‘सर्किल’ ने एक झटके में सौ मीडियाकर्मियों को निकाला, दो आफिस बंद किए

लखनऊ : उत्तर प्रदेश, राजस्थान और केरल की खबरें देने वाला ऐप सर्किल इंटरनेट प्राइवेट लिमिटेड (सर्किल ऐप) ने कल यानि 31/10/2019 को अपने सारे कर्मचारियों को एक झटके में निकाल दिया और ऑफिस पर ताला लगा दिया। इसमें वीडियो एडिटर और स्क्रिप्ट राइटर शामिल हैं।

इस ऐप में कर्मचारी 3 जिलों में कार्य कर रहे थे। लखनऊ, कोच्चि और बंगलुरु। 100 से ज्यादा शहरों की खबरें देने वाले इस ऐप ने लखनऊ और कोच्चि वाले दो ऑफिस बंद कर दिए। लखनऊ वाले ऑफिस में लगभग 60 कर्मचारी काम करते थे और कोच्चि वाले में लगभग 40, यानि इस ऐप में लगभग 100 से ज्यादा लोग काम कर रहे थे जिन्हें एक ही दिन में बेरोज़गार बना दिया।

छंटनी और बंदी के इस काम को बेहद गोपनीय तरीके से अंजाम दिया गया। 30/10/2019 की शाम सभी कर्मचारियों को एक सन्देश आता है कि कल आप सब के साथ प्राईवेट मीटिंग होनी है। किसी को कोई अंदाजा नहीं था कि क्या होने वाला है।

अगले दिन सुबह सबको अकेले में बुलाया गया और हर किसी के हाथ में छंटनी का पत्र थमा दिया गया। साथ ही एक-एक महीने की एक्स्ट्रा सैलरी ये सोच कर दी गई कि कोई हंगामा ना करे।

ना किसी भी कर्मचारी से उसकी बात पूछी गयी और न उनसे बात की गयी और ऑफिस पर ताला लगा दिया गया। यानि एक ही झटके में 100 से जायदा लोगों की नौकरियां चली गयी।

कामरेड लाल बहादुर सिंह का घंटे भर से ज्यादा अवधि का संपूर्ण लेक्चर सुनें

कामरेड लाल बहादुर सिंह का घंटे भर से ज्यादा अवधि का संपूर्ण लेक्चर सुनें (Comrade Lal Bahadur Singh Complete Lecture : इलाहाबाद विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष कामरेड लाल बहादुर सिंह द्वारा बलिया में एक आयोजन में दिया गया लेक्चर सुनें)

Posted by Bhadas4media on Thursday, October 31, 2019
कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “‘सर्किल’ ने एक झटके में सौ मीडियाकर्मियों को निकाला, दो आफिस बंद किए

  • Rajan Chaudhary says:

    बहुत गलत हुआ, वैसे भी Circle App खबरों को खरीदने, बेचने वाला एक गुपचुप न्यूज़ एप्प है, किसी न किसी दिन इसका कोई बड़ा घोटाला सामने आएगा। यशवंत जी आपको बहुत बहुत धन्यवाद, ऐसे लोगों पर पोस्ट लिखने के लिए।
    The Independent Journalist Team

    Reply
  • RISHI KUMAR SHARMA UPCM NEWS says:

    बहुत पत्रकार चिल्ला रहे थे कि ये ऐप बहुत अच्छा है। मुझे लग रहा था ये कुछ न कुछ गोल जरूर करेगा….वैसे धीरे धीरे चलना अच्छा है ….

    Reply
  • rajendra singh says:

    ये और कुछ नही किसी बड़े धनपति के ब्लैक को व्हाइट करने का खेल है, टारगेट पूरा होते ही सब बन्द !

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *