मजीठिया भाग-8A : क्यों चाहिए 44 महीने की नौकरी और 15 लाख रुपए एरियर

 मजीठिया वेतनमान के लिए पात्र पत्रकारों के ध्यानार्थ यहां एरियर राशि को सोदाहरण एक चार्ट के माध्यम से दर्शाया जा रहा है। इसका एकमात्र उद्देश्‍य है कि अभी तक जो पत्रकार इस गफलत में थे कि उन्हे तो इस संस्‍थान में आए हुए मात्र तीन-चार साल ही हुए हैं तो उनका एरियर बनेगा ही कितना या उनके नए वेतनमान में क्‍या अंतर आएगा। इस विस्तार से इस प्रकार जान सकते हैं – 

1. संस्थानः A Grade/City’X’, पद: मुख्‍य उपसंपादक, पेज डिजाईनर आदि (अनुबंध कर्मी या स्‍थायी कर्मी), date of joining 01-Nov 2011, भर्ती के समय वेतन – 18,680 (ग्रॉस सैलरी), जून 2015 में वेतन – 26,520 (ग्रॉस सैलरी)…… 

मजीठिया वेजबोर्ड लागू होने पर, November 2011, Basic = 19,000, Gross Salary = 50,178, June 2015, Basic = 21,373, Gross€ Salary = 67,324, Arrears from November 11, 2011 to June 31, 2015, Net Payable = 14,23,227, PF Diff = 97,937, Gross Arrears Payable = 15,21,164

उपरोक्‍त एरियर में रात्रि भत्‍ता भी शामिल है।

2. पद- कनिष्‍ठ उप संपादक, आदि, संस्थानः A Grade/City’X’, 30 महीने की नौकरी में 6 लाख रुपये एरियर। इसमें रात्रि भत्‍ता शामिल नहीं है। (पिछले एक साल से एक अन्‍य समाचारपत्र में कार्यरत, यदि ये आज पुराने समाचारपत्र में ही होते तो इनका मजीठिया के अनुसार वेतनमान लगभग 45 हजार रुपये तक पहुंच जाता है।)

3. सहायक लेखाकार (Assistant Accountant)/Chief cashier etc. संस्थानः A Grade/City’Y’, इनका मात्र 44 महीने का कार्यकाल पूरा होने पर 10 लाख रुपये का एरियर बन रहा है। इस विभाग की ड्यूटी दिन में होती है इसलिए एरियर में रात्रि भत्‍ते की राशि नहीं जुड़ी हुई। मजीठिया के अनुसार जून 2015 की ग्रॉस सैलरी 41,627 रुपये हो जाएगी।

इसी तरह ग्रेड ए सिटी वाई श्रेणी में कार्यरत ड्राइवर और चपरासी यदि आज की डेट में वेतन के रुप में 8,500 रुपये पा रहे होंगे तो उनका एरियर रात्रि भत्‍ते समेत क्रमश: 9 लाख और 8 लाख रुपये होगा। यह नवंबर 2011 में भर्ती साथियों का एरियर है।

इसी तरह इतने ही वेतन में कार्यरत जेड श्रेणी के शहर में कायर्रत ड्राइवर और चपरासी का एरियर रात्रि भत्‍ते समेत क्रमश: 8 लाख और 7.3 लाख रुपये होगा। यह नवंबर 2011 में भर्ती साथियों का एरियर है।

इसी तरह 11 हजार के वेतन में कार्यरत जेड श्रेणी के शहर में कायर्रत फैक्‍ट्री कर्मियों में समूह चार (कन्‍वेयर स्‍ट्रीकेट मशीन-मैन, मिस्‍त्री, पेस्‍ट अप मैन, प्‍लम्‍बर आदि को) के साथियों का एरियर रात्रि भत्‍ते समेत लगभग 7.3 लाख रुपये होगा। यह नवंबर 2011 में भर्ती साथियों का एरियर है।

हम मजीठिया के बारे में क्‍यों सोचें

यह ही हाल नवंबर 2011 के बाद दो-तीन साल के लिए किसी समाचारपत्र में कार्य करने के बाद इस्‍तीफा देकर किसी अन्‍य समाचारपत्र में चले गए साथियों की सोच में हैं। कुछ साथियों की सोच में यह भी है कि छोड़ो यार एरियर में क्‍या रखा है मैं अब नई जगह नौकरी कर रहा हूं। कहीं पुराना संस्‍थान मेरी नई नौकरी में अंगड़ा न डाल दें। साथियों इस सोच से बाहर आओ देखो आपके ही बहुत से साथी नए संस्‍थान में काम कर रहे हैं और साथ में पुराने संस्‍थान से मजीठिया के अनुसार एरियर मांगने  के लिए सुप्रीम कोर्ट, हाईकोर्ट, जिला कोर्ट या जिला श्रम कार्यालयों में लड़ाई लड़ रहे हैं। 

इस डर से बाहर आओ और अपने हक का लाखों रुपये का एरियर अपने पुराने संस्‍थानों से लेने के लिए जिला श्रम कार्यालयों में प्रपत्र-सी 24 फीसद ब्‍याज की मांग के साथ भरकर दो। और जिन साथियों को संस्‍थान में प्रताड़ित किया गया हो, वह इसके लिए हर्जाने का दावा भी पेश कर सकते हैं।

नोट-

1.  प्रपत्र-सी को अनुबंध कर्मी भी भर सकते हैं। उनका और स्‍थायी कर्मियों को मिलना वाला लाभ एक समान ही होगा। इसमें कोई भी अंतर नहीं आएगा। ध्‍यान रखें आप आज की तिथि में जो वेतन प्राप्‍त कर रहे हैं, उससे ज्‍यादा वेतन तो आप दूसरे स्‍थान में भी पा सकते हैं। तो अपना लाखों रुपये का एरियर छोड़ने का कोई तुक ही नहीं बनता। और जब आप एकजुट होकर अपना हक मांगेंगे तो प्रबंधन भी आपको प्रताड़ित करने से पहले चार बार सोचेगा।

2. अंशकालिक प्रतिनिधियों/संवाददातओं या फोटोग्राफरों को मजीठिया वेजबोर्ड के अनुसार स्‍थायी कर्मियों के मूल वेतन के न्‍यूनतम 40 फीसदी भुगतान प्राप्‍त होगा। (अधिक जानकारी के लिए हिंदी में मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशें देखें पेज नंबर 14 और 41 पर)

3. जिन समाचारत्रपत्र या पत्रिका कोई भी कर्मचारी अभी तक अदालत या श्रम कार्यालय की शरण में नहीं गया है वह भी प्रपत्र-सी को भर सकता है।

4.  दैनिक जागरण, भास्‍कर, उमर उजाला, नवभारत, हिंदुस्‍तान, राजस्‍थान पत्रिका आदि की बेवसाइट पर कार्यरत साथी भी  मजीठिया वेजबोर्ड के लिए प्रपत्र-सी भर सकते हैं।

5. प्रपत्र-C (Form C) जमा करवाने के बाद श्रम कार्यालय की मोहर,  हस्‍ताक्षर और तिथि लगी पावती या प्रतिलिपि अवश्‍य लें।  

6. जिन साथियों का कॉमर्स का ज्ञान अच्‍छा है और वे जल्‍द ही अपने एरियर के बारे में जानना चाहते हैं, तो वे इस फाइल को डाउनलोड कर सकते हैं। जिसमें पीटीआई के एक साथी का नवंबर 2011 से जून 2015 तक वेतनमान दिया गया है। इसमें नियमानुसार वेतन की गणना की गई है। इससे अब तक का डीए भी निकल जाएगा। बाकी साथी थोड़ा इंतजार करें। ( तकनीकी दिक्‍कत की वजह से हम इस फाइल (pti3.jpg) को अपलोड नहीं कर पाए। आप इसे प्राप्‍त करने के लिए हमें मेल भी कर सकते हैं। आपकी पहचान गुप्‍त रखी जाएगी।)  

एरियर की गणना कैसी होगी, आपका डीए कैसे निकलेगा इसके लिए जल्‍द ही आपके समक्ष होगा ‘हमें क्‍यों चाहिए मजीठिया भाग 10’। इसके साथ ही पीटीआई डीए और पीएफ की गणना में नवभारत टाइम्‍स, टाइम्‍स आफ इंडिया आदि से बेहतर क्‍यों हैं इस भी डालेंगे रोशनी।

7. 1955 अधिनियम की धारा 13 में स्‍पष्‍ट है कि सभी कर्मियों को वेजबोर्ड की सिफारिशों के अनुसार बनने वाले वेतनमान से किसी भी दशा में कम वेतन नहीं मिलना चाहिए। इसलिए यदि किसी भी संस्‍थान ने आप से जबरदस्‍ती या धोखे से हस्‍ताक्षर करवाएं हैं, तो भी आप प्रपत्र-तीन भरें। यह आपका कानून द्वारा दिया गया हक है। जिस पर समाचारपत्र के मालिक डाका नहीं डाल सकते।

(हिंदी में देखें पेज नंबर 8, jpg फाइल का नंबर act_1955_19.jpg)

श्रमजीवी पत्रकार अधिनियम 1955 (हिंदी-अंग्रेजी) में डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें या निम्‍न Path का प्रयोग करें- https://goo.gl/wdKXsB

मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशें हिंदी में डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें या निम्‍न Path का प्रयोग करें- https://goo.gl/8fOiVD

प्रपत्र-C (Form C) को डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें या निम्‍न Path का प्रयोग करें- https://goo.gl/GwUi7z

झारखंड श्रमायुक्‍त, रांची के विज्ञापन को डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें या निम्‍न Path का प्रयोग करें- https://goo.gl/z7MN3U

(जागरण, भास्‍कर और अमर उजाला के अलावा अन्‍य संस्‍थानों में कार्यरत साथी निराश नहीं हो। यदि उन्‍हें अपने संस्‍थान के ग्रेड के बारे में जानकारी चाहिए तो पीटीआई यूनियन के पदाधिकारी श्री एमएस यादव जी से संपर्क करें। यादव जी की मजीठिया वेजबोर्ड की सिफारिशें लागू करवाने से लेकर सुप्रीम कोर्ट में केस जितवाने तक महत्‍वपूर्ण भूमिका रही है। इनके पास आपके संस्‍थान के ग्रेड के बारे में पूरी जानकारी उपलब्‍ध होगी। पीटीआई में ही वेतनमान को लेकर सही मानक इस्‍तेमाल किए गए हैं। इनसे आप बेहिचक संपर्क कर सकते हैं। M S Yadav ji (PTI) – 09810263560 , msyadav@pti.in)

आपके इसी हक को दिलवाने के लिए वकील परमानंद पांडेय जी और उनकी यूनियन (इंडियन फेडरेशन आफ वर्किंग जर्नलिस्टस-आइएफडब्ल्यूजे एवं नेशनल फेडरेशन आफ न्यूज पेपर्स इम्प्लाइज-एनएफएनई) से संबद्व देशभर की सभी यूनियनों के पदाधिकारी आपकी मदद के लिए प्रतिबद्व है। इसके लिए आप परमानंद पांडेय जी 09868553507 से संपर्क कर सकते हैं।

मजीठिया के अनुसार वेतन क्या होना चाहिए, उसकी गणना कैसे होगी… इसकी विस्तृत जानकारी आपको लगातार PatrakarKiAwaaz के फेसबुक (Patrakar Awaaz), ट्विटर (@PatrakarKiAwaaz) और ब्लाग (http://patrakarkiawaaz.blogspot.in/) के अलावा भड़ास4मीडिया, जनसत्ता, समाचार4मीडिया आदि द्वारा भी मिलती रहेगी।

जो कर्मी दूसरी भाषाओं को जानते हैं वे इस पूरे मैटर को पंजाबी, उर्दू, बंगाली, मलयालम आदि अन्य भाषाओं में अनुवाद कर सोशल मीडिया और whatsapp के माध्यम से ज्यादा से ज्यादा साथियों तक इस मैसेज को पहुंचाएं। जिससे पूरे देश के लाखों पत्रकार और गैर पत्रकार साथी मजीठिया के अनुसार अपने नए वेतनमान और एरियर के बारे में जान सके और अपने हक के लिए आगे आ सकें।

आप इस मेल आईडी पर संपर्क कर सकते हैं – patrakarkiawaaz@gmail.com

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “मजीठिया भाग-8A : क्यों चाहिए 44 महीने की नौकरी और 15 लाख रुपए एरियर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *