पीलीभीत में पत्रकार बनकर रंगदारी मांगने वाला गिरफ्तार

पकड़े गए रंगदार के अन्य साथी कथित पत्रकार फरार, पुलिस ने चालान करके अदालत में किया पेश, गया जेल, रेस्टोरेंट बदनाम करने के लिए सोशल मीडिया पर चलाया फर्जी वीडियो, रेस्टोरेंट्स संचालिका से मांगी थी 25 हजार रुपये की रंगदारी

पीलीभीत शहर में पत्रकार बनकर रेस्टोरेंट्स संचालिका से रंगदारी मांगने के मामले में गिरफ्तार किया गया सत्यजीत सरकार।

पीलीभीत। मीडिया कर्मी होने की धौंस दिखाकर रेस्टोरेंट स्वामिनी से रंगदारी मांगने के मामले में नामजद एक शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। उसे जेल भेज दिया गया जबकि उसके अन्य साथियों की पुलिस सरगर्मी से तलाश कर रही है। पूरे जनपद में इन दिनों पत्तलकारों की बाढ़ आ गई है, जिसे देखो वही माइक आईडी लिए घूम रहा है। चैनल का अता पता नहीं, खुद ही मालिक और संपादक हैं। ना कोई रजिस्ट्रेशन है और ना उसका जिले से बाहर कोई नेटवर्क है। माइक आईडी लेकर बनाया वीडियो और सौदा ना पटने पर वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया और शुरू हो गई ब्लैक मेलिंग। पत्रकारिता की आड़ में ऐसा धंधा कि हर्र लगे ना फिटकरी, रंग चोखा ही आवे।

उसको पत्रकार बताकर ब्लैक मेलिंग किए जाने का ताजा मामला उत्तर प्रदेश के जनपद पीलीभीत का है। बल्लभ नगर कॉलोनी निवासी स्मिता अग्रवाल ने शनिवार को पुलिस अधीक्षक से मिलकर उनको को दिए गए प्रार्थना पत्र में कहा कि वह विधवा महिला है तथा अपने एवं अपने परिवार की आजीविका अर्जन के लिए मेल्टि-वे नाम से गार्डन काम्प्लेक्स में स्टेशन रोड बल्लभ नगर कॉलोनी के सामने पीलीभीत में रेस्टोरेंट चलाती है।

18 अगस्त को समय करीब दिन के 1 बजे के बाद की घटना है कि सत्यजीत पुत्र ना मालूम निवासी नौगवां पकड़िया व उनके साथ प्रशांत वर्मा पुत्र सीएल वर्मा निवासी एकता नगर व विक्की मौर्य अपने एक अन्य साथी के साथ रेस्टोरेंट पर आए तथा नाश्ता पानी किया। उसके बाद पैसे मांगने पर कहने लगे कि हम मीडिया से हैं, हम पैसे नहीं देते हैं | इसके बाद ऊक्त लोगों ने फोन करके हुक्का मंगा लिया और हुक्का पीकर जबरदस्ती वीडियो बना ली और धमकी देने लगे कि तुम्हारी वीडियो सोशल मीडिया पर डाल देंगे और तब तुम आत्महत्या करने पर मजबूर हो जाओगी, नहीं तो हमें पच्चीस हजार रुपये दो। मना करने पर धमकी देकर चले गए। उक्त लोगों ने बदनाम करके मृत्यु का भय दिखाते हुए उन पर रंगदारी देने का लगातार दबाव बनाना जारी रखा।

इन लोगो ने वीडियो सोशल मीडिया पर डालकर 25 हजार रुपये मोबाइल नंबर 9105125541 से हमारे नम्बर 7078576888 पर फोन करके मांगे तथा ना देने पर रेस्टोरेंट्स को बदनाम करने व उसे व उसके पुत्र को रेस्टोरेंट ना चलाने देने के लिए धमकाने लगे। अब फर्जी वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर चला रहे हैं, जिससे वह व उसका परिवार भयभीत है। इन लोगों के इस कृत्य से उसकी व उसके व्यवसाय की प्रतिष्ठा धूमिल हो रही है।

प्रार्थना पत्र में रेस्टोरेंट्स स्वामिनी में पुलिस अधीक्षक से फरियाद की कि उसकी रिपोर्ट दर्ज कराकर सत्यजीत, प्रशांत वर्मा व विक्की मौर्य व एक अन्य के खिलाफ कार्यवाही की जाए तथा उसकी व उसके व्यवसाय की सुरक्षा कराई जाए। पुलिस अधीक्षक दिनेश कुमार प्रभु ने तत्काल सुनगढ़ी थानाध्यक्ष को मुकदमा दर्ज करके कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए। एसपी का आदेश मिलते ही तत्काल सत्यजीत सरकार, विक्की मौर्या व प्रशांत वर्मा पर आईपीसी की धारा 386, 420 व 506 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया। पुलिस ने ब्लैकमेलर सत्यजीत को गिरफ्तार कर लिया।

सुनगढ़ी कोतवाल श्रीकांत द्विवेदी ने बताया कि पकड़ा गया शख्स ग्राम नौगवां पकड़िया निवासी सत्यजीत है। कोतवाल ने बताया कि यह लोग जिस अखबार में पहले काम करते थे, वहां से हटाए जा चुके हैं लेकिन फिर भी उस अखबार का स्वयं को पत्रकार बताकर इस तरह का कृत्य कर रहे थे। रिपोर्ट दर्ज करके आरोपी सत्यजीत को गिरफ्तार कर लिया गया जबकि उसके अन्य साथी फरार हैं, जिन्हें तलाश किया जा रहा है।

उधर, लखनऊ से प्रकाशित समाचार पत्र लहर उजाला की पीलीभीत ब्यूरो चीफ श्री कृष्ण मौर्य ने सुनगढ़ी थाना आकर प्रभारी निरीक्षक को अवगत कराया कि जिन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है, यह काफी पहले उनके समाचार पत्र के जुड़े हुए थे लेकिन इनको इनकी इन्हीं हरकतों की वजह से संस्थान से हटाया जा चुका है। यह लोग अभी भी उनके अखबार के बैनर का आम पब्लिक में जाकर दुरुपयोग कर रहे हैं। वर्तमान में यह लोग पत्रकार नहीं है।

रेस्टोरेंट संचालिका के अधिवक्ता अनवार अहमद खान ने बताया कि पत्रकार बनकर ब्लैक मेलिंग करने वाले सत्यजीत सरकार को रविवार को पुलिस ने रिमांड मजिस्ट्रेट के समक्ष अदालत में पेश किया, जिसे न्यायिक अभिरक्षा में लेकर जेल भेज दिया गया।

भड़ास की खबरें व्हाट्सअप पर पाएं, क्लिक करें-

https://chat.whatsapp.com/Bo65FK29FH48mCiiVHbYWi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *