक रहा…

रियालिटी शो स्वर्ण स्वर भारत की पूरी टीम ब्रह्माकुमारीज के शांतिवन पहुंची…शांतिवन में आयोजित महाशिवरात्रि के कार्यक्रम में चार चांद तब लगे जब सूरों के प्रतिभागियों ने शिव परमात्मा के गीतों से अपनी सुंदर प्रस्तुतियां दी..एक ही मंच पर जहां संगीत ने अपना समा बांधा वहीं आध्यात्म की भी छंटा दिखाई दी…संस्था के वरिष्ठ अधिकारियों ने पहले शिवलिंग पर पुष्प अर्पित किए उसके बाद कार्यक्रम का आगाज हुआ…

अपनी कविताओं से सबका दिल जीतने वाले डॉक्टर कुमार विश्वास ने संस्था की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने भले ही अब तक हजारों प्रोग्राम किए होंगे, लेकिन ब्रह्माकुमारीज का ये आयोजन बिल्कुल अद्भूत और अलग है..उन्होंने कहा कि ऐसा लग रहा है जैसे अब तक जो भी कार्यक्रम उन्होंने किए थे वो धरती पर हुए थे, लेकिन ये कार्यक्रम स्वर्ग में आयोजित हुआ है..यहां के वातावरण में शांति का आलम और आध्यात्मिकता की छंटा है क्योंकि यहां हर कोई नि:स्वार्थ सेवा भाव से कार्य करता है, इसलिए ये संस्था दूसरी संस्थाओं से बिल्कुल अलग है…

वहीं अपने सूफी गानों से मशहूर पद्मश्री गायक कैलाश खेर ने हरि ओम ध्वनि का उच्चारण करते हुए कहा कि पृथ्वी पर एक ऐसा पर्वत है जहां स्वयं परमात्मा विराजमान हैं, वो है आबू पर्वत और वहां ब्रह्माकुमारीज का आश्रम है, ये बहुत ही सौभाग्य की बात है..शांतिवन में आयोजित कार्यक्रम का नजारा देखकर उन्होंने कहा कि आज सही माइने में संगीत और आध्यात्म का मिलन हुआ है, लोगों की भीड़ देखकर उन्होंने कहा कि लग रहा है वे देव लोक में बैठे हैं…ये आम जनसभा नहीं लग रही है..उन्होंने अपने गीतों से सबका मन जीत लिया..

उसी मंच पर सिंगिंग रियालिटी शो स्वर्ण स्वर भारत का टाइटल ट्रैक का एंथम सॉन्ग भी लॉन्च किया गया, इस वीडियो में स्वर्णिम भारत की परिकल्पना की तस्वीर दिखाई गई है…शो के प्रतिभागियों ने ईश्वर एक है इस थीम पर अलग अलग गीत गाए, कोई प्रतिभागी दक्षिण भारत से आया, तो कोई यूपी से तो कोई किसी और प्रांत से, कोई हिंदू है तो कोई मुस्लिम..

कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारीज संस्थान की अतिरिक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके जयन्ति ने कहा कि परमात्मा शिव ने हमें इस दुनिया में एक ऐसा जीवन दिया है। जिससे हमारे अन्दर दिव्यता आ जाती है। इसलिए आज के दिन हम परमात्मा शिव के उपर अपने बुराईयों को अर्पण करें।

ये भी रहे उपस्थित: इस विशाल कार्यक्रम में संस्थान की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी बीके मुन्नी, अतिरिक्त महासचिव बीके निर्वैर, कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय, मीडिया प्रभाग के अध्यक्ष बीके करूणा, जी टीवी की सीसीओ अपर्णा भोंसले, अनुराधा भोंसले, फैथम पिक्सर्च के सीईओ साथ राम मिश्रा, क्रियेटीव हेड सतीश, आबू रोड नगरपालिका अध्यक्ष मगनदान चारण, विधान सभा के पूर्व उपमुख्य सचेतक रतन देवासी, आबू रोड उपतहसील के तहसीलदार मोहन लाल डांगी, समाजसेवी राजेन्द्र बाकलीवाल, बीके आत्म प्रकाश, डॉ बनारसी समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन सीनियर राजयोगा टीचर बीके अस्मिता ने किया।

किया गया सम्मानित: स्वर्ण स्वर भारत की पूरी टीम को बेहतरीन प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया। इस अवसर पर उन्हें मोमेंटों और प्रशस्ति पत्र दिये गये।



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code