पीएसीएल के संकट से ध्वस्त होने लगा पर्ल ग्रुप, मैग्जीन बंद, चैनल बंद होने की आशंका

पीएसीएल नामक चिटफंड कंपनी के सीबीआई जांच के दायरे में आने और इसके ठिकानों पर छापेमारी के बाद सैकड़ों एकाउंट का परिचालन रोक दिए जाने से इस ग्रुप की दूसरी कंपनी पर्ल मीडिया पर संकट के बादल छा गए हैं. मनी मंत्र नामक मैग्जीन बंद होने की सूचना है. यह मैग्जीन हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित होती थी और हाल-फिलहाल इसके संपादक उदय सिन्हा हुआ करते थे. ग्रुप की अन्य मैग्जीनों बिंदिया और शुक्रवार की भी हालत खराब है.

यहां तक कि न्यूज चैनल पी7न्यूज में सेलरी संकट से त्राहि त्राहि है. ‘मनी मंत्र’ के बंद होने के बाद यहां से करीब सात मीडियाकर्मियों ने इस्तीफा देकर दूसरे मीडिया हाउसों को ज्वाइन कर लिया है. ‘शुक्रवार’ मैग्जीन का अगस्त का पहला अंक प्रकाशित नहीं हुआ है. यहां काम करने वालों को तीन महीने से सेलरी एक साथ नहीं मिल पाई है. ‘बिंदिया’ मैग्जीन को लेकर भी कई तरह की चर्चाएं हैं. इसके प्रसार में प्रबंधन ने कमी कर दी है ताकि खर्च कम से कम रहे.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Comments on “पीएसीएल के संकट से ध्वस्त होने लगा पर्ल ग्रुप, मैग्जीन बंद, चैनल बंद होने की आशंका

  • Bhai kaafi der se di aapne khabar par khair di to…………Asal baat hai ki Pearl news Network PNN ki hawa nikal gayi hai 3 mahino se logo ko salary nahi mili hai sab log salary n milne se buri tarah pareshaan hai aur directors ke kaan par janu tak nahi reng rahi hai……………Money Mantra magazine to band kar hi di ab waha ke sabhi logo ko company ne khud nikaal diya aur unse istifaa le liya………….logo ko salary tak nahi di……..ab un logo ko office mai ghusne bhi nahi diya jaa raha hai

    Reply
  • Nai khabr ye hai ki P7 ki bhi sththi kaafi kharaab chal rahi hai..bhaut saare log salary ke intjaar mai shookh rahe hai aur abhi tak unhe june ki bhi salary nahi mili kaha jaa rha hai ki jaldi hi P7 band ho jaaygaa yahi sochkar kuchh samajhdaar log P7 se bhi niklne ki tyaari mai lage hai. khabr mil rahi hai ki jaldi hi P7 ke upar management mai bhi fher badal ho sakta hai. Kesar Singh kai saalo ki koshish ke baad bhi P7 ko chalane mai kaamyaab nahi ho paaye isliliye maalikaan kesar singh ko hatakar kisi aur ko channel ki baaddor dene ki tyaari mai lege hai

    Reply
  • Ganesh Sr. Cameraman says:

    Jis kisi person ne Ganesh ke naam se comment kiya wo agar mard ki bachacha hai to kyo nahi apne naam se likhta, use kyo dusare naam ki jarorat pad gayi. Muje pata hai wo person abhi bhi campany me present hai aur Kesarjee ke khilaaf ye bakwaas is B4M me likh raha hai. Mere nikalne ke baad Kesarjee management me rahe ya nahi is se muje to kuch nahi milaga, sirf un hi logo ko fayda hoga jo khudh kesarjee ke khilaaf hai. Aur ye mein real Ganesh Likh raha hu. Froud log ye jaan le.
    Emplyees ko salary mil rahi hai, jab muje nikalne ke baad bhi campany ne salary de di to mai jhooth kyo bolu .
    Maine is campany ka 6 saal namak khaya hai. Mein to campany ka thankful hoo jo is campany ne muje mauka diya. Campany agar bad days face kar rahi hai tyo hame bhi thoda co-oparte karna chahiye.
    Muje ye pata hai aiasa kaun kar sakta hai, per mein us jaisa kaayar nahi, main jo kahta hu mooh par kahta hu, main kal bhi sher tha aaj bhi sher hu aur kal bhi rahoonga.
    Campany ke liye meri subh kamna hai ki ye chalti rahe, Hamare maalik ne bahot logo ko rojgaar diya hai, Sabki daal roti chalti rahni chahiye.

    Regards,

    Reply
  • amit gupta says:

    ye sahi news hai. money mantra to band ho hi gaya, ab shukrawar ki bari hai. management ne sare senior logo se resignation le liya hai, aur koi paisa nahi diya hai, settlement ka koi indication bhi nahi hai

    Reply
  • ये भी बात सही है की यूपी के स्टिंगरों को स्टोरी का रुपया भी एक साल से नहीं दिया गया रोज आज कल आज कल का भरोसा दिया जा रहा है जबकि कुछ स्टिंगरों स्टोरी का रुपया न मिलने के कारण खबर तक भेजनी बंद कर दी है जबकि कुछ भेज रहे है की शायद चैनल पहले जैसी स्थिति आये और उनका रुका हुआ एक साल का स्टोरी का रुपया मिले

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *