दैनिक जागरण को एक संपादक ने कह दिया गुडबॉय, पढ़ें इस्तीफानामा

मनोज झा दैनिक जागरण के लिए एसेट हुआ करते थे. बेबाक बोलने और लिखने वाला संपादक. दशक भर से ज्यादा समय से दैनिक जागरण के साथ थे. अनुभवों का पिटारा है इनके पास. जमीन की समझ है इनके पास. गंभीर माहौल को सहज सरल बनाए रखने के उस्ताद. ऐसे संपादक ने आज दैनिक जागरण का साथ छोड़ दिया.

manoj jha

मनोज झा फिलहाल रायपुर में पदस्थ होकर जागरण ग्रुप के अखबार नई दुनिया के राज्य संपादक के रूप में कामकाज देख रहे थे. उन्हें बीच में पटना भेज दिया गया था संपादक बनाकर. फिर वहां से रायपुर. ऐसा नोएडा के शातिर संपादक ने परेशान करने की नीयत से किया था. नोएडा का शातिर संपादक चाहता ही नहीं कि नोएडा में कोई जेनुइन किस्म का सीनियर जर्नलिस्ट टिके.

प्रबंधन भी अंधा बना हुआ है. अच्छे लोग छोड़कर जा रहे हैं पर प्रबंधन मौन की मुद्रा में है.

मनोज झा आगे क्या करने वाले हैं, कहां जा रहे हैं, यह पता नहीं चल पाया है.

देखें मनोज झा का इस्तीफानामा-

आदरणीय सर
सादर प्रणाम।
नितांत पारिवारिक परिस्थितियों के चलते बेहद भारी और कृतज्ञ मन से मुझे संस्थान से अलग होने का कठिन फैसला लेना पड़ रहा है। पिछले 17 साल के दौरान संस्थान ने मुझे हमेशा अपेक्षाओँ से बढ़कर दिया है। इस दौरान कई उतार-चढ़ाव आए, लेकिन वरिष्ठों के सतत मार्गदर्शन और कनिष्ठों के अपार सहयोग से मैं विविध दायित्वों का निर्वहन करता चला गया। यह मेरी अचल संपत्ति है और इसके लिए मैं संस्थान का सदैव ऋणी रहूंगा। निश्चित रूप से इस दीर्घ कार्ययात्रा के दौरान मुझसे कई गलतियां, चूक और लापरवाहियां हुई होंगी। मेरे कथन और कृत्य से कई साथियों को मानसिक कष्ट भी हुआ होगा। इन सब बातों के लिए मैं अपने तमाम वरिष्ठों और कनिष्ठों के समक्ष क्षमाप्रार्थी हूं। यदि भविष्य में मैं कभी संस्थान के किसी काम आ पाया तो मैं इसके लिए स्वयं को कृतज्ञ महसूस करूंगा। इसी प्रकार यदि आगे कभी संस्थान से दोबारा जुड़ने का अवसर मिला तो मैं स्वयं को गौरवान्वित महसूस करूंगा। फिलहाल मैं संस्थान से त्याग-पत्र दे रहा हूं। 29 दिसंबर मेरा अंतिम कार्यदिवस होगा।

सादर
मनोज कुमार झा, रायपुर


भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *