मीडिया कर्मियों को जोड़ने का मंच है ‘पत्रकारिता कोश’

पत्रकारिता कोश – 2016 का विमोचन सम्पन्न

मुंबई : नवसाक्षरों में पढ़ने की प्रवृत्ति बढ़ने से मीडिया भी तेजी से बढ़ा है और इसकी भूमिका में भी विस्तार हुआ है, ऐसी स्थिति में पत्रकारिता कोश पिछले 16 सालों से लगातार मीडिया कर्मियों को जोड़ने का मंच बना हुआ है। यह उदगार मुम्बई की हिंदी पत्रकारिता के गुरु के रूप में सुपरिचित व प्रथम सांध्य दैनिक निर्भय पथिक के सम्पादक अश्विनी कुमार मिश्र ने व्यक्त किए। वे मंगलवार दि. 26 जुलाई को केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान तथा श्रुति संवाद साहित्य कला अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज भारत की प्रथम मीडिया डायरेक्टरी- पत्रकारिता कोश के 16वें अंक के विमोचन समारोह में प्रमुख अतिथि के रूप में बोल रहे थे। इस अवसर पर केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान के निदेशक व समारोह अध्यक्ष डॉ. पी.जी.पाटील ने कहा कि पत्रकारिता कोश विशाल मीडिया की सूचनाओं के मामले में परिपूर्ण कोश है। 

आफताब आलम द्वारा संपादित इस अखिल भारतीय कोश के लोकार्पण समारोह में मंच पर प्रमुख अतिथि कुंदन व्यास (संपादक, जन्मभूमि समूह), संजय सिंह (कार्यकारी संपादक, जी न्यूज), राघवेंद्र द्विवेदी (कार्यकारी संपादक, हमारा महानगर), अभिजीत राणे (समूह संपादक, म़्ंबई मित्र/वृत्त मित्र), डॉ. एम.एच. अंसारी (संपादक, क़ौमी पैगाम), सरफराज आरजू (संपादक, रोजनामा हिंदुस्तान) के रूप में विराजमान थे। उसी प्रकार, सम्माननीय अतिथि डॉ. जवाहर कर्नावट (उप महाप्रबंधक, बैंक ऑफ बड़ौदा), रामगोपाल सागर (सहायक महाप्रबंधक, यूनियन बैंक), श्रीमती वंदना शर्मा (वरिष्ठ प्रबंधक, बैंक ऑफ महाराष्ट्र), डॉ उमाकांत बाजपेयी (निदेशक, आशीर्वाद), डॉ. वैभव देवगिरकर (मेडिकल डायरेक्टर, हिंदू सभा अस्पताल), अभिलाष अवस्थी (प्रधान संपादक, दक्षिण मुंबई), एड विजय सिंह(अध्यक्ष, हम लोग) तथा डॉ. देवेंद्र शुक्ल (संचालक, आईआईटी माइंड्स) मौजूद थे। कार्यक्रम की शुरुआत कवि रवि यादव की सरस्वती वन्दना तथा दीप प्रज्ववलन से हुई।

कुंदन व्यास ने मीडिया जगत में पत्रकारिता कोश के योगदान को रेखांकित किया। राघवेंद्र द्विवेदी की राय में यह एक अभिनव उपक्रम है जिसका ध्येय पत्रकारिता के शाश्वत मूल्यों की रक्षा करना है। संजय सिंह ने कहा कि हर क्षेत्र की तरह मीडिया जगत में भी बदलाव आया है। लिहाजा इसे प्रोफेशनल बनाना होगा। सरफराज आरजू ने सम्पादक आफताब आलम की टीम की निस्वार्थ सेवा को जोड़ने का जरिया बताया। अभिजीत राणे ने इसे पत्रकारिता जगत का महाकोश बताया। डॉ. एम एच अंसारी ने इसे पत्रकारिता जगत का अनूठा कोश बताया और इसे निरंतर प्रकाशन पर अपनी शुभकामनाएं दीं।

