लाइव मारकुटाई दिखाने वाले जी ग्रुप के खिलाफ थाने में लिखित कंप्लेन

उम्मीद है मारकुटाई लाइव दिखाने के बाद चैनल चौथे रैंक से ऊपर उठेगा…

Nitin Thakur : थप्पड़ कोई किसी को भी मारे गलत ही है, लेकिन आपा खोकर जो पहले मारे उसकी गलती थोड़ी ज़्यादा है. इस मामले में पहले आपा खोनेवाली मोहतरमा थी. उनमें फुर्ती भी मियां जी से ज़्यादा निकली. चैनल अगर खुद को टीआरपीखोर साबित नहीं करना चाहता तो दोनों बद्तमीज़ों को बैन करे.

वो नहीं करता तो ये कदम रेगुलेटरी संस्थाओं को उठाना चाहिए और चैनल को इस बाबत आदेश दे. इसके अलावा एक दावा स्पोर्ट्स चैनल भी कर सकते हैं कि यदि रेसलिंग भी न्यूज़ चैनल ही दिखा लेंगे तो वो क्या दिखाएंगे, क्योंकि एंटरटेनमेंट तो पहले ही वहां चल रहा है. वैसे इस प्रकरण के बाद हरियाणा-नोएडा के बाउंसर्स की स्टूडियो में तैनाती रोज़गार के नए अवसर खोल रही है. सुरक्षा प्रदान करनेवाली कंपनियां ध्यान दें. जो कुछ हुआ वो बेहद टीआरपीणीय रहा. मारकुटाई करनेवालों के लिए भी. उसे दिखानेवालों के लिए भी. उम्मीद है चैनल चौथे रैंक से ऊपर उठेगा.

टीवी जर्नलिस्ट और ब्लागर नितिन ठाकुर की एफबी वॉल से.

कृपया हमें अनुसरण करें और हमें पसंद करें:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *