मस्जिद की सफाई के लिए फोटो जर्नलिस्ट मनोज अलीगढ़ी सौ फीट उपर मीनार पर चढ़ गए (देखें तस्वीरें)

Manoj Aligadi Presented Example of Communal Harmony… Climbed 100 Feet Minaret of AMU Jama Masjid for Cleaning and Karseva…  In a rare example of communal harmony and brotherhood in hyper sensitive city Aligarh, photo journalist Manoj Aligadi has climbed on the nearly 100 feet mina rate of historic Aliagrh muslim University Jama mosque for cleaning (Karseva) it . He uprooted the grass grown upon the gum bad (tomb) because the grass was weakening the tomb. Manoj Aligadi told that I have under taken this cleaning work under karseva (self service) for enhancing communal harmony and mutual brotherhood.

It may be recalled that presently renovation of AMU Jam mosque is going on and the archeology deaprtment is maikng efforts to keep its heritage shape. Presently Manoj aligadi is engaged in preserving historical places of district. It is due to that Manoj Aligadi has taken uip task of cleaning AMU Jam Masjid tomb. He has studied Aliagrh fort and many other buildings in Aligarh.

एएमयू स्थित जामा मस्जिद की मीनार से पेड़ उखाड़ कर सफाई करते फोटो जर्नलिस्ट मनोज अलीगढ़ी।

वरिष्ठ फोटोजर्नलिस्ट मनोज अलीगढ़ का अलीगढ़ जनपद की ऐतिहासिक महत्व की जगहों और पर्यटन स्थलों के संरक्षण कार्यक्रम का पड़ाव पिछले दिनों एएमयू के सुप्रसिद्ध जामा मस्जिद पर दिखा। इस पवित्र और ऐतिहासिक धार्मिक स्थल का उन्होंने मौका मुआयना किया। इस दौरान उन्होंने धार्मिक स्थल की पवित्रता और गरिमा बनाए रखने में पूरी सावधानी बरती। ये अपनी टीम को नीचे छोड़ कर अकेले करीब सौ फीट ऊंची मीनार पर पहुंचे।

मस्जिद की छत पर कूड़ा-करकट था और पौधे भी उग आए थे। इससे मीनार की छत को भविष्य में क्षति हो सकती थी। उन्होंने इन पौधों को उखाड़ा और छत पर जमा कूड़े-करकट को इकट्ठा करके फेंका। उसके बाद अध्ययन शुरू किया। इस काम के जरिए उन्होंने साम्प्रदायिक सदभावना और साम्प्रदायिक सौहार्द की अनूठी मिसाल पेश की। इसकी मौजूद लोगों ने तारीफ की। इससे पूर्व मनोज अलीगढ़ी घंटाघर, ऊपरकोट स्थित जामा मस्जिद, अलीगढ़ किला सहित कई पुरानी और एतिहासिक इमारतों को बारीकी से देख चुके हैं। 

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *