टीवी9 ग्रुप का तेलगू चैनल TV1 बंद, मीडियाकर्मी हुए बेरोजगार, हिंदी चैनल में भी छंटनी के आसार

टीवी9 प्रबंधन ने तेलगू चैनल टीवी1 को बंद करने की घोषणा की है. ग्रुप के सीओओ सिंगा राव ने 47 कर्मियों को दो महीने की सेलरी देकर इस्तीफा देने को कह दिया.

बताया जाता है कि हैदराबाद मुख्यालय में प्रबंधन ने दो महीने में तेलगू चैनल के 75 पत्रकारों को निकाल बाहर किया है. इन सभी कर्मियों को धमकाया गया है कि अगर वे आवाज उठाते हैं या लेबर कोर्ट जाते हैं तो उनके खिलाफ पुलिस केस कर दिया जाएगा.

जिस चैनल टीवी1 को बंद किया गया है, उसे ग्रुप के संस्थापक सीईओ रवि प्रकाश ने वर्ष 2007 में शुरू किया था. इस चैनल को रवि प्रकाश ग्रुप के लिए लो कॉस्ट सक्सेस मॉडल बताया करते थे. टीवी9 के नए प्रबंधन के लोग तेलंगाना के सीएम केसीआर के करीबी बताये जाते हैं. टीवी9 के इन नए कर्ताधर्ताओं पर कई किस्म के आरोप हैं. ब्लैकमनी मामले में ये लोग ईडी और सीबीआई के राडार पर भी हैं.

बताया जाता है कि टीवी9 के कर्ताधर्ता तेलगू चैनल टीवी1 की बलि लेने के बाद अब हिंदी चैनल टीवी9 भारतवर्ष पर फोकस करने जा रहे हैं. टीवी9 भारतवर्ष में 500 के करीब कर्मचारी हैं और यह चैनल 9 महीने में 60 करोड़ रुपये घाटा झेल चुका है. प्रबंधन के लोगों का कहना है कि टीवी9 भारतवर्ष से करीब 300 लोगों को हटाया जा सकता है.

फिलहाल जितने मुंह उतनी बातें हो रही हैं लेकिन विवादों से घिरे टीवी9 ग्रुप के आगे आने वाले दिन अच्छे नहीं दिख रहे हैं.



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

One comment on “टीवी9 ग्रुप का तेलगू चैनल TV1 बंद, मीडियाकर्मी हुए बेरोजगार, हिंदी चैनल में भी छंटनी के आसार”

  • AKHLAD AHMAD says:

    टीवी9 भारतवर्ष को कुछ लोगों ने अपनी जागीर समझ ली है। उनका घिसा-पिटा फॉर्मूला पाकिस्तान, इमरान को गरिया के टीआरपी बटोरने का फंडा काम नहीं आ रहा है। लाख गरियाने के बाद भी चैनल जब आठवे, नवें नंबर पर अटक गया है। अब कोई चारा नहीं देखकर अपनी गर्दन बचाने के लिए कुछ लोग दूसरों को बलि का बकरा बनाने में जुटे हैं। न्यूजरुम में एक गाली आम हो गयी है कि वे कूड़े के ढेर पर बैठे हैं। सब निकम्मे हैं। तानाशाही इतनी की 6-6 महीने से लोग नाइट ड्यूटी कर रहे हैं। राजा की फौज मौज कर रही है।

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code