शिव सेना के सामना अखबार ने छापा- ‘उखाड़ दिया’, जंता पूछ रही- ‘क्या?’

Ashwini Kumar Srivastava

बाला साहेब ठाकरे को आज कितना गर्व हो रहा होगा कि उनकी बनाई शिव सेना के जरिए उनके सुपुत्र उद्धव ठाकरे ने वह उखाड़ कर दिखा दिया, जो अगर सरकार न होती तो वह उखाड़ भी न पाते. किसी दूसरे प्रांत से मुंबई आकर अपने बल पर सफल हुई एक महिला का ऑफिस सरकारी तंत्र की मदद से तोड़ देना निसंदेह शिव सेना और ठाकरे परिवार के अब तक के सबसे महान और शौर्य के कामों में भी सबसे ऊपर ही गिना जाएगा. ठाकरे ने सरकारी तंत्र का इस्तेमाल करके जो शूरवीरता दिखाई है, उसके बाद तो मजाल है कि कोई महिला कभी मुंबई में कुछ बोल पाए….. किसी महिला पर सरकार का ऐसा जोर दिखाने की मर्दानगी का सबूत देकर आज उद्धव ठाकरे खुश तो बहुत होंगे…

Satyendra PS

गजबै। उन्होंने उखाड़ने को कहा कि जो उखाड़ना हो उखाड़ लो। इनको यही समझ मे आया कि यही उखाड़ना है! आखिरकार सफलतापूर्वक उखाड़ ही दिया। हम लोगों के यहां उखाड़ने को दूसरे रूप में लिया जाता है। महाराष्ट्र में जाकर उसका अर्थ बदल गया।

उद्यमी अश्विनी कुमार श्रीवास्तव और पत्रकार सत्येंद्र पीएस की एफबी पोस्टों पर आईं कुछ प्रतिक्रियाएं देखें-

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *