महिला आयोग को रजत शर्माओं अनीता शर्माओं ने फिक्स कर घर की दुकान बना दिया है!

Amit Bhaskar : तनु शर्मा के केस में आया नया मोड़। आपसे अनुरोध है की इस नोटिस को शेयर करके वायरल करें ताकि महिला आयोग का असली चेहरा सबके सामने आये और तनु शर्मा इस जंग में अकेली न पड़े। जैसे जैसे समय बीतता जा रहा है, इंडिया टीवी के अधिकारियों का हौसला बढ़ता जा रहा है और उनकी सबसे बड़ी ताकत बन रही है इस खबर का ज्यादा से ज्यादा लोगों को पता न होना। आपके हिसाब से महिला आयोग का काम क्या होता है? पीड़ित महिला के साथ कंधे से कंधा मिलकर खड़े रहना? आरोपियों के मनोबल को न बढ़ने देना? आरोपियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्यवाही करना? यही न?

लेकिन तनु शर्मा के केस में महिला आयोग इसके उलट काम कर रही है। दिल्ली कमीशन फॉर वोमन इंडिया टीवी के आरोपियों के साथ कंधे से कंधा मिलकर काम कर रही है। कैसे? दरअसल मीडिया में बात न आता देख इंडिया टीवी के अनीता शर्मा का मनोबल बढ़ गया और मैडम ने उलटे तनु शर्मा और उनके परिवार के खिलाफ दिल्ली महिला आयोग में शिकायत करवा दी। तनु शर्मा के परिवार के एक मेम्बर अमित के ऑफिस में महिला आयोग का सम्मन आया। इस नोटिस में बस इतना कहा गया है कि इसी महीने की 8 तारीख को उन्हें महिला आयोग के समक्ष पेश होना है और ऐसा न करने पर उनके खिलाफ कार्यवाही की जाएगी।

गौर करने वाली बात ये है कि इस नोटिस में उनकी पेशी का कोई कारण नहीं बताया गया है। बस कहा गया है कि आपको आयोग में आना होगा। दूसरी समस्या ये कि अमित को ये नोटिस ऑफिस में आया जहां सभी फॉर्मेलिटी के बाद उन्हें ये नोटिस 9 जुलाई को मिला यानी 8 तारीख को महिला आयोग में पेश होने की तारीख पहले ही निकल चुकी है।

तनु शर्मा की कई शिकायतों पर एक भी कार्यवाही नहीं हुई पर आरोपियों के एक शिकायत पर पीड़िता को सम्मन मिल गया। अब आप बताइये महिला आयोग किसके लिए काम कर रही है? क्या महिला आयोग के इस दोगलेपन के साथ महिलायों का भला होगा? क्या महिला आयोग के अब तक उठाये गए कदम पर शक नहीं होता अब? किसपे भरोसा करें?

सोशल एक्टिविस्ट और सोशल मीडिया जर्नलिस्ट अमित भास्कर के फेसबुक वॉल से.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Comments on “महिला आयोग को रजत शर्माओं अनीता शर्माओं ने फिक्स कर घर की दुकान बना दिया है!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code