पीके धरती से तीन चीज़ें सीखकर लौटा: भ्रष्‍ट भाषा, झूठ बोलना और अपने बचाव में भगवान का इस्‍तेमाल

Abhishek Srivastava : पीके एलियन था, दूसरे ग्रह का वासी, इस बात को गांठ बांध लीजिएगा। उलट कर कहता हूं:- पीके जैसी बातें करेंगे तो आपको एलियन समझा जाएगा। दूसरे ग्रह पर भेज दिया जाएगा। दुनिया में रहना है तो दुनिया के जीके से चलो, पीके से नहीं।

दुनिया के सबसे क्रांतिकारी विचार को भी टीवी वाले बेच सकते हैं।

किसी ने कभी कहा था कि धर्म अफ़ीम है। डेढ़ सौ साल बाद एक फिल्‍म कह रही है कि धर्म-निरपेक्ष होना शराबी होना है। आपका धर्म नहीं है? आप सब धर्मों को मानते हैं? आप पीके हैं!

पीके को अपना चोरी हुआ सामान वापस चाहिए। उसका सारा उद्यम इसी दिशा में है। मतलब? मतलब ये कि हर बाग़ी का एक स्‍वार्थ होता है।

पीके धरती से तीन चीज़ें सीखकर लौटा: भ्रष्‍ट भाषा, झूठ बोलना और अपने बचाव में भगवान का इस्‍तेमाल। धरतीवासियों को पीके के रूप में मनोरंजन के लिए एक नया पात्र मिला। पीके रोते हुए लौटा। लोग हॉल से ताली बजाते हुए बाहर निकले। इस तरह से आमिर खान ने एक बार फिर से सामाजिक बदलाव वाली फिल्‍म करने वाले हीरो के तौर पर अपनी छवि पुष्‍ट की।

जो दिखाया जाता है, वह वास्‍तव में होता नहीं। उसमें होता है, उसे चीर कर देखना पड़ता है।

पीके फिल्म की समीक्षा युवा मीडिया, समाज और फिल्म विश्लेषक अभिषेक श्रीवास्तव ने की है. उनके फेसबुक वॉल से साभार.

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएंhttps://chat.whatsapp.com/BPpU9Pzs0K4EBxhfdIOldr
  • भड़ास तक कोई भी खबर पहुंचाने के लिए इस मेल का इस्तेमाल करें- bhadas4media@gmail.com

Comments on “पीके धरती से तीन चीज़ें सीखकर लौटा: भ्रष्‍ट भाषा, झूठ बोलना और अपने बचाव में भगवान का इस्‍तेमाल

  • Kumar Sambhav says:

    Saari Baaten Thik Hai Abhishek ji Lekin aap ka ye kahan ki ::::पीके धरती से तीन चीज़ें सीखकर लौटा: भ्रष्‍ट भाषा, झूठ बोलना और अपने बचाव में भगवान का इस्‍तेमाल::::: Is me Bhrast Bhasha se aap ka matlab kya hai……Agar Bhojpuri ko aap ne Bhrast Bhasha kaha hai hai to aap ko mafi mangani padegi…..aap kisi bhasha ka aapman nahi kar sakte……..

    Reply
  • Dushyant Sahu says:

    PK के आमिर खान से कुछ सवाल

    PK के आमिर खान से कुछ सवाल और अगर आपके पास सवालो के जवाब हे तो दीजियेगा अन्यथा आमिर खान तक पहुँचाने में मदद कीजियेगा:

    1. अगर गाय को घास खिलाने से धर्म होता हो या नहीं लेकिन उसका पेट जरूर भरता है लेकिन अपने धर्म गुरु के कहने से आप तो बकरे को काटते हैं आपने इसका विरोध क्यों नहीं किया…?

    2. अगर माता रानी के दरबार और अमरनाथ जाने से धर्म नहीं होता है….. तो मक्का मदीना जाने से कैसे हो सकता है? आपने मक्का मदीना का विरोध क्यों नहीं किया..?

    3. अगर मंदिर बनाना धर्म नहीं तो आपने मस्जिद बनाने का विरोध क्यों नहीं किया…? जबकि सर्वे बताते हैं की देश में मंदिर के अनुपात में मस्जिद बनाने में भंयकर तेजी आई है वो भी सरकारी पैसे से ….

    4. अगर शिवजी को दूध चढ़ाने से अच्छा किसी भूके को दान देना अच्छा है….. तो देश में लोग ठण्ड से ज्यादा मर रहे है….. आपने मज़ार की चादर का विरोध क्यों नहीं किया….?

    5. अगर पैदल तीर्थों पर जाना धर्म नहीं ….. तो या हुसैन करके अपना खून बहाने से कैसे धर्म हुआ? जब कि उस खून को धोंने के लिए आप लोग अरबों लीटर साफ़ पानी ढोलते है…. जो किसी प्यासे की प्यास बुझा सकता था …आपने उसका विरोध क्यों नहीं किया?

    6.अगर क्रिश्चियन लालच देकर धर्म परिवर्तन कर रहे है….. तो आपने इस्लामिक स्टेट का विरोध क्यों नहीं किया…? जबकि इसमें तो मौत का तांडव हो रहा है…..

    7. अमृतसर से कश्मीरीयो को आपदा के समय लाखो लोगो को खाना दिया और आपने उन्ही को खाने के लिए भीख मांगते दिखाया ….. जबकि सबसे ज्यादा गरीब मुस्लिम है….

    8. क्या सारे हिन्दू धर्म गुरु पाखंडी होते है? जबकि सबसे ज्यादा पाखंडी और धर्म के नाम पर अन्धविश्वास फेलाने में मुस्लिम धर्म गुरु आगे हैं….. आपने उनका विरोध क्यों नहीं किया..?

    9. आपने बताया मुस्लिम लड़के इतने अच्छे और वफादार होते हैं तो 90% आतंकी मुस्लिम लड़के होते हैं …. आपने ये क्यों नहीं दिखाया?

    10. अगर आप कहते हैं की धर्म गुरु मंदिर का विरोध करने पर भगवान् की निंदा का डर बताते हैं….. तो आपने इस्लाम में ईश निंदा के जुल्म में मौत की सजा दी जाती है…. इसका विरोध किस डर के कारण नहीं किया…?

    11. खान बंधू स्टारर मूवी में नायिका का पात्र हमेशा हिन्दू और नायक हमेशा मुस्लिम क्यों होता है…?

    आमिर खान जी हिन्दू धर्म या अन्य धर्म करने से पुण्य मिलता हो या ना मिलता हो , धर्म होता हो या ना होता हो लेकिन किसी का बुरा तो हरगिज़ नहीं करते लेकिन इस्लाम के नाम पर पूरी दुनिया की क्या हालात है ….. आज सभी जानते है…… अगर आपको वाकई में सिस्टम सुधारना ही था तो आपने शुरुआत वही से क्यों नहीं की..???? क्यों आपने मुस्लिम लड़के को इतना वफादार बताया आपने ये क्यों नहीं बताया की लाखो हिन्दू लडकिया मुस्लिम लड़को से शादी करने के बाद वैश्या वृति में धकेल दी जाती है……????

    मैं मूवी का विरोध नहीं कर रहा लेकिन आप सभी से मेरा सिर्फ इतना अनुरोध है….. की इस माध्यम से ये हम सब के दिल और दिमाग में क्या बिठाना चाहते हैं…???? अपने विवेक से सोचे….

    Dushyant Sahu
    tata.dushyant@gmail.com

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *