नोएडा के मीडियाकर्मी विनोद श्रीवास्तव के घर का ताला तोड़कर लाखों की चोरी

नोएडा : मीडिया कर्मी के घर का ताला तोड़कर चोरों ने लाखों का माल चोरी कर लिया। दुबई से सोमवार देर रात घर लौटने पर उन्हें चोरी की जानकारी हुई। चोरों ने मीडिया कर्मी के पड़ोसी के घर की कुंडी आगे से बंद कर चोरी को अंजाम दिया। घटना की जानकारी पुलिस को दी गई है। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। मौके से फिंगर प्रिंट लिए गए हैं। जिसके आधार पर पुलिस चोरी की तलाश में लगी है।

मीडिया कर्मी विनोद श्रीवास्तव सेक्टर 105 एचआइजी अपार्टमेंट पॉकेट ए के फ्लैट नंबर 12ए में रहते हैं। वह 25 जून को पत्नी और माता-पिता के साथ दुबई चले गए थे। सोमवार रात करीब डेढ़ बजे वह घर आए। जहां मेन गेट का दरवाजा खुला था। घर के अंदर सारा सामान बिखरा पड़ा था। चोरों ने एक-एक अलमारी की गहनता से तलाशी ली थी। चोरों ने घर से एनसीडी, लाखों के गहने, डेढ़ लाख रुपये नकद, लैपटॉप, दो मोबाइल, घड़ियां व अन्य सामान चोरी कर लिए थे। जिसकी कुल कीमत लगभग दस लाख के आस-पास है। पड़ोसियों से पूछताछ में पता चला कि चोरों ने विनोद श्रीवास्तव के सामने रहने वाले हरनाम सिंह के फ्लैट की कुंडी आगे से बंद कर दी थी। हरनाम सिंह रात करीब 9 बजे घर आए थे। इससे अंदेशा है कि रात 9 से 1 बजे के बीच चोरी की वारदात को अंजाम दिया गया गया है। कोतवाली सेक्टर 39 पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज कर लिया है।

जिस सोसाइटी में विनोद श्रीवास्तव रहते हैं, उसके गेट पर सीसीटीवी कैमरे लगे हैं। कैमरे इन दिनों शो-पीस बने हैं। वह पिछले कई दिनों से काम नहीं कर रहे हैं। विनोद का कहना है कि अगर कैमरे काम कर रहे होते तो चोरों की आसानी से पहचान हो सकती थी। साथ ही मेन गेट पर तैनात गार्ड भी लापरवाह हैं। वह सोसाइटी में आने वाली गाड़ियों के सिर्फ नंबर नोट करते हैं। कार चालक से यह नहीं पूछा जाता कि वह किस फ्लैट में या किससे मिलने जा रहा है।

पुलिस को शुरुआती जांच में कबाड़ियों, नौकरों और सिक्योरिटी गार्डों पर शक है। सभी गार्डों के नाम नोट कर लिए गए हैं। साथ ही कबाड़ियों से पूछताछ के लिए थाने बुलाया गया है। पुलिस का यह भी मानना है कि चोरी को रेकी कर अंजाम दिया गया है। चोरों ने पूरी तसल्ली से चोरी की है। इससे साफ है कि उन्हें पता था कि विनोद शहर से बाहर गए हैं। विनोद की सोसाइटी में पहले भी चोरी हो चुकी है। पुलिस ने चोरी का मामला दर्ज किया था लेकिन चोरों का आज तक पता नहीं चल सका।



भड़ास व्हाट्सअप ग्रुप- BWG-10

भड़ास का ऐसे करें भला- Donate






भड़ास वाट्सएप नंबर- 7678515849

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*

code