मुंबई के एक पत्रकार को ‘हमारा महानगर’ अखबार के मालिक आरएन सिंह से जान का खतरा

‘हमारा महानगर’ के पत्रकार से उसके ही संस्थान की कहानी सुनिए…

अपराध एवं समाज पर पैनी नजर रखने वाले स्थायी संवाददाता का ‘भइयाजी’ अखबार द्वारा शोषण… जो ‘भइयाजी’ खुद राजनीतिक ‘वाचमैनी’ एवं सामाजिक ठेकेदारी करके ‘उत्तर भारतीय समाज हाल’ कब्जा किए एवं सामाजिक ठेकेदारी करते हुए उत्तर भारतीय समाज को ‘वाचमैन’ की दुकान में सजाकर शोषण किए, अब अखबार में नियुक्त पत्रकारों को भी ‘वाचमैन’ की तरह ‘वाचमैन’ समझने की गुस्ताखी करते हुए शोषण रहे हैं…. यदि स्वच्छ पत्रकारिता करते हुए उनकी ‘चापलूसी’ ना की जाय तो तबादले का पत्र पकड़ाकर परेशान करते हैं एवं वेतन रोक देते हैं ताकि पत्रकार परेशान होकर या तो उनके तलुए में बैठे या थकहार कर नौकरी छोड़ दे…. पढ़िए एक सशक्त पत्रकार का दर्द…


दोस्तों,

मैं नागमणि पाण्डेय वर्ष 2007 से ‘हमारा महानगर’ में बतौर रिपोर्टर के तौर पर कार्यरत हूँ.. इसी दौरान अक्तूबर 2015 में मेरा और एक सहयोगी का ट्रांसफर किया गया| हमने ट्रांसफर के समय वेतन बढ़ोत्तरी करने का निवेदन कंपनी से किया लेकिन कंपनी ने तानाशाहीपूर्वक इस निवेदन को मान्य नहीं किया पर ट्रांसफर को लेकर विरोध जताने के कारण अक्तूबर से लेकर अभी तक हमारा वेतन नहीं दिया गया। इसकी शिकायत लेबर कमिश्नर (बांद्रा) में किया गया है। मेरे साथ के सहयोगी ने भी शिकायत की है| वेतन देने के बजाय मालिक आरएन सिंह द्वारा मेरे घर पर बीआईएस के सिक्युरिटी के लोगों को भेजकर जासूसी कराने के साथ ही धमकाया जा रहा है| मेरे पास जासूसी किये जाने का बाकायदा वीडियो फुटेज मौजूद है।

सोमवार दोपहर 1 बजे के करीब बीआईएस के दो लोग मेरे घर आये| पहले अपने आप को पुलिस अधिकारी बताकर मेरे से पूछताछ की और मुझे धमकी दिया गया कि कार्यालय चलो और मामले को हल करो| लेकिन जब मुझे संदेह हुआ तब मैंने पहचान पत्र की मांग की तो बीआईएस (बाम्बे इंटेलिजेंस सिक्युरिटी) का पहचानपत्र दिखाए। तब मैंने उन दोनों को पकड़कर तुर्भे एमआईडीसी पुलिस स्टेशन ले गया| वहां जाने पर पुलिस ने उन दोनों से पूछताछ की| भविष्य में किसी भी तरह का नुकसान मेरे साथ होता है या अनहोनी होती है तो इसके लिए बीआईएस के मालिक आरएन सिंह और संबंधित लोग इसके जिम्मेदार होंगे| आप लोगों को बताना चाहता हूँ कि इससे पहले भी कई कर्मचारियों के साथ कार्यालय में बुलाकर मारपीट की गई| बीआईएस को ‘हमारा महानगर’ का ग्रुप और कंपनी बताकर गुंडागर्दी किया जाता है| भविष्य में किसी भी तरह की अनहोनी होने पर उसके लिए आर एन सिंह और उनकी कंपनियां जिम्मेदार होंगी| आप लोगों से सहयोग की उम्मीद है|

नागमणि पाण्डेय
पत्रकार, हमारा महानगर
मुंबई
मोबाइल 08655379123


पत्रकार संगठन ने की निन्दा

उपरोक्त मामले की जानकारी मिलने के बाद एवं पूर्ण जानकारी लेने के बाद ‘पत्रकार विकास संघ’ के राष्ट्रीय अध्यक्ष आनंद मिश्र ने स्पष्ट किया है कि यदि स्थायी एवं स्वच्छ छवि के पत्रकारों के साथ ऐसा कृत्य कोई मीडिया समूह कर रहा है तो ‘पत्रकार विकास संघ’ तत्पर एवं सशक्त रूप से सिर्फ पत्रकारों के साथ धन-मन-तन के साथ खड़ा होगा। पत्रकारों का शोषण करने वाले मीडिया समूह को लोकतंत्र की रक्षा करते हुए सरकारी अनुदान भी बंद की जानी चाहिए। इसी के साथ विभिन्न शोषण के मामलों से महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को भी शीघ्र ही अवगत कराया जाएगा।

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Comments on “मुंबई के एक पत्रकार को ‘हमारा महानगर’ अखबार के मालिक आरएन सिंह से जान का खतरा

  • hamara mahanagar ke कार्यकारी संपादक से लेकर स्ट्रिंजर bhi hamara mahanagar chhodane kee firak me hai sirf unhe achchhe mauke ki talash hai .aaj se 5 saal pahale jab raghvendr ji or hemant kulakarni ne hamara mahanagar ko join kiya tha to hamara mahanagar ka cerculation mumbai me navbharat se bhi jyada hua tha lekin pichhale 2 se 3 saalo me jab se halat kharab ho gayi hai cerculation 10 se 15 hajar copi par aa gaya hai mehanti logo ko nikaalana or pareshan karana . R N SINGH ji ko is par dhyan dena chahiye kuchh log unhe galat janakari dekar reportaro ko nikalavate hai . ab kya R N SINGH ji ko is kee janakari rahati nhi hai sirf sunate hai or karate hai

    Reply
  • हप्ता उगाही के मामले में गोवंडी पुलिस स्टेशन में नाम दर्ज पत्रकार शान से अखबार में काम कर रहे है लेकिन जो इमानदारी से काम करता है उसे बाहर का रास्ता दिखाया जा रहा है | नागमणि हमारा महानगर ही नही पुरे मुंबई के लिए एक मेहनती पत्रकार है इसके बावजूद हमारा महानगर के प्रबंधक उसे परेशान करने में जुटे है हम नागमणि के साथ खड़े है | अब तक हमारा महानगर से रामकुमार मिश्रा , एस पी यादव, चंद्रभूषण शुक्ला वीरेंद्र मिश्रा ,सोनी सिंग ,व्यवस्थापक हेमंत कुलकर्णी परेशान होकर नौकरी छोड़ चुके है | अब ट्रांसफर के नाम पर नागमणि पाण्डेय और राकेश विश्वकर्मा को परेशान किया जा रहा है

    Reply
  • Mahanagar ke sabhi reportaro ke sath anyay ho raha hai is ke liye sabhi reportaro ko rakesh vishwakarma or nagmani pandey ko saport karane kee jarurat hai nhi to kal hamare upar bhi yhi ho sakata hai . Vaise bhi 2 – 3 logo ko bachane ke liye nagmani or rakesh ko bali liya gaya hai .

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *