आईजी अमिताभ ठाकुर को फेसबुक पर मिली जिन्दा जलाने की धमकी!

अमिताभ ठाकुर अपनी पत्नी नूतन के साथ

आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर ने उन्हें फेसबुक पर वाराणसी के किसी हिमांशु सिंह राजपूत द्वारा अभद्र भाषा का प्रयोग करने तथा धमकी देने के मामले में गोमतीनगर पुलिस को शिकायत दी है, जिनकी प्रति उन्होंने डीजीपी तथा अन्य अफसरों को भेजी है.

शिकायत में उन्होंने कहा कि उनके द्वारा इज्जतनगर, बरेली की एक घटना से जुड़े विडियो को पोस्ट करने पर श्री राजपूत ने “तुम्हारी लाश भी जला दी जाये तो ये हिन्दू धर्म के नाम एक काला दिन होगा. तुम कुत्तों को पूरा खानदान के साथ जिन्दा जला देना है” जैसी बात कहते हुए फेसबुक पर मेसेज भेजा.

अमिताभ ने मेसेज भेजने वाले के संबंध में जाँच करते हुए यदि वे अतिवादी सोच और हिंसक प्रवृति के वास्तविक व्यक्ति पाए जाते हों, तो उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्यवाही करने की मांग की है.

FIR presented for threat to burn alive

IPS officer Amitabh Thakur has presented a complaint to Gomtinagar police station about use of abusive language and threats given by one Himanshu Singh Rajput of Varanasi, while sending a copy of the complaint to DGP, UP and others.

In the complaint, he said that after his posting a Video related with Izzatnagar, Bareilly, Sri Rajput sent him a message on Facebook saying-“It would be black day for Hinduism, when your dead body is burned. Your entire familt needs to be burned alive.”

Amitabh has prayed to get the facts about the sender of the message enquired and to get an FIR registered if the concerned person is found to be a real person with extremist and violent personality.


कम्प्लेन की कॉपी-

कृपया अवगत कराना है कि मैंने दिनांक 06/04/2020 को समय 20.31 बजे अपने फेसबुक पेज पर इज्ज़तनगर, बरेली से जुडी एक घटना का सोशल मीडिया से प्राप्त 0.40 मिनट का एक विडियो शेयर शेयर किया. मैंने पुलिस के दर्शाए जा रहे कार्यों को मानवाधिकार के सन्दर्भ में प्रस्तुत करते हुए इस विडियो पर कतिपय टिप्पणियां कीं.

इस विडियो तथा मेरी टिप्पणी को ज्यतादर लोगों ने अन्यथा लिया और उन्होंने इस पर मेरे प्रति निंदात्मक टिप्पणियां कीं, जिसमे कईयों में काफी आक्रामक अथवा कटु शब्द थे. चूँकि सोशल प्लेटफार्म पर प्रत्येक व्यक्ति को अपने विचार रखने का अधिकार होता है, अतः मैंने उन टिप्पणियों को उसी रूप में लिया.

इसके विपरीत मुझे दिनांक 06/04/2020 को समय 21.22 बजे श्री Himanshu Singh Rajput (हिमांशु सिंह राजपूत) नामक एक व्यक्ति द्वारा फेसबुक मेसेंजर पर निम्न मेसेज भेजा गया, जिसे मैंने आज दिनांक 08/04/2020 को प्रातः देखा है-“Can you tell me more about yourself? tumhari laas bhi jala di jaye to.ye hindu dharm ke nam ek kala din hoga sale tum kutto ko pura khadan ke sath jinda jala dena hai bahut galiya hai .police ke ho nah me phn kro ma chodu tumhari.”

मैं सुलभ सन्दर्भ हेतु रोमन लिपि में अंकित हिंदी भाषा के शब्दों का अपनी समझ के अनुसार देवनागरी में प्रस्तुत कर रहा हूँ- “तुम्हारी लाश भी जला दी जाये तो ये हिन्दू धर्म के नाम एक काला दिन होगा. तुम कुत्तों को पूरा खानदान के साथ जिन्दा जला देना है. बहुत गालियाँ हैं. पुलिस के हो न, फोन करो माँ चोदूं तुम्हारी.”

उक्त श्री हिमांशु सिंह का फेसबुक पेज “https://www.facebook.com/himanshusingh.rajput.56 है. इस पर उनके संबंध में अंकित जानकारी नहीं दी गयी है. मात्र यह लिखा है कि वे वाराणसी के हैं, उनका जन्मदिन 14 अक्टूबर है और उनके 13 परिवार के सदस्य फेसबुक पर सक्रिय हैं.

हो सकता है कि यह फेसबुक प्रोफाइल ही फर्जी हो. यह भी हो सकता है कि श्री हिमांशु सिंह वास्तविक व्यक्ति हों और उन्होंने नाराजगी की मनःस्थिति में ऐसी बात लिख दी हो. यदि ऐसा होगा तो भले ही श्री हिमांशु द्वारा कही गयी बातें प्रथमद्रष्टया संज्ञेय अपराध की श्रेणी में आती हैं किन्तु मैं इस पर अग्रेतर कार्यवाही नहीं चाहूँगा क्योंकि भावना में बह कर इस प्रकार की बात बोल देने वाले किसी युवक के कानूनी प्रक्रिया में फंस जाने से उसके पूरे भविष्य और उसके परिवार पर सीधा दुष्प्रभाव पड़ता है.

इसके विपरीत यह भी संभव है कि श्री हिमांशु सिंह वास्तव में इस प्रकार की भावना रखने वाले व्यक्ति हों, उनका अतिवादी एवं हिंसक सिद्धांत के प्रति समर्पण हो, वे इस प्रकार की मनोदशा से बहुत अधिक प्रभावित हों और मेरे विडियो शेयर करने के कारण वे वास्तव में इस प्रकार के अतिवादी तथा हिंसक कार्य करने को उद्धत हो गए हों. इन स्थितियों में निश्चित रूप से एफआईआर एवं अन्य प्रशासनिक कार्यवाही किया जाना आवश्यक हो जायेगा.

इन समस्त तथ्यों के दृष्टिगत मैं यह प्रार्थनापत्र आपकी सेवा में इस उद्देश्य से प्रेषित कर रहा हूँ कि कृपया इसमें वर्णित तथ्यों की तत्काल जाँच कराते हुए जाँच के क्रम में प्राप्त तथ्यों के आधार पर एफआईआर अथवा आवश्यकतानुसार अन्य समुचित विधिक एवं प्रशासनिक कार्यवाही करने की कृपा करें.

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *