खंडवा में पत्रिका के खिलाफ एकजुट पत्रकारों के संघर्ष का बिगुल बजा, सीएम के नाम एसडीएम को ज्ञापन

खंडवा में मई दिवस पर एसडीएम को मजीठिया वेतनमान से संबंधित ज्ञापन देते पत्रकार

खंडवा : पत्रिका अखबार के जो कर्ता-धर्ता अपने आप को जनता का तथाकथित हितैषी बताकर नई-नई मुहिम चलवाते हैं और मुद्दे उठवाते हैं उसकी सच्चाई आप भी जान लीजिए। पत्रकारों के हक में लागू मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक प्रमुख समाचारपत्रों को एक निर्धारित राशि से वेतनमान देने के आदेश दिए गए हैं। इसके खिलाफ पत्रिका सहित कुछ अखबार वाले कोर्ट गए। बाद में कोर्ट ने पत्रकारों के हक में फैसला दे दिया। फिर क्या था। पत्रिका अखबार ने अपनी मनमानी शुरू कर दी। पत्रकारों से एक फॉर्मेट पर साइन करवाए गए कि हमें मजीठिया के मुताबिक सैलरी नहीं चाहिए। जिन पत्रकारों ने फॉर्मेट पर हस्ताक्षर कर दिए, उन्हें तो बख्श दिया बाकी को एन-केन-प्रकारेण प्रताड़ित कर बाहर करने की साजिशें रची गईं। यहां-वहां ट्रांसफर किए गए।

पूरे मामले से अवगत कराते हुए पत्रकार शेख वसीम ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नाम शिकायती आवेदन एडीएम एसएस बघेल को सौंपा। पत्रिका की साजिश का शिकार रिपोर्टर शेख वसीम को भी बनाया गया। पत्रिका मालिकों के इशारे पर खंडवा में संपादकीय प्रभारी मुकेश सक्सेना और यूनिट प्रभारी ने दबाव बनाया। सक्सेना ने प्रताड़ित करते हुए खरगोन ट्रांसफर कर दिया। पूरे मामले से अवगत कराते हुए पीड़ित शेख वसीम ने मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के नाम एडीएम एसएस बघेल को शिकायती पत्र सौंपा। 

इस दौरान खंडवा में श्रमजीवी पत्रकार संघ अध्यक्ष देवेंद्र जायसवाल, राज एक्सप्रेस ब्यूरो चीफ देवेंद्र जायसवाल, एंटी क्राइम एंड करप्शन अपडेट के संपादक अनूप खुराना, राष्ट्रीय हिंदी मेल के ब्यूरो चीफ सुशील विधाणी, इमरान खान, सतीश शर्मा, रहीम बख्श खान, सुमित काले, बसंत राठौर (मोंटी), दुर्गाप्रसाद रघुवंशी, सचिन तिवारी, अमित दुबे सहित बड़ी संख्या में खंडवा सहित ग्रामीण क्षेत्रों के पत्रकार शामिल हुए। एडीएम बघेल ने आवश्यक सहयोग के लिए आश्वस्त किया। 

खंडवा में पत्रिका अखबार में सिटी रिपोर्टर के रूप में काम करते हुए शेख वसीम ने स्पेशल मुहिम धोखे का जल, नर्मदा जल का निजीकरण निरस्त हो, अवैध स्लाटर हाउस बंद करो, जैसे दर्जनों मुद्दों पर सफल संचालन किया है। दबंग और रसूखदारों के खिलाफ खबर अभियान चलाने के दौरान वसीम के साथ धमकी और हमले की घटनाएं भी हुईं। बेहतर समाचार अभियान के लिए पत्रिका संस्थान द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर सम्मानित किया गया। करीब आधा दर्जन से अधिक प्रशंसा पत्र ग्रुप एडिटर, स्टेट एडिटर और स्थानीय संपादकों द्वारा प्रदान किए गए। संस्थान में रहने के दौरान वसीम ने रिकार्ड संख्या के साथ बाइलाइन स्टोरी स्टिंग ऑपरेशन, एक्सपोज, पड़ताल, एक्सक्लूसिव, लाइव रिपोर्ट और ह्यूमन एंगल स्टोरी पर काम किया है। कई खबरें राष्ट्रीय स्तर पर प्रकाशित हुई। पत्रिका सतना एडिशन लांचिग के लिए चयनित विशेष रिपोर्टर्स की टीम में रहते हुए वसीम ने जबर्दस्त खबर अभियान और स्पेशल स्टोरी पर काम किया। इसके बावजूद पत्रिका अखबार के मालिक और तथाकथित स्थानीय संपादक मुकेश सक्सेना ने प्रताड़ित कर मजीठिया भुगतान से वंचित कर दिया। 

इससे पूर्व मजीठिया की मांग को लेकर वसीम ने पत्रिका के मालिक व प्रधान संपादक गुलाब कोठारी, एमडी निहार कोठारी सहित आधा दर्जन जिम्मेदार लोगों को श्रम विभाग के माध्यम से नोटिस पहुंचाया, लेकिन मोटी चमड़ी वालों पर कोई असर नहीं पड़ा। जिला मुख्यालय सहित ग्रामीण क्षेत्रों के डेढ़ दर्जन से अधिक पत्रकार वसीम के समर्थन में आगे आए और एडीएम को शिकायत करने के दौरान पूरे समय उपस्थित रहे। प्रताड़ना मामले की शिकायत करने पत्रकारों के साथ ·लेक्टोरेट पहुंचे शेख वसीम ने कहा कि कुछ भी हो जाए, मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक वेतन भुगतान का हक लेकर ही रहूंगा। खंडवा के सभी वरिष्ठ पत्रकारजों ने भी लड़ाई में साथ देने का आश्वासन दिला है।

शेख वसीम से संपर्क : 9479430111



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code