तीन बेटे गंवा चुके चंदा बाबू के पास हत्यारे शहाबुद्दीन के जमानत को चैलेंज करने के लिए सुप्रीम कोर्ट जाने भर पैसे नहीं… pls help

Santosh Singh : आपको कॉमरेड कन्हैया से कोई उम्मीद दिखती है तो कॉमरेड चंद्रशेखर (चन्दू) भी याद होंगे. उनमे भी बहुतों को उम्मीद दिखी थी, पर बिहार के दबंग जनता दल सांसद शहाबुद्दीन से उसके क्षेत्र सीवान में टकराना उन्हें भारी पड़ा और एक उम्मीद को समय से पहले बुझना पड़ा. उसी शहाबुद्दीन और उसके गुर्गों के एक शिकार चन्द्रकेश्वर प्रसाद बर्णवाल उर्फ़ चन्दा बाबू भी हुए जिनको एक एक कर के अपने तीन बेटों से हाथ धोना पड़ा. दो बेटों को तेजाब से नहलाकर हत्या तो तीसरे बेटे को गोली मारकर हत्या कर दी गयी.. अब इस मामले में शाहबुद्दीन को पटना हाईकोर्ट से जमानत मिली है तो यह मामला फिर से लोगों की नजर में आया है…

दोस्त पत्रकार पुष्य मित्र की वॉल पर जब यह कहानी पढ़ी तो सोचा कि चन्दा बाबू से बात की जाए. तो उनका सम्पर्क सूत्र लेकर उनसे आज बात किया. वो बहुत खराब हालत में है.. सक्षम तीन बेटों की मौत से वो पहले ही टूटे हुए थे, अब इस फैसले ने उनको और धक्का पहुंचाया है… कोई आजीविका का साधन नही और ऊपर से विकलांग चौथे बेटे का भी भरण-पोषण.. घर में जब खाने-पीने के लाले पड़े है तो इस केस को आगे सुप्रीम-कोर्ट में ले जाने की हिम्मत भी नही है. उनसे बात हुई तो पहले तो वो संकोचित और घबराये हुए लगे … लेकिन जब हमने यहाँ के सोशल मीडिया के दोस्तों की इच्छा के बारे में बताया तो फिर उन्होंने आर्थिक मदद लेने के लिए स्वीकृति दी… वास्तव में, यह उनको काफी सम्बल प्रदान करेगा.. यहां उनके बैंक-अकाउंट पास-बुक की छाया-प्रति लगा रहा हूँ.

सुविधा के लिए यह टाइप कर के भी बता देता हूँ…

Name: Chandrakeshwar Prasad Burnwal
Saving account number: 20934599911
RTGS code: ALLA0211077
Bank: Allahabad Bank
Branch: Siwan (Bihar)

यथानुसार मैं इस अकाउंट में खुद भी सहयोग राशि डालूँगा. और दोस्तों से भी आग्रह करता हूँ कि वे एक गरीब और सिस्टम से बेजार एक बुजुर्ग व्यक्ति की मदद करें. अग्रिम धन्यवाद

Pushya Mitra : तीन तीन बेटों को गँवा चुके चंदा बाबू के पास अब इतना पैसा नहीं बचा है कि वे शहाबुद्दीन को मिली जमानत को चुनौती देने सुप्रीम कोर्ट जा सकें। कायदे से यह काम बिहार सरकार का था, मगर हम सब जानते हैं कि वह इस मामले में कितनी दिलचस्पी लेगी। खैर इस बीच Ashok Kumar Pandey जी की वाल पर देखा कि इस मामले में उन्हें जेएनयू के पुराने साथी चन्द्रशेखर की याद आई है। यह देख कर अच्छा लगा। मैंने उन्हें चुनौती दी है कि अगर उनके साथी जो अफज़ल गुरू तक के लिए एकजुट हो जाते हैं, किसी तरह चंदा बाबू के मामले को सुप्रीम कोर्ट पहुंचा पाए तो मैं कम्युनिस्ट बिरादरी का विरोध छोड़ दूंगा। यह सार्वजनिक घोषणा है। इस बहाने इस बात की पड़ताल भी हो जाएगी कि उनकी बिरादरी केवल विभाजनकारी मुद्दों पर एकजुट होती है या आम लोगों के दुःख दर्द की भी उनकी निगाह में कोई कीमत है। उन्होंने भी कहा है कि वे अपना अभियान शुरू कर चुके हैं। अब अंजाम का इन्तेजार है।

xxx

एक बार फिर आपको कल की बात याद दिलाऊंगा… क्योंकि खबर आयी है कि राजवल्लभ यादव( राजद के रेपिस्ट विधायक) का मुकदमा लड़ने राम जेठमलानी बिहार आ रहे हैं. मगर एक बाप अपने तीन बेटों की हत्या का मुकदमा में लड़ने में असमर्थ साबित हो रहा है… राजद के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को जमानत मिल चुकी है और अपने तीन बेटों को गंवा चुके सीवान के चंदा बाबू हिम्मत हार चुके हैं. कब तक अकेली लड़ाई लड़ें. सुप्रीम कोर्ट जाने का पैसा नहीं बचा है, न हिम्मत…. कायदे से सुप्रीम कोर्ट बिहार सरकार को जाना चाहिये था. मगर अभी सत्ता में जिन लोगों का साथ है वे नीतीश जी को ऐसा करने नहीं देंगे. आखिर सब लोग पार्टीबंदों का ही मुकदमा लड़ेंगे या कोई आम लोगों की तरफ भी ध्यान देगा. खबर है कि कपिल सिब्बल साब ने कन्हैया का मुकदमा मुफ्त में लड़ा था. क्या वे सीवान के चंदा बाबू का मुकदमा लड़ेंगे… प्रशांत भूषण और सुब्रमणियम स्वामी जो तमाम तरह के मुकदमे लड़ते हैं, क्या वे चंदा बाबू के मामले को सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचाने आयेंगे… क्या दिल्ली हिलाने वाले क्रांतिकारी चंदा बाबू के लिए कुछ करेंगे… चंदा बाबू का इस तरह लाचार होना हम सबके ऊपर सवालिया निशान है. हम बस फेसबुक पर ही क्रांति करते हैं. कई लोगों ने चंदा बाबू का अकाउंट नंबर पूछा है. मैं भी पता करवा रहा हूं. तैयार रहिये, अगर कोई नहीं लड़ेगा तो हम लड़ेंगे…

xxx

चंदा बाबू की मदद के लिए लोगों ने उनके अकाउंट में पैसे डालना तो शुरू कर दिया है। मगर केवल इससे बात नहीं बनेगी। एक मित्र मुकदमा लड़ने के लिए सुप्रीम कोर्ट की कमेटी से संपर्क कर रहे हैं। एक मित्र सुब्रमनियम स्वामी को मुकदमे की जानकारी दे रहे हैं। इसी तरह हमें ऐसे अलग अलग वकीलों से सम्पर्क करना चाहिए जो ऐसे मुकदमे मुफ्त लड़ते हैं। इसके अलावा हमें बिहार सरकार को भी उसकी जिम्मेदार से मुक्त नहीं होने देना है। सोशल मीडिया पर बिहार सरकार के जो नेता मंत्री हैं उन पर दबाब भी बनाना होगा। नीतीश जी और तेजस्वी यादव को अपने पोस्ट के साथ टैग कर सकते हैं। जिनका व्यक्तिगत सम्पर्क है वह उनका ध्यान इधर दिला सकते हैं। कुल मिला कर हर स्तर पर अभियान चलाना होगा। हर व्यक्ति को जोड़ना होगा।

xxx

अभी-अभी Ratnesh Chaudhary जी ने सन्देश दिया है कि प्रशांत भूषण चंदा बाबू की मदद करने के लिए राजी हैं। रत्नेश जी ही दोनों के बीच संवाद सेतु हैं। यह बढियां खबर हैं। इस बीच हमें आर्थिक सहयोग का काम जारी रखना है, क्योंकि दिल्ली में दस तरह के खर्चे होते हैं। एक पूर्व सांसद के खिलाफ यह लड़ाई है। यह इतनी आसान नहीं है।

संतोष सिंह और पुष्य मित्र के फेसबुक वॉल से.

क्या है सीवान का चर्चित तेजाब कांड… फिल्मी सरीखा लगने वाला पूरा मामला जानने के लिए अगले पेज पर जाने हेतु नीचे क्लिक करें…

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *