NDTV के रवीश रंजन शुक्ला को मिला रामेश्वरम हिन्दी पत्रकारिता पुरस्कार

रामेश्वरम संस्थान झांसी की तरफ से हर साल की तरह इस साल भी प्रतिष्ठित पत्रकार एवं समाजसेवी स्वर्गीय रामेश्वर दयाल त्रिपाठी जी की पुण्य स्मृति में हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र उल्लेखनीय काम करने के लिए पुरस्कार देने की घोषणा की गई। NDTV India के वरिष्ठ विशेष संवाददाता रवीश रंजन शुक्ला को इस साल यह एवार्ड देने के लिए चुना गया है।

रवीश रंजन शुक्ला

रामेश्वरम संस्थान झांसी के अध्यक्ष डा. सुधांशु त्रिपाठी ने बताया कि वर्ष 2020 के लिए निर्णायक समिति ने कई प्रतिष्ठित अखबार और चैनलों में काम कर चुके और वर्तमान में NDTV INDIA में कार्यरत रवीश रंजन शुक्ला को देने की घोषणा की है।

उन्हें यह एवार्ड इस साल लॉकडाउन में मजदूरों पर की गई रिपोर्टिंग और बिहार के चुनाव में जमीनी मुद्दों को उठाने के लिए दिया जा रहा है। रवीश रंजन लंबे समय से बुंदेलखंड की समस्याओं पर भी जमीनी पत्रकारिता करते रहे हैं। इन सब आधार पर ही उनका चयन रामेश्वरम हिन्दी पत्रकारिता पुरुस्कार के लिए किया गया है।

श्री रवीश रंजन मूल रुप से बहराइच के रहने वाले हैं और इलाहाबाद विश्वविद्यालय में परास्नातक की डिग्री की पढ़ाई पूरी की है। वे इलाहाबाद, जालंधर, पटियाला, जोधपुर, झांसी, गोरखपुर समेत दिल्ली में बीते 14 साल से पत्रकारिता कर रहे हैं।

एवार्ड संबंधी प्रेस रिलीज यूं है-

झांसी : रामेश्वरम संस्थान के तत्वावधान में गत वर्ष की तरह इस वर्ष भी नगर के प्रतिष्ठित पत्रकार एवं समाजसेवी स्वर्गीय रामेश्वर दयाल त्रिपाठी की पुण्य स्मृति में हिन्दी पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय, विशिष्ट, महत्वपूर्ण योगदान/लेखन के लिए रुपये 11 हजार का नगद पुरस्कार एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान किया जायेगा।

रामेश्वरम् संस्थान, झाँसी के अध्यक्ष डॉक्टर सुधांशु त्रिपाठी ने बताया कि वर्ष 2020 के लिए निर्णायक समिति ने राष्ट्रीय स्तर पर मीडिया के कई समूहों के साथ काम कर चुके और एनडीटीवी के वरिष्ठ विशेष संवाददाता रवीश रंजन शुक्ला को चयनित किया है। शुक्ला ने कोरोना काल के लाक डाउन में मजदूरों के पलायन पर लगातार रिपोर्टिंग की। इसके आधार पर उन्हें इस सम्मान के लिए चुना गया है।

(प्रेस विज्ञप्ति)



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code