बलिया कांड के ख़िलाफ़ मुरादाबाद, बाराबंकी, महोबा में भी पत्रकारों-वकीलों का प्रदर्शन, देखें तस्वीरें

मुरादाबाद : बलिया में पत्रकारों पर दर्ज हुए मुकदमे वापस करने की मांग को लेकर कलेक्ट्रेट पर जोरदार प्रदर्शन जिलाधिकारी को सौंपा ज्ञापन

उत्तर प्रदेश के जनपद मुरादाबाद में आज एडवोकेट्स यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया के सभी पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने कलेक्ट्रेट पर एकत्रित होकर अपनी मांगों को लेकर जोरदार धरना प्रदर्शन करते हुए जिलाधिकारी महोदय के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश लखनऊ को एक ज्ञापन प्रेषित किया।

बलिया में उत्तर प्रदेश बोर्ड परीक्षा में पेपर आउट करने वाले नकल माफिया की सच्चाई उजागर कर जिला प्रशासन की मदद करने वाले साथी पत्रकार दिग्विजय सिंह व उनके साथियों पर मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार कर जेल भेजने पर एडवोकेट युनिटी सेंटर ऑफ इंडिया ने गहरा शोक प्रकट करते हुए मांग किया कि सभी पत्रकारों पर दर्ज मुकदमे समाप्त कर उन्हें तत्काल रिहा किया जाए एवं लोकतंत्र के चौथे स्तंभ अर्थात प्रेस की आजादी पर हमला कर उनका उत्पीड़न करने वाले अधिकारियों को बर्खास्त किया जाए आदि। मांगों को लेकर जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री को ज्ञापन प्रेषित किया है।

बाराबंकी : बलिया में पत्रकारों को जेल भेजने के ख़िलाफ़ जिले के पत्रकारों ने राज्यपाल को संबोधित ज्ञापन मजिस्ट्रेट को सौंपा

बलिया में यूपी बोर्ड परीक्षा मे इंटर मिडिएट का पेपर लीक होने के बाद तीन निर्दोष पत्रकारों को जेल भेजने के मामले में बुधवार को बाराबंकी जिले के पत्रकारों ने एकजुट होकर जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

करीब एक दर्जन पत्रकार कलेक्ट्रेट स्थित डीएम के कार्यालय पहुंचकर अतिरिक्त मजिस्ट्रेट प्रिया सिंह को ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन देने के लिए वरिष्ठ पत्रकार डीके सिंह, गोविंद वर्मा, दिनेश चंद्र श्रीवास्तव, जितेंद्र कुमार मौर्या, मोहम्मद उमैर, नवनीत तिवारी, सुरेंद्र मौर्या, रंजीत गुप्ता, अंकित मिश्रा, अर्जुन सिंह समेत दर्जनों पत्रकार उपस्थित रहे।

वरिष्ठ पत्रकार डीके सिंह ने कहा कि वर्तमान मे योगी सरकार में कोई पत्रकार सच्चाई सामने लाने का काम करता है तो वो प्रशासनिक मशीनरी का शिकार हो जाता है। प्रशासन का काम न करने पर बे गुनाह पत्रकारों को जेल भेजने का काम किया जाता है जबकि पर्दे के पीछे रहकर दोषी लोग पूरा मजा लेते है। तत्काल ही डीएम बलिया को हटाकर किसी न्यायप्रिय अधिकारी को डीएम बनाकर बलिया मे पोस्ट करना चाहिए और प्रशासनिक मशीनरी का शिकार हुए निर्दोष पत्रकारों को ससम्मान तत्काल रिहा करना चाहिए।

महोबा : प्रेस क्लब ने धरना प्रदर्शन किया

महोबा- बलिया में तीन पत्रकारों को नकल कराने और पेपर लीक की ख़बर लिखने पर जेल भेज दिया गया। जिसकी ख़बर सुनते ही बुंदेलखंड में पत्रकारों और जनसरोकारी लोगों में आक्रोश व्याप्त हो गया। इसी क्रम में पत्रकारो के हितों में संघर्ष करने वाली अग्रणीय संगठन ‘प्रेस क्लब’ ने पूरे प्रकरण को संज्ञान में लिया और प्रेस क्लब महोबा के पत्रकारों ने आल्हा चौक स्थित अम्बेडकर पार्क में आपात बैठक करते हुये धरना प्रदर्शन किया ।

अम्बेडकर पार्क में प्रेस क्लब महोबा के पत्रकारों ने बलिया डीएम के विरूद्ध जमकर नारेबाजी जी और अम्बेडकर की प्रतिमा के नीचे खड़े होकर डीएम बलिया की सद्बुद्धि के लिए मौन रखते हुये संविधान बचाने की अपील की। बैठक में बलिया के पत्रकारों के साथ हुए दुर्भावनापूर्ण उत्पीड़न और जेल भेजने की घटना की निन्दा करते हुए इसे लोकतंत्र के लिए ख़तरा बताया। इसके प्रेस क्लब पत्रकारों ने महामहिम राज्यपाल को सम्बोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपा।

प्रेस क्लब महोबा अध्यक्ष अमित श्रोतीय ने कहा कि नकल माफिया और प्रशासन की कलई खोलने वाले पत्रकारों को इनाम देने की बजाय उन्हें जेल भेजना, लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की आज़ादी को खत्म करने का कुत्सित प्रयास है। पत्रकारों से कोई समाचार का स्रोत बताने के लिए बाध्य नहीं कर सकता है। समाचार का स्रोत न बताने पर जिन तीन पत्रकारों अजित ओझा, दिग्विजय सिंह और मनोज गुप्ता को जेल भेजा गया, वह सच को दबाने का प्रयास है।

क्लब के वरिष्ठ महामंत्री ऋतुराज राजावत ने कहा कि यह नौकरशाही की बढ़ती तानाशाही और निरंकुशता का पराकाष्ठा है । पत्रकार दिग्विजय सिंह ने बलिया डीएम एसपी की पोल खोल दी । जिससे अपने को बचाने के लिए जिला प्रशासन ने तीनों पत्रकारों को भी टारगेट कर दिया जबकि बलिया सहित पूर्वांचल में नकल माफिया सक्रिय हैं। योगी सरकार इस मामले की निष्पक्षता से जांच करे और पत्रकारों के उत्पीड़न को रोके।

महामंत्री पंकज गुप्ता ने कहा कि बलिया के पत्रकारों के साथ हुये दुर्भावनापूर्ण उत्पीड़न और जेल भेजने की घटना की निन्दा करते हुये इसे लोकतंत्र के लिये खतरा बताया।

वरिष्ठ उपाध्यक्ष उमाकान्त द्विवेदी ने कहा कि यह पत्रकारों के विरुद्ध एक साजिश है। प्रेस क्लब पत्रकारों के उत्पीड़न को बर्दाश्त नहीं कर सकता है ।हम पत्रकारों की लड़ाई को प्रेस काउंसिल तक ले जाएंगे । यह घटना बलिया जिले पत्रकारों के साथ हुई है । हम हर स्तर पर अपनी आवाज को मुखर करेंगे । प्रदर्शन के दौरान आलोक शर्मा, रविन्द्र मिश्रा, जावेद बागवान, अशफाक शाह, राहुल कश्यप आदि लोगों ने भी संबोधित किया।

इस अवसर पर सतीश चौरसिया, नितिन नामदेव, प्रशांत चक्रवर्ती, अनुज तिवारी, साक्षी वर्मा , ऋषभ पालीवाल, शहबाज, आसिफ़, तौसीफ़, भरत लाल नामदेव, अरविन्द मित्तल उपस्थित रहे। सभी ने इस घटना पर पत्रकारों की लड़ाई में साथ देने का वायदा किया।



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code