इलाहाबाद के नवाबगंज में जातीय संघर्ष, वृद्धा की मौत, कई वाहन क्षतिग्रस्त

29h

इलाहाबाद। जिले के गंगापार के नवाबगंज इलाके में मामूली विवाद ने जातीय संघर्ष का रूप धारण कर लिया। दो गुटों में जमकर घंटों बवाल हुआ। तीन से ज्यादा लोग घायल हो गए। एक वृद्धा की मौत हो गई। चार मुर्गी और दो बकरियों को भी जान गंवाई पड़ी। इस दौरान एक डीसीएम ट्रक और बोलेरो को भी तोड़फोड़ कर क्षतिग्रस्त कर दिया गया है। घटना रविवार देर रात की है।

सोमवार को दोपहर गुस्साए ग्रामीणों ने महिला की लाश लेकर लखनऊ-इलाहाबाद राष्ट्रीय राजमार्ग पर सड़क जाम कर दिया। ग्रामीणों ने घटना के लिए स्थानीय पुलिस को जिम्मेदार ठहराते हुए एसओ नवाबगंज और चैकी इंचार्ज मंसूराबाद को हटाने की मांग को लेकर नारेबाजी की। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे सीओ सोरांव ने ग्रामीणों को समझा बुझाकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद ग्रामीणों ने सड़क से जाम हटाया। मृतका की बहू की तहरीर पर नवाबगंज थाने में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
 
बवाल की शुरूआत रविवार शाम करीब छह बजे एक बच्चे के बाग में अमरूद तोड़ देने के बाद हुई। बताया जा रहा है कि वृक्षलाल सरोज के छह वर्षीय पुत्र लकी ने गांव में स्थित बाग से एक अमरूद तोड़ लिया। बाग की रखवाली कर रहे मोहम्मद इमरान ने विरोध किया। इस पर दोनों पक्षों में पहले कहासुनी हुई। आसपास के लोगों के बीच बचाव से उस समय कहासुनी शांत हो गई।

रात करीब साढ़े सात बजे गांव के करीब आधे दर्जन लोग लाठी-डंडे से लैस होकर आए और एक जाति विशेष को निशाना बनाकर मारपीट शुरू कर दी। देखते ही देखते दूसरे गुट से भी कई लोग लाठी-डंडे के साथ आ गए। मारपीट और तोड़फोड़ शुरू कर दी। इस दौरान जो भी सामने पड़ा उसे पीटा गया। वृक्षलाल सरोज की मड़ही फूंक दी गई। खपरैल मकान में तोड़फोड़ की गई।

7h

इस दौरान विदेशी पासी, राकेश पासी, दलउ, रामखेलावन पासी आदि के मकानों में भी तोड़फोड़ की गई। चैरादेवी नामक बुजुर्ग महिला की मौत हो गई। बहरहाल, दोनो पक्षों ने एक दूसरे पर तोड़फोड़ के आरोप लगाए हैं।

पुलिस चेत जाती तो न होता बवाल

रविवार को शाम झगड़े की शुरूआत होने पर ही ग्रामीणों ने नवाबगंज थाने और मंसूराबाद पुलिस चैकी को फोन पर सूचना दी। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि एक किमी दूर मंसूराबाद चैकी और तीन किमी दूर स्थित नवाबगंज थाने की पुलिस के कान में जूं नहीं रेंगी। ग्रामीणों की नाराजगी है कि तत्काल पुलिस मौके पर आकर प्रभावी कार्रवाई कर दी होती तो शायद बवाल न हो पाता।

बोले अफसर

‘मृतका की पुत्रवधू की तहरीर पर एफआईआर दर्ज कर ली गई है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत की वजह स्पष्ट होगी। दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। प्रभावी कार्रवाई की जाएगी।’ लाल प्रताप सिंह, सीओ सोरांव।

shiva shankar

 

 

इलाहाबाद से वरिष्ठ पत्रकार शिवाशंकर पांडेय की रिपोर्ट। लेखक दैनिक जागरण, अमर उजाला, हिंदुस्तान आदि अखबारों में कई साल कार्य कर चुके हैं। संपर्कः मो-9565694757, ईमेलः Shivas_pandey@rediffmail.com   



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code