समारोह में श्रुति संवाद साहित्य कला अकादमी द्वारा केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान में राजभाषा हिंदी के कार्यान्वयन में उल्लेखनीय योगदान के लिए वरिष्ठ तकनीकी अधिकारी सुश्री किरण जोशी का सम्मान प्रशस्ति पत्र, शॉल व पुष्पगुच्छ द्वारा किया गया। उसी प्रकार, पत्रकारिता कोश के सहायक सम्पादक राजेश विक्रांत तथा अखिलेश मिश्र ने कोश क़ी विविध प्रकार की जानकारियों के  संकलन कार्य में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए श्री विशाल सिंह (एसोसिएट प्रोड्यूसर, जय महाराष्ट्र चैनल) तथा श्री दीपक उपाध्याय (प्रबंध संपादक, क्राइम रिपोर्टर्स टीवी न्यूज) को क्रमशः मुंबई व पालघर जिला के लिए श्रेष्ठ सूचना ब्यूरो के रूप में प्रशस्ति पत्र, शॉल व पुष्पगुच्छ देकर सम्मानित किया।

इस अवसर पर यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के वरिष्ठ प्रबंधक (राजभाषा) श्री एस.एस.यादव,  उर्दू दै. सहाफत के कार्यकारी संपादक जावेद जमाल, राकांपा के युवा नेता घनश्याम गुप्ता, अग्निशिला के संपादक व आरटीआई एक्टिविस्ट अनिल गलगली, अनुष्का पत्रिका के संपादक रासबिहारी पांडेय, लेखक गिरीधर बलोदी, क्राइम रिपोर्टर्स वेलफेअर एसोसिएशन के अध्यक्ष राज शर्मा, इंटरनेशनल प्रेस कम्युनिटी के अध्यक्ष डॉ. परमिंदर पांडेय, क्राइम फेस के संपादक सुभाष पांडेय, राजस्थान पत्रिका के मुंबई ब्यूरो श्री रोहित तिवारी, मुंब्रा दर्पण समाचार के संपादक सुल्तान रिज्वी, खबरें पूर्वांचल के संपादक रवीन्द्रकुमार दुबे, दोपहर का सामना के संवाददाता पुष्पराज मिश्र, न्यू कांतिदूत टाइम्स के उपसंपादक हिमांशु विश्वकर्मा, हास्य व्यंग्य कवि डॉ.मुकेश गौतम, निरंकुश कलम के संपादक जाफर शेख, शोध शक्ति के संपादक पवन कुमार तिवारी, लेखक सलाम शेख, मीडिया समाचार की संपादक विद्या पवन दुबे, दबंग दुनिया के पत्रकार नामदार राही, आईईइन चैनल के सीईओ सुरजीत सिंह, विकलांग की पुकार के कार्यकारी संपादक सरताज मेहदी, डॉ.एस.एम.एच.रिज्वी, शेख एजाज हुमायूं कबीर, फैजुल शेख, राजेश जायसवाल, आदि का भी सम्मान किया गया। समारोह की प्रस्तावना केंद्रीय कपास प्रौद्योगिकी अनुसंधान संस्थान की वरिष्ठ तकनीकी अधिकारी सुश्री किरण जोशी ने रखा।

कार्यक्रम का संचालन डॉ. अनंत श्रीमाली (सहा. निदेशक, केंद्रीय हिंदी प्रशिक्षण उप संस्थान) ने किया जबकि आभार ज्ञापन श्रुति संवाद साहित्य कला अकादमी के अध्यक्ष अरविंद राही ने किया। इस अवसर पर पत्रकार डॉ वीरेंद्र मिश्र, लक्ष्मी यादव, महेश शर्मा, स्पर्श देसाई,  प्रेम चौबे, शिवकुमार शुक्ला, दिनेश शर्मा, सुनील मिश्र, कवि रमेश श्रीवास्तव, विनय शर्मा दीप, घनश्याम दुबे, श्रीनाथ शर्मा, रुस्तम घायल, छायाकार राजेश जायसवाल व सरफराज, नीलेश पाठक, प्रीतम सिंह त्यागी, डॉ जे पी बघेल, रफीक अंसारी समेत साहित्य, पत्रकारिता, कला व समाजसेवा की अनेक विभूतियां मौजूद रहीं।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *