परमानंद पांडेय के खिलाफ शिकायती पत्र पर सर्वोच्च न्यायालय ने बार कौंसिल को दिया कार्यवाही का निर्देश

भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने भारत के बार कौंसिल को निर्देशित किया है कि वह IFWJ द्वारा अपने पूर्व प्रधान सचिव परमानंद पाण्डेय (अब एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड) के विरुद्ध प्रदत्त शिकायत पत्र पर कार्यवाही करे| विगत 10 मार्च 2016 को IFWJ ने भारत के प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति तीरथ सिंह ठाकुर को आवेदन दिया था कि वकील परमानन्द पाण्डेय “पेशेवर अवचार, उपेक्षा, दुर्व्यपदेशन और कपट” के दोषी है| अपने 20-पृष्ट के ज्ञापन में, जिसमे कई दस्तावेज तथा नियमावली शामिल है,  IFWJ ने कहा कि “ पाण्डेय पूर्णकालिक अधिवक्ता( एडवोकेट ऑन रिकॉर्ड : क्रमांक 809, पंजीकृत संख्या 13888, तारीख 14-12-2001, सर्वोच्च न्यायालय) है तथा साथ ही में पूर्णकालिक श्रमजीवी पत्रकार भी है|” ऐसी बात वकील और पत्रकार दोनों के नैतिक आचरण के विरुद्ध है|

सर्वोच्च न्यायालय ने आभासी तौर पर सूक्ष्म जांच कर IFWJ को सूचित किया कि उसके आवेदन को बार कौंसिल को निर्देशित कर दिया गया है| इस निर्देश को सर्वोच्च न्यायालय के रजिस्ट्रार जनरल के कार्यालय ने दिया है| अपने निष्कर्ष को निरुपित करते हुए प्रधान निबंधक कार्यालय ने टिप्पणी भी की है कि IFWJ का आवेदन “ स्वत: स्पष्ट” (self explanatory) है| विधि शब्दावली में इस संज्ञा सूचक “स्वत: स्पष्ट” शब्द का अर्थ होता है कि “ प्रदत्त सूचना से सुगमतापूर्वक समझा जा सकता है तथा अन्य अथवा अतिरिक्त स्पष्टीकरण आवश्यक नही है”|

भारत की बार कौंसिल के निर्णय से सारा भ्रम (काफी तो अब तक मिट चुका है), जिसे पूर्व प्रधान सचिव ने फैलाया है, पूर्णतया दूर हो जाएगा| परमानंद पाण्डेय ने जो अवैध, फर्जी तथा जाली संगठन में नक्कालों और छदमरूप-धारियों को भर रखा है, वह नेस्तानाबूद हो जाएगा| इस बीच IFWJ ने भारत की बार कौंसिल के अध्यक्ष से मौखिक सुनवाई का अनुरोध किया है| दिल्ली उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जी.रोहिणी, राष्ट्रीय, दिल्ली प्रदेशीय तथा सर्वोच्च न्यायालय के बार एसोसिएशनों के अध्यक्षो से भी भेंट का समय माँगा है| इससे पाण्डेय का छल-कपट उजागर किया जा सकेगा|

शुभकामनाओं के साथ
संतोष चतुर्वेदी
राष्ट्रीय सचिव

चेन्नई पुलिस द्वारा कार्यवाही

IFWJ ने तमिलनाडु के पुलिस महानिदेशक को लिखित शिकायत दी थी कि गत मार्च माह में चेन्नई नगर में परमानन्द पाण्डेय तथा हेमंत तिवारी नामक व्यक्ति IFWJ के कथित प्रधान सचिव तथा कथित उपाध्यक्ष बनकर किसी समारोह में शरीक हुए थे| दोनों फर्जीवाड़ा के अपराधी है| राज्य विधानसभा निर्वाचन के कारण जांच विलंबित हो गई| चेन्नई पुलिस कमिश्नर कार्यालय से प्राप्त सूचना के अनुसार इसी माह के अंत में कार्यवाही की जायेगी एवं फौजदारी मुकदमा कायम होगा|


Supreme Court asks Bar Council for action on IFWJ plea against Pandey

The Supreme Court of India has asked the Bar Council of India to take action on the IFWJ representation against its former secretary general Parmanand Pandey, an Advocate on Record. The IFWJ has lodged a complaint against Pandey with Mr.Justice Tirath Singh Thakur, Chief Justice of India, on 10th March 2016 for “Professional Misconduct, Negligence, Misrepresentation and Fraud by him(Pandey)”.  In a 20-page representation, including several documents and the Rule Book, the IFWJ has stated that “Pandey is a full-time practicing Lawyer (Advocate on Record, Serial No.809, Regn. No. 13888 of 14-12-2001 SCI) and also at the same time a full-time working journalist”. Such a thing is against the ethical conduct of both Lawyer and Journalist.

The Supreme Court of India, apparently after a close scrutiny, has informed the petitioner (IFWJ) that it has referred the matter to the Bar Council of India. The reference was made by the office of the Registrar General of Supreme Court, New Delhi. It underscores its finding by stating that the IFWJ’s complaint is “Self Explanatory”, meaning in legal terms, that the representation “is easily understood from the information already given and not needing any further explanation and also that it is obvious, bearing its meaning in its own face”.

The decision of the Bar Council of India will clear the confusion, (clear to all already, but a stamp of approval is more than welcome) created by the former secretary general who is trying to promote an illegal, bogus and fake body of imposters and impersonators. Meanwhile the IFWJ has requested for a hearing with the Chairman of the Bar Council of India, New Delhi. The IFWJ also proposes to seek audience with the Chief Justice of the Delhi High Court (Justice G.Rohini) and the Chairmen of the Bar Associations of India, of the Supreme Court and also of Delhi, to expose Pandey’s fraud.

With warm regards
Santosh Chaturvedi
Secretary (North)

Chennai Police initiates action

On the IFWJ complaint to the Tamil Nadu Director General of Police, the Chennai Police Commissioner has initiated probe against Parmanand Pandey and one Hemant Tiwari for impersonating as the so-called IFWJ secretary general and so-called vice president at a function in Chennai last March. The probe was delayed due to State Assembly Elections but will be completed by this month end. Criminal action will ensue.  

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *