वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल ने रायपुर के पत्रकारिता विवि में कुलपति की चयन प्रक्रिया रद्द करने की मांग की

रायपुर के पत्रकारिता विश्वविद्यालय में कुलपति के चयन की प्रक्रिया रद्द हो । अब माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय के ताज़ा घटनाक्रम से छत्तीसगढ़ के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्व विद्यालय के कुलपति को चुनने वाली समिति की पोल खुल गई है ।

कारण

1 माखनलाल चतुर्वेदी वि वि के जिन दो शिक्षकों के विरुद्ध प्रदर्शन हुए,वे कुलपति पद की होड़ में हैं ।

2 एक शिक्षक का स्पष्ट आरोप है कि उसे रोकने के लिए एक तीसरे प्रत्याशी ने इस घटनाक्रम की योजना बनाई । इसकी सघन जांच होनी चाहिए ।

3 कुलपति पद के एक चौथे दावेदार जिनका नाम सूची में है ,वे पोस्ट ग्रेजुएट नहीं हैं ।

4 एक पांचवें दावेदार को शिक्षण का कोई अनुभव ही नहीं है ।

5 अनेक योग्य प्रत्याशियों को चयन समिति ने छोड़ दिया ,जो सूची में शामिल लोगों से अधिक योग्य हैं ।

6 चयन समिति की सूची उजागर हो चुकी है।गोपनीयता भंग हो चुकी है ।

7 चयन समिति की सिफारिशों में जातिगत , राजनीतिक और समूहगत निष्ठाओं का ख़्याल रखा गया है ।

8 बिलासपुर हाई कोर्ट में मामला लंबित है । उसने सरकार और राजभवन को नोटिस जारी किए हैं ।

9 क्यों नहीं अब यू जी सी की सीधी निगरानी में कुलपति का चुनाव हो ।

10 छत्तीसगढ़ के कुलपति के चुनाव में मध्यप्रदेश के राजनेता दिलचस्पी क्यों ले रहे हैं ?

लेखक राजेश बादल वरिष्ठ पत्रकार हैं. कई अखबारों-चैनलों में संपादक रहे हैं.

  • भड़ास की पत्रकारिता को जिंदा रखने के लिए आपसे सहयोग अपेक्षित है- SUPPORT

 

 

  • भड़ास तक खबरें-सूचनाएं इस मेल के जरिए पहुंचाएं- bhadas4media@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *