लखनऊ की निर्भया की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो किडनियां कैसे आ गई? वो तो एक पहले ही पति को दान कर चुकी थी

Awanish Sharma : साहेब ने साझा करने को मना किया है .. लेकिन ये तो सच है .. सो बस सनद के लिए बोल रहा हूँ।

वो… मोहनलालगंज (लखनऊ ) वाले मामले में मरी महिला ने अपनी एक किडनी अपने स्वर्गवासी पति को दान किया था .. और आपके 6 डाक्टरों वाली पोस्टमार्टम टीम ने दोनों किडनी सलामत की रिपोर्ट बनाई है। उसके किडनी दान की तस्दीक पी. जी. आई. ने भी कर दिया है। रिपोर्ट में बाकी सब सही होगा न साहेब …!! मनो पूछ रहा था .. वो क्या है कि महिला के शव को सुरक्षित रखने के दावे के बाद भी उसी रात उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया .. सो दुबारा चांस भी नहीं है। बाकी .. साहेब हमको आप पर पूरा भरोसा है ……. 

(अवनीश शर्मा के फेसबुक वॉल से.)

Amitabh Agnihotri :यूपी अब चमत्कारों की भूमि हो गई। … मोहनलालगंज में मारी गई महिला पूर्व में अपनीएक किडनी अपने पति को दे चुकी थी।लेकिन अब सुनने में आ रहा है की उसकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो किडनियों का जिक्र है।  कोई बताएगा की यह दूसरी किडनी उसकी देह में कहा से आई?

(अमिताभ अग्निहोत्री के फेसबुक वॉल से)

पंकज कुमार झा : लखनऊ निर्भया बलात्कार मामले में पुलिस पर मुलायम के कुछ ‘गलती कर जाने वाले लडकों’ को बचाने का दबाव है, ऐसा लग रहा है. ईटीवी की खबर के अनुसार मृतका के पोस्टमार्टम रपट में ‘महिला की दो किडनी खराब’ होने की बात की गयी है. आपको याद होगा कि निर्भया के पिता ने यह बात कही थी कि निर्भया ने एक किडनी अपने पति को दान कर दी थी. ज़ाहिर है ऐसे में पोस्टमार्टम रिपोर्ट नकली होने से इनकार नहीं किया जा सकता.

(पंकज कुमार झा के फेसबुक वॉल से)

Kumar Sauvir : ढम्‍म ढम्‍म ढम्‍म। चलो बच्‍चों, ताली बजाओ। सपा सरकार के आकाओं ने सपाई-चिराग को घिसा तो उसमें से निकले सुतापा सान्‍याल और नवनीत सिकेरा नामक जिन्‍नों ने चमत्‍कार कर दिया। चमत्‍कार की कहानी में मोहनलालगंज में मारी, न मारी गयी, मतलब काल्‍पनिक युवती के दोनों गुर्दे गच्‍च-से उसके पेट में पहुंच गये, जिनमें से एक गुर्दा उसने अपने पति को डोनेट किया था, लेकिन सिकेरा-सुपाता के सौभाग्‍य से उस युवती के पति की मृत्‍यु हो चुकी। लेकिन इससे क्‍या होता है। सुतापा-सिकेरा वाले जिन्‍न के बांये हाथ का कमाल था कि मरे पति में लगाया गया गुर्दा, उसकी मृत पत्‍नी के पेट में पहुंच गया। अरे इन जिन्‍नों की जुगुल-बन्‍दी ने तो कई कमाल किये हैं, इसी बीच। अभी तो कई कमालों की कलई खुलनी बची है। लेकिन बड़े कमालों की अन्‍त्‍येष्टि भैंसा-कुण्‍ड में उस अभागी युवती के शव के साथ ही भस्‍म हो चुकी है। बाजार में बहुत जिन्‍न मौजूद हैं, जो कहानी सुनाने में माहिर हैं। एक कहानी सुतापा-सिकेरा ने सुनाई है, तो अभी बाकी जिन्‍न भी तो नये-नये खुलासे वाली कहानी सुनायेंगे जरूर। तो बच्‍चा लोग, चलो बजाओ ताली। ढम्‍म ढम्‍म ढम्‍म

(कुमार सौवीर के फेसबुक वॉल से)

Justice for Nirbhaya Lucknow : लखनऊ के एसएसपी प्रवीण कुमार का परसनल मोबाइल नंबर 08800900933. इनसे पूछिए कि क्या कोई एक आदमी लखनऊ निर्भया कांड जैसा जघन्य घटनाक्रम अंजाम दे सकता है? घटनास्थल पर कई लोगों के अपराध में शामिल होने के सुबूत मिले हैं. आईपीएस अमिताभ ठाकुर तक ने लखनऊ पुलिस द्वारा किए गए खुलासे को फर्जी करार दिया है. लखनऊ की निर्भया को न्याय दिलाने और असली अपराधियों को दंडित कराने के लिए गांधीगिरी शुरू. दागी और विवादित एसएसपी लखनऊ प्रवीण कुमार के परसनल मोबाइल नंबर 08800900933 पर shame shame लिख भेजें. फिर फोन करके इससे पूछें कि लखनऊ निर्भया कांड कोई एक आदमी कैसे अंजाम दे सकता है. असली हत्यारे रेपिस्ट कब पकड़े जाएंगे? इस मैसेज को दस लोगों तक पहुचाएं, लखनऊ निर्भया को न्याय दिलाने की मुहिम आगे बढाएं.

(जस्टिस फार निर्भया लखनऊ के फेसबुक पेज से)

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/CMIPU0AMloEDMzg3kaUkhs

Comments on “लखनऊ की निर्भया की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो किडनियां कैसे आ गई? वो तो एक पहले ही पति को दान कर चुकी थी

  • rahat quddusi says:

    nirbhya hatya kand ek aisa apradh hai jisse rona apne aap aa jata hai. ye kewal ek aam apradh nahi balki aisa apraadh hai jiske parikshan uprant prateet hoata hai ki yojnatmak dhang se ye apraadh hua aur karaya gaya hai. is kaand ko gang rape se akle aadmi dwara ghathit rape phir rape karne ki koshish bataya ja raha hai.iska apradi yadav hai aur sarkaar bhi yadavon ki hai.lok sabha chunav me sattaroodh dal ko karaari parajay hone ke uprant aise apraadhon ki ghatnaon me vraddhi hoti chali ja rahi hai.sattaroodh dal ko yeh parajay bardaasht nahi ho pa rahi hai.is desh me nari jati ko dewi ki sangya di jati hai.sab bhool gaye hain ki unko bhi janam dene wali koi mahila thi.pehle inlogon ne is dharmnirprksh desk me dharam batne ki thekkedari kar rajniti ki,yanha tak ki jati aur javadi rajniti kewal appne laabh aur lalach ki purti hetu karni shuru kar di.desh ke nagrikon me ek doosre ke man me vidroh paida kiya aur apni mano kamnayon ki purti hetu safalta ki sidhi chadte gaye.bada afsoos hai.is desh me lok-tantra ke saath jan-tantra bhi hona chahiye.kanoon ke anusaar ye nahi inke anusaar kanoon chal raha hai.in logon ke pallu me kuch aise loobhi adhikaari bhi apni lalach khori ki purti hetu latke hua hai jo apni maa ko bhi bech sakte hai.in kuch adhikaariyon ki kuch aise ghaltiyon ke saakshya aur saboot mere pas hain jo in netaon aur in adhikaariyon ko ajeewan karawas se dandit kara denge.ye mujhse kabhi bhi prapt kiye ja sakte hain.in adhikaariyon ne manniye saevooch nyayalay ke adeshon ko avmanna ki,anek apraash ghatit kiye aur karaye jinhe sarkaar dwara daba loya gaya kyon ki isme netaon ka bhi haath tha.mukya apraadhi ahikari ek police adikari hai jo pradesh ki rajdhani me mukya mantri ki god me baitha hua hai jiske ati nikat apraadhi bhi hain aur wo purv me jab ye rajnaytik dal sattaroodh tha tab bhi aur is baar jab satta me aaya sadev inke liye apraadh karta aur karata rahta hai.inke sahaytagar kuch nayapalika ke samvaidhanik padast hon’bles bhi hain jo inki purn sahayata karte hain jinki mai puri film prastut kardoonga jis film ko koi bhi chahe apne apne parde par dekh sakta hai.in nayayik padon walon ki padonati hetu kya kya nahi kiya jata yaha tak ki desh ke satarkta adhishrhaan l lntelligencce beuro l ko bhi kharida jata hai.nirbhaya ki hatya uprant uski dardnaak isthiti me padi hui lawaris laash ko duniya ke samaksh uski asal taweer prastut kar uski nirdai halat ko prastut kane wale duniya ko aise gambhir apraadh se parchit karanewalon ke upar abhiyog chalane, karawasit kara dandit karane ki dhamki de kar ye shasan apni dhauons jama kar apni khamiyon ko dhakne hetu purn prayas kar raha hai.is shasan ke police karmi jo ek janta ke samaksh apne mibile se tasweer utar raha hai wa diisra apne haarhon me safed kapda liye us police karmi ki pratiksha kar raha hai ki wo apna karya pura kar le to laash par safed kapda udhai wa wanha anya jan bhi apne apne mobile se laash ki tasweer khinca raha hain.ye swatah pramand de raha hai mauke par khada police karamchari laash dhakne hetu hatoon me safed kafan swaroop kapda liye laash dhakne ki pratikha kar raha hai aur jo doosra hai wo janta ke samaksh janta ke saath tasweer khinch raha hai.yeh ek aisa bindu hai jo police par prashn utthata hai? aise nirdayi arpradh gharit hone par kewal do police karmi makai wardaat par panhuche? janta ko wanha se hata kar apna karya nahi kar raha hai balki janta ke beech janta ke saath tasweer kheench raha hai? doosra laash dhakne ke liye safed kafan ki tarah kapda liye pratiksha kar raha hai?jaise hatya ki jaankaari un sabki purv se hi ho.yeh hai samajwaad aur samanyawad.shasan moafze ke roop me bhukt bhogi mahila ke pariwaar ko 10 laakh rupay de kar aise apraadhion ko protsahit kar rahi hai.ab ek gurda honewali bhuktbhogi mahila ke liye sarkaar ke chhamche adhikaari ye na ghoshit kar den ki us mahila ne apne pati ko ek gurda daan kiya tha aur phir jab uski mrityu ho gayi to usne apne ek aur gurda lagwa liya?

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